बाप के सामने मा को चोदा

मा: खुशी का चेहरा दिखाते हुए तुझसे ज़्यादा खुश मई हूँ पूज्जु..

मई: जानता हूँ मई आप बोहोट खुश हो मेरे लंड से चुड के. उससी वक़्त एक उंगली से अपना कम लेके मा के मूह मेी उंगली डाल देता हूँ और कहता हूँ चूसो इसको आचे से.

मा मेरी उंगली चुस्के उंगली बाहर निकल देती हैं और कहती हैं च्ीी कितना गंदा टेस्ट हैं इसका हॅट..

मई: अरे अब तो तुमको इसका स्वाद रोज़ चककना पड़ेगा वरना मेी तुमको छोड़ूँगा नही सोचलो.

मा: हा तू अब मुझे बिना छोड़े रह ही नही सकता बदमाश चल अब सो जाते हैं सुबह उतना भी हैं मुझे.

मई: अरे ऐसे कैसे मा इतनी जल्दी नही आज तो हुमारे लिए ख़ास रात हैं और फिर उनका हाथ पकड़ के मेरे लंड पे रख दिया.

मा: हाए दायया तेरा तो फिर खड़ा हो गया बेटा.

मई: हा क्यूंकी मेरे लंड को आज जन्नत जो नसीब हुआ हैं.

मा: मेी तक गयी हूँ बेटा काफ़ी बाद मेी कर लेना ना.

मई: अरे एक बार और करने दो ना मा प्लीज़ इश्स बार तुम मेरे उपर आके बेतो हिलो मत बस ऐसे ही रहो मेरे उपर और प्यार करने दो मुझे.

मा: तेरी ज़िद्दी पाना नही चलेगा ज़्यादा ठीक हैं ना लंड को हिलाते हुए कहती हैं प्यार से.

मेी खुश हुआ और हाथ पकड़ के कहा चलो आओ मेरी रंडी मेरी गौध मेी आके बेतो अब.

मा: हॅट रंडी बोलेगा तू मुझे अब जेया नही आ रही मेी.

मई: अरे नाराज़ क्यूँ होती हो तुम मा रंडी तो कहूँगा ना मुझसे चुड जो रही हो, चलो अब नाराज़ नही होते मेरी रानी.

मा शरमाते हुए मेरे उपर आके लंड के उपर अपनी छूट रख के और मेी अपनी टांगे चौड़ी करके उनका स्वाघात करता हूँ और उनको उपर बीतता हूँ.

जैसे ही छूट मेी जाता हैं तो मेरा लंड गायब हो जाता हैं. और मेी मा की चुचिया पकड़ के उनको अपने उपर सोने का इशारा करता हूँ. मा तुरंत मेरे उपर आके लेट जाती हैं छूट मेी लंड लिए और मेी आ ही आवाज़ निकलता हूँ.

मा: खुश मेरे लाल मुझे तेरे उपर सुलके.

मई: हा बोहोट खुश हूँ मेी अपनी सग़ी मा को अपने उपर ऐसे नंगा देख कर और धीरे से अपना लंड आयेज पीछे करने लगता हूँ.

मा आँखे बाँध करके मुझसे चिपक जाती हैं और मेरे कान मेी मोन्स करती रहेती हैं… आह आह उम्म्म आह उम्म उन्म उम्म्म उनम्म आह उफ़फ्फ़ उम्म…

मा: आहह बएटाा कितना प्यारा हैं तू मेरे लाल मुझे यकीन नही होता आहह उहह.. तू मुझसे उफ़ उफ़फ्फ़ मुझसे इतना प्यार करता हैं बदमाश यअहह..

कुछ 10 मीं उससी पोज़िशन मेी छोड़ने के बाद लंड अंदर रख के उनको पलटा देता हूँ. और नीचे लाके मेी बेत जाता हूँ छूट के पास और धक्के लगाने लगता हूँ ज़ोर ज़ोर से. जिससे मेरा लंड फिर से अंदर तक जाके टकराने लगता हैं अफ…

मई: उफ़फ्फ़ मा टुमरी छूट की मस्त हैं और मलाई जैसी मीठी हैं.. आहह मज़ा आ रहा आपको छोड़ के वापिस उम्म आहह आहह आहह मुम्मा कितनी गरम औरत हो यार तुम आह..

