सगी बहन को मॉडर्न बनाकर चोदा

हैल्लो दोस्तों, में शुरू से ही लड़कियों के मामले में बहुत खुले विचारों का हूँ इसलिए में हमेशा उनकी तरफ बहुत आकर्षित हुआ करता हूँ और हम लोग जयपुर के रहने वाले है। में पिछले कुछ सालों से लगातार कामुकता डॉट कॉम पर सेक्सी कहानियों को पढ़कर उनके मज़े लेता आ रहा हूँ और मुझे ऐसा करने में बड़ा मज़ा आता है। मैंने कई बार अपने लंड को हिलाकर उसको शांत किया। दोस्तों आज में आप सभी को अपनी एक सच्ची घटना सुनाने के लिए आया हूँ और मुझे उम्मीद है कि यह मेरी कहानी आप सभी पढ़ने वालो को जरुर पसंद आएगी। दोस्तों में एक मध्यमवर्गीय परिवार से हूँ और मेरी उम्र 21 साल है। मेरे परिवार में मेरी माँ, पापा और मेरी एक बहन जिसका नाम लता है, उसकी उम्र 20 साल है मेरा एक बड़े कॉलेज में पिछले साल दाखिला हो गया और इसलिए मैंने तभी से बाहर की दुनिया के सभी मज़े पहले ही साल में ले लिए, लेकिन उस समय मेरी बहन लता इंग्लीश में बीए कर रही है, वो भी सिर्फ़ पेपर देने ही उसके कॉलेज जाती थी, बाकि समय वो घर में ही रहा करती थी और इसलिए वो मुझे हमेशा मॉडर्न बनकर रहते हुए देखती थी और वो आसपास की लड़कियों को भी जींस टी-शर्ट और तरह तरह के मॉडर्न कपड़े पहनते हुए देखा करती थी, लेकिन उस पर मेरी मम्मी और पापा की बहुत पाबंदिया थी इसलिए वो वैसे कपड़े नहीं पहन सकती थी। कई दिनों तक तो उसके दो ही मन बहलाने के जुगाड़ होते थे, उसका मुझसे हर कभी हंसी मज़ाक करना या फिर टीवी देखना वो उन्ही कामो में हमेशा खुश रहा करती थी। एक बार मेरी मम्मी पापा दो दिन के लिए मेरे ननिहाल जो एक गाँव है, वो वहां पर एक शादी में चले गये और उस समय मेरे पेपर भी एक महीने के बाद ही थे और लता को भी मेरे लिए खाना बनाने और घर के कामों के लिए रुकना पड़ा इसलिए घर में हम दोनों भाई बहन ही अकेले रह गए और में अपने कॉलेज चला जाता वहां से आकर में अपने दूसरे कामो में लगा रहता।

