भाभी की चुदाई ठंडी मे फुल मस्ती की

मेरा नाम अमन है, मई मीरूत का रहने वाला हूँ. मेरी आगे 25 थी जब मेरे साथ ये घटना हुई. मेरी कज़िन भाभी है जिसका नाम निशा है. उनकी आगे 30 साल थी देखने मई भूत मस्त है और चुचे 34 के है.

मई शुरू से ही उन पर लाइन मारता था और उन्हे टच करने का भाना डुनधता था. वो शरनपुर की रहने वाली है. मई उनकी वज से उनके घर बार बार जया करता था.

पर बस हसी मज़ाक ही होती थी हमारे बीच ज़यादा कुछ नही. एक दिन मैने उन्हे फोन किया हम दोनो बाते करने लगे. बात बात मेी भाभी ने मेरे से कहा भूत दिन हो गये आप घर नही आए.

मैने मज़ाक मई कह दिया कुछ मिलता तो है नही आपके घर. तो कहने लगी आप आओ तो सब कुछ मिलेगा. उन्होने भी ऐसे हसी मई कह दिया. मैने कहा आप एक बार फिर सोच लो, जो माँगूंगा देना पड़ेगा.

उन्होने कहा हाँ जो मर्ज़ी माँगो. उन्हे किया पता था मई उनकी छूट ही माँग लंग.आ मैने सुबा ट्रेन पकड़ी 5 बजे और शरनपुर पूछ गया. ब्रेकफास्ट किया फिर उनके साथ उनके मयके गया.

फिर वहाँ से हम लोग शाम को उनके घर आ गये. मतलब अपनी भाभी के घर. मेरे भाई यानी के उनका हुसबुंद नाइट ड्यूटी करते है. वो रत को खाना खाकर 9 बजे निकल गये ड्यूटी पर.

मेरे तो जैसे भाग खुल गये. जन्वरी का महीना था, भूत ठंड थी. भाभी ने मेरा बिस्तर बेड पर लगाया और वो खुद नीचे लेट गयी. लेकिन हम लोग आपस मई बात करते रहे.

थोड़ी देर बाद मैने कहा भाभी मुझे ठंड लग रही है तो आपकी रज़ाई मई आ जौन? बोली नही मई तो नीचे लेती हूँ, यहाँ तो और ठंड लगेगी. मैने खा तो आप उपर बेड पर आ जाओ.

तो बोली नही मई यहीं सही हूँ. फिर मैने कहा मई आ रहा हू. क्यूकी आज मई सौंगा नही ना आपको सोने दूँगा पूरी रात बात करेंगे. वो ना नुकुर करती रही.

मैने कहा भाभी अपने कहा था आप आ जाओ जो माँगो वो दूँगी. आप तो अपने पास लेटने नही दे रही हो. बोली वो तो बस मज़ाक था. लेकिन मई फिर भी ज़िद करके लेट गया उनकी रज़ाई मेी.

वो मेरी तरफ गांद करके लेती हुई थी. मई पीछे से उनसे कस कर चिपक गया. वो कुछ नही बोली क्यू की मई उनके साथ ऐसे मज़ाक कर लेता था. थोड़ी देर बाद मेरा हाथ उनके बूब्स पर चला गया. और मैने हल्के से बूब्स दबा दिए.

वो कुछ नही बोली और मेरा लंड टाइट हो गया. क्या फीलिंग थी बस बता नही सकता. मैने बूब्स दबाते हुए उन्हे किस करा गाल पर. तो वो चुंक गयइ और मुझे हटा दिया.

मैने खा किया हुआ? तो बोली ये ग़लत है, क्या कर रहे हो?! मैने कहा अपने कहा था जो बोलॉगे मई दूँगी, मुझे आज आप छाईए. तो वो गुस्सा हो गयी, बोलने लगी ये ग़लत बात है, मैने बस मज़ाक करा था.

लेकिन मई नही मानने वाला था. मुझ पर हवस सॉवॅर थी. मैने कस कर उनको पकड़ रखा था. वो छूटा नही पा रही थी और मई उन्हे चूमे जा रहा था. कभी उनके गाल, कभी गर्दन, कभी उनके लिप्स.

वो विरोध कर रही थी पर मई नही माना और कस कस कर चुचे दबाने लगा. वो मुझे ढाका दे कर उठ खड़ी हुई. लेकिन मैने उन्हे खीच लिया अपने उपर और चूमने लगा.

