अंतर्वसना सेक्स मेरा अमर प्यार

antarvasna sex amar pyar मेरा नाम करुणा है. मैं एक वेल एजुकेटेड आंड रिप्यूटेड ओर बहोत ही अमीर फॅमिली से हूँ. एज 22 साल. मेरा रंग दूध की तरह सॉफ ऑर गोरा है. फिगर – 34सी”-29”-34” लोकेशन मैं नहीं बताउन्गि. आइ आम ऑल्सो वेल एजुकेटेड गर्ल . आइ नो इंग्लीश वेरी वेल आंड फ्लूयेंट्ली . मैं हिन्दी सिर्फ़ इस लिए यूज़ कर रही हूँ ताकि पढ़ने वाले सभी पढ़ सके ऑर समझ सके.

मेरी फॅमिली बहोत रिच ऑर रिप्यूटेड फॅमिली है. मेरी फॅमिली मे मेरे मोम , मेरे डॅड आंड मेरे बड़े भैया हैं. मैं घर मे सबसे छ्होटी हूँ. हमारे घर मे नौकर-चाकर गाड़ियाँ ओर सभी सुविधाएँ हैं ऑर किसी भी चीज़ की कोई कमी नहीं है.

सबसे छ्होटी होने के कारण मैं घर मे सबकी लाडली हूँ. कोई मुझे कोई भी तकलीफ़ नहीं होने देता.
मेरे आगे पिछे नौकरों की लाइन लगी रहती है..

मेरे मोम डॅड अक्सर बिजनेस की सिलसिले मे ज़्यादातर घर से बाहर ही रहते है. कभी बिजनेस पार्टीस मे तो कभी कहीं…
कभी लंडन जा रहे हैं तो कभी कहीं जा रहे है….मैं मोम डॅड के साथ कम ओर भैया के साथ ज़्यादा रही हूँ.
जब मैं 11 साल की थी तब मुझे पहली बार पीरियड्स शुरू हुए. उस वक़्त मुझे इसके बारे मे कुच्छ नहीं पता था मोम डॅड आउट ऑफ स्टेशन थे . जब मुझे ब्लीडिंग शुरू हुई उस वक़्त मुझे याद है मैं वाइट स्कर्ट आंड टॉप पहना था. जब मैने स्कर्ट पे ब्लड देखा ऑर वो भी ज़्यादा तो मैं रोने लगी. तब भैया ही मुझे हॉस्पिटल ले कर गये तब लेडी डॉक्टर ने बताया कि ये नॉर्मल है ओर अब हर महीने मुझे ऐसे ही होगा.
मेरी ऑर भैया की एज मे नियर अबौट 9 साल का अंतर हैं.

यह कहानी भी पड़े  सामूहिक चुदाई वाला दिल्ली टूर

मैं ऑर दीपक(मेरे भैया) घर मे अक्सर अकेले रहते हैं. सभी नौकर घर के बाहर सेरवेंट हाउस मे रहते हैं. जिसमे दो ड्राइवर एक तो मोम डॅड की गाड़ी के लिए ऑर एक मेरे लिए.एक खाना बनाने के लिए सविता..जिन्हे हम काकी बोलते है. ऑर उनकी बेटी ओर दामाद रहते हैं.

मेरे बचपन मे मुझे मेरे भैया बहोत खिलाया है. वो मुझे हमेशा या गुड़िया या कारून बेबी बुलाते थे.

अब मैं तुम्हे बताने जा रही हूँ कि कैसे दीपक भैया करूँ बेबी ( गुड़िया ) कैसे उनकी वाइफ बन गयी.

बात उस समय की है जब मेरी बी.स्क 2न्ड एअर मे पढ़ती थी. घर मे मोम डॅड भी थे. घर मे हम सबके रूम्स अलग-2 हैं.

एक रात को मैं जब पानी पीने के लिए किचन मे जा रही थी तो मुझे मोम डॅड के रूम मे कुच्छ आवाज़े सुनाई दी.. मैं पानी पी कर किचन से निकली तो फिर मुझे वो आवाज़ सुनाई दी. आवाज़ें सुन कर उनके रूम की तरफ बढ़ी तो मोम की आवाज़े ओर तेज़ हो गयी. मेरे मन मे ये जानने की ज़िगयासा बढ़ती गयी कि मोम इस तरह से क्यों कर रही है..

मैं मोम डॅड के रूम के दरवाजे पर खड़ी थी ओर मोम की सेक्सी सिसकारियाँ सुन रही थी. जब मैने की होल से रूम मे झाँका तो देख कर मेरा गला सूख गया ओर आँखें फटी की फटी रह गयी. लाइट जली हुई थी. मेरे मोम डॅड बिल्कुल नंगे थे मोम बेड पे लेटी हुई थी ऑर डॅड मेरी मोम के पैर फैला कर उनकी चूत को ज़ोर ज़ोर से अपनी जीभ से चाट रहे थे . मेरी मम्मी मज़े से अपने अपने कूल्हे ऑर चूत उच्छल कर ज़ोर ज़ोर से सिसकारिया ले रही थी.

यह कहानी भी पड़े  Kamukta Kahani एक रात मज़ा

मैं तुरंत वहाँ से खड़ी हो गयी. मुझे फिर से प्यास लग आई तो मैं फिर कीचीन मे गयी ओर आधी बॉटल पानी पी गयी. ऑर अपने कमरे मे जाने लगी. फिर अचानक मेरे दिमाग़ मे ख्याल आया कि मैं देखूँगी कि मोम डॅड कर क्या रहे हैं ऑर वापस उनके रूम के गेट पे गयी ऑर की होल से देखने लगी. डॅड मम्मी को बुरी तरह से मसल ऑर भींच रहे थे दबा रहे थे ममी पागलों की तरह मचल रही थी. थोड़ी देर मे डॅडी ममी के उप्पर से हटे ऑर बेड पे लेट गये फिर ममी उठी ऑर डॅडी का लंड हाथ मे पकड़ कर हिलाने लगी मैने देखा कि लंड हिलाते हिलाते बढ़ने लगा तन कर के लग-भाग 11 इंच का हो गया ममी ने लंड को किस किया ओर मुँह मे लेकर चूसने लगी जैसे कोई लोल्य्पोप चूस रही. ये सब बड़ी उत्सुकता से एक नज़र देखे जा रही थी. फिर डॅडी ने ममी को बेड पा नीचे लिटाया ओर ममी के पैरो को चौड़ा कर अपने 11 इंच लंबे ऑर मोटे लंड को ममी की चूत के मुँह पर रखा ऑर ज़ोर से धक्का मारा एक बार तो ममी के मुँह से ज़ोर की चीख निकली हाईईईईईईईईईईईई…….माआआआ माआआआअर गइईईईई……ओर ममी की साँस अटक गयी.. मैं मोम की चीख सुन कर एक बार तो डर गयी कि ये क्या हुआ…

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!