बेटे ने की अपनी मा की चुदाई

हेलो, ई आम बॅक वित थे रिमेनिंग पार्ट ऑफ मी स्टोरी. ई होप आप लोगों को मेरा पार्ट 1 पसंद आया हो. और थॅंक्स सब ने जो फीडबॅक दिया. जो अभी तक पार्ट 1 नही पढ़ा है, प्लीज़ फर्स्ट पार्ट पढ़ ले. फिर सेकेंड पार्ट का असली मज़ा है. स्टोरी अब आयेज-

मैने अब मम्मी का पल्लू हटा दिया, और बूब्स को ब्लाउस के उपर से दबा रहा था. मम्मी की आँखें बंद थी, और वो मोन कर रही थी. थोड़ी देर बाद मैने मम्मी की सारी खोल दी. अब वो मेरे सामने ब्लाउस और पेटिकोट में थी. मैने जब देखा तो लगा मानो कोई रूप के देवी प्रगट हुई हो.

अब तक तो मम्मी साइलेंट साथ दे रही थी मेरा. बुत अब उन्होने आक्टिव्ली साथ देना शुरू किया. उन्होने मेरी त-शर्ट के अंदर हाथ डाल कर मेरी बॅक को सहलाना शुरू किया, जिससे मेरे अंदर काम-वासना और तेज़ हो गयी. हम दोनो अग्रेसिव स्मूच कर रहे थे. मेरी जीभ मम्मी के मौत के अंदर और उनकी मेरे उंड़र. एक-दूसरे का सलाइवा एक्सचेंज हो रहा था. इस तरह हम लोगों ने 10-12 मिनिट किया.

अब मैने मम्मी को बेड पर लिटा दिया, और अपनी त-शर्ट निकाल दी. फिर उनके उपर आ कर नेक पर किस करने लगा, और मम्मी मेरी पीठ पर अपने नाखूनओ के निशान बना रही थी. मैं किस करता हुआ दोनो बूब्स दबा रहा था. तभी मम्मी ने अपनी चुप्पी तोड़ी और बोली-

मम्मी: बेटा मुझसे कंट्रोल नही हो रहा. प्लीज़ आज अपने पापा के कमी डोर कर दो.

मैं: जी बिल्कुल, मैं आपको पापा से भी ज़्यादा प्यार करूँगा, और अब आपको पापा के कमी नही होगी.

मम्मी: ह्म.

मैं अब नेक से होता हुआ दोनो बूब्स की तरफ बढ़ा, जो साँस की रफ़्तार के साथ उपर-नीचे हो रहे थे, और ब्लाउस से बाहर आने को बेताब थे. मैने भी देर ना करते हुए ब्लाउस का हुक खोलना शुरू किया, और किस करता रहा. अब ब्लाउस को पूरी तरह से जिस्म से आज़ाद कर दिया. अब मम्मी सिर्फ़ ब्रा में थी. मैं कुछ देर रुका और मम्मी को प्यार से देखने लगा. आज ऐसा लग रहा था मानो आज पूरी काएनत मेरी थी.

मम्मी ने बोला: क्या हुआ बेटा जी, आप रुक क्यूँ गये?

मैं: स्टिल ई कॅन’त बिलीव की आज आपको मैं प्यार कर रहा हू.

इतना बोल कर मैने फिरसे किस करना शुरू किया. अब बूब्स के बीच में जब किस किया तो मम्मी मेरे सिर के बालों में फिंगर फेरने लगी.

अब मैं किस करता हुआ पेट पर आया और नाभि पर किस किया. मम्मी ने अपनी कमर उठा कर साथ दिया. मैं भी अब नाभि को जीभ से चाटने लगा, और जीभ अंदर-बाहर करने लगा. एक हाथ को पीठ पर ले-जेया कर ब्रा को खोल दिया, और मम्मी ने ब्रा को अपने से अलग करके बोला-

मम्मी: बेटा आजा अब इसको प्यार कर.