वो भूत सेक्सी लग रही थी. इतने मई उनके बाकछे की आँख खुल गयी आवाज़ से. तो वो बेड पर अपने बाकछे को सुलने लगी. लेकिन मई वहीं उनके पास बैठ कर उनके चुचे दबा रहा था,

वो बाकचो की आँख ना खुले इसलिए कुछ बोल नही पा रही थी और मुझे मज़ा आ रहा था. मैने कहा मई आपको कुछ नही करूँगा, बस चुमूंगा. आप नीचे आ जाओ.

वो बोली ठीक है बस चूमना, ज़्यादा कुछ नही होगा. इसी शर्त पर आकर नीचे लेट गयी. मैने फिर से किस शुरू कर दी. अब वो कुछ नही बोल रही थी.

कभी उनके होत चूस्ता कभी उनकी गर्दन चूस्ता. वो बस साँसे ले रही थी गरम गरम आआहह आहह… करके. मई समझ गया गरम हो चुकी है.

फिर मैने उनकी त शर्ट उपर करी और पेट चूमने लगा. मुलायम था भूत और चूमते चूमते उनकी नाभि चाटने लगा. वो बस आँख बंद करके आआहह ऊऊओह… जैसे आवाज़ निकल रही थी.

उनकी आँखे बंद थी. ऐसे ही मैने झट से उनका लोवर और पनटी एक साथ खीच दी और टाँगे खोली उनकी. अपने उपर रज़ाई डाली और छूट चाटने लगा.

जैसे मई स्वर्ग मई हूँ छूट मई जीभ जाते ही वो पागल हो गयी. और मेरे बाल पकड़ कर नोचने लगी. जैसे पहली बार किसी ने छूट छाती हो. उन्होने मुझे पूरा छूट मई घुसा लिया और मई चूसे जेया रहा था छूट.

वो बस आहह ओह उक्चह… जैसे आवाज़े निकल रही थी. थोड़ी देर बाद वो झार गयी और मैने उन्हे फिर भी चूमना चालू रखा, और रज़ाई एक साइड फेक कर उनकी छूट मई लंड डाला और छोड़ने लगा.

लंड जाते ही उनकी चीख निकल पड़ी अमान्ंनणणन् औक्कककचह… क्या है ये इतना मोटा! सेयेल कुत्ते मुझे लगा था तू मेरी छूट ही माँग रहा था फोन पर.

मई ढके मारे जेया रहा था. बोल रहा था हन मई भूत दिन से छोड़ना चाहता था. बोली तो छोड़ा क्यू नही इतने इतने मोके मिले तुझे तो. आआअहह… कामीने और ज़ोर से ज़ोर से फाड़ दे चूत. मुझे आज तक ऐसा प्यार नही मिला, तेरे भाई तो रात को निकल जाते है मई रोज तड़पति हूँ.

वो जब छोड़ते है तो बस 2 मिंट मई चोद कर हट जाते है. प्यास बुझा दे मेरी, जब खेगा तब चुड़ूँगी. मैने कहा मई तो अभी 5 दिन रोज चुदाई करूँगा.

बोली कर लियो अभी तो ज़ोर ज़ोर से छोड़. मैने भी पूरी स्पीड बड़ा दी और वो चिकने लगी आआआअहझह… जिसमे वो एक बार झार भी गयी. पर मई नही झारा और चोद्त रहा.

15 मिन्स चुदाई के बाद मई झरने वाला था. मैने कहा कहा निकालु? बोली छूट मई ही, ऑपरेशन कराया हुआ है कुछ नही होगा. फिर मई छूट मेी झार गया.

उस रात मैने 3 बार चुदाई करी उसकी और सोने नही दिया. अब मई जबही उनके घर जाता हू. वक़्त मिलते ही उन्हे छोड़ता ज़रूर हूँ. वो मेरे से अब प्यार करने लगी है.

आपको स्टोरी कैसे लगी मुझे फीडबॅक दे कर बताइए. ये कोई कल्पना नही है, मेरी सॅकी खानी है. लॅडीस को छोड़ने का मज़ा ही अलग होता है.

थॅंक्स फ्रेंड्स. ओर भी जवान भाभी लड़किया ओर आंटी को हॉट बाते करना ही तो आप मैल करे [email protected] आप की सारी डीटेल्स एक दम सीक्रेट रहेंगी उससे आप लोग बेफ़िक्र रहे.

यह कहानी भी पड़े  घर के नोकर का लंड लिया प्यासी भाभी ने

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!