मेरी बीबी को मेरे भांजे ने कुतिया बनाकर चोदा

हाय फ्रेंड्स, आप लोगो का में स्वागत है। मैं रोज ही इसकी सेक्सी स्टोरीज पढ़ता हूँ और आनन्द लेता हूँ। आप लोगो को भी यहाँ की सेक्सी और रसीली स्टोरीज पढने को बोलूंगा। आज फर्स्ट टाइम आप लोगो को अपनी कामुक स्टोरी सुना रहा हूँ। कई दिन से मैं लिखने की सोच रहा था।अगर मेरे से कोई गलती हो तो माफ़ कर देना।

मेरा नाम सत्या सिंह है। मैं अभी कैराना में अपनी बीबी के साथ रह रहा था। आपको बता दूँ की मेरी पहली बीबी जयश्री गुजर गयी थी। इसलिए मुझे दुबारा शादी करने पड़ी। मेरी दूसरी बीबी की नाम माही है। वो शादी शुदा औरत है। उसका पति गुजर गया था इसलिए वो विधवा हो गयी थी। अब मैंने उससे शादी की। दोस्तों मुझे जरा भी नही मालुम था की माही कितनी बड़ी चुदक्कड और अल्टर औरत है। मेरे साथ उसने क्या क्या किया आपको सब बात बता रहा हूँ। पिछले साल मैंने 2016 में मैंने माही से शादी कर ली। मैंने तो उसे एक सरीफ और घरेलु किस्म की औरत समझ रहा था पर मुझे नही मालूम था की उसके सेक्सी जिस्म के पीछे कितनी बड़ी रंडी छुपी हुई है।

माही का जिस्म काफी सेक्सी और भरा हुआ था। रंग काफी गोरा था जिसे देखकर मैंने उस रांड से शादी कर ली पर दोस्तों उसे रोज नया नया लंड खाने की आदत थी। शादी के बाद ही माही मुझे अपना रंग दिखाने लगी। मेरी गली में अम्बर नाम का एक आवारा लड़का घूमता था जो सदैव चूत के जुगाड़ में रहता था। मेरी बीबी माही ने उससे दोस्तों कर ली और चुदवा लिया जब मैं अपनी फक्ट्री में काम पर गया हुआ था। मैं एक लोहे के पार्ट्स बनाने वाली फक्ट्री में काम करता हूँ। जब कम पर गया था तब ही ये काण्ड हो गया। कुछ दिनों बाद आसपास वालो ने मुझे अम्बर और माही के प्रेम सम्बन्ध के बारे में बताया। ये पता चलते ही मैंने अपनी बीबी की खूब कुटाई की। उसके बाद वो “माफ़ कर दो सत्या!! दोबारा ऐसा नही करूंगी!!” बोलने लगी और घडियाली आंसू बहाने लगी।

यह कहानी भी पड़े  मलिक की बीवी की अंतर्वसना शांत की

मुझे उस पर तरस आ गया और मैंने उसे माफ़ कर दिया। मैं सोचने लगा की शायद मैं उसे रोज नही चोद पाता हूँ इसलिए उसने बाहर के मर्द से अपनी चूत फड़वा ली। मैंने अपनी सेक्सी लेकिन बदचलन बीबी को माफ़ कर दिया और उस रात उसे खूब प्यार किया। उस रात माही ने मेरी फेवरिट मछली पकाई। मछली रोटी और चावल दोनों ने खूब प्रेम से खाया और दोनों दोनों बिस्तर पर आ गये। रात के 10 तो बज चुके थे। मैंने अपना बनियान कच्चा उतार दिया और माही को अपने पास बुला लिया।

“ये आप क्या कर रहे है जी??” मेरी बीबी माही पूछने लगी

“जान!! मैं फक्ट्री में काम करके इतना थक जाता हूँ की तेरे सुख का मुझे ध्यान ही नही रहता है। आज तुझे मैं भरपूर चुदाई का सुख दूंगा” मैंने कहा और धीरे धीरे अपनी चुदक्कड और अल्टर बीबी के ब्लाउस को खोलने लगा। दोस्तों माही की उम्र अभी सिर्फ 27 साल की थी। इकदम जवान आइटम थी। मैंने उसका ब्लाउस उतार दिया और सफ़ेद ब्रा में उसके दूध क्या जम रहे है। मेरी सेक्सी चुदासी बीबी का फिगर 36 30 34 का है जिसे देखकर किसी भी मर्द का लंड खड़ा हो जाए। सफ़ेद कसी कॉटन ब्रा में माही के तने नोंकदार कबूतर तो जैसे मेरी जान ही निकाल दे रहे थे। मैं हाथ से उसकी 36” की भरी चूचियों को मसलने और दबाने लगा तो माही “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ….अअअअअ….आहा …हा हा हा” करने लगी। मैं ब्रा के उपर से खूब मसला अपनी माल को। फिर वो भी चुदने को हो गयी।

यह कहानी भी पड़े  घर के सामने वाले लड़के को फंसा कर उसका मोटा लंड लिया

“रुकिए जी!! ब्रा उतारती हूँ” माही बोली

उसने अपने हाथ से अपनी कसी ब्रा को उतार दिया। उसकी नंगी गदरायी दुधियाँ मस्त मस्त छातियों को देखकर मेरी नियत खराब हो गयी थी। दोस्तों सारा दोष मेरा ही था। जवान बीबी को महिना महिना चोदता ही नही था। तो बेचारी क्या करती। इसलिए उसने बाहर के मर्द से चुदवा लिया। मैंने दोनों हाथो से अपनी सेक्सी बीबी के दूध दाबना शुरू कर दिया। वो सिसकारी लेने लगी। उसकी दूध बिलकुल सफ़ेद है और बड़े कोमल है दोस्तों। सफ़ेद चूचियों के उपर काले काले चिकने गोले है जो बेहद सुंदर लगते है। मैं माही के कबूतर उसकी निपल्स को मुंह में लेकर चूसने लगा। वो “……अई…अई….अई……अई….इसस्स्स्स्स्स्स्स्…….उहह्ह्ह्ह…..ओह्ह्ह्हह्ह….” करने लगी।

आज मैं माही को चोद चोदकर उसकी आग शांत कर देना चाहता था। इसलिए मैं अच्छी तरह से चूस रहा था। उसकी दोनों दूध को मुंह से पकड़कर मुंह चला चलाकर चूस रहा था। खूब उसका रस पीया जिससे उसकी चूत रिसने लगी। आज मैं उसे परमसुख देना चाहता था। मैं माही के कबूतर को मुंह से पकड़कर उपर को खींच देता था किसी वक्युम क्लीनर की तरह। इस तरह करने से उसे दुगुना मजा आने लगा।

“मेरे पति देव!! मैं तुम्हारे लंड की प्यासी हूँ। आज मुझे चूत में अंदर तक चोद डालो” मेरी चुदक्कड बीबी माही कहने लगी

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!