गाओं की सेर पॉर्न कहानी

village sex kahani उस वक़्त मेरी उमर करीब 18 साल की थी… हमारे डॅडी के एक करीबी दोस्त हैं… उनकी फॅमिली मे शादी थी. वो शादी उनके गाओं मे होनी थी.. उन्होने हम सबको चलने के लिए इन्वाइट किया.

पापा को तो जाना है था. मा के जाने का हिसाब न्ही बैठ रहा था. तब पापा के फ़्रेंड ने कहा कि शायरा को ले चलो. हमारा घर भी देख लेगी, गाओं भी देख लेगी.. ये भी देख लेगी कि गाओं मे शादी कैसे होती हे. लास्ट मे ये फ़ैसला हुआ कि अंकल की फॅमिली के साथ मैं और मेरे पापा भी जाएँगे.मेरा सरीर अब भर गया था. अब मैं वो नौ साल वाली लड़की न्ही थी, जिसका सीना एकदन सपाट था. अब तो मेरे बूब भी दिखने लगे थे. जब मैं चलती थी तो मेरे बम्स लेफ्ट राइट हिलते थे जो मुझे और भी सेक्सी बना देते थे. हमारा वहाँ 10 दिन का प्रोग्राम था.

10 डेज़ के हिसाब से मैने अपने कपड़े पॅक किए.. सलवार सूट, स्कर्ट & टॉप, जीन्स & टॉप और जैसा मुझे प्रोग्राम बताया गया, हल्दी, लेडी संगीत, तिलक, शादी… हर रोज कुछ ना कुछ प्रोग्राम था. मेने 2 पैयर लहंगा चुनरी भी रख ली..जाने वाले दिन हम निकले और स्टेशन जा कर ट्रेन पकड़ी… रात भर का सफ़र था.. मैं, मेरे पापा, अंकल आंटी और उनका एक बच्चा जो 4 साल का था, टोटल 5 लोग शादी मे जा रहे थे. एसी कोच मे रात का सफ़र आराम से कट गया. सवेरे स्टेशन पर कार आ गयी और हम गाओं की तरफ चल दिए.

अंकल मुझे रोड के किनारे खेत के बारे मे बताने लगे.. ये सरसो का खेत हे.. ये वीट का. एट्सेटरा एट्सेटरा करीब 2 अवर्स के रन के बाद अंकल ने बताया कि उनका घर आने वाला हे.. फिर एक बड़ा सा दरवाज़ा आया, कार उसमे घुसी. बहुत बड़ा एरिया था वो.कई तरह के ट्रीस थे.. गार्डेन था.. एक दम जंगल जैसा लग रहा था.. फिर हम एक मकान पर पहुचे. मकान क्या था, वो एक हवेली थी.. पुरानी टाइप की, बहुत बड़ी हवेली.. हम कार से उतरे,, हवेली मे गये… बहुत बड़ा हाल, बड़े बड़े कमरे. बड़े बड़े फनूस. एकदम शांति.. कही कोई आवाज़ नही.. कोई हल्के से भी बोलता तो आवाज़ सुनाई दे जाती..

ग्राउंड फ्लोर था और 1स्ट्रीट फ्लोर.. हम 1स्ट्रीट फ्लोर पर ले जाए गये. क्या बड़े बड़े रूम थे.. ऐसा तो सिर्फ़ फ़िल्मो मे या टीवी सीरियल मे देखा था.. इतने बड़े कमरे की अगर वो सहर मे हो तो वाहा उसी कमरे मे शादी हो जाए. मुझे अपने नाना जी के गाओं की याद आ गयी. अब जब याद आ गयी तो वो सब भी याद आने लगा कि मेने वाहा कैसे मस्ती की थी. मेने खुदा से दुआ कि हे खुदा, कुछ ऐसा जुगाड़ बना जो नाना जी के यहा हुआ था.. फिर सोचा कि अगर कुछ जुगाड़ हो भी गया तो कोन सी जगह ज़्यादा ठीक रहेगी मस्ती के लिए.

सोचा चलो घूम के देखते हैं.. इतने मे आंटी ने कहा कि नहा लो, फिर नाश्ता करना है.. पापा अंकल जेंट्स लोग का जहाँ इंतज़ाम था वहाँ चले गये.. मैं आंटी के साथ रह गयी. शायद कुछ और लोग आने वाले थे वाहा. मैं नहाने चली गयी.