मा: अब तू ऐसे मुझे छोड़ेगा तो तेरी मा गरम ही हो जाएगी ना मेरे बदमाश बेटे.. उफ़फ्फ़ छोड़ मुझे आज तेरे लंड पा कर मेी तो धान्ये हो गयी बोहोट आज तो.. आहह छोड़ मुझे बेटाअ आअहह आहह उहह आ उहह उम्म… आ एस उम्म श गॉश आह अफ आ उम्म अफ आ उम्म एसस्स…

मेी वही वापिस छूट से लंड निकाल के मा के गले के पास गया और उनका पहेना हुआ मंगलसूत्रा पकड़ के कहा, मा सुनो तो.

मा: हा बोल बेटा और यह मंगलसूत्रा क्यूँ ऐसे पकड़ा हुआ हैं तूने छ्चोड़ इसको तेरे पापा का हैं वो.

मई: हा जनता हूँ मेी उन्होने आपको कही सालो पहेले पेनाया और इश्स पवक शरीर को छोड़ के मुझ जैसे मदारचोड़ बेटे को जानम जो दिया हैं.. और लंड एक हाथ से पकड़ के होंठो को टच किया, और कहा मेरी प्यारी मा इसको चूसो अब.

मा: अरे नही नही पागल हैं क्या बेटा.

मई: अरे माना क्यूँ कर रही हो तुम अब तो छोड़ लिया ना मैने तो चूसने मेी शरमाना क्यूँ?

मा: नही यह गंदा होता हैं मेी नही चुसूंगई.

और धक्का मार के मुझे साइड घिरा दिया और लंड को हाथ मेी पकड़ के हिलाने लगी एक हाथ से मुझे देखते हुए. रात के महॉल मेी लाइट से झाग मागाती कमरे मेी और चुम्मि दे दी.

मई: आँखे बाँध करके आँहे भरने लगा आहह मा मज़ा आ रहा हैं मुझे ऐसे ही करते रहो उफ़फ्फ़.. आहह उहह आहह उम्म माआ मेरी प्यारी जानेमन आह श…

मई: मा सुनो ना अपने दोनो चुचो के बीच मेी मेरा लंड रख के हिला दो ना कूम से कूम.

मा: ठीक हैं.

और तुरंत उठ के मा मेरे लंड के करीब गयी और पूछा कैसे करते हैं.

मई: अपने दोनो चुचो को एक एक हाथ मेी पाकड़ो और लंड को बीच मेी लेके उसको दब्ाओ और हिलाने लागो मेरे लंड को.

मा: ठीक हैं मेरा राजा बेटा मुआः..

मा ने ठीक वैसा ही किया और दोनो बूब्स के बीच मेी रख के मेरे लंड को और हिलाने लगी धीरे धीरे.. अफ क्या बतौ दोस्तो साची जीवन का असली सुख वो ही हैं आहह.. जब मा मेरे लंड से ऐसे ही खेल रही होती हैं और उदार मंगलसूत्रा भी हिलता रहेता हैं बूब जॉब के वजह से और मेी आँखे बाँध करके बस मज़े ले रहा होता हूँ आहह…

मम्मी करते झाओ उफ़फ्फ़ आहह उम्म्म आ आ आ आ आह आ उहह उहह आह उम्म आह श मुम्माआ मज़ा आरहा हैं उफफफ्फ़…

ऐसे ही करीब 5-7मीं बूब जॉब देने के बाद मेरा पानी निकलवाने वाला होता हैं. लेकिन मेी बताता नही हूँ और अपनी गांद हिलाते हुए कहता हूँ..

मई: आहह मम्मी बस कुछ देर और आहह मेरा होने वाला हैं आ आ आ आह उहह…

आँहे भरते हुए मैने उनके गर्दन पे फिर से पानी छ्चोड़ दिया और वही फारिग होके लेता रहा. और मम्मी अपना चिपचिपा बदन लेके मेरे पास आके लेट गयी और मुझसे चिपक के कहा-

मा: देख तूने मुझे पूरा गंदा कार्डिया तेरे लंड के पानी से.

मई: मा की तरफ देखते हुए खुशी से कहते हूँ इसको गंदा नही पवितरा रस का स्नान कहते हैं मेरी रानी मा मुआः.

