अंतर्वसना सेक्स मेरा अमर प्यार – 2

गतान्क से आगे……… अंतर्वसना सेक्स मेरा अमर प्यार
नशे-2 मे उन्होने मेरी एक चूची के निपल को ज़ोर से भींच दिया ऑर मुझसे सहन नहीं हुआ ऑर चिहुक कर बैठ गयी.

दीपक भैया हड़बड़ा गये ओर खड़े हो गये. मैने उनकी तरफ देखा तो वो उठ कर जाने लगे पर मैं ऐसा नहीं चाहती थी. मैने तुरंत भैया को आवाज़ लगाई
भैया जब वो पलते तो फॉरन उनकी चौड़ी छाती मे अपना सर छुपा कर उनसे चिपक गयी..
मुझे प्यार नहीं करोगे भैया. मैं कल रात से तड़प रही हूँ..

दीपक भैया ने अपने सीने से लगा लिया ओर मेरे बालों मे हाथ फेरने लगे. क्या गुड़िया तुम सच मे चाहती हो कि मैं तुम्हे इस तरह से प्यार करूँ.
हैं भैया

भैया मुझसे हाइट मे काफ़ी बड़े है ऑर बहोत स्ट्रॉंग बॉडी वाले ऑर हंड्सम स्पोर्ट्स मॅन है.
मैं तो उनके सामने बिल्कुल बच्ची लगती थी. ऑर थी भी बच्ची ही. भैया बोले गुड़िया एक बार सोच लो..
मैं बेड पे खड़ी भैया के सीने से लगी उनकी पीठ पर हाथ फेर रही थी.
सोच लिया भैया.
भैया बोले तो ठीक है मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं आज से तू ही मेरी गर्लफ्रेंड…
मैं खुशी से बोली वोव्व..
वो बोले तेरा कॉलेज मे कोई बाय्फ्रेंड है.
मैने बोला नही..
तो भैया बोले अब मत बनाना
अब मैं तेरा बाय्फ्रेंड हूँ..ओर मैं भी कोई गर्लफ्रेंड नहीं बनाउन्गा….
मैने हां कर दी…
भैया ने मुझे अलग होने के लिए बोला ऑर बाहर गये. एक ऑर बेअर की बॉटल लेकर अंदर आए.
मैं बोली भैया आपने तो पहले ही पी रखी है..आपके मुँह से स्मेल आ रही है…
भैया थोड़ी-2 पिएँगे…
क्या मैं भी…
हां गुड़िया तू भी.. फिर बहोत मज़ा आएगा

भैया ने दो गिलास बेअर डाली ऑर एक गिलास मुझे दे दिया…ऑर बोले गुड़िया कुछ नहीं होगा
ओर गिलास टकरा कर बोली चेअर्स..

मैं गिलास से एक सीप ली तो उल्टी आने को हुई… मैने कहा भैया कड़वी है…
भैया बोले आँख बंद करके ओर साँस रोक कर एक घूँट मे पी जाओ ऑर फिर देखना मज़े बेअर के ऑर हमारे प्यार के…
मैने साँस रोकी ओर एक घूँट मे ही गिलास खाली कर दिया

तभी भैया ने मेरा एक हाथ पकड़ कर खिचा ओर मुझे अपनी गोद मे गिरा बिठा लिया. मैं आँखे झुका कर शरमाते हुए भैया की गोद मे बैठ गयी. भैया ने बेअर का गिलास एक तरफ रख दिया ऑर मुझे माथे पर किस किया. उनके हाथ मेरे बदन पर इधर-उधर घूम रहे थे. भैया का मेरा बदन सहलाने के कारण मेर पूरे बदन मे एक मीठी-2 सिहरन हो रही थी.

पहली बार किसी मर्द से प्यार से पैदा हुई शरम ओर कुच्छ बेअर के नशे के कारण मेरे आँखे बंद थी भैया मुझे किस पे किस किए जा रहे थे..भैया के होंठ मेरे होठों पर थे..मेरे लिप्स ओर भैया के लिप्स आपस मे बुरी तरह लॉक हो चुके थे. मुझे साँस लेने मे परेशानी हुई तब भैया ने मेरे लिप्स को छ्चोड़ा. मेरे गालों किस करते -2 अचानक अपने दाँत गढ़ा दिए… मेरे मुँह एक ज़ोर की आवाज़ निकली ….
ऊऔउछ्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह..

