अंजन आंटी से किया प्यार

हेलो दोस्तो, मेरा नाम रोहित है और मेरी उमर 27 साल है. मैं दिखने मे काफ़ी हॅंडसम हूँ और बहोत ही मस्त हूँ. वैसे तो मैं देल्ही मे नही रहता हूँ पर मुझे एक ऑफीस की तरफ से मीटिंग थी जिसके लिए मैं यहा आया था.

मैं आज आपके लिए एकमस्त सी कहानी ले कर आया हूँ पर उससे पहले मैं आपको ये बता दूं की मैं जो फाइल बताने जा रा हूँ वो मेरी पहली कहानी है.

पर अभी भी मैं इतनी जल्दी कहानी नही ब्ताने वाला हूँ . क्योकि अगर मैं अभी ही शुरू हो जा उँगा तो वो मज़ा नही आएगा. चलो ये सब तो छोड़ो आप ये बताओ की लंड और चूत की पयस को भुजने मे मज़ा आता होगा और आए भी क्यो ना ये चीज़ ही इतनी मस्त होती है की क्या बतौउ.

वैसे आप लोग भी बहोट ज़्यादा समझदार हो इसलिए अब मैं थोड़ा बहोत आपके लिए खुद को भी डिस्क्राइब कर देता हूँ. मेरे लंड का साइज़ 7 इंच है जो की एक चूत को सॅटिस्फाइड करने के लिए बहोत है. मेरे लंड से काई लड़कियो ने पहले भी बहोत सारे मज़े लिए है और इसी की वजह से अब मैं आपके आगे अपनी कहानी बताने जा रहा हूँ.

चलो अब मैं आपका और समये नही लेता और अब मे अपनी कहानी पर आपको ले चलता हूँ.

ये कहानी तब की है जब मैं देल्ही पहुँचा ही था और वाहा रिक्शा से उतार रहा था. तभी मेरी नज़र सामने खड़ी एक आंटी पर पड़ी जो की वो भी रिक्शा से उतार रही थी. वो दिखने मे बहोत ही ज़्यादा सुंदर थी और उसने रेड कलर की सारी डाल रखी थी जिसमे तो वो पटका लग रही थी.

मैं उस आंटी को न्ही जनता था पर फिर भी मैं उसको पहली नज़र देखते ही उसका दीवाना हो गया था. वो रेड कलर की सारी मे बहोत ही खूबसूरत लग रही थी. मैं तो जेसे बस उन्ही को देखी जा रा था. और बस पागल हुई जा रहा था.

यह कहानी भी पड़े  मेरी सहेली की चुदासी चूत की कहानी

अब वो और मैं एक साथ मेट्रो स्टेशन की तरफ चलने लग गये. मैं उसे चलते हुए देख कर पागल हो गया था और इधर मेरा लंड भी खड़ा हो गया था.

अब मैं और वो दोनो एक साथ मेट्रो मे चॅड गये और वो मेरे आगे ही आ कर खड़ी हो गई. मुझे तो मोके पे चोका मारना था इसलिए मैं अब चुप चाप वही पर खड़ा रहा और तब मैने उसके पीछे गॅंड पर अपना लंड रगड़ना शुरू कर दिया.

मुझे ये मोका बाद मे नही मिलना था इसलिए मैने ये पहल ही कर दिया और अब उसे भी शक नही हो रहा था की मैं ये जान कर कर रहा था. मैं अपने लंड को उसकी गंद मे दबाए जा रा था जिसका मज़ा शायद वो भी ले रही थी और खूब मज़े लेते हुए खड़ी हुई थी.

अब हुमारा स्तोपेज भी आने वाला था और शायद अब उसे भी पता चल रा था की मैं क्या कर रहा था. आख़िरकार हमारा स्तोपेज आ गया और हम उतार गये. पर अब तक मुझसे और बर्दाश नही हो रा था इसलिए मैने उन्हे एक्सक्यूस मे कह कर पुकारा और उसने उनका अड्रेस्स माँगने लग गया.

मुझे तो लगा था की वो मना कर देंगी पर उसने माना नही किया और उसने मुझे अपना अड्रेस दे दिया. और फिर मैने भी अपना मोबाइल नंबर दे दिया और फिर उन्हे बाइ कह कर अपनी मीटिंग के लिए चला गया

उधर मीटिंग ख़तम हो गई तो मैने घर आते ही सबसे पहले आंटी के नाम की मूठ मारी और फिर कमरे मे आ कर बैठ गया. मैं अभी बैठा ही था की तभी मुझे किसी अंजन नंबर से कॉल आई तो वो कॉल उन्ही आंटी की थी. अब हम एक दूसरे साथ बाते मरने लग गये और फिर तभी मैने उससे कहा की ई मिस योउ तो पता नही शायद उसे ये बात पसंद नही आई और वो गुस्से मे हो कर फोन कट कर के बैठ गई.

यह कहानी भी पड़े  ट्रेन में देसी हिंदी चूत चुदाई कहानी अनजान लड़के के लंड से

मैं बॅक कॉल भी करी पर उसे उठाया नही और फिर रात को उसकी फिर से कॉल आई और उसने कल शाम उसके घर आने को खा. तो ये सुन कर मैं बहोत खुश हो गया और अगके दिन मीटिंग के बाद सीधा उनके घर चला गया.

वो मेरे इंतेज़ार मे बैठी थी और उसने जीन्स टॉप डाल रखी थी जिसमे वो बहोत ही खूबसूरत लग रही थी. मेरे आते ही वो मेरे लिए चाय ले आई और फिर उसको देखते ही उससे चाय का कप मेरी पॅंट पर गिर गया. तो वो धोने लग गई और मुझे अपने पति के कपड़े दे दिए और फिर ऐसे ही 11 बाज गये जो की पता ही नही लगे.

अब जब मैं घर नही जा पाया तो वो रुक गया और फिर हम रात को बैठ कर बाते करने लग गये. तब मैने उनसे उनके पति के बारे पूछा तो वो रोने लग गई. रोता देख कर मैने उससे चुप कराया और फिर उसके सिर पर किस करी.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!