वाइफ की कोलीग के साथ चुदाई की कहानी

हेलो दोस्तों, कैसे है आप सब? बहुत दीनो बाद मैं फिरसे हाज़िर हू एक न्यू स्टोरी के साथ. तो ये स्टोरी है मेरे ऑफ मेरी वाइफ की ऑफीस कोलीग के बीच हुए सेक्स की. तो चलिए शुरू करते है.

मैं अपने बारे में बता डू. मेरा नाम हर्ष है. मैं देल्ही का रहने वाला हू. मेरी आगे 30 है. इस कहानी की मुख्या कलाकार मेरी वाइफ की ऑफीस कोलीग है, जिसका नाम गायत्री है.

गायत्री की आगे 36 है. वो मेरी वाइफ की ऑफीस कोलीग है. गायत्री दिखने में बहुत सुंदर है. उसकी हाइट अप्रॉक्स 5’5″ होगी, वेट अराउंड 60 क्ग, और फिगर वाह क्या ही कहना 36-30-38. अब आप लोग खुद अंदाज़ा लगा लो कैसी दिखती होगी गायत्री.

मैं पहली बार गायत्री से मिला जब मेरी वाइफ का जॉब इंटरव्यू था. क्यूंकी मैं वर्क फ्रॉम होमे करता हू, तो मैं उसके साथ इंटरव्यू के लिए गया था उसके ऑफीस. वाहा मैने पहली बार गायत्री को देखा, और देखता ही रह गया. इतनी सुंदर औरत मैने पहली बार देखी थी.

फिर मेरी वाइफ ने जॉब स्टार्ट कर दी वाहा, और उसकी गायत्री से अची बनने लगी. वो रोज़ मुझे घर आके बताती थी गायत्री ऐसी गायत्री वैसी, और मेरे मॅन में गायत्री के लिए फीलिंग्स आने लगी. उसकी बातों से ये पता चला की गायत्री सिर्फ़ दिखने में ही नही नेचर की भी सुंदर थी.

फिर मैं गायत्री से मिला उसके भाई की शादी में. तब मेरी पहली बार उससे बात हुई. मैं क्या बतौ कितना अछा लगा मुझे उससे बात करके. फिर मेरी सिस्टर की शादी के दौरान मेरी वाइफ ने मुझे उसके ऑफीस से कुछ समान पिक करने को कहा.

तो उसने मुझे गायत्री का नंबर शेर किया. मैने उसके ऑफीस पहुँच के गायत्री को कॉल किया और कहा-

मैं: मैं ऑफीस के नीचे खड़ा हू.

फिर वो समान लेके नीचे आई. उसने पिंक कलर का सूट पहना था जो की बिल्कुल फिट था. उसमे वो बहुत सुंदर लग रही थी.

क्यूंकी अब हम दोनो के पास एक-दूसरे का नंबर था, तो एक दिन मैने उसका वटसपप स्टेटस देख के उसपे रिक्ट किया. उसने भी उसपे रिक्षन दिया. इस तरह हमारी बात स्टार्ट हो गयी. पर इतनी ही बात होती थी बस. लेकिन मैं आयेज बढ़ना चाहता था.

वो मौका मुझे जल्दी ही मिला, जब हमने प्लान किया की सब लोग कही बाहर घूमने जाएँगे. फिर शिमला का फाइनल हुआ. जान का मंत था. मैं, मेरी वाइफ, गायत्री, उसका हज़्बेंड, और मेरी वाइफ के ऑफीस के दो कॉलीग्स, हम सब शिमला चले गये.

हमने वाहा टीन रूम बुक किए फॉर थ्री कपल्स. फिर हम लोग नेक्स्ट दे वाहा पहुँच गये और रेस्ट करके शाम को घूमने निकल गये. क्यूंकी मैं शिमला बहुत बार गया था पहले भी. हम सब लोग रात को करीब 10 बजे वापस अपने होटेल में आ गये.

उसके बाद हम सब ने थोड़ी थोड़ी ड्रिंक की, और बातें करने लगे. थोड़ी देर बाद मेरी वाइफ ने कहा की उसे सोना था. तो हम सब अपने-अपने रूम्स में चले गये सोने. जाके हम तोड़ा फ्रेश हुए, और सेक्स करने लगे. एक रौंद के बाद मेरी वाइफ तक गयी और सो गयी.

पर मुझे नींद नही आ रही थी, और मैं कभी-कभी स्मोक करता हू तो मुझे स्मोकिंग करने का मॅन होने लगा. फिर मैं रूम से बाहर आ गया. मैं स्मोक कर ही रहा था, की मैने देखा गायत्री भी अपने रूम के बाहर टहल रही थी. मैने उसे “ही” का इशारा किया तो वो मेरे पास आई.

मैने उससे पूछा: इस एवेरितिंग ओके?

तो उसने कहा: हा.

उसे थोड़ी असिडिटी हो रही थी, तो मैने कहा: मेडिसिन लेलो.

तो उसने कहा वो लाई नही मेडिसिन.

फिर मैने कहा: मेडिसिन तो मेरे पास भी नही है.

उसने कहा: कही मिल जाएगी क्या आस पास आपको अगर पता हो तो.

मैने कहा: हा मार्केट में शायद मिल जाएगी.

तो उसने कहा: क्या आप मेरे साथ चल सकते हो?

मैने कहा: एस, वाइ नोट.

तो हम मेरी कार से मार्केट चले गये, और वाहा हमे मेडिसिन मिल गयी. उसने मेडिसिन खाई और हम वापस होटेल की तरफ आ गये. मैने जैसे ही कार पार्किंग में खड़ी की, और हम उतरने लगे, तो गायत्री लड़खड़ा के गिरने लगी. मैने उसे पकड़ लिया, और वापस कार में बिता दिया, और पूछा-

मैं: क्या हुआ?

