बेटे के साथ मिल कर मा को चोदने की कहानी

मेरा नाम रजत है, और मैं देल्ही में रहता हू. आज कल पॉर्न वग़ैरा देख के, किसी की मा के साथ उसके बेटे के जानते हुए सेक्स करने की फॅंटेसी हो गयी मुझे. मैं अक्सर ऑनलाइन छत करता था, और क्यूक्कल्ड सोन से पूच लेता था, की उसकी गांद में दूं है या सिर्फ़ मूठ ही मारेगा?

यू ही 1 दिन छत करते हुए मुझे 1 राहुल नाम का लड़का मिला, जो बोला रियल में करना है. उसकी मा का नाम श्रुति (नामे चेंज्ड) था, और उसकी मा 1 नंबर की मिलफ मेटीरियल थी. उसके मुताबिक उसकी मा अपने हज़्बेंड की गैर-हाज़री का पूरा फ़ायदा उठा रही थी, और रंडी टाइप बन गयी थी.

2 वीक्स छत करने के बाद फाइनली उसको मुझपे ट्रस्ट हुआ, और हमने मिलने का फैंसला किया. उसका घर मुझसे 20केयेम डोर था. लेकिन श्रुति के लिए तो मैं इतना कर ही सकता था.

प्लान सिर्फ़ इतना था, की मैं उसके घर जौंगा उसका बातचमते बन के. वो मुझे अपनी मा से इंट्रोड्यूस कराएगा की मैं उसका दोस्त हू. उसका उतना ही काम था.

फिर मैं उसके घर गया. वो मुझसे बाहर मिलने आया, और हम दोनो ने काफ़ी ऑक्वर्ड तरीके से बात की.

मे: क्या हाल चाल राहुल?

राहुल: बढ़िया, आप बताओ?

मे: श्रुति से मिलते ही अछा हो जौंगा.

राहुल(हेस्ट हुए): हा-हा ज़रूर!

राहुल: लेकिन अगर मों को पता चल गया तो?

मे: क्या? मैं सिर्फ़ तेरा दोस्त हू, उतना ही पता चलेगा श्रुति को. टेन्षन मत ले, कुछ नही हुआ तो मैं अपने रास्ते और श्रुति अपने आशिक़ों के पास.

राहुल(हेस्ट हुए): आशिक़ तो तू भी है मेरी मा का.

फिर हम उसके घर गये. मैं गेस्ट रूम में बैठा ही था, की उसकी मा त-शर्ट और कॅप्री में, खुले बालों के साथ आ गयी. यक़ीनन श्रुति का फिगर 38-30-36 होगा. श्रुति के निपल्स दिख रहे थे, क्यूंकी उसने ब्रा नही पहनी हुई थी.

राहुल ने कहा: मों, ये मेरा दोस्त है.

मैने कहा: नमस्ते आंटी.

और हम दोनो का 5-6 सेकेंड्स आइ कॉंटॅक्ट हुआ, और फिर श्रुति ने स्माइल करते हुए कहा-

श्रुति: नमस्ते रजत.

और फिर वो चली गयी किचन में. राहुल तोड़ा शाइ, तोड़ा एग्ज़ाइटेड, तोड़ा हॅपी लग रहा था. 5 मिनिट बाद श्रुति कोल्ड ड्रिंक्स लेके आई, और इस बार उसने लिपस्टिक वग़ैरा लगाई हुई थी, और हेर कोंब कर रखे थे.

वो जैसे ही सर्व करने के लिए झुकी, उसकी क्लीवेज इतनी ज़्यादा थी, (क्यूंकी उसने ब्रा नही पहनी थी) जैसे दो आम लटक रहे हो, मोटे और रसीले आम.

मेरी नज़र वाहा से हॅट ही नही रही थी, और श्रुति को इस बात का पता चल गया. वो उसी पोज़ में 2 मिनिट तक रही. मैं और साइड में उसका बेटा ये सब देख रहे थे. जब श्रुति मूड के जाने लगी, तब मैने राहुल को आराम से कहा-

मैं: तेरी मों तो काफ़ी ज़्यादा हॉट है.