जब मैं नहा के कमरे मे आई तो कुछ गेस्ट और आ गये थे. वाहा मेरी उमर की एक लड़की और दिखाई दी.. आंटी ने बताया कि वो उसकी कज़िन सिस्टर थी. उसका नाम प्रिया था और वो अक्सर गाओं मे आती हे और कई कई दिन रह के जाती है. उसका अपना घर हवेली के पास ही था.

एक उमर की होने की वजह से मेरी और प्रिया की दोस्ती हो गयी और हम सहेलिया बन गयी. हमने साथ नाश्ता किया. नाश्ते के बाद हम रूम मे आ गयी,, प्रिया बताने लगी कि यहाँ पर क्या क्या है . उसने मुझे पूरा एरिया घुमाने का इरादा जताया.

मे राज़ी हो गयी और हम दोनो हवेली से बाहर निकले. वाहा चारो तरफ बड़े बड़े ट्रीस थे… एक आम का बगीचा था. एक अस्तबल था जहाँ कई काउस..कई भैंस, 2 डॉग्स और एक हॉर्स भी था.. वो जनवरो को च्छू च्छू के सहलाने लगी.. मुझे बोर लगने लगा.

मैं अस्तबल से बाहर निकली.. अस्तबल के पीछे पानी का एक बड़ा सा कुवा था, सिमेंटेड.. उसमे पानी था .. साथ मे पानी की मशीन थी. वाहा से चॅनेल बना हुआ था जिससे वो पानी जनवरो तक पहुच जाए. मैं उसी को फॉलो करते करते पीछे वाली खिड़की तक पहुचि.

अचानक मेरी नज़र प्रिया पर पड़ी. वहाँ मेने जो देखा वो पहले कभी न्ही देखा. प्रिया घोड़े के पास बैठी थी उकड़ू होकर. उसका हाथ घोड़े को सहला रहा था. मेने सॉफ देखा घोड़े का लिंग बड़ा होते हुए. जब वो बड़ा होने लगा तो प्रिया ने उसको पकड़ लिया और सहलाने लगी..

वो और बड़ा होते चला गया.. करीब 2 फुट का.. और खूब मोटा. वो उसको दोनो हाथो से सहलाने लगी. 5 मिनिट ये सब देखती रही, फिर मैं मूडी और वापस अस्तबल की तरफ आने लगी. जब मैं वहाँ भीतर पहुचि तो प्रिया काउ के गले को सहला रही थी.

उसने मुझे चोर नज़रो से देखा. मेने कोई रिक्षन न्ही दिया. फिर हम गाय को भूसा वगेरा डाल के अस्तबल से निकले.. निकलते समय प्रिया ने घोड़े को देखा.. मेने भी देखा.. उसका लिंग सिकुड़ने लगा था. मैं बाहर की तरफ देखने लगी जैसे कुछ देखा ना हो. हम दोनो बाहर आ गयी. दिन मे हमने खाना खाया. फिर रूम मे आ गयी. हम दोनो आपस मे बात करने लगी.

मे- काफ़ी बड़ा एरिया है ना?
प्रिया- हां. मैं तो अक्सर यहा आती हू.
मे- अक्सर क्यू?
प्रिया- मुझे बहुत अच्छा लगता है. और मुझे जनवरो से लगाव है.
मे- वो भला क्यू?
प्रिया- मे तो जब भी आती हू, मेरा बहुत समय उन्ही के साथ गुज़रता है.
मे- अच्छा,, पर मेने खिड़की से देखा था तुमको घोड़े को सहलाते हुए.

प्रिया- ओह नो,, वो तो बस ऐसे ही….
मे- कोई बात न्ही, पर एक बात है, घोड़े को सहलाने से कुछ हो रहा था, वो मेने देखा.
प्रिया – क्या देखा.
मे- वो घोड़े की एक चीज़ बड़ी हो रही थी, बाद मे तुमने अपने दोनो हाथो से उसको सहलाया था.
प्रिया- ओह, तुमने देख लिया?… प्ल्ज़ किसी को बताना मत.

मे- ओक न्ही बताउन्गि,, बस मुझे भी एक बार दिखा देना.
प्रिया- ओके, वेसे तुमने कभी देखा न्ही किसी का?
मे- सच बताउ,, अब तुम किसी को मत बताना. मेने आदमियो का देखा है.
प्रिया- वाउ, कैसा होता है?
मे- घोड़े जैसा न्ही होता, पर सबका अलग अलग साइज़ होता है.
प्रिया- इसका मतलब तूने कई सारे देखे हैं?
मे- हां कई सारे देखे मेने.
प्रिया- कभी च्छुआ?
मे- हां च्छुवा.