फिर एक दिन में अपने कमरे में बैठकर अपनी पढ़ाई कर रहा था तभी वो कुछ देर बाद मुझसे बात करने के लिए मेरे कमरे में आकर बैठ गई और वो मुझसे कहने लगी कि कुछ सालों में हमारी भी शादी हो जाएगी क्या कभी मैंने ऐसा सोचा है? तो मैंने गौर किया कि उसमें अभी भी बहुत बचपना था और वो इन घरेलू बातों से ऊपर नहीं सोच सकती थी, उसके सलवार कुर्ते में ढके 36-29-34 के बूब्स 5.4 इंच के गोरे बदन को मैंने पहली बार हवस की निगाहो से देखा, लेकिन उसको मेरी वो नज़र बिल्कुल भी समझ में नहीं आई और अब वो मेरे जवाब का इंतज़ार करती रही, तभी मैंने उससे पूछ लिया कि तुम शादी के बारे में क्या जानती हो? तो उसने बारात घोड़े के बारे बताना शुरू कर दिए और फिर मैंने उससे पूछा कि क्या तुमने अपने जीवन में कभी कुछ किया भी है? पड़ोस की लड़कियाँ अपने अपने बॉयफ्रेंड बनाकर उनके साथ घूमती फिरती है वो उनके साथ डिस्को जाती है और तुमने आज तक जींस तक भी नहीं पहनी। दोस्तों उसकी तड़प को इतने दिन तक महसूस करने के बाद यह मेरा तरीका सोच पाना मेरे लिए बिल्कुल भी मुश्किल नहीं था, इसलिए वो मेरी बातें सुनकर चकित सी रह गई और उसके पास अब सोचने तक को भी कुछ नहीं बचा था। अब मैंने ठीक सही समय पर तीर मारते हुए उससे कहा वैसे तुम चाहो तो में तुम्हे सब कुछ सिखा सकता हूँ और फिर उसके बाद तुम भी एक मस्त दिखने वाली मॉडर्न लड़की बन जाओगी और तुम्हें बाहर सभी के साथ उठाना बैठना आ जाएगा और फिर लाइफ में एक सब कुछ करके तो देखना ही चाहिए और तुम बहुत से काम पहली बार ही कर रही होगी और वो मुझे बहुत ही शांतिपूर्ण सुनती रही और अब वो मेरी बातें सुनकर गरम हो गई और वो मुझसे बोली कि हाँ ठीक है वैसे भी अगले दो दिन तक मम्मी पापा भी यहाँ पर नहीं होंगे। दोस्तों वो अब यह बातें मुझसे ऐसे कह रही थी जैसे कि हर बंधन से वो मुक्त हो गई हो। फिर मैंने शाम के लिए विस्की, सिगरेट, मिनी स्कर्ट, मेक्सी सब मुझे अपने दोस्तों की गर्लफ्रेंड या दोस्तों से बड़ी आसानी से मिल गए थे और मुझे घर पर ना होकर किसी नई दोस्त के साथ होटल में होने का बहाना भी मिल गया। फिर उसी शाम को करीब पांच बजे मेरी बहन लता ने दरवाजे को अच्छी तरह से बंद कर दिया। हमारे घर में निचले हिस्से पर बाहर से बिल्कुल भी अंदर नहीं दिखता, वो उस समय किचन में दूध गरम कर रही थी कि तभी मैंने पीछे से जाकर गैस को बंद कर दिया, वो थोड़ी सी घबराई हुई थी जिससे मुझे पता लगा कि सेक्स के बारे में किताबो में या किसी और से उसको सब कुछ तो पता था, लेकिन वो खुलकर हर तरह के मज़े देखना चाहती थी।