मम्मी के बूब्स बिल्कुल टाइट और गोल थे, और ब्राउन कलर के निपल्स उनकी खूबसूरती बढ़ा रहे थे. मैं झट से बूब्स को सक करना शुरू किया. तभी मम्मी ने अपना पेटिकोट निकाल दिया. अब मम्मी सिर्फ़ पनटी में थी. गोरा जिस्म और ब्लॅक कलर की पनटी में बिल्कुल अप्सरा लग रही थी. मैं लगातार दोनो बूब्स सक करता जेया रहा था. साथ में एक हाथ से मैं जांघों को सहला रहा था.

तभी मैं अचानक से रुका, और उठा, और अपनी पंत निकाल दी. मेरा लंड मानो मम्मी को सलामी दे रहा हो. तभी मुझे एक नॉटी आइडिया आया, और मैं फ्रिड्ज के तरफ जाने लगा.

मम्मी: क्या हुआ बेटा?

मैं: बस अभी आया.

मैने फ्रिड्ज से कुछ आइस क्यूब्स लिए.

मम्मी: इसका क्या करोगे?

मैं: इससे हमारी कम-वासना और बढ़ेगी.

मम्मी: वो कैसे?

मैं: आप वेट करो.

मैं एक आइस क्यूब उठा कर अपने मौत में डाल लिया, और मम्मी के दोनो पैरों के बीच में गया. फिर उपर आ कर लीप लॉक कर दिया. इससे मम्मी को एक नया रोमांच फील हुआ, और मुझे भी. हम दोनो ने आइस क्यूब को लॉलिपोप की तरह चूसना शुरू किया. थोड़ी देर में मैने दूसरा आइस क्यूब लिया, और मौत से आइस क्यूब को दोनो बूब्स पर फेरने लगा.

मम्मी: ह्म फील सो गुड.

अब मम्मी की साँस और तेज़ हो गयी. मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था दोस्तों. अब मैने दोनो जांघों को किस किया, जो बिल्कुल वाइट हेरलेस थी. मम्मी की पनटी बिल्कुल गीली हो रही थी, और काम रस्स की खुश्बू आ रही थी. तभी मैने अचानक अपना मौत छूट पर लगा दिया, जिससे मम्मी बिल्कुल उत्तेजित हो गयी, और ज़ोर से मोन करने लगी.

मुझे एक और शरारत सूझी, और मैने मम्मी की पनटी निकाल दी. छूट बिल्कुल सॉफ थी क्यूंकी मम्मी को सफाई पसंद थी, और छूट से काम रास निकल रहा था. मैने अपनी जीभ से सॉफ किया. मेरी इस हरकत से मम्मी बिल्कुल मदहोश हो गयी. अब मैने फिर एक आइस क्यूब अपने मौत में लिया, और छूट को किस करना शुरू किया.

मम्मी: आ बेटा आअहह. डॉन’त स्टॉप.

अब मैने आइस क्यूब मम्मी की छूट के अंदर डाल दिया, जिससे मम्मी बेड पर उछाल गयी. दूसरी तरफ मेरे लंड का बुरा हाल था. लंड अभी भी अंडरवेर में ही था. अब मम्मी उठी, और मुझे खड़ा किया. फिर एक झटके में मेरा अंडरवेर निकाल दिया. जैसे ही अंडरवेर निकाला, मेरा 8 इंच का लंड मम्मी के सामने था.

मम्मी: हाए इतना बड़ा हो गया तेरा!

एक हाथ से मम्मी ने लंड को सहलाना शुरू किया. दोस्तों ये फीलिंग वर्ड्स में बयान करना मुश्किल है. मैं तो मानो जन्नत की सैर कर रहा था. मेरी आँखें बंद थी, और मैं मोन कर रहा था. तभी मम्मी ने अचानक से आइस क्यूब मेरे लंड पर लगाया. मैं घबराया, बुत ये फील बिल्कुल अलग था.

मम्मी: बेटा मुझसे कंट्रोल नही हो रहा. मुझे वो असीम सुख डेडॉ जिसको मैं बहुत दीनो से मिस कर रही हू.