प्रिया- और?
मे- मेने उसको पकड़ा अपने हाथो से?
प्रिया- और?
मे- किसी को बोलेगी तो न्ही?
प्रिया- नही, हम फ्रेंड हैं, ये बात हम दोनो के बीच रहेगी.
मे- तो सुन, मेने लड़को के लिंग, जिसको वो लंड बोलते हैं, अपने हाथो से पकड़े हैं. उनको लिया भी है.

प्रिया- वाउ शायरा, यू आर लकी गर्ल, कैसा लगता है?
मे- बहुत मज़ा आता है.
प्रिया- उसमे से सफेद जूस भी निकलता है?
मे- तुझे कैसे मालूम?
प्रिया- बता ना प्ल्ज़.
मे- हां निकलता है, अब बोल तुझे कैसे मालूम.

प्रिया- वो जब घोड़े का सहलाती हू ना तब उसमे से सफेद जूस निकलता हे, बहुर सारा.
मे- अच्छा
प्रिया – हां, फिर जब हाथ उसमे सन जाते हैं तो कपड़े उतार कर वही नहा लेती हूँ.
मे- अच्छा, अब मुझे कब दिखाएगी?
प्रिया- आज शाम को देख लो.
मे- ओके, कितने बजे?
प्रिया- 4 बजे करीब चाय पीने क बाद चलना.
मे- ओके.

4 बजे चाय पीने के बाद हम दोनो वाहा अस्तबल की तरफ चल दी. हम दोनो ने स्कर्ट और टॉप पहना हुआ था. मेने कहा कि अपनी ड्रेस उतार दो, अगर वो खराब हो गयी तो मुस्किल होगी. वो समझ गयी. उसने अपने सारे कपड़े खोल के साइड मे रखे और घोड़े को सहलाने लगी.

जब घोड़े का लिंग बड़ा हो गया तो मुझे भी उसने बुलाया. फिर हम दोनो ने अपने हाथो से उसके लिंग को खूब मसला. थोड़ी देर बाद उसका जूस निकल गया. बाप रे, इतना सारा जूस.. इतना जूस तो नाना के गाओं मे मेरी 4 दिन की चुदाई मे भी नही मिला होगा मुझे.

फिर हम दोनो ने एक दूसरे को पानी से नहलाया. हम दोनो ने एक दूसरे के बूब दबाए.. मेने उसकी चूत मे उंगली डाली, उसने भी मेरी मे डाली.. पानी से बाहर निकल के एक दूसरे की चूत चॅटी. हम दोनो को मज़ा आया.

मे- प्रिया, तुझे किसी ने चोदा है?
प्रिया- हां, क्लास के 2 लड़को ने और मेरे मास्टर जी ने.
मे- लड़को का लंड कैसा था?
प्रिया- वो तीन इंच का था, पतला सा. पर मास्टर जी का उनसे बड़ा था.
मे- मास्टर जी ने क्यू चोदा?
प्रिया- एक दिन जब लड़के मुझे बाथरूम मे चोद रहे थे, तब मास्टर जी ने देख लिया.
मे- पूरी बात बता ना.
प्रिया- सुन, वो तो मुझे बाद मे मालूम हुआ कि मास्टर ने देख लिया.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त की सेक्सी मॉम के साथ सेक्स किया

एक दिन मास्टर जी ने मुझे घर पर बुलाया . वो मुझे कुछ गाइड बुक देना चाहते थे, मेद्स की. मे वहाँ गयी. मास्टर जी अकेले थे. उन्होने दरवाजा बंद कर दिया. उनकी बीबी घर मे न्ही थी. मुझे पलंग पर बिठा कर वो दूसरे रूम मे गये.. जब वो वापस आए तो उनके एक हाथ मे एक पतली सी किताब थी. और वो गमछा पहने हुए थे. जब वो पलंग पर पालती लगा के बैठे तो उनका गमछा सामने से खुल गया. मैं ठीक उनके सामने थी. मुझे उनका लंड दिख रहा था. मास्टर जी ने पालती चौड़ी कर ली. उनका गमछा कमर तक उपर उठ गया.

मे- फिर?

प्रिया- मैं सिर झुका के बैठी रही, पर चोर नज़रो से उनका लंड देख रही थी. मुझाया हुआ था, करीब 4 इंच का होगा. मास्टर जी समझ रहे थे कि मैं उनका लंड देख रही हू. मास्टर जी ने किताब अपने पीछे रख दी. और अपने लंड की नीचे की बॉल को सहलाया. उनका लंड बड़ा होने लगा.