दर्द होता है भैया…
गुड़िया तुम बहोत सेक्सी हो कसम से सुबह जब मैने तुम्हे नहाते हुए देखा तो मेरी जान ही निकल गयी. कसम से
क्या भैया आपने मुझे नहाते हुए देखा..

मेरे पेट पर हाथ फिरा कर मेरी नाभि मे अपनी उंगली डालकर भैया बोले हां गुड़िया ऑर तभी से मैं तो तुम्हारी नाभि का दीवाना हो गया हूँ..
भैया के हाथ मेरे पेट पर पीठ पर बल्कि मेरे सारे बदन पर घूम रहे थे ओर धीरे -2 मैं मेरे होश खो रही थी.
फिर भैया ने मेरा टॉप उपर खींचते हुए मेरे बदन से अलग कर दिया.

मैने अभी ब्रा पेहननि शुरू नहीं की तो मेरा उपर वाला हिस्सा नंगा हो गया.. ऑर भैया ने अपनी शर्ट ऑर बनियान भी निकाल दी…ऑर अपने सीने से लगा लिया.
जब मेरी नंगी छाती ऑर मेरी सेब जितनी बड़ी चुचि ऑर निपल्स उनके नंगे बदन से चिपके तो मेरे पूरे बदन मे करंट सा लगा.
गुड़िया तेरे अंदर बहोत गर्मी है. तेरा पूरा बदन तो जल रहा है…
मैं बोली भैया फीवर हैं ..

नहीं गुड़िया ये प्यार की गर्मी है. देख थोड़ी ही देर मैं तेरी गर्मी निकाल दूँगा. देख लेना शाम तक तुझे बुखार रह भी जाए तो..
बातें करते-2 वो मुझे छेड़े जा रहे थे. भैया ने मुझे गोद मे उठाया ऑर बेड पर लिटा दिया..ऑर मेरे उपर आकर मुझे किस करने लगे. मेरे माथे पर ,गाल पर,मेरे गले पर मेरी छाती पे . फिर मेरी एक चुचि को मुँह मे लेकर चूसने लगे. मेरे पूरे बदन मे सिहरन दौड़ पड़ी…
ऊओह भैया गुदगुदी हो रही है… ऊऊओह…म

मैं बोलती रही सिसकारियाँ लेती रही पर भैया नहीं माने ओर मुँह चूस्ते रहे. थोड़ी देर मे मेरी चूची छ्चोड़ कर बोले कि गुड़िया तेरा बदन है ही शीशे जैसा अगर तुम पानी भी पियो तो वो भी अंदर जाता हुआ दिख जाए.

ये सच भी है मेरा रंग इतना सॉफ है कि मेरे बदन मे नीले रंग की नसें(वाइन्स) आराम से दिख जाती हैं.
वो बोले मेरा मन करता है तुझे खा ही जाउ…

मैं अपने होश खो चुकी थी…भैया ने मेरी पॅंट का बटन खोला जीप खोली ऑर उसे उतारने लगे. मैने अपने कूल्हे उपर कर के उनकी हेल्प कर दी.भैया ने मेरी पॅंट उतार कर एक तरफ रख दी..फिर मेरी पॅंटी के उपर से ही मेरी चूत पर हाथ फेरने लगे. मेरी पनटी गीली हो चुकी थी क्यों कि मेरी चूत से पानी निकलना शुरू हा गया था.

फिर भैया ने मेरी पॅंटी भी निकाल दी. अब मैं भैया के सामने बेड पूरी तरह से नंग लेटी हुई थी. मेरे हाथ मेरे मुँह पर थे क्यों कि मुझे शरम भी आ रही थी.

भैया ने मेरे हाथ मेरे चेहरे से हटाए ओर गुड़िया शरमाओ मत प्ल्स मैं नही कर नहीं पाउन्गा ऑर मेरे होंठो पर एक किस देकर. ओके लो मैं भी अपने कपड़े उतार देता हूँ ऑर अपनी पॅंट उतारने लगे. उसके बाद अपना अंडर वेर भी उतार दिया. अब भैया भी पूरी तरह से नंगे हो गये. लो देखो मेरी तरफ मैं भी तुम्हारी तराहा ही हो गया.
जब मैने भैया को देखा तो बस देखती ही रह गयी उनकी दोनो टाँगो के बीच झूलते हुए उनके लंड को देखती ही रह गयी.
ऊहह माइ गॉड भैया ये तो बहोत बड़ा है…. फिर मैने मेरी छ्होटी सी कच्ची चूत को देखा..

