भाभी ने कहा कि तुम बड़े शैतान हो-1

मेरा नाम राजू है.. मैं हरिद्वार का रहने वाला हूँ। मेरी हाईट 5 फुट 6 इंच है.. रंग गेहुंआ है। मेरी उम्र 23 साल है।
मेरे दोस्तों का कहना है कि मैं दिखने मैं बहुत स्मार्ट हूँ।

मैं आपके साथ अपनी लाइफ का पहला अनुभव शेयर करने जा रहा हूँ.. जो एक साल पहले की बात है।

किरायेदार मस्त भाभी
उस वक्त मैं दिल्ली मैं जॉब करता था अब आपको उस बाला के बारे में बताने जा रहा हूँ.. जिसने मुझे जिंदगी का पहला मजा दिया।
उसका नाम सोनिया था.. वो हमारे यहाँ किरायेदार थी!

उसकी उम्र 20 साल की रही होगी, उसकी कम उम्र में ही शादी हो गई थी। वो खूब गोरी-चिट्टी और सेक्सी है। उसका कद 5 फुट 2 इंच था। उसका फिगर 32-24-34 का रहा होगा।
वो दिखने में बहुत सेक्सी है कोई भी उसे देखे तो उसका मन उसे चोदने का हो जाए।

उसके पति का नाम विकी है वो किसी कोस्मैटिक की दुकान पर काम करता है।

हुआ यूं कि जब मैं दिल्ली में था.. तो मुझे मेरी बेस्ट फ्रेंड अंजू का हरिद्वार से फोन आया कि अगले रविवार को मेरी शादी है और तुमको जरूर आना है।

मैंने उसे मना कर दिया ये कह कर कि ऑफिस से छुट्टी नहीं मिलेगी। वो नहीं मानी.. तो मैंने आने के लिए ‘हाँ’ कर दी।
मैंने सोचा कि रात की शादी में शामिल हो कर रात में ही फिर से दिल्ली के लिए निकल आऊँगा.. और सुबह ऑफिस चला जाऊँगा।

पर किस्मत को तो कुछ और ही मंजूर था।

शनिवार को मेरा हाफ डे होता है.. मैं हाफ डे के बाद ही दिल्ली से हरिद्वार के लिए निकल पड़ा और 5 घन्टे में हरिद्वार पहुँच गया। अपने घर में सामान आदि रख कर मैं आराम करने लगा।

यह कहानी भी पड़े  जॉब के कारण मा की चुदाई

पिछले एक साल से जब से मैं दिल्ली गया था। वैसे तो मैं उससे कई बार मिल चुका हूँ.. पर कोई बात नहीं की.. क्योंकि मैं थोड़ा शर्मीले स्वभाव का हूँ.. पर वो शाम कुछ खास थी।

मेरी मम्मी और बहन गंगा आरती के लिए चली गईं। घर में सिर्फ़ मैं और सोनिया ही थे।
मैं बालकनी में आ गया और वो भी आ गई।

आज वो मुझे कुछ अलग ही लग रही थी वो मुझे बड़ी ही कामुक नजर से देख रही थी।

मेरा भी मन अब मचलने लगा और मैंने सोचा कि क्यों ना एक ट्राइ मार लिया जाए.. शायद किस्मत खुल जाए।
मैं उसके पास जा कर बैठ गया और इधर-उधर की बातें करने लगा.. तो जो कुछ हुआ.. वो लिख रहा हूँ।

भाभी की सेक्सी बातें
सोनिया- तुम्हारी मम्मी कहती हैं कि तुम बड़े शरीफ हो..
मैं- शरीफ हूँ भी और नहीं भी!
सोनिया- मतलब?

मैं- घर वालों के सामने तो सब ही शरीफ रहते हैं.. हाँ बस मैं किसी लड़की को तंग नहीं करता हूँ।
सोनिया- क्यों क्या तुम्हें लड़कियां पसन्द नहीं हैं.. क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है?

मैं- नहीं.. मैं गर्लफ्रेंड की बीमारी नहीं पालता.. मुझे लड़कियों को धोखा देना अच्छा नहीं लगता। मैं तो उन्हें साफ साफ कह देता हूँ कि अगर मेरे साथ रहना है.. तो रहो.. मेरे साथ कुछ क्वालिटी टाइम स्पेंड करो और फ़ालतू के प्यार-व्यार के चक्कर में मत पड़ो।

सोनिया- पर ऐसी लड़कियों को तो लड़के गलत कहते हैं?
मैं- मैं नहीं मानता, हर किसी की शरीर की जरूरत होती है और उसे पूरा करने में कोई बुराई नहीं है।

यह कहानी भी पड़े  आफरीन की मस्त चुदाई-2

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!