बेटे चुदी बाप से पैसों के लिए

ही रीडर्स, मैं प्रकाश अपनी कहानी का अगला पार्ट लेके आप सब के सामने हाज़िर हू. अगर आपने पिछला पार्ट नही पढ़ा है, तो प्लीज़ जाके पढ़ो. मैं गॅरेंटी देता हू, की इस कहानी को पढ़ कर आपका पानी ज़रूर निकलेगा.

पिछले पार्ट में आप सब ने पढ़ा था, की मैने बीवी की डेत के बाद दोबारा शादी की शीतल नाम की औरत से. उसकी एक भी थी पिंकी. शीतल मुझे सेक्स करने नही देती थी. फिर एक दिन पिंकी ने दुबई जाने के लिए मेरे सामने अपने कपड़े उतार दिए. अब आयेज की कहानी शुरू करते है.

अब पिंकी मेरे सामने जीन्स और ब्रा में खड़ी थी. बहुत सेक्सी थी वो. अब जवान कॉलेज की लड़की आपको पैसों के बदले में अपना जिस्म ऑफर कर रही हो, तो आप क्या करोगे. क्या अपने आप पर काबू कर पाओगे? जवाब है “नही”. कोई काबू नही कर पाएगा.

मेरे साथ भी ऐसा ही कुछ हुआ. मेरा लंड खड़ा हो गया, और मैने आयेज बढ़ कर उसकी गर्दन पर हाथ रखा. जैसे ही मैने उसकी गर्दन पर हाथ रखा, उसने अपनी आँखें बंद कर ली. पिंकी खुद को मुझे सौंपने के लिए रेडी थी.

मैं उसकी गर्दन से हाथ फेरते हुए नीचे आने लगा. पहले मैने उसकी क्लीवेज पर हाथ फेरा, और फिर उसके बूब्स पर हाथ रख कर दबाया. क्या कड़क बूब्स थे उसके, एक-दूं ज़बरदस्त.

फिर मैं उसकी कमर पर आया, और हाथ पीछे की तरफ ले गया. मैने हाथ उसकी गांद पर रखा, और उसको ज़ोर से दबाया. इससे उसकी आहह निकल गयी. फिर मैने हाथ उसकी कमर पर रखा, और उसको अपनी तरफ खींच लिया.

अब उसके चेहरे और मेरे चेहरे के बीच सिर्फ़ एक उंगली का फांसला था. हम दोनो की साँसे आपस में टकरा रही थी. उसकी सांसो की भीनी-भीनी खुश्बू मेरे लंड को और ज़्यादा सख़्त कर रही थी.

फिर मैने अपने होंठ उसके होंठो से चिपका दिए, और उसके होंठो का रस्स चूसने लगा. वो भी मेरा साथ देने लगी. मैं किस करते हुए उसकी नंगी पीठ पर हाथ फेरने लगा, और साथ ही मैने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया.

तकरीबन 10 मिनिट हमारी किस चली. फिर जब हमने किस तोड़ी, तो डॉनी की साँसे फूली हुई थी. किस तोड़ कर जैसे ही हम अलग हुए, उसकी ब्रा बूब्स से अलग होके नीचे गिर गयी. अब उसके 2 रस्स के प्याले मेरी आँखों के सामने थे.

जवानी बारे बूब्स, और एक-दूं टाइट. मैने उसके एक बूब को मूह में भर कर चूसना शुरू कर दिया, और दूसरे बूब को दूसरे हाथ से मसालने लग गया. वो कामुक आहें भरने लगी, और मेरे बालों को अपने हाथो से सहलाने लगी. एक बात तो पक्की थी, की ये पिंकी का फर्स्ट सेक्स नही था.

बूब्स चूस-चूस कर लाल करने के बाद मैने उसको बेड पर लिटाया, और उसके नीचे के कपड़े भी उतार दिए. अब पिंकी मेरे सामने पूरी नंगी थी. उसकी छूट पर बहुत हल्के बाल थे, जो शेव करने से 2 या 3 दिन बाद के होते है.