7” इंच का लंबा ओर लग्बॅग हॅग 2” इंच मोटा नाग जो अभी जागा भी नहीं था भैया के पैरों के बीच झूल रहा था..
भैया बोले डरो मत गुड़िया कुछ नहीं होगा. तुम्हे बहोत मज़ा आएगा.

यह कहानी भी पड़े  होटल की रिसेप्शनिस्ट जवान रंडी को चोदा

भैया ने अपने गिलास मे बेअर डालने लगे फिर अचानक गिलास रख कर बॉटल ले कर बेड पर मेरे पास आ गये.
मैने कहा भैया गिलास क्यों रख दिया. वो बोले गुड़िया गिलास मे तो रोज पीता हूँ.
बैठते हुए मैने कहा तो आज..

तुम देखती जाओ बस ऑर मुझे वापस लिटा दिया ओर मेरी नाभि मे थोड़ी-2 बेअर डाल कर चूसने लगे ..
जैसे ही भैया के होंठ मेरी नाभि को छ्छूते मेरी बदन से बिजली का करंट निकलता. ईईईईईीीइससस्स….आआहहह्ा…….ऊऊओह मैं मदहोश हो रही थी.
फिर भैया ने बेअर मेरे बदन पर खाली कर दी ऑर अपनी जीब से मुझे चाटने लगे. मैं सिसकारिया ले रही थी. आआअहह उवूअवियियैयीयियी माआ…. मुझे उपर से नीचे तक चाटने के बाद मेरे पैरों को चौड़ा करने लगे…मैं समझ गयी थी कि अब भैया क्या करने वाले है.. कुच्छ ही पल मे मुझे भैया की गरम साँसे मेरी चूत पर महसूस हुई…

जैसे ही भैया ने मेरी चूत के गुलाबी होंठ खोल कर मेरी छोटी सी चूत के छोटे से क्लिटी पर रखी मैं ज़ोर से उच्छल पड़ी….उूउउइईई भैयाआआआअ गुदगुदी होती हाईईईईईईईई रुकूऊव ना..
रूको गुड़िया अभी मज़ा आएगा….ओर मेरी जाँघो को कस कर पकड़ लिया ऑर मेरी चूत ऑर क्लिटी को चाटने लगे…
आआआअहह ऊऊऊऊओह ईईईईईईीीइसस्स्स्स्स्स्सस्स अहहााआ एम्म्म
मुंम्मय्ययययययी उूउउइईईईईईईई आआआअझहमम्म्ममम
ऊऊऊहह म्माआआआ माआआआअम्म्म्मममममम
मैं पूरी तरह से होश खो चुकी थी मद होस्श हो चुकी थी… पूरा कमरा मेरी सिसकारियों से गूँज रहा था.. अपने हाथो से भैया का सर पकड़ रखा था. ऑर ज़ोर से सिसकारियाँ ले रही थी.. उउउउईईईइ माआअ आआहह…………..ऊऊऊओह…….
ईईईईईईईईईईईईईईईईईीीइसस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स……….म्‍म्म्ममममममममाआ………आआआआआअहह.
15 मिनिट बाद ही मेरा बदन अकड़ने लगा…..आआहह ऊऊओह भैयाआआअ मुझीई कुचह हो रेआहाआ हाईईईईईईईई …आआआआआआआआअहह ओर मैं सातवें आसमान पर पहुँच रही थी…मेरी चूत पर भैया का मुँह ऑर मेरे कूल्हे भैया के मुँह पर उछल रहे थे. भैया का सर अपने हाथों से चूत पर ज़ोर से दबा रही थी…ऊऊओह माआआआअहह………अहहाआआआअ…………उउउहह ऑर मेरे बदन मे 6-7 झटके से लगे. ये वो समय था जब झाड़ रही थी मेरी चूत अपना रस निकाल रही थी. फिर मैं निढाल हो कर बेड पर पड़ गयी. मेरी चूत ने कितना सारा पानी छ्चोड़ा ये भैया का मुँह देख कर पता चलता था..
भैया ने मुँह से ही एक बार मुझे झाड़ दिया था.