यह कहानी भी पड़े  पापा मम्मी की चुदाई

फिर मैंने उससे कहा कि अब जो भी हमारे बीच में होगा, इससे वो उसका पूरा मज़ा लेगी और उसके हाँ कहते ही मैंने तुरंत उसको अपनी बाहों में भरकर उठा लिया और फिर में उसको अपने रूम में ले गया। अपने कमरे में लगे उस लंबे शीशे के सामने ले जाकर मैंने उसको खड़ा करके उसके चुटकी लेते हुए में उससे बोला कि इतनी जल्दी भी क्या है? तो मुस्कुराते हुए उसने पहले मेरी तरफ देखा और उसके बाद टेबल की तरफ देखा वहां पर मेरी जींस टी-शर्ट रखी हुई थी। मैंने उसको वो कपड़े बाथरूम में जाकर बदलने को कहते हुए बोला कि वो दरवाजा खुला रखकर बदले है और वो दरवाजे को बिना लगाए वो कपड़े पहनकर बाहर आ गई और शीशे के सामने आकर वो अपने आप को चारों तरफ से बड़ी ही चकित नजर से देखने लगी और उस समय मेरी कमर का आकार 30 था, इसलिए वो उस पर अच्छी तरह से फिट हो रही थी, लेकिन वो टी-शर्ट में बहुत बेकार महसूस कर रही थी, इसलिए मैंने उसको कहा कि वो अपनी उस टी-शर्ट को उतार दे, तो उसने भी ठीक वैसा ही किया। अब वो अपनी ब्रा में पहली बार किसी लड़के के सामने खड़ी थी और वो लगातार मुझे ही अपनी अजीब सी नजर से देख रही थी। फिर मैंने उसको एक मिनी स्कर्ट पकड़ा दी और अब वो उसको बड़ी ही शरम से बदलने चली गई। फिर में उसको पहली बार अपनी नजरों के सामने मिनी स्कर्ट और ब्रा में देखकर बिल्कुल दंग रह गया, क्योंकि इससे पहले भी उसका वो गोरा आकर्षक जिस्म और वो सेक्सी भरी हुई जांघे जो मुझे हमेशा से अपनी तरफ खींचा करती थी। फिर वो जब दोबारा शीशे के सामने आई तो मुझे दिखाई दिया कि उसकी स्कर्ट थोड़ी सी उठी रह गई थी और अब मैंने भी उसके पास जाकर धीमे धीमे से उसकी गर्दन को सूंघते चूमते हुए उसकी उस स्कर्ट को उस जगह से ठीक किया और अब में उसकी जांघो पर हाथ फेरने लगा और साथ साथ में उसकी मिनी स्कर्ट के अंदर अपने एक हाथ को डालकर उसकी गरम जांघो पर और उसके उपरी हिस्से पर भी हाथ फेरने लगा था, तभी मैंने महसूस किया कि वो अब थोड़ी सी तेज तेज साँसे लेने लगी थी क्योंकि उसको इस तरह का अहसास पहली बार जो हुआ था। अब्ब मैंने उसी समय उसके कान के पास अपने मुहं को ले जाकर बहुत धीमी आवाज से उससे पूछा कि क्या कभी किसी ने तुम्हारे बूब्स दबायें है? तब उसने धीरे से अपने सर को ना कहते हुए हिला दिया और अब मैंने पीछे से ही ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स को ज़ोर से दबाए जिसकी वजह से वो उफ़फ्फफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्हह्ह कर उठी उसी समय थोड़ी देर उसके बूब्स को ज़ोर से दबाए रखकर मैंने अब लगातार उसके दोनों बूब्स को दबाना शुरू कर दिया और तब मैंने महसूस किया कि अब उसको भी मेरे यह सब करने से मज़ा आने लगा था और इसी बीच मैंने अपनी शर्ट को उतार दिया और उसके बाद मैंने सही मौका देखकर उसकी ब्रा का हुक खोलकर ब्रा को भी नीचे गिरा दिया था और अब उसकी गर्दन को चाटते हुए उसकी गरम मुलायम पीठ से अपनी छाती को चिपकाते हुए में उसके खुले हुए बूब्स को बड़े से दबाने लगा था जिसकी वजह से वो अब सिसकियाँ भरने लगी और जिस तरह उसके बूब्स मेरे हाथों में इधर से उधर भाग रहे थे मुझे हमेशा की तरह मज़ा आने लगा था और मेरा लंड पूरी तरह से जोश में आकर तन चुका था और अब वो भी पूरी तरह से गरम हो चुकी थी।