मैं चोर नज़रो से देखती रही. जब उनका लंड टाइट हो गया तो करीब 6 इंच का हो गया. मे सोचने लगी कि उन लड़को से डबल है मास्टर जी का लंड. मेरे सरीर मे सनसनी होने लगी, पता न्ही मास्टर जी क्या चाहते हैं. मेने मास्टर जी कहा- मास्टर जी किताब दीजिए, मुझे घर जाना हे.

मास्टर जी ने कहा कि किताब उनके पीछे है आकर ले लो.. उस वक़्त वो अपने लंड की स्किन को आगे पीछे कर रहे थे, जब वो स्किन पीछे जाती थी तो उनके लंड का सूपड़ा पूरा दिखता था,, पिंक कलर का , गोल गोल. मैं उठी और घुटनो के बल चल कर मास्टर की पीछे रखी किताब ले ली. जब मैं मूडी तो मास्टर जे ने मुझे कमर से पकड़ लिया और अपनी गोदी मे बैठा लिया.

मे घबरा गयी- मास्टर जी, आप क्या कर रहे हैं, मुझे छोड़िए. पर उसने जैसे कुछ सुना नही. उसने मुझे अपनी गोदी मे फ़सा के मेरी स्कर्ट उपर कर दी और पॅंटी के उपर से मेरी चूत पर हाथ रख दिया और सहलाने लगे.
मेने छ्छूटने की नाकाम कोसिस की.

इसी बीच मास्टर जी ने कब मेरा हाथ पीछे करके अपने लंड पर रख दिया, मालूम नही पड़ा. मालूम तब पड़ा जब मास्टर जी ने उनके लंड पे मेरा हाथ रख कर, मेरे हाथ पर अपने हाथ रखा और आगे पीछे करने लगे. मैं पलट गयी पर मेरा हाथ उनके लंड से नही च्छुटा.

मास्टर जी ने कहा कि थोड़ी देर इसको सहला दो फिर चली जाना. मेरे पास और कोई रास्ता न्ही था. मास्टर जी ने अपने टांगे फैला दी और मुझे अपने सामने पेट के बल लेटा दिया और मैं उनका लंड सहलाने लगी. थोड़ी देर बाद मेने कहा कि अब मैं जाउ?

मास्टर जी ने कहा थोडा रुक और घूम जा. मैं घूमने लगी तो मास्टर जी ने मुझे चित लिटा दिया और स्कर्ट उपर करके मेरी पॅंटी खीच के उतार दी. मेने अपने हाथो से अपनी चूत धक ली. मास्टर ने कहा, तुमने तो मेरा लंड देख लिया छु भी लिया, तुम्हे भी अपनी चूत दिखानी पड़ेगी.

मरती क्या ना करती. मेने अपने हाथ हटा लिए. मास्टर जी ने मेरी टाँग फैला दी और चूत सहलाने लगे. उंगली भी घुसाइ. थोड़ी देर तक ये सब करने क बाद वो बोले, बेटी अब मेरी गोदी मे बैठ जाओ. मैं उनके पैरो पर जाँघ के उपर बैठ गयी. मेरे दोनो पैर बाहर की तरफ थे.
क्रमशः………..
नीचे से मास्टर जी का लंड मेरी चूत से टच हो रहा था. मास्टर जी ने अपने हाथो से मेरी चूत को फैलाया और अपने लंड का सुपरा मेरी चूत पर रखा. मैं समझ गयी कि वो क्या करना चाहते हैं. मैं उनकी गोदी से उच्छल कर खड़ी हो गयी.

मे- ओह फिर क्या हुआ?

प्रिया- मास्टर जी ने कहा, मे तो आज तुझे चोदुन्गा बेटी. मेने कहा प्ल्ज़ ऐसा मत कीजिए, मैं कुवारि हू. मास्टर जी हस्ने लगे.. कहा , स्कूल के बाथरूम मे तू जो रोज चुदवाती है वो सब मेने देखा है. अगर आज मुझसे न्ही चुदवाओगि तो कल स्कूल मे सबको बता दूँगा कि क्लास के लड़को से तुम क्या करवाती हो.

मेरा दिमाग़ सन्न्न हो गया.. मास्टर इसी का फयडा उठा रहा है. मास्टर जी ने कहा , सोच लो.. नही चुदवाना है तो जाओ और स्कूल मे ये बात किसी को पता ना लगे तो आकर मेरा लंड चूसो. मेरे पास और कोई रास्ता ना था. मैं आगे बढ़ी, मास्टर जी पलंग पर थे. मैं नीचे. मेने वही से खड़े खड़े उनका लंड मूह मे ले लिया.