मेरा तो काम हो चुका था पर भैया के नाग राज तो अभी जागे थे ओर फूँकार मार रहे थे. मैं देख कर डर गयी 7” इंच लंबा ऑर 2” इंच मोटा नाग बढ़ कर लग-भाग 10” इंच लंबा ऑर 3” इंच मोटा हो गया.वो मेरे पैरों के बीच मे से उठे ऑर मेरे मुँह मे मूह डाल कर किस करने लगे मेरी जीभ को अपने मूह मे लेकर चूसने लगे. एक हाथ से मेरी चूचियों को सहला रहे थे ओर दूसरे हाथ से मेरी चूत को छेड़ रहे थे . मैं कुच्छ ही मिनटों मे फिर से तयार हो गयी. वो मुझसे बोले मेरी गुड़िया मेरा लंड चूसो ना प्लस्सस. जब भैया ने रिक्वेस्ट की तो मैने हां भर दी. मैं उठी ओर चूसने के लिए जैसे लंड हाथ मे पकड़ा तो मुझे लगा जैसे जलती हुई मोटी रोड हाथ मे ले ली हो. वो बहोत गरम था मैने मुँह खोल चूसना चाहा तो वो मेरे मुँह मे ही बड़ी मुश्किल से गया ऑर वो भी सिर्फ़ उपर वाला पार्ट. मैं भैया का लंड चूस रही थी ओर वो मेरी चूत मे क्लिटी से उनकी उंगलियाँ खेल रही थी. लंड इतना मोटा था की मुझे चूसने मे भी परेशानी हुई. ऑर मेरा मुँह दुखने लगा..

लंड चूसने के कारण भैया तड़प उठे ओर मेरी चूत चोदने के लिए पागल हो गये. उन्होने तुरंत अपना लंड मेरे मुँह से बाहर निकाला ओर मुझे बेड पे लिटा दिया. मेरी कमर के नीचे एक तकिया रखा ऑर मेरे उपर आ गये. लंड के सूपदे को मेरी चूत पर रगड़ने लगे. उनके लंड की रगड़ लगने से मेरी चूत भी लंड लेने के लिए तड़प उठी. भैया ने लंड मेरी चूत पर रखा ऑर मेरे कान मे बोले देख गुड़िया थोड़ा दर्द होगा तू सहन कर लेना फिर मज़ा ही मज़ा है.

मैने कहा भैया धीरे से आराम से करना.
हां-2 गुड़िया मैं जानता हूँ तू कच्ची कली है. ये बोल कर भैया ने एक धक्का मारा पर उनका लंबा ऑर मोटा लंड फिसल कर बाहर चला गया. ओह्ह्ह्ह्ह्ह 3-4 बार भैया ने कोशिश की पर उनका लंबा मोटा लंड फिसल जाता

मेरी छ्होटी सी चूत मे उनका मूसल सा लंड नहीं घुस सका…
भैया ने मेरी ड्रेसिंग टेबल खोली ऑर उसमे से तेल की बॉटल निकाली ओर ढेर सारा तेल अपने लंड पर लगाया ऑर मेरी चूत पर तेल लगाया. फिर भैया मेरे उपर आ गये ऑर मेरी चूत का मुँह खोल कर चूत के मुँह पर लंड रखा ऑर एक ज़ोर दार धक्का पूरी दम से लगाया…
आआआआअहह ऊऊऊऊऊहह हाआआआऐययईईईईईईईईईईईईईईईईई माआआआआआआआआआआअ मार गइईईई भैया बाहर अनिकालो
मर आगेई भैयाआआआ
प्लस्सस्स्स्सस्स… भीया निकालो इससे बहोत दर्द हो रहा है…..
भैया रुक गये मेरे होठों पर होठ रख लिए ऑर किस करने लगे.. भैया के लंड का सूपड़ा मेरी चूत मे फँस गया था. कुच्छ देर रुकने के बाद जब मैं शांत हुई तो भैया ने फिर पूरा दम लगा कर दूसरा धक्का मारा.