यह कहानी भी पड़े  बालकनी में भैया ने चोदा

अब मैंने काले रंग की मेक्सी को उसके एक हाथ में पकड़ाते हुए अपनी बाहों में उठाकर बाथरूम ले जाते हुए मैंने उससे पूछा कि क्या कभी किसी ने तुम्हारे कपड़े बदले है? लेकिन उसने मेरी इस बात का अपनी तरफ से मुझे कोई भी जवाब नहीं दिया और में उसकी उस ख़ामोशी का मतलब ठीक तरह से समझ चुका था। अब मैंने उसको बाथरूम के अंदर ले जाकर मेक्सी को पहले एक तरफ खूँटी पर टांक दिया उसके बाद मैंने तुरंत उसकी स्कर्ट को उतार दिया तब मैंने देखा कि उसकी पेंटी तो जोश में आने की वजह से बहुत गीली हो चुकी थी और पेंटी को उतारते हुए उसने मुझे जताया कि वो कभी भी किसी के सामने पूरी नंगी नहीं हुई थी, उस समय वो खुशी में मुस्कुरा रही थी। अब मैंने उसकी हल्के छोटे छोटे से बालों वाली कुंवारी चूत की एक लंबी मजेदार किस ली और उसके बाद मैंने अपनी पेंट को उतारकर अपने से चिपकाकर में स्मूच करने लगा। फिर अब मैंने महसूस किया कि थोड़े ही टाइम में वो भी बहुत कुछ सीख गई और अब वो भी मेरे साथ पूरी तरह से खुलकर स्मूच करने लगी थी और शायद उस दिन उसने अपने जीवन में पहली बार मेरे साथ जी भरकर स्मूच किया था, तब मैंने कुछ देर बाद उसको धीरे से नहाने के टब में धकेल दिया और अब में उसके गोरे भरे हुए पैरों से शुरू करके जाँघो को नाभि को चूमने के बाद में अब उसके बूब्स को भी चूसने लगा था। अब मुझे उसकी तेज गति से चलती हुई वो धड़कने साफ साफ महसूस हो रही थी और बहुत देर तक उसको लगातार चूमने चूसने के बाद मैंने उसको अब अपनी बाहों में उठाने की बजाए कंधे पर पेट के बल उठाया जैसे कि अब बिल्कुल वो बेबस हो और उसके बाद मैंने उसको बाहर ले जाकर बेड पर लाकर पटक दिया। अब मैंने उसकी तरफ बहुत ध्यान से देखा। वो अब एकदम घबरा चुकी थी, क्योंकि उसके साथ ऐसा बर्ताव वो सभी काम अब तक किसी ने नहीं किया था। अब मैंने उसके दोनों हाथ दबोच लिए और फिर उसको स्मूच करते हुए मैंने उसके होंठ पर हल्का सा काट खाया, जिसकी वजह से वो हल्की सी सिहर गई और उसके मुहं से आईईईई स्सीईईईई की आवाज उस समय बाहर आई और अब मैंने उसकी तरफ देखकर मुस्कुराते हुए उसके दोनों पैरों को फैला दिया और उसके बाद मैंने अपनी दो उँगलियाँ उसकी चूत में हल्के से रगड़ना शुरू कर दिया। में उसकी चूत के दाने को अपनी ऊँगली से सहलाने लगा, जिसकी वजह से वो जोश में आकर ऊउफ़्फ़्फ़्फ़ आह्ह्ह्हह आईईईइ की आवाज़े करने लगी और अब मैंने उसकी कामुकता को देखकर बड़ी तेज़ी से अपनी दोनों उँगलियों को लगातार अंदर बाहर करना शुरू कर दिया था और कुछ ही देर बाद में उसके साथ साथ अब चूत के दाने को भी अपनी जीभ से चाटने लगा। इससे उसकी एक तेज आह्ह्ह के साथ उसकी चूत ने बहुत सारा पानी छोड़ दिया और अब वो एकदम लाल और बहुत गरम हो गई। फिर मैंने उसकी चूत के पानी को चाटते हुए उसकी चूत में अपनी जीभ को पूरा अंदर डाल दिया और में अब रगड़ने लगा, जिसकी वजह से वो छटपटाने लगी और मुझसे आह्ह्हह्ह उफफ्फ्फ्फ़ आऐईईईइ प्लीज अब रहने दो भैया कहने लगी। अब मैंने और भी ज़ोर से अपनी जीभ को रगड़ते हुए उसको पूरा जोश से भर दिया और फिर उसने एक हल्की सी आह्ह्ह के साथ थोड़ा सा पानी दोबारा छोड़ दिया। 

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!