बेहन के साथ रात भर मस्ती

ही दोस्तो मेरा नाम लोवे है. मे गुजरात का रहने वाला हू. मेरी आगे 24 साल ह. दिखने मे आवरेज हू बुत किसी भी लड़की की चीखे निकालने का दम मेरी लंड मई है. ये कहानी मेरे और मेरे तौजी की लड़की तनवी की ह. तनवी थोड़ी मोटी ह उसकी गॅंड देख के किसी का भी लोड्‍ा खड़ा हो जाए. तो ज़्यादा बोर नही करते हुए स्टोरी पे आता हू.

मेरे कज़िन भाई की शादी थी. ठंड का टाइम था. हम लोग सब भाई बहेन फुल मस्ती मई थे. तो तनवी मेरे पास आई और मुझे पीछे से ज़ोर से हग किया उस टाइम मेरे मान मे उसको लेके कोई ग़लत फीलिंग्स न्ही थी. तो मैने उसे टाइम जाने दिया. दूसरे दिन मे नहाने जा रा था तो वो पहले से नहा रही थी.

मैने बोला तनवी बाहर निकल मुझे नहाना ह तो बोली आ जाओ साथ मे नहाते ह. हम भाई बाहें के बेच मे ये सब मज़ाक चलता था. फिर वो बाहर निकली और मुझे एक सेक्सी स्माइल देके चली गयइ. मे अंदर गया तो देखा उसकी ब्रा पनटी पड़ी थी.

जैसी ह मैने उसको साइड करने के लिए उठाया तो पता न्ही क्या हुआ मुझे अजीब सी स्मेल आई और मे उसकी ब्रा को सूंघने लगा. मेरे लंड फुल खड़ा हो गया और मैने उसकी पनटी को अपने लंड पे रख के मूठ मारने लगा.

और 10 मिंट बाद मेरा पानी निकल गया जो मैने उसकी पनटी मई हे छ्चोड़ दिया. फिर नहा के बाहर निकाला और उसकी पनटी धोना भूल गया. फिर थोड़ी देर बाद मुझे याद आया तो जब मे बातरूम गया तो देखा वो उसी बातरूम से बाहर निकल रही थी.

यह कहानी भी पड़े  दीदी के ससुराल में उसकी ननद, सास और जेठानी को खूब चोदा

उसके हाथ मे उसकी पनटी और ब्रा थी. वो मेरे को दिखाते हुए बोली पता न्ही देखो कों नहाने गया था और मेरे कपड़े कराब कर दिए और मेरे को देख के कातिल मुस्कान दे ने लगी. मई समझ गया इस को पता चल गया है ये मैने हे किया ह. बट वो कुछ बोली नही तो मे सोचता हे रह गया उससने कुछ बोला क्यू नही. खेर फिर मे काम मे बिज़ी हो गया.

डोफेर को हम सब खाना खा रहे थे तो वो मेरी एक पैर पे बैठी और अपनी गॅंड थोड़ा हिलने लगी. मेरा लंड फुल टाइट हो गया जो उसको अपनी गॅंड पे महसूस हुआ तो वो एक बार तो चौकी फिर धीरे से थोड़ा पीछे हुई और मेरे लंड को महसूस करने लगी. फिर मेरी तौजी को आते देख वो खड़ी हो गयइ और मेरे तरफ देखते हू बोली आज तो भैया की गोद मे बैठ के मज्जा आ गया. मे बस स्माइल किया और बातरूम मे जा के उसके नाम की मूठ मारी. जैसी हे. मई बाहर निकला वो बाहर खड़ी थी मेरे को स्माइल करते हुए बोली क्यू कर के आ गये. मे बोला क्या.

तो बोली बातरूम मे लोग क्या करते ह वो.

तो मे तोड़ा फ्लर्ट करते हुए बोला करने का तो अपना अपना मान होता ह. कोई कुछ करने जाता ह कोई कुछ.

फिर वाहा से चला गया. पूरा दिन मस्ती और काम मे इतना थक गये की सब भाई बहेन साथ मे सो गये. एक तरफ सब लड़किया और एक तरफ सब लड़के. मे जब आया तो देखा कोने मे 2 जान की जगह खाली है मे वाहा जा के सो गया. और थोड़ी हे देर मे मुझे नींद आ गई.

यह कहानी भी पड़े  मम्मी की रोज चुदाई कर के प्रेग्नेंट किया

अगली सुबा मे सो रा था तो तकरीबन 6 बजे मुझे लगा मेरे बाजू मे कोई आ के सोया ह. अचानक मुझे ऐसा फील हुआ जैसे मेरे कंबल के अंदर कोई गुसा आंड मेरे चिपक के सोने लगा.

मैने इग्नोर किया मई देखा मेरा कोई भाई होगा जो मस्ती कर रहा है.

फिर मुझे मेरी पीठ पे तोड़ा सॉफ्ट सॉफ्ट फील हुआ. तो मुझे झटका लगा की कोन हो सकता ह. फिर उसका हाथ धीरे धीरे मेरे लंड पे आने लगा. मे सोने ने का नाटक करता रा.

फिर उस ने मेरे पाजामे के अंदर हाथ डाल कर मेरे लंड को पकड़ लिए और उसको सहलाने लगी. मई तो जैसे जन्नत मे था पहली बार किसी लड़की ने मेरे लंड को छुआ था. फिर थोड़ी देर. बाद उसने मेरे कान मे कहा मुझे पता है तुम जाग रहे हो क्यू अकेले अकेले मज्जा ले रहे हो.

मे समझ गया ये मेरे तौजी की लड़की ह. मायने उसको तरफ फेस किया और उसको एक स्मूच कर दी ज़ोर से. फिर वो लगातार मेरा लंड सहेला रही थी. फिर उस ने मे मेरा हाथ पकड़ के अपने बूब्स पे रख दिया.

मेरा लंड तो फटने को हो गया. फिर मै उसके बूब्स को लगातार दबाए जा रा था और वो पूरा मज्जे ले र्ही थी. उसके बूब्स इतने बड़े थे की मेरे हाथ मै भी न्ही आ रहे थे. फिर भी मै लगातार दबाए जा रा था. और वो मेरा लंड को ऐसे खींच रही थी जैसे उखाड़ हे देगी. मे बोला धीरे कर वो बोली दर्द मै हे तो मज्जा है.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2