घ्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्हुउउउप्प्प्प्प मेरी आँखे फॅट कर बाहर निकल आई ओर मेरी ज़ोर की चीख भैया के मुँह मे दब गये……
उूहू औहा आहह उ
भाओट दर्द हो रहा है भैयाः
आ……आह…आ बस गुड़िया हो गया हो गायाअ…..
क्रमशः……….

गतान्क से आगे………
ऑर मुझे सहला ते रहे चूची चूसने लगे ओर 5 7 मिनिट यो ही पड़े रहे..
इस बार उनका लंड मेरी चूत की झिल्ली फाड़ चुका था 4 इंच तक चूत मे समा गया. मेरी चूत से बहोत सारा खून निकाला क्यों की मेरी सील टूट गयी थी.फिर मेरा दर्द कम हुआ ऑर मैं फिर शांत हो गयी..
गुड़िया तुम ठीक हो क्या..

हां मैने कहा. मैने सोचा कि बस अब लंड अंदर चला गया पर मुझे नही पता था कि मेरा रियल टेस्ट इस धक्के मे होने वाला है.
भैया ने घटनो पर आ कर इस बार इतनी ज़ोर से धक्का मारा कि बाहर बचा सारा 5-6” एक ही बार किसी गरम लोहे के सरिए की तराहा मेरी चूत को चीरता हुआ मेरी बच्चे दानी की अंदर वाली दीवार से टकरा गया…

आआआआआहह माआआर गइईईई भैय्ाआआआआआ चकोदो मुझे … उउउउउउउईईईईई मम्मी मैं मर गाईए
ओर मेरी आँखों मे बेहोशी छाने लगी…..मुझे रूम मे सब धुध्ला दिख रहा था…
मेरी आँखों से आँसू निकल आए ओर मैं रोने लगी…बिन पानी की मच्चली की तरह तड़प रही थी.
बस गुड़िया बस… हो गया बस.. अब नहीं…..
उउउइ मुम्म्म्य पेट मे चुभ रहा है भैया….
.

बस गुड़िया बस…..बस……बस
मैं आधी बेहोश सी पड़ी थी…..

यह कहानी भी पड़े  लोकल बस मे मेरी चुदाई

आर यू ओके गुड़िया…
भैया डर गये कि मुझे कुच्छ हो तो नहीं गया..पर मुझे कुच्छ नहीं हुआ था बस मेरी बच्चे दानी मे उनका लंड चुभ रहा था ऑर थोड़े दर्द के कारण ही मेरी जान निकली हुई थी.
गुड़ीयाअ…….गुड़ीयाआ……बाबययी बोलो ना.. क्या हुआ…..
भैया दर्द हो रहा है….ऑर पेट मे चुभ रहा हाीइ….. आआअहह उईईई
थॅंक गॉड बोली तो सही..

मेरी गाडिया बेबी थोड़ी देर मे ठीक हो जाएगा….ओके डरो मत फिर मेरे होठों चूसने लगे ऑर प्यार से मेरे बदन पर हाथ फेरने लगे. कभी कही तो कभी कहीं पर सहलाते रहे…
मेरी चूची मुँह मे ली ओर निपल चूसने लगे ….

ऊऊष्ह.. आअहह 10 मिनिट तक वो मेरी चूचियाँ चूस्ते रहे मेरा निपल चूसने के कारण सुर्ख लाल हो गया था….फिर उस चूची को छ्चोड़ कर दूसरी चूची मुँह मे ले ली ऑर चूसने लगे…निपल चूस्ते -2 एक दम लाल ऑर कड़क हो कर खड़े हो गये ….