पहली बार लिया था. मास्टर जी ने मेरा सिर पकड़ कर अपने लंड पर दबाया और इसी तरह करने को बोला. मैं चुपचाप करती रही, सोचा इनका जूस निकल जाए और मेरी छुट्टी हो. पर ये क्या, मास्टर जी ने मेरे सारे कपड़े एक एक करके उतार दिए.

मैं उनके सामने नंगी हो गयी. थोड़ी देर बाद मास्टर जी ने मुझे पलंग पर खिछा. अब वो चुदाई की तैयारी कर रहे थे. मेने कहा मास्टर जी प्ल्ज़ मत चोदो. मास्टर ने कहा, लड़को से तो खूब चुद्वति है, मुझसे क्यू नही. मेने कहा, उनका इतना बड़ा और मोटा न्ही है जितना आपका. मैं ले न्ही पाउन्गि.

मास्टर जी ने नारियल तेल की बॉटल उठाई और थोड़ा तेल अपने लंड पर लगाया और थोड़ा मेरी चूत पर. बोले अब हो जाएगा, बस तुम मूह बंद रखना वरना….. फिर उन्होने मुझे लिटाया, मेरी कमर के नीचे तकिया लगाया , मेरी टाँग उपर की ओर फैला दी.

मेरी चूत एकदाम उपर उठ गयी. मुझे अपनी चूत दिख रही थी, मास्टर जी ने अपना लंड मेरी चूत पर लगाया और थोड़ा प्रेशर दिया. उनके लंड का सुपरा मुझे अपनी चूत मे जाता हुआ दिखाई दिया.. मुझे दर्द हुआ पर कोई उपाय नही था. फिर प्रेशर दिया.

उनका लंड धीरे धीरे मेरी चूत मे घुसता जा रहा था. दर्द के मारे मैं अपना सिर पलंग पर दाए बाए हिला रही थी. पर वो न्ही रुके.. रुके भी तब जब उनका लंड पूरा मेरी चूत मे घुस गया. वो बोले देख अपनी चूत को, मेरा लंड पूरा ले लिया इसने.

मेने गर्दन उठा के देखा. वाकई उनका लंड न्ही दिख रहा था. अब उन्होने अपना लंड थोडा बाहर र्निकाला और फिर से चूत मे पेल दिया. धीरे धीरे उनकी स्पीड बढ़ने लगी. मेरी चुदाई हो रही थी. लंड सटसात अंदर बाहर हो रहा था.

प्रिया- एक बात बोलू शायरा?
मे- हां बोल ना.
प्रिया- पहले तो तकलीफ़ हुई पर मज़ा बहुत आ रहा था. उन लड़को के साथ जल्दी जल्दी और छ्होटे लंड से होता था. पर ये तो बड़ा था और इतमीनान से मेरी चुदाई हो रही थी.
मे- फिर आगे बोल क्या हुआ?

प्रिया- और क्या, मेरी चुदाई होती रही, वो मेरी चूची अपने हाथो से दबाते रहे, नीचे चूत मार रहे थे. मैं आँख बंद कर कर पड़ी थी. थोड़ी देर बाद शायद उनका जूस निकलने का टाइम हो गया. उन्होने लंड बाहर खिछा और मुझे उठा के मेरे मूह मे घुसा दिया.

कुछ समझू इसके पहले मास्टर जी के लंड का जूस मेरे मूह मे भर गया. मैं थूकने ही वाली थी कि उन्होने उसको पी जाने को कहा.. मुझे सारा जूस पीना पड़ा. उसके बाद उन्होने मुझे कपड़े दिए. कहा कि जब भी बुलाउ आ जाना चुदाई करवाने वरना….

मेने हां कहा और कपड़े पहन कर बाहर निकल आई किताब ले कर.. वो दिन है और आज का दिन.. वीक मे कम से कम 3 बार तो मेरी चुदाई होती ही है, मास्टर जी से. बस यही मेरी कहानी हे.

मे- ह्म्म्म, इसका मतलब, जितने दिन तुम यहा रहोगी, तुम्हारी चुदाई बंद?
प्रिया -और क्या, इसीलिए तो अस्तबल जाती हू, उनका जूस चाटने. अब तुम बताओ तुम्हे किसी ने चोदा है?
मे- हां, कई बार, मेने तो अपनी गंद भी मरवाई है चूत के साथ.
प्रिया- गंद भी?
मे- हां, दोनो जगह बहुत मज़ा आता है.