वैसे ही श्रुति जाते-जाते रुक के मूड गयी, और मुझसे बोली-

श्रुति: क्या कहा रजत आपने?

राहुल दर्र गया, और बोला: कुछ.. कुछ नही मों. सिलबस पूच रहा था.

उसकी मों मुझे ही घूरती रही. तब मैने कहा-

मैं: आंटी मैने कहा था की तेरी मों आगे के हिसाब से काफ़ी ज़्यादा ब्यूटिफुल है.

ये सुन कर श्रुति ने स्माइल दी और कहा: अछा? ये ही कहा था?

और फिर वो चली गयी.

फिर मैं वाहा से चला गया, और मैने अगले दिन श्रुति को ठोकने का प्लान बनाया.

मैने राहुल से कहा: तू ये बोल की तू बाहर जेया रहा है, और टेरेस पे चला जा.

जब मैं अगले दिन गया तो श्रुति मुस्कुरा के बोली-

श्रुति: आप फिरसे?

फिर मैं बोला: हा आंटी, राहुल नही है?

श्रुति: नही.

मे: पर उसने तो मुझे बुलाया था.

श्रुति: कॉल कर लो आप.

(फेक कॉल करने के बाद)

मे: वो तो कह रहा है उसको 2 घंटे से ज़्यादा लगेगा. हमे असाइनमेंट बनानी है, और उसके लिए सिर से नोट्स लेने गया है.

श्रुति: तो आओ आप अंदर वेट कार्लो आराम से.

तब मेरे फेस पे चमक आ गयी, और श्रुति मुस्कुरा पड़ी. श्रुति ने ब्लॅक टॉप और जीन्स पहनी हुई थी. आज श्रुति ने ब्रा डाली हुई थी. थोड़ी बहुत एजुकेशन की बात होने के बाद मैने कहा-

मे: आप कल ज़्यादा ब्यूटिफुल लग रही थी.

श्रुति (बालों पे हाथ फेरते हुए): क्यूँ, आज नही लग रही?

मे: बस वो बात नही है.

श्रुति: अछा?

मे: वैसे आपसे आंटी वाली फील भी नही आती.

श्रुति: क्यूँ?

मे: जनरली आंटी मोटी होती है, और डल सी. आप एक-दूं ऑपोसिट हो. अंकल काफ़ी लकी है.

श्रुति (विंक करते हुए): तो मत कहा करो आंटी, कॉल मे बाइ नामे.

मे(विंक्ड अट हेर): ओक श्रुति!

श्रुति: मैं शवर लेके आई 5 मिनिट में, आप टीवी देखो.

5 मिनिट्स बाद.

श्रुति वाइट टॉप पहन के, और साथ में जीन्स पहन के आई. श्रुति ने ब्रा नही पहन रखी थी. उसके बाल गीले थे, और फेस फ्रेश था.

श्रुति: आप मेरी शेक बनाने में हेल्प क्यूँ नही करते किचन में?

मे: ओक.

श्रुति बलेंडर में मॅंगोस डाल रही थी.

मे: ई लीके थे वे योउ स्मेल!

मेरी नज़र श्रुति के बूब्स पे थी, जो तोड़ा बहुत पानी पड़ने की वजह से विज़िबल हो गये थे. श्रुति ने ये नोटीस किया मेरी नज़र कहा जेया रही थी.

श्रुति (विंक करते हुए ): वैसे क्या अब मैं ब्यूटिफुल लग रही हू?

मे(स्माइल करते हुए): हड्द से ज़्यादा.

तो मैने हाथ धोके, पोंछने की बजाए, थोड़े पानी के छींटे श्रुति की त-शर्ट पे डाल दिए. श्रुति ने मुझे कातिलाना नज़रों से देखा और कहा-

श्रुति: आराम से, कोई जल्दी है क्या?