इतने मेरा दर्द तो ख़तम हो गया पर पेट मे चुभना बंद नही हुआ.चूची चूसने के कारण मुझे मेरा दर्द ख़तम हो गया बल्कि मुझे थोड़ा मज़्ज़ा भी आने लगा ओर मेरी भैया से चोदने की रिक्वेस्ट सिसकारियों मे बदल गयी ओर मेरे कूल्हे अपने आप थोड़े-2 हिलने लगे…

ऊओ…..आअहह…..हा
ईईईईईईईईईईईईईई….उम्म्म्मंंननणणन्
भैया समझ गये कि मेरा दर्द ख़तम हो गया ओर वो अपनी बारी खेलने के लिए तयार हो गये. उन्होने धीरे-2 धक्के लगाने शुरू किए …आ
आहह…उईईइ..माआ ईईीीइसस्स्स्स्स्स्स्स्सय्ाआ…..उुउऊहह….आहह…..ऊीीईईईईईई….भ्ाइईईयायययययया. मुझे मज़्ज़ा आने लगा……
भैया ने मुझे चोदना शुरू किया ऑर धीरे-2 अपनी रफ़्तार बढ़ा रहे थी.. कमरे मे मेरी आवाज़ें गूँज रही.थी.
आहह……ऊऊहह……उईईईईईईईईई…..माआआआ………हाइईईईईई…..राआाम्म्म………ऊऊहहूऊओ…..मुझे इतना मज़ा आ रहा था कि मैं बस बोले जा रही थी कारूव…..भैयाआ चोदो मुझे ……..ऑर ज़ोर से चोदो आहह भैयाअ आअहह मुझीई अपनी पत्नी बनाअ लूऊओ
आआहह माअरो चूत ऑर ज़ोर से…….उईईइइमाआ…..
भैया बस मुझे चोदे जा रहे थे…..
घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..
फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……
घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…
घूच्छ…….फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……
आअहह……आऐईयइ……ऊऊहह…..उईईई….माआअ….ईीइससस्स…….हहााआआ..उईईईईई……..मुमििीईईईईईईयाअहह……आऐईयइ……ऊऊहह…..उईईई….माआअ….
ईीइससस्स…….हहााआआ..उईईईईई……..मुमििीईईईईईई
10 मिनिट मे ही मेरा बदन अकड़ने लगा ओर मैने मेरे दोनो हाथ भैया की पीठ मे डाल कर पूरा ज़ोर लगा कर कस कर पकड़ लिया कस कर उनसे चिपक गयी.
मैं झाड़ रही थी मुझे बिल्कुल भी होश नहीं था कि मैं कहाँ पर हूँ ऑर मेरे दाँत भैया के कंधे पर गढ़ गये..भैया के मुँह से हल्की सी चीख निकली पर मुझे तो बिल्कुल भी होश नहीं था… बस आसमान मे झूल रही थी..
भैया धक्के पर धक्के मार रहे थे….

फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……
घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…
घूच्छ…….फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……
भैया की मंज़िल अभी डोर थी….
घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…
घूच्छ…….फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……
लगातार धक्को के कारण थोड़ी ही देर मे फिर से तयार हो गयी….ऑर ज़ोर -ज़ोर से सिसकारियाँ लेने लगी… मेरी आवाज़ें सुन भैया के धक्कों के स्पीड बढ़ती जा रही थी.. जैस कोई मशीन मुझे चोद रही हो.
अहह भैया चोदो मुझे ऑर ज़ोर से चोदो…….उईईईइमाआआअ कारू…
घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..घुकचह…घूच्छ…….घूच……..
फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……फुच……
आअहह……आऐईयइ……ऊऊहह…..उईईई….माआअ….ईीइससस्स…….हहााआआ..उईईईईई……..मुमििीईईईईईईयाअहह……आऐईयइ……ऊऊहह…..उईईई….माआअ….
10 मिनिट के धक्कों के बाद फिर मैं सातवें आसमान पर पहुँच गइई………
आआआहह भाईईईईईय्याअ मुझे कुछ हो रहाआ अहायईईईईईईईई……ऊऊऊहह……भैया भी भी मंज़िल पे पहुँच रहे थे..वो बोले

ऊओह गगूउद्दिया रुक्कू मैईईईईई भीईिइ एयेए रहा हूऊऊऊं….आहह…आअहूऊऊहह.
ऑर 3-4 धक्के मार कर लंड को मेरी चूत मे जड़ तक घुसा कर मुझसे चिपक गये हम दोनो ने एक दूसरे को कस जकड़ा हुआ था अपनी चरम सीमा पर थे. भैया ने अपना सारा वीर्य स्पर्म मेरी बच्चे दानी मे भर दिया. मुझे उनके वीर्य की 10-15 पिचकारिया मेरी बच्चे दानी मे सॉफ महसूस हुई. ए.सी. रूम मे भी हम दोनो के बदन पूरी तरह से पसीने मे भीगे हुए थे .ऑर फिर मैं निढाल हो कर बेड पर पड़ी रही भैया मेरी छाती पर बेसूध हो कर लंड मेरी चूत मे ही डाले पड़े थे.