हम दोनो चुप हो गयी.. दोनो के मन मे एक ही विचार था काश यहा कुछ इंतज़ाम हो जाता.

मे- प्रिया, तू तो यहा कई बार आती ही,, हमे 10 दिन रहना है यहाँ,, क्या यहाँ कोई जुगाड़ है?
प्रिया- देखना पड़ेगा, यहा कभी ट्राइ न्ही किया.
मे- तो आज किसी को टारगेट करते हैं, अगर कोई मिल गया तो 10 दिन मस्ती से काटेंगे.
प्रिया- वेसे एक ही निगाह मे,, वो अस्तबल के पीछे पानी वगेरा का इंतज़ाम करने वाला आदमी.. 35/40 साल का , 6 फीट लंबा, मजबूत. पर कभी ट्राइ न्ही की.
मे- दिखने मे कैसा है?
प्रिया- एकदम गोरा.. पहलवान जी कहते हैं हम उनको.
मे- ओके शाम को चलते हैं वहाँ. और हां. स्कर्ट के नीचे पॅंटी न्ही पहनना… देखते हैं क्या होता है.

शाम को हम दोनो ने समीज़ पहनी, टॉप डाला, स्कर्ट पहनी, बिना पॅंटी के और अस्तबल की तरफ गये.. दूर से आइडिया लग गया कि पहलवान अस्तबल मे है. मेने प्रिया को कहा कि तुम अस्तबल मे जाओ, मैं पानी की तरफ जाती हू.. पहलवान जब पानी की तरफ आएगा तब तुम अस्तबल से च्छूप के देखना.

यह कहानी भी पड़े  गैर मर्दो की रंडी बनी सुषमा

मैं पानी के हौड़े पर उकड़ू हो कर बैठ गयी. मेरी राइट साइड पर अस्तबल था. मेने अपनी स्कर्ट को जाँघो तक चढ़ा लिया. पॅंटी पहनी न्ही थी. इसलिए चूत पूरी ओपन थी. इतने मे पहलवान जी आते हुए दिखाई दिए.. मैं पानी मे देखने लगी.

वो पानी लेने आया, हाथ मे बाल्टी थी. वो झुक कर पानी उठा ही रहा था कि उसकी नज़र मुझ पर पड़ी. फिर उसकी नज़र मेरी चूत की तरफ गयी. पर मैं पानी मे देखती रही. मुझे पूछा- कोन हो बेटी. मेने कहा शायरा, शादी मे आई हू. आप कोन है? पहलवान ने कहा कि उसका नाम प्यारे है और वो वहाँ काम करता है.

मे- प्यारे जी, ये पानी बहुत गहरा है ना?
प्यारे- अरे न्ही बेटी, रूको मैं दिखाता हू.

ये कहकर उसने अपनी धोती खोल के हौड़े के कोने पर रखी और पानी मे उतर गया. असल मे उसका मकसद मेरी चूत को पास से देखना था. शाम हो गयी थी, सॉफ न्ही दिख रही होगी दूर से. पानी उसके कमर तक था. वो दो कदम बढ़ा के मेरे सामने आ गया. नज़र उसकी मेरी चूत पर थी पर बात मुझसे कर रहा था.

प्यारे- देखा, मेने कहा था ना पानी गहरा न्ही है.
मे- हां.
प्यारे- तुम भी आके देखो, कितना ठंडा पानी है.
मे- न्ही न्ही, मुझे डर लगता हे.
प्यारे- डरने की कोई बात न्ही.
मे- मेरे कपड़े भीग जाएँगे.
प्यारे- अरे तो उसको साइड मे रख दो, जैसे मेने रखे हैं. गीले नही होंगे.

वो एकदम मेरे सामने खड़ा था पानी मे, उसकी नज़र से मेरी चूत सिर्फ़ 3/4 इंच दूर थी. मेरी चूत पर बाल न्ही थे. एकदम चिकनी. वो उसी को देख रहा था. मेने ज़रा गौर से देखा, उसने अपनी धोती तो उतार दी थी, नीचे कुछ पहना हुआ भी था या नही? शाम के अंधेरे उजाले मे ऐसा लगा कि उसने कुछ पहना हुआ नही हे. मेने भी उसको देखने की सोची.

मे- पर मेरी सहेली भीतर अस्तबल मे है.
प्यारे- तो क्या हुआ, वो मना थोड़ी करेगी.
मे- फिर भी, वो देखेगी तो?
प्यारे- कुछ न्ही होगा, तुम कपड़े सूखी जगह पर रख दो, बाहर निकलो तब पहन लेना.
मे- ओके आती हू.