मे: नही-नही, हॅव युवर स्पेस आंड टाइम.

मैने तब 1 पिक क्लिक करके राहुल को भेजी, की “तेरी मा रेडी कर दी मैने”

फिर मैं जाके बैठ गया गेस्ट रूम में.

श्रुति शेक लाई, और उसने इंटेन्षनली मेरी जीन्स पे गिरा दिया.

श्रुति: ई आम सो सॉरी.

मे: नो, इट’स फाइन.

श्रुति: जस्ट टके इट आउट, ई विल इमीडीयेट्ली क्लीन इट.

मैने जीन्स उतार के डेडी. श्रुति जब आई, तो दूसरा ग्लास लेके आई. तब मैं श्रुति के सामने बॉक्सर्स में बैठा था. जब श्रुति शेक देने के लिए झुकी, दो आम फिरसे लटक गये मेरे आयेज. इतनी बड़ी क्लीवेज!

और मेरा बोनेर आ गया, जो मैने नोटीस नही किया

श्रुति: कब से आप और राहुल एक-दूसरे को जानते हो?

मे: 1 साल.

श्रुति: फिर भी आप कल ही मिले मुझे?

मे: हा, काफ़ी खुशी हुई मिल के.

श्रुति( आँख मरते हुए, और मेरे लंड की तरफ देखते हुए): खुशी तो झलक रही है.

मैने तोड़ा हाइड करने की आक्टिंग की, और बोला: हा अब मेरी भी क्या ग़लती है?

फिर श्रुति कातिलाना स्माइल करके, बिना कुछ बोले अंदर मेरी जीन्स को सूखने चली गयी.

तब मैने राहुल को टेक्स्ट किया: अपनी मा की चुदाई देखनी है तो अपने रूम में आके च्छूप जेया.

तब मैं पीछे गया श्रुति के. श्रुति समान उठाने के लिए नीचे झुकी, और मैने उसकी आस पे डिक टच करा के पूछा-

मे: जीन्स कब तक सूखेगी?

श्रुति: आपको जीन्स की पड़ी है अभी भी?

और वो घूम के, मेरे बॉक्सर डाउन करके, मेरे 6.5 इंच लंबे और मोटे डिक को किस करने लगी.

फिर श्रुति मेरे लंड को चूसने लगी, और तब मैने उसके बाल पकड़ लिए, और सर पे हाथ रख के उसको और पुश किया लंड को डीप लेने के लिए. तभी मैने देखा राहुल अपने रूम की एंट्रेन्स पे खड़ा होके, ये सब देख के लंड हिला रहा था.

5 मिनिट श्रुति को लंड चुसवाने के बाद, मैने श्रुति की जीन्स वही उतार दी, और टॉप को भी. श्रुति ने पनटी नही पहनी हुई थी. उसका रंग 1 दूं गोरा था, और इतना तगड़ा फिगर था, जैसे की वो कोई पॉर्न स्तर हो.

तब श्रुति मुझे अपने कमरे में लेके जाने लगी, और फिर मैने 1 टाइट स्लॅप किया उसकी आस पे, और वो हल्की सी उछाल पड़ी और हस्स पड़ी.

उसके रूम में जाने के बाद उसने लॉक लगा लिया. मैने कुछ नही कहा, और बस सोचा की अब राहुल अपनी मा नही देख पाएगा चूड़ते हुए.

लॉक लगते ही श्रुति घोड़ी बन गयी और बोली-

श्रुति: मेरे ड्रॉयर में से कॉंडम निकालो, और बे आन अनिमल.

मैने टाइम वेस्ट ना करते हुए श्रुति की आस पे स्पॅंक किया, और कॉंडम लाके लगा लिया. फिर मैने श्रुति की छूट में आधा लंड दिया. वो हल्की-हल्की सिसकियाँ ले रही थी.

श्रुति: आ, एस, इट फील्स गुड.