मा: चल हॅट मुझे बातरूम जाने दे सॉफ करके आई मेी.

फिर मा उठ के धीरे से पापा के बगल से निकल के बातरूम गयी. 10 मीं बाद आई पूरा बदन सॉफ करके आचे से और मेरे लिए गिल्ला कपड़ा लेके पास आई. और मेरे लंड की सफाई करने लगी और आचे से लंड सॉफ करके कपड़ा साइड फेका और मुझसे कहा-

मा: आख़िर तूने मुझे छोड़ ही दिया ना..

मई: यह तो होना था क्यूंकी पापा आपको छोड़ जो नही सकते अब कभी.

मा: हा वो तो हैं पर तू है ना अब मेरे लिए क्यूँ ?

मई: हा मेी हूँ अब हमेशा टुमरे लिए और मेरा लंड भी हमेशा रहेगा..

यह कहते हुए मैने एक उंगली उठाई और सीधा बालो से भारी छूट मेी डालके अंदर ही उंगली घुमाने लगा आचे से. लेफ्ट वाले बूब को चूस्ते हुए वापिस से.

मा: अरे बेटा आहह क्या कर रहा हैं तू बदमाश फिर चालू हो गया टाइम तो देख ज़रा आआअहह…

मई: आज कोई नही सुनुगा मेी टुमरी और ज़ोरर से बूब के निपल काट लिए उम्म…

मुम्मा छटपटाने लगी और मेी रूखा नही बिल्कुल भी और चूस्ता गया और उंगली करता गया ज़ोर ज़ोर से. करीब 15मीं की उंगली करने के बाद मा ने फर्श पूरा गिल्ला कर दिया अपने छूट के पानी से और शांत हो गयी. और मेी वही उनसे चिपक के लेट गया और कहा..

मई: मा ई लोवे योउ सो मच.

मा: मुआः होंठो को चूमते हुए लोवे योउ टू पूज्जु और थॅंक योउ मुझे सोने से पहले शांत करने के लिए.

मई: हमेशा आपको खुश करूँगा जब तुम चाहो बस मेरे लंड की सेवा करते रहेना. अब मैं तुम्हारा हूँ और मेरे बदन पे अब सिर्फ़ तुम्हारा हक़ है.

फिर मेी और मा दोनो ऐसे ही नंगी बिस्तर पर जो फर्श था वाहा सो गये थकान की वजह से एक दूसरे से चिपक के बाहों मेी. और मेरा एक हाथ उनके बूब पे होता हैं और उनका हाथ मेरी छाती पे.

ह्यूम पता ही नही चला कब पापा उठ के बाहर आए और हम दोनो को ऐसे नंगे देख के चले गये बिखरे हुए पोज़िशन मेी यह उन्होने मुझे अगले दिन बताया वो मेी आपको अगले पार्ट मेी बतौँगा आचे से.

तो दोस्तो यहा कठाम होती हैं मेरी कहानी का पहेला पार्ट थोड़ी सी सिंपल हैं. उमीद करूँगा आपको अची लगे. और लड़को ने खूब लंड हिलाया हो और लड़कियो ने छूट मेी उंगली की हो ऐसी उमीद करूँगा.

अब अगले दिन से मेरी ज़िंदगी कैसी बदल जाती हैं और कैसे फिर मैं ने मा को पूरा ट्रॅन्सफॉर्म किया और कैसे घर पे हर जगह मा के साथ संबंध बनाए और आयेज जाके मा से ही मैं ने शादी की. सब आपको मेरी कहानी के पार्ट्स के रूप मेी देखने और पढ़ने मिलेगा.

मेरी कहानी को पढ़के मुझे बिल्कुल फीडबॅक दीजिएगा मुझे इंतज़ार रहेगा आप लोगो के फीडबॅक का. मेरी एमाइल ईद पे मेरी एमाइल ईद हैं ब्लोवतीओर्ल्ड@याहू.कॉम

आप लोगो के रीप्लाइस का इंतेज़ार रहेगा मुझे. और इसका अगला पार्ट आपको बहुत जल्दी देखने को मिलेगा. बहुत सारा प्यार आप सभी को मेरे और मेरी रंडी मा की तरफ से.

यह कहानी भी पड़े  अम्मी को चोदने के लिए 2 लाख दिए

error: Content is protected !!