मेने उसके सामने ही टॉप उतारा, समीज़ उतारी. अब सिर्फ़ स्कर्ट थी.. मेने उसके बटन खोले और नीचे सरका के उतार दी. अब मे उसके सामने नंगी थी. चोर नज़रो से देखा, प्रिया अस्तबल के भीतर से देख रही थी.. प्यारे को देखा. वो आँखे फाड़ के मुझ को नंगा देख रहा था, उसका एक हाथ पानी मे था.

पहले मैं हौड़े के किनारे पर बैठी. प्यारे ने मेरा हाथ पकड़ के पानी मे उतार दिया. मेरा बॅलेन्स खराब हुआ. उसने अपने दोनो हाथो से मेरी दोनो चुचि पकड़ ली और सहारा देने लगा. मेने भी संभलते संभलते हुए उसको पकड़ने की कोसिस की और उसका लंड मेरे हाथ मे आ गया. मेने उसको छ्होरा नही.

मे- कितनी फिसलन है पानी मे.
प्यारे- वो तो हे, पर अब ठीक हे, तुम अब नही गिरोगि.
मे- हां, पर आपने मेरी चुचि क्यू पकड़ी,, हाथ भी पकड़ सकते थे.
प्यारे- तुमको गिरने से बचाने के लिए जो सामने आया वो पकड़ लिया.
मे- मेरा हाथ पकड़ लेते. अगर मेने पाइप न्ही पकड़ा होता तो ज़रूर गिर जाती.
प्यारे- हां सही कहा. पाइप पकड़ के रहना, गिरोगि नही.
मे- पर मेने पहले जिस पाइप को पकड़ा था वो छोटा और मुलायम था.
प्यारे- ये वही पाइप है बेटी.

अंधेरा हो गया था… प्रिया कब बाहर आ कर खड़ी हो गयी मालूम न्ही हुआ, वो हौड़े के बाहर से देख रही थी. मेने फिर फिसलने की आक्टिंग की, प्यारे ने फिर मेरी चुचि पकड़ ली, सीधा खड़े होने के बाद भी उसने चुचि नही छ्होरी. वो उसको दबाने लगा. मुझे मज़ा आ रहा था. प्रिया का मन भी हुआ पानी मे आने का.. उसने जल्दी से अपने कपड़े उतारे और पानी मे आ गयी.

मे- प्रिया, आजा, देख कितना ठंडा पानी है
प्रिया- हां शायरा. वाकई.
मे- मालूम? अगर मेने पाइप न्ही पकड़ा होता तो डूब जाती.
प्रिया- देखु तो कोन सा पाइप.

प्रिया ने पानी क भीतर हाथ डाला और उसने भी लंड पकड़ लिया.

प्रिया- शायरा ये पाइप न्ही है.
मे- तो क्या हे, इतना हार्ड तो पाइप होता है.
प्रिया- प्यारे जी, आप बताओ ये क्या है?
प्यारे- ये मेरा लंड है. शायरा ने इसको पकड़ के खुद को बचाया.
प्रिया- देखु तो ,, और ये कहकर प्यारे का लंड पकड़ लिया.

मैं हौड़े की दीवार की तरफ मूह करके खड़ी हो गयी, मेरी पीठ प्यारे की तरफ थी. मेने घूम कर देखा प्यारे प्रिया को चूम रहा था, प्रिया उसके लंड को पानी मे मसल रही थी. फिर प्यारे ने मेरे पीछे से आकर मेरी बाँहो के नीचे से हाथ डाला और मेरे बूब्स पकड़ लिए. और दाबने लगा. उसका लंड मेरी गंद से टकरा रहा था.

प्रिया ने मेरी चूत मे उंगली घुसा दी और हिलने लगी. मुझे मस्ती आ गयी. मेने अपने पैरो को फैला दिया.. प्रिया दूसरे हाथ से प्यारे का लंड तैयार कर रही थी जैसे वो घोड़े का करती थी.. अब मुझे समझ मे आया कि वो मेरी चुदाई देखना चाहती थी. जब उसका लंड तैयार हो गया तो वो मेरे सामने आ गयी और मुझे किस करने लगी.

प्यारे का लंड छु कर मुझे इतना तो एहसास हो गया था कि इस तरह के लंड से मैं पहले भी चुद चुकी हू, इसलिए मन मे कोई ख़ौफ़ न्ही था. मेने भी प्रिया की चुचि दबानी शुरू कर दी. इधर प्यारे ने अपना लंड मेरी चूत मे घुसाने की कोसिस की. मेने प्रिया से कहा अगर चुदाई देखनी है तो पानी से बाहर आना पड़ेगा, पानी मे कुछ न्ही दिखेगा.