उसकी छूट पिंक रंग की थी. शायद इसीलये उस पर पिंकी नाम सूट करता है. मैने उसके पेट कर किस करना शुरू किया, और नाभि तक किस करते हुए आया. फिर मैने अपनी जीभ को नाभि के अंदर डाल कर चाटना शुरू किया. वो ये सब महसूस करके हल्के-हल्के मोन कर रही थी.

फिर मैं जीभ फेरते हुए उसकी छूट पर आया, और उसकी छूट पर अपनी जीभ फिरने लगा. जैसे ही मैने उसकी छूट पर अपनी जीभ लगाई, वो सिसक गयी. फिर मैने उपर से नीचे जीभ फिरा कर उसकी छूट चाटनी शुरू कर दी.

उसने अपनी टांगे खोल दी, ताकि मैं उसकी छूट को आचे से चाट साकु. मैं उसकी छूट के मूह को दांतो से खींचने लगा, और उसके दाने को चूसने लगा. वो तो जैसे पागल ही हो गयी थी मज़े से.

तभी उसकी छूट ने माल का एक ज़बरदस्त धक्का छ्चोढा, जो सीधा मेरे मूह में गया. मैने उसका माल सारा पी लिया. अब मेरी बारी थी मज़ा लेने की. मैने अपने कपड़े उतारे, और उसको लंड चूसने को बोला.

अब मैं बेड पर लेता हुआ था, और वो मेरे उपर 69 पोज़िशन में आके मेरा लंड चूसने लग गयी. किसी प्रोफेशनल की तरह वो मेरा लंड चूस रही थी. चूसना ही था, इतने पैसे तो चाहिए थे.

कुछ देर लंड चुसवाने के बाद मैने उसको लंड अंदर लेने को कहा. फिर वो सीधी होके मेरे लंड पर बैठ गयी. उसने लंड पकड़ कर अपनी छूट के मूह पर रखा, और धीरे-धीरे उपर बैठने लगी.

मेरा लंड उसकी गरम और टाइट छूट में जेया रहा था, और मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था. मैं भी उपर की तरफ ज़ोर लगा कर लंड अंदर कर रहा था. कुछ ही सेकेंड्स में मेरा पूरा लंड पिंकी की छूट में चला गया.

पिंकी को तोड़ा दर्द भी हो रहा था, और मज़ा भी आ रहा था. फिर उसने धीरे-धीरे लंड पर उपर-नीचे होना शुरू किया. मैने उसके छूतदों पर हाथ रखा, और उसको लंड पर उपर-नीचे होने में मदद करने लगा.

अब उसकी छूट पूरी तरह से अड्जस्ट और गीली हो चुकी थी. तो उसने अपनी उछालने की स्पीड बधाई. उसने मेरी चेस्ट पर हाथ रख लिए, और तेज़ी से अपनी छूट में मेरा लंड लेने लगी. साथ-साथ वो आ आ की आवाज़े भी निकाल रही थी.

मुझे और ज़ोर से उसको छोड़ना था. तो मैने उसको नीचे लिटाया, और खुद उसके उपर आके अपना लंड उसकी छूट पर रगड़ने लगा. वो पूरी तरह से मदहोश हुई पड़ी थी छूट की गर्मी में.

फिर मैने ज़ोर का धक्का मार कर अपना पूरा लंड उसकी छूट में घुसा दिया. उसकी ज़ोर की चीख निकली, और मैने लंड अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया. उसके होंठो को चूमते हुए मैं फुल स्पीड में उसको छोड़ने लगा.

पूरा बेड हिल रहा था, जब मैं उस जवान लड़की की ठुकाई कर रहा था तो. 15 मिनिट उसको छोड़ने के बाद मैने अपना माल उसकी छूट में ही निकाल दिया. फिर मैं कुछ देर उसके उपर ही लेता रहा. कुछ देर बाद हम दोनो अलग हुए, और अपने कपड़े पहनने लगे.

फिर मैने पिंकी को 60000 दे दिए. उस दिन के बाद से जब भी उसको पैसे चाहिए होते है, तो वो मुझसे चुड्ती है.

दोस्तों कहानी का मज़ा आया हो, तो लीके और कॉमेंट करे.

यह कहानी भी पड़े  होटल की ट्रेनी रिसेप्शनिस्ट को चोदा-1


error: Content is protected !!