तो उसने कहा: चक्कर सा आ गया मुझे.

फिर मैने उसे पानी दिया. उसने पानी पिया, पर उसकी हालत ठीक सी नही लग रही थी. तो मैने उससे पूछा-

मैं: तुम्हारे हज़्बेंड को कॉल करू?

उसने कहा: नही, मैं ठीक हू.

मैने उससे कहा: चलो होटेल चलते है. आप आराम कर लेना रूम में.

वो जैसे ही उठने लगती, फिर गिर जाती. तो मैं उसे पीछे सीट पे ले आया और खुद भी आ गया. वो मेरे कंधे पे सिर रख के लेट गयी. सच बतौ मुझे बड़ा अछा लग रहा था. मैं उसके सिर को सहलाने लगा, तो उसने कहा-

गायत्री: मुझे अछा लग रहा है, रिलॅक्सिंग सा.

फिर मैं उसके गाल पे और सिर पे सहलाता रहा. उसने अपना फेस उपर किया मेरी तरफ, और मुझे देखने लगी. मैं उसे देख रहा था. हम दोनो एक-दूसरे की आँखों में डूब चुके थे. तोड़ा सा वो लीन हुई, तोड़ा मैं, और मैने उसके लिप्स पे अपने लिप्स रख दिए और किस करने लगा.

वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी. मैने उसका फेस पकड़ा, और स्मूच करने लगा. अब हम दोनो की किस बहुत वाइल्ड हो चुकी थी. मैं एक हाथ से उसके बूब्स दबाने लगा.

वो बहुत गरम हो चुकी थी. मैने देरी ना करते हुए उसका सूट निकाल दिया. उसने नीचे ब्लॅक पॅडेड ब्रा पहनी थी. उसके गोरे बदन पे ब्लॅक ब्रा बहुत खिल रही थी. मैं ब्रा के उपर से ही उसके बूब्स चूसने लगा. वो बस आहें भर रही थी आ आ आ करके. मैं उसे किस करने लगा और सीट पे लिटा दिया, और उसके उपर आ गया और अपना लंड पंत के उपर से ही उसकी छूट पे घिसने लगा.

फिर मैने नीचे आके उसकी सलवार उतार दी. उसने मरून कलर की पनटी पहनी थी, जो गीली हो चुकी थी. उसमे से इतनी प्यारी खुश्बू आ रही थी की मैं खुद को रोक ही नही पाया उसे चाटने से. जैसे ही मैने अपनी जीभ लगाई, वो मोन करने लगी.

गायत्री: आ आ आह हर्ष जी अयाया, ऐसे ही करते रहो अया आ.

मैने उसकी पनटी भी उतार दी. उसकी छूट पे हल्के-हल्के बाल थे ब्राउन कलर के. मैने उसकी छूट स्टार्ट कर दी. वो पागलों की तरह मोन कर रही थी आ आ. थोड़ी देर छूट चटवाने के बाद उसकी छूट ने बहुत सारा पानी छ्चोढ़ दिया. मैने सारा पानी पी लिया उसकी छूट का. उसके बाद मैं दोबारा उपर आया, और उसे किस करने लगा.

फिर मैने अपनी पंत उतरी और जेब से एक कॉंडम निकाला, और अपने लंड पे चढ़ाया. उसके बाद लंड उसकी छूट पे सेट किया, और एक ही झटके में पूरा लंड उसकी छूट में उतार दिया. वो चिल्लाने लगी-

गायत्री: अया मॅर गयी आ, आराम से हर्ष जी प्लीज़, आपका लंड बहुत बड़ा और मोटा है.

मैं उसे किस करते-करते छोड़ता रहा. मैं लगातार उसे छोड़े जेया रहा था. अब उसका दर्द भी मज़े में बदल गया था. वो भी गांद उठा-उठा के छुड़वा रही थी, और बीच-बीच में बोले जेया रही थी, की ऐसा मज़ा उसे आज तक नही आया.

गायत्री: अया हर्ष जी आ. आज से मैं आपकी हू. अया मेरी जान छोड़ते रहो ऐसे ही मुझे.

हर्ष: अया बेबी, मैं भी तुम्हे छोड़ना चाहता था कब से. आज मौका मिला है. आज तू मेरी पत्नी है, मेरी रखैल है, मेरी जान है.

गायत्री: अयाया हा बेबी, ई लोवे योउ मेरी जान अया आ.

हर्ष: ई लोवे योउ टू बेबी. मुआः अया अया.

लगातार 30 मिनिट तक छोड़ने के बाद वो 3 बार झाड़ चुकी थी. अब मेरा भी पानी निकल गया और मैं निढाल होके उसके उपर ही लेट गया. फिर 10 मिनिट्स बाद हम लोग उठे, कपड़े पहने, एक-दूसरे को स्मूच किया, और वापस होटेल रूम में आ गये.

उसके बाद नेक्स्ट दे देल्ही आ गये वापस. अब जैसे भी मौका मिलता है हम दोनो अपनी प्यास बुझते है. बहुत बार रात में फोन सेक्स करते है. वो अब मेरे बच्चे की मा बनना चाहती है.

तो दोस्तो कैसी लगी आपको मेरी ये कहानी ज़रूर बताईएएगा. धन्यवाद, मिलते है किसी नयी स्टोरी के साथ.

यह कहानी भी पड़े  नाचने वाली खूबसूरत रंडी की चुदाई खूबसूरत तरीके से


error: Content is protected !!