प्रिया राज़ी हो गयी और बाहर आ गयी, मुझे और प्यारे को बाहर आने बोला. हम तीनो बाहर आ गये. अब मेने प्यारे के लंड देखा. वो तना हुआ था और चूत मे घुसने को तैयार था. मेरी चूत भी तैयार थी. मेने खुद को कुतिया की पोज़िशन मे किया. प्यारे मेरे पीछे अपने घुटनो पर बैठ गया,

अब उसका लंड एकदम सीधा था. प्रिया ने मेरी चूत फेलाइ और प्यारे ने अपना लंड उसमे घुसा दिया.. थोड़ा आह के बाद लंड पूरा चला गया और चुदाई शुरू हो गयी.. प्रिया को देख के मज़ा आ रहा था.

मे- प..री..या.. आ आ …. तू…झे..भी… चु…दवा…ना … है ?
प्रिया- हां, पर तुम पहले चुद लो, तुम्हारे बाद मेरा नंबर.
मे- आग…आर…उसका… लंड… दुबा…रा…टाइट…न्ही…हुआ…तो? आ… आहह
प्रिया- हो जाएगा. मास्टर जी से एक बार मे 3/4 बार चुद्ति हू, हर बार उनका लंड चूस के टाइट करती हू, इसका भी कर दूँगी.
मे- ठ… ईक…है ,, हां .प्या.. रे.. ज़ोर ….से ज़ोर… से

प्यारे पहलवान तो था ही. मेरी कमर पकड़ के इतनी ज़ोर ज़ोर से धक्का लगा रहा था कि मेरा पूरा सरीर हिल रहा था. फिर अचानक उसने अपना लंड बाहर निकाला और मेरी गंद मे घुसा दिया. और जबरदस्त तरीके से पेलने लगा.. लंड के नीचे की बॉल हर थाप के साथ मेरी चूत को टक्कर मार रही थी… करीब 15 मिनिट के बाद उसने अपना जूस मेरी गंद मे निकाल दिया. और मुझे अलग कर दिया.

अब प्रिया का नंबर था.. उसने प्यारे के लंड को चूसना शुरू किया. वो फिर टाइट हो गया. उसने प्यारे को ज़मीन पर लिटाया और कहा कि वो प्यारे को चोदेगि. प्यारे का लंड सीधा उपर की तरफ टाइट खड़ा हुआ था. वो प्यारे के उपर आई, अपनी दोनो टाँग प्यारे के दोनो साइड मे की, थोड़ी सी चूत फैलाई और लंड पर रख दी.

अब वो उसपर बैठने लगी.. लंड उसकी चूत मे जाने लगा. वो उसपर बैठती चली गयी.. धीरे धीरे उसने पूरा लंड अपनी चूत मे समा लिया. अब वो लंड पर गोल गोल घूमने लगी और अपनी गंद हिलाने लगी. प्यारे चुद रहा था और प्रिया चोद रही थी.. मेने अपनी चूत प्यारे क मूह पर रख दी. वो चाटने और चूसने लगा.. 15/20 मिनिट तक प्रिया की चुदाई के बाद उसका रस निकल गया..

आज हम दोनो बहुत खुस थी.. हमारी चुदाई हुई थी, सरीर हल्का हो गया. प्यारे और हमने अपने कपड़े पहने.. कल भी यही प्रोग्राम के लिए हमने प्यारे को कह दिया.. हम दोनो सहेलिया हवेली की तरफ खुशी खुशी चल दिए.. आज पहले दिन ही हमारा काम हो गया था.. 9 दिन और बचे थे.. हमने प्लान बनाया कि प्यारे तो है ही, अगर कोई एक और मिल जाए तो ट्राइ करेंगे.

हवेली पहुचे. आंटी बोली कहाँ थी तुम दोनो . हमने कहा कि हम गार्डेन मे थी,, गाओं की फ्रेश एर खा रही थी,, सहर मे ये सब कहाँ? आंटी बोली ओके बेटी, जब तक यहाँ हो, तुम दोनो खूब एंजाय करो.. फिर ये मौका नही मिलेगा.. हम दोनो सहेलियो ने एक दूसरे को देखा और मुस्करा दी… हां हम खूब एंजाय करेंगे..
दोस्तो कहानी कैसी लगी ज़रूर बताना आपका दोस्त राज शर्मा
समाप्त….



error: Content is protected !!