20 स्ट्रोक्स के बाद, 21स्ट्रीट धक्के पे मैने पूरा लंड अंदर डाल दिया, और एक-दूं श्रुति सूप्राइज़ में चिल्लाई-

श्रुति: ओह एस! मेक मे युवर होर.

फिर मैने तेज़-तेज़ धक्के मारने शुरू किए, और उसके बाल पकड़ लिए, और साथ-साथ 1 पिक क्लिक करके राहुल को भेज दी. फिर मैं चेर पे जाके बैठ गया, और लंड को मसालने लगा.

उसके बाद श्रुति मूडी, और मेरे लंड पे आके बैठ गयी, और लंड पे उछालने लगी.

उसकी गांद मेरी थाइ पे लग रही थी. फिर मैने श्रुति को स्पॅंक करके, अपनी उंगलियों के निशान उसकी गांद पे छाप दिए थे.

[विल राइट पार्ट टू इफ़ ई’ल्ल गेट इन कॉंटॅक्ट वित बॉय लीके राहुल]

वो 1 पोर्नस्तर की तरह मेरे लंड पे उछालने के बाद लंड चूसने के लिए घुटनो पे बैठ गयी. मैने श्रुति के बाल पकड़े, और उससे लंड चुसवाने लगा, जैसे की वो मेरी रखैल हो. श्रुति की आँखों से पानी आ गया था, डीप थ्रोट देके.

फिर मैने उसके पीछे से सर पकड़ा, और उसके मूह पे कम कर दिया. और फिर हम शांत हुए.

मे: मज़ा आ गया अपने बेटे के दोस्त से छुड़वा के?

श्रुति( नज़रे चुराती हुई ): हा.

फिर मैने अपने लंड पे लगा कम श्रुति के गाल पे पोंछ दिए.

श्रुति की नज़र टाइम पे पड़ी और बोल-

शरई: शीत! राहुल आता ही होगा.

जाओ जाके बाहर सोफे पे बैठ जाओ. उसको कुछ नही पता चलना चाहिए

मे( मुस्कुराते हुए): ऐसे ही बैठ जौ?

तभी बेल बाजी, और श्रुति पॅनिक कर गयी और कहा-

श्रुति: आप कपड़े पहन के बैठ जाओ, और उससे कहना की मेरी तबीयत खराब है, इसीलिए मैं सो रही हू.

मैं जैसे ही श्रुति के कमरे से बाहर निकला, मैने देखा की राहुल डिसचार्ज होके हटा ही था.

फिर मैने कहा: छोड़ दी ना तेरी मा?

राहुल: हा, मज़ा आ गया!

मे: मज़ा तो तब आएगा जब तेरी मा मेरी रखैल होगी.

तब मैं कपड़े पहन के वाहा बैठ गया, और राहुल भी सोफे पे बैठ गया. फिर उसकी मा बाहर आई.

श्रुति: आ गये बेटा? रजत कब से खाली बैठा है.

मे( आँख मारते हुए श्रुति को): हा बिल्कुल, बोर हो गया हू मैं.

श्रुति के गाल पर मेरा कम लगा हुआ था

मे: ये आपके गाल पे वाइट-वाइट क्या है?

श्रुति ( जल्दी से पोंछते हुए): ये वो… वो माय्स्चुरिज़र है.

मे: अछा?

तीस इस मी फर्स्ट टाइम तो राइट स्टोरी.

होप योउ गाइस लाइक्ड इट? कुछ ग़लतियाँ भी हो सकती है, तो माफ़ कर देना.

एनिवन हू हॅव सेम फॅंटेसी आंड गट्स ऑफ राहुल, फील फ्री तो पिंग मे.

विल राइट पार्ट टू इफ़ ई गेट इन कॉंटॅक्ट वित मोरे बाय्स लीके राहुल अराउंड देल्ही.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त की मा को ब्लॅकमेल करने की सेक्सी कहानी

error: Content is protected !!