Bhabhi Ki Chut Fad Kar Maa Banaya

दोस्तो, मेरा नाम गज्जू है, मैं बेसवा का रहने वाला हूँ।
मेरे पड़ोस में मोना भाभी रहती हैं.. जो बहुत ही सुंदर हैं, उनका गोरा रंग और उनके चूचे बड़े ही मस्त लगते हैं।
कोई भी उन्हें देख लेगा तो हस्तमैथुन ज़रूर कर लेगा।

दोस्तो, यह बात 4 साल पहले की है, जब मैं बीटेक के सेकंड इयर में था।
एक दिन मैं मोना भाभी को दवा दिलवाने के लिए गया।
वहाँ डॉक्टर के व्यस्त होने की वजह से थोड़ा समय लग गया।

भाभी पट गई
मैंने मजाक में मोना भाभी की जाँघ पर नोंच लिया.. जिस पर भाभी ने कुछ नहीं कहा। मुझे लगा कि शायद भाभी को मालूम नहीं पड़ा होगा।
फिर मैंने उनकी जाँघ पर हाथ से सहलाया.. तो वो हंस पड़ी।
मुझे लगा कि बात बन जाएगी।

फिर दवा लेकर हम वापस घर आ रहे थे, मैं बाइक चला रहा था.. और मोना भाभी पीछे बैठी थीं, उन्होंने मेरा लंड पकड़ लिया।

मोना- वहाँ मैंने कुछ इसलिए नहीं कहा क्योंकि वहाँ बहुत लोग थे।
मैं- क्या नहीं कहा।

इतने पर वो हँस पड़ीं।
मोना- मैं तुमको अच्छी लगती हूँ क्या?
मैं- हाँ भाभी.. तुम बहुत सेक्सी हो.. मेरा दिल करता है कि मैं तुमको लेकर सो जाऊँ।
मोना- ठीक है.. अब घर चलो.. फिर देखती हूँ।

उनको घर छोड़ कर मैं अपने घर चला गया।
अगले दिन जब मैं यूनिवर्सिटी में था, भाभी का फोन आया- कहाँ हो?
मैं- यूनिवर्सिटी..
मोना- अभी आओ.. कुछ काम है।

मैं सीधा घर आया और कपड़े बदलकर मोना भाभी के पास आ गया।

यह कहानी भी पड़े  चुदक्कड़ दीदी को टॉप की रांड बनाया

मैंने बोला- क्या काम है?
वो बोलीं- आज पापा आए थे.. आपसे मिलना चाहते थे। अब तो चले गये।
मैंने कहा- वो मुझे कैसे जानते हैं?
मोना- मैंने तुम्हारे बारे में उन्हें सब कुछ बता रखा है।

भाभी का सेक्सी बदन
मैंने ज़्यादा समय ना लेते हुए भाभी को अपनी बांहों में ले लिया। भाभी के चूचे मेरे सीने को छूने लगे.. तो मेरी वासना जाग गई और मैंने भाभी को बांहों में जोर से भींच लिया।

तभी भाभी बोलीं- मुझे छोड़ो.. कोई देख लेगा तो क्या कहेगा।
मैं बोला- भाभी-देवर की तो चलती रहती है।
इस वक्त उनके घर पर कोई नहीं था।

मोना- तुम्हें मालूम है कि मैं दवा किस चीज़ की लेने जाती हूँ?
मैंने कहा- नहीं..
मोना- मैं बच्चा चाहती हूँ और तुम्हारे भईया को समय पर छुट्टी नहीं मिल पाती है। वो कई बार कोशिश कर चुके हैं मगर बच्चा नहीं हुआ।
इतने में मैं बोला- भईया नहीं दे सकते तो हम कब काम आएँगे।

मैंने मोना भाभी को बिस्तर पर लिटा दिया। मैंने प्यार से भाभी को होंठों पर चूम लिया। इतने पर ही मेरा लौड़ा खड़ा हो गया.. जो भाभी ने देख लिया।

भाभी भी खुश दिखाई दे रही थीं.. तो मैंने भाभी के चूचे दबा दिए।
भाभी हंस पड़ी.. मुझे लगा कि आज चूत तो पक्के में मिलने वाली है।

तभी भाभी ने मेरे लण्ड को पकड़ लिया और बोलीं- तुम अब बड़े हो गए हो। तुम अपनी भाभी को खुश कर सकते हो।

हम दोनों एक-दूसरे को चूमने में लग गए। भाभी ने मेरा पूरा साथ दिया। वे कभी-कभी मेरे लण्ड को मसल रही थीं.. जो उनकी चुदास को बता रहा था।

यह कहानी भी पड़े  मुझसे शादी करोगी

मैं उनके ही बिस्तर पर उनको लिए बैठा था। मैंने मोना भाभी के पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया.. वो हंसने लगी।

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!