पड़ोसन आंटी उसकी बहेन और बेटियों की चुदाई

हेलो फ्रेंड्स, तीस इस राज अगेन एक नयी कहानी के साथ. ये कहानी मेरी पड़ोस मे रहने वाली आंटी जिसका नाम भारती है उसके बारे मे है. पहले मई आंटी का इंट्रो दे देता हू.

आंटी का नाम भारती है और आगे 36 यियर्ज़ है और फिगर 42-40-44 है. आंटी बहोट मोटी है और एक मिलफ है. मुझे मोटी और मेच्यूर औरतें ही पसंद आती है.

मई भारती के नाम की मूठ रोज़ मारता हू तकरीबन 2 साल से. मैने चुपके से उसकी पिक्स क्लिक क्र्ली थी और रोज़ उन पिक को देख के भारती की चुदाई के बारे मई सोच के गालियाँ देते हुए मूठ मारता हू.

आंटी एक विधवा है और उनकी छूट भी 1 साल से प्यासी है. तो एक दिन की बात है. मई शाम को अपने घर पे था तभी आंटी का कॉल आया.

भारती – राज तुम फ्री हो तो घर आजओ कुछ काम है.

मे – हन आंटी अभी आता हू.

मई आंटी के घर पहुचा तो उनको देखता ही रह गया. उन्होने ब्लॅक स्लीव्ले सूट पहना हुआ था. क्या मस्त माल लग रही थी साली रंडी. मेरा लंड देखते ही खड़ा हो गया था.

फिर उन्होने बोला राज मार्केट चलना है मुझे कुछ शॉपिंग करनी है. तो हम माल मई गये वहाँ उन्होने 2 सूट ट्राइ किए और मुझसे पूछा कैसे लग रही हू? मैने बोला बहुत सुंदर लग रहे हो आप.

उन्होने 2-3 ब्रा पनटी भी खरीदी. जैसा आप जानते है की लाइनाये ट्राइ नही करने देते तो उन्होने ऐसे ही खरीद ली. फिर हम घर आ गये. घर पहुँच कर उन्होने बोला छाई पी कर जाना. मई ओक बोला और वही सोफा पर बैठ गया.

आंटी – तुम 5 मिनिट्स बैठो मई ये सब ट्राइ कर लेती हू.

मे – ओक.

आंटी अपने रूम मई थी तो मैने सोचा आंटी अभी बाहर तो आएँगी नही तो क्यू ना एक सिगरेट ही पी लू.

जैसे ही मैने सीग्ग जलाई अंदर से आंटी की आवाज़ आई.

आंटी – राज एक हेल्प कर दोगे क्या?

मई सिगरेट पीते हुए – हा आंटी बोलो?

आंटी – हुक नही लग रहा है.

फिर मैने सिगरेट खिड़की के पास रखी और आंटी के रूम मे गया. आंटी की नंगी कमर देख कर मेरा लंड सलामी देने लगा. फिर मैने अपने आप को संभाला. उन्होने ब्रा का स्ट्रॅप पीछे करा और मई हुक लगाने का ट्राइ किया बुत वो नही लगा.

मैने बोला आंटी लगता है ग़लती से छोटा साइज़ आ गया, आपका क्या साइज़ है?

भारती – 42सी.

मे – ये तो 40सी है.

भारती – ओफफो मई भी ना काब्से कोशिश कर रही हू.

फिर मैने इतने मे ही ग़लती से अपना हाथ उनकी कमर पे चला दिया. वो उछाल उठी.

मे – सॉरी आंटी.

भारती – कोई बात नही.

तभी आंटी ने पूछा राज कुछ जल रहा है क्या? और वो पीछे मूड गयी. मैने बोला नही तो. इतने मई उन्होने बोला तेरे मूह से सिगरेट की स्मेल आ रही है.

भारती – तू सिगरेट पी रहा था क्या?

मे – हन आंटी.. सॉरी.. मुझे मॅन कर रहा था और मई बोर हो रहा था तो सोचा क्यू ना एक सिगरेट पी लू, आप किसी को मत बताना प्लीज़..