भैया का लंड मेरी चूत मे 15 मिनिट तक रहा . मेरी बच्चे दानी ने भैया का सारा वीर्य अंदर ही सोख लिया. 15 मिनूट बाद हम अलग हुए. थोड़ा सा ही वीर्य मेरी चूत से वापस बाहर आया ऑर वो भी मेरे खून से मिल का लाल हो गया था बाकी सारा वीर्य मेरी कोख ने अपने अंदर ही सोख लिया.

जब भैया ने अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकाला तब वो मेरी चूत से निकले खून से पूरी तरह लाल था ओर मेरी बेड की बेड शीट भी खून से लाल हो गयी…

जब मैने भैया के लंड पे खून देखा तो बोली भैया आपके इसमे से तो खून निकल रहा है.. जब भैया ने मुझे बताया कि वो उनका खून नहीं मेरा खून था. ऑर मैने जब बेड शीट देखी तो बुरी तरह से डर गयी ओर रोने लगी. क्यों कि बेड शीट पे बहोत ज़यादा खून था. तब भैया ने मुझे प्यार से अपने सीने से लगाया ओर बोले गुड़िया रो मत डरने की कोई बात नहीं है.. तुम्हे कुच्छ नहीं हुआ है. कुँवारी लड़की की चूत मे एक झिल्ली होती है. जब लड़की पहली बार सेक्स करती है तो उस झिल्ली के फटने के कारण ये ब्लड आता है.. ऑर अब जब तुम दुबारा चुदोगि तो तुम्हे इतनी तकलीफ़ नहीं होगी जितनी आज हुई है…….भैया प्यार से मेरे बालों मे हाथ फेर रहे थे मैं बेड पे बैठी थी..

उसके बाद वो बेड से उतर कर मेरे बाथरूम मे गये ऑर अपना लंड सॉफ करके आए..

गुड़िया चलो आप भी फ्रेश हो जाओ 4.30 बज गये रूम कोई आए उससे पहले मैं ये बेड शीट हटा दू. जब मैं बाथरूम मे जाने के लिए उठी तो मुझसे चला ही नहीं गया मैं वापस बेड पे बैठ गयी. मैं अब मेरा कुँवारा पन खो चुकी थी..

आहह भैयाआअ दऱ्द हो रहा है मुझसे चला नहीं जा रहा. तब भैया ने मुझे अपनी गोद मे उठाया ऑर बाथरूम मे लेकर गये ऑर खुद अपने हाथों से मेरी चूत को सॉफ किया. मुझे कमरे मे खड़ा किया ऑर बेडशीट हटाने लगे..मैं बड़ी मुश्किल से खड़ी हो पा रही थी..बेडशीट बदल कर भैया ने कपड़े पहने ऑर मुझे भी कपड़े पहनाए. जब वो मुझे कपड़े पहना रहे तो उन्होने पुछा, गुड़िया तू ब्रा नहीं पहनती..

नहीं भैया..
चलो आज मैं तुम्हारे लिए ब्रा ले के आउन्गा . ब्रा से तुम्हारी छाती ओर भी सेक्सी लगेगी..

मैं बेड पे जा कर लेट गयी. फिर भैया किचन से एक गिलास गरम दूध ले के आए ऑर मुझे अपने हाथों से पिलाया ओर कहा गुड़िया तुम रेस्ट करो जब तक मे चादर बाहर फेंक के आता हूँ ऑर मैं बेड पर लेट गयी ओर भीया चादर थले मे डाल कर गाड़ी ले कर बाहर चले गये..

उसके बाद कब मुझे नींद ने अपने आगोश मे ले लिया मुझे पता ही नहीं चला. ऑर मैं गहरी नींद मे सो गयी.. ऑर भैया से ही शादी के सपने देखने लगी.

दोस्तो कहानी कैसी लगी ज़रूर बताना आपका दोस्त राज शर्मा

समाप्त

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!