मैं: बिल्कुल मेरी प्यारी मम्मी जी.

मम्मी: बेटा आप बहुत आचे हो.

मैं: आप भी बहुत अची हो.

मम्मी: मुझे अब खुद में समा लो, और अपना बना लो.

मैं: ह्म्‍म्म्म.

मम्मी अब बेड पर लेट गयी, और दोनो टाँगो को खोल कर ग्रीन सिग्नल दिया. मैं भी दोनो टाँगों के बीच बैठा और एक लंबा स्मूच दिया.

मम्मी: प्लीज़ बेटा अब मत तड़पाव.

मैं: नही मम्मी.

मम्मी ने टाँगों को हवा में उठाया और मैने लंड को छूट पर सेट किया, और प्रेस किया. बुत लंड फिसल गया.

मम्मी: बेटा आपका टारगेट मिस हो गया.

वो हासणे लगी. मैं भी हस्सा, बुत ऐसा छूट टाइट होने की वजह से हुआ था शायद.

मैं: मम्मी रेडी? गुण लोडेड, नाउ फाइरिंग.

बुत फिरसे टारगेट मिस हुआ.

मम्मी: कोई नही बेटा, ये आपका फर्स्ट टाइम है ना. ऐसे होता है.

मैं शर्मा गया और एक बार फिरसे रेडी हुआ. बुत इस बार मम्मी ने मेरी हेल्प की, और टारगेट हिट हुआ.

मम्मी: उ बेटा जी मॅर गयी मैं तो, निकालो प्लीज़.

मैं दर्र गया, बुत मैने मम्मी को कस्स कर पकड़ रखा था. मैने कुछ देर तक किस किया. फिर मम्मी शांत हुई. मैने फिर दूसरा धक्का दिया. अभी भी लंड का 40 पर्सेंट ही गया था. शायद बहुत दीनो से छूट को लंड नही मिला था, इसलिए ऐसा हुआ. अब एक और कोशिश, और पूरा लंड अंदर.

मम्मी: हाए मॅर गयी मैं तो! बेटा प्लीज़ निकाल लो, बहुत दर्द हो रहा है.

मैं: मम्मी वेट करो, इस दर्द के बाद ही मज़ा है.

मम्मी: ह्म बेटा.

मैं किस भी कर रहा था मम्मी को, ताकि दर्द का एहसास काम हो, और साथ ही साथ लंड अंदर-बाहर करना शुरू किया. अब मम्मी शांत हुई और मोन करने लगी. मम्मी नीचे से अपनी गांद उठा कर लंड अंदर ले रही थी.

मम्मी: थॅंक योउ बेटा, मैं बहुत दीनो से इस सुख का वेट कर रही थी.

मेरा छाती बिल्कुल मम्मी के बूब्स से चिपकी थी, और उनके निपल्स बिल्कुल टाइट थे, जो मुझे फील हो रहे थे. दूसरी तरफ लंड और छूट की आवाज़ से पूरा रूम गूँज रहा रहा था एक रिदम में. फिर अचानक मम्मी की बॉडी टाइट होने लगी.

मम्मी: बेटा ई आम कमिंग. और मम्मी झाड़ गयी. मैं भी अब चरम पर था. लंड की रफ़्तार तेज़ हुई, और मैं भी बोला-

मैं: मम्मी मेरा भी होने वाला है.

और मैं उनके अंदर ही झाड़ गया. अब हम दोनो हाँफ रहे थे. दोनो ने एक-दूसरे को हग किया. फिर ऐसे ही नींद आ गयी. ये था मेरा फर्स्ट सेक्स एक्सपीरियेन्स वो भी मेरे मम्मी के साथ.

दोस्तों आप लोगों को मेरी स्टोरी कैसी लगी प्लीज़ बताना, और मुझे मेसेज करना. गमाल ईद लोवेक्षयज़405@गमाल.कॉम है. थॅंक योउ.

यह कहानी भी पड़े  बहिन की चुदाई गावं में


error: Content is protected !!