भारती – तू भी ना, जा ले कर आ सिगरेट.

मई सिगरेट उठा कर उनके रूम मे आया. उन्होने मेरे हाथ से सिगरेट ली और एक पफ मारा.

मे – आंटी आप भी सुत्ता मार्टी हो?

भारती – आज बहोट महीनो बाद पी रही हू. पहले तेरे अंकल लाते थे और हम दोनो सुत्ता मारते थे, लेकिन अब कोई लाने वाला नही था इसलिए.

मे – कोई नही आंटी, आप बुरा ना मानो तो हम दोनो साथ मे सुत्ता मार सकते है रोज़.

भारती – ठीक है बुत किसी को पता ना चले.

मे – हा आंटी आप टेन्षन मत लो.

फिर आंटी ने बोला तू एक मीं बाहर वेट कर मई कपड़े पहें कर आती हू. आंटी तबसे ब्रा पकड़ के खड़ी थी और मेरा लंड भी तबसे खड़ा था जो आंटी ने देख लिया था.

उसके बाद आंटी सूट पहें कर बाहर आई और इस बार उन्होने ब्रा नही पहनी थी. आंटी के माममे झूल रहे थे और मई उनको ताड़ रहा था.

आंटी – क्या हुआ क्या देख रहा है?

मे – कुछ नही.

आंटी – चल एक एक सिगरेट और पीते है.

मे – हन क्यू नही.

फिर हम दोनो सुत्ता मारने लगे और आंटी को मस्ती सूझी. उन्होने सिगरेट का धुआँ मेरे फेस पे चोर्दने लगी. मुझे मज़ा आने लगा.

आंटी जब भी सिगरेट पीने के लिए अपना हाथ उठती तो मई उनके आर्म्पाइट देखता. उसमे हल्के हल्के बाल और स्वेट लगा था. मेरा लंड अभी भी सलामी दे रहा था और आंटी की नज़र वही थी.

मेरी सिगरेट ख़तम हुई और मई उसका फिल्टर फेकने के लिए उठा तो मेरा लंड से टेंट हुआ था. आंटी उसको देखते ही रह गयी और आंटी ने बोला तेरी कोई गफ़ नही है क्या?

मे – नही आंटी.

भारती – तभी ये महाराज इतना फंफना रहे है.

मे – सॉरी आंटी.. वो आप इतने सुंदर हो इसलिए.

भारती – हाहाहा मई तो बहोट मोटी हू, मुझमे क्या पसंद आ गया तुझे.

मे – सब कुछ आंटी… आप मुझे बहोट पसंद हो और आप जैसी हेल्ती औरत ही मुझे अची लगती है. आप बुरा ना मानो तो एक बात बोलू?

आंटी – हा बोलो.

मे – क्या मई एक बार आपके बूब्स दबा सकता हू?

आंटी – क्यू?

मे – इतने बड़े मैने आज तक नही देखे है.

भारती – एक शर्त पे.

मे – जो आप बोलो… (मुझे पता था आंटी प्यासी है तो एक बार स्टार्टिंग हो जाए फिर तो चुदाई हो जाएगी.)

भारती – तुम्हारा लंड दिखना पड़ेगा.

आंटी के मूह से लंड सुनते ही मई पागल हो गया.

मे – ये लो आंटी..

मैने अपना लोवर आंड अंडरवेर झटके मे उतार दिया. मेरा 7 इंच का लंड आंटी की नॅज़ारो के सामने था और वू देखती रह गयी.

भारती – इतना बड़ा!

मे – आंटी बूब्स…

भारती ने अपने सूट उठा दिया. उसके माममे देख कर मेरा लंड और जोश मे आ गया.

आयेज क्या हुआ वो सब जानने के लिए मुझे मैल करे. किसी को भी सेक्स छत डर्टी छत फोन सेक्स कुछ भी करना हो तो मुझे मैल करे – आपके फीडबॅक पे नेक्स्ट पार्ट आएगा. मुझे आपके एमाइल्स का इंतेज़ार रहेगा, थॅंक योउ.

यह कहानी भी पड़े  गर्लफ्रेंड और उसकी बहन को चोदा-1

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!