उसके बाद तुझे सब पता है

‘कमाल लाते हो रहा है.’ चाची ने कमरे के अंदर आते हुए कहा जब कमाल उनकी बहें को बेड पर झुका कर छोड़ रहा था. और उनकी मम्मी भी पीच्चे पीच्चे आ गयी.

‘यह तकता नहीं क्या?’ माजी ने मुस्कुराते हुए कहा.

‘थके इससे चूड़ने वालियान, यह तो थकाने वालों में से है.’ चाची ने जवाब दिया.

‘अब बस भी कर, क्या आज ही प्रेग्नेंट करेगा मेरी बहें को.’ चाची ने फिर से ताना मारा.

‘आ, करने दो ना दीदी, ना जाने दुबारा कब आप कमाल को अपने साथ लेकर आओगे. उफ़फ्फ़ मुम्मय्यययी…’

‘फिर बोली इसके लंड की दीवानी.’ चाची ने कहा और उनकी मम्मी और वो दोनो हासणे लगी.

‘बस चाची हो गया.’ कमाल ने उनकी बहें की छूट में झटके मार कर लंड का पानी छ्चोड़ते हुए कहा.

‘चल हमे रिक्शा भी करनी है, बस छ्होट जाएगी.’ चाची ने कहा और अपनी मम्मी से गले मिल कर बाहर जाने लगी.

‘ध्यान रखना अपना बेटी.’ माजी ने चाची से कहा.

‘चलता हू माजी.’ अपनी पेंट की ज़िप बंद करते हुए कमाल ने कहा.

‘दुबारा जल्दी आना बेटा, तुम्हारा इंतज़ार रहेगा.’ कहकर उन्होने कमाल को एक लीप किस दी और हाथ मे 10,000/- रख दिए.

‘यह किस लिए माजी.’

‘मेरा प्यार समझ कर रख ले बेटा. ज़्यादा नहीं है.’ कह कर उन्होने पेंट के उपर से मेरा लंड सहला दिया.

‘थॅंक योउ बेटा, मेरी बेटिइ को मा बनाने के लिए. तूने उसे बांझ होने के बंधन से मुक्त कर दिया.’ कहते हुई माजी एमोशनल हो गाइइ.

‘क्या आंटी, आप भी ना. वो मेरी चाची भी तो है.’ कहते हुई कमाल ने उन्हे गले लगा लिया.

‘मेरी गूदबयए किस.’ पीछे से छ्होटी ने कहा. वो अभी भी बिना सलवार और पनटी के सिर्फ़ कुर्ता पहने खड़ी थी.

‘यह देखो बेशर्मी की दुकान.’ माजी ने कहा.

थोड़ी ही देर मे दोनों को रिक्शा मिल गयी और वो बस स्टॅंड पहुँच गये. उनकी बस लग चुकी थी. कमाल ने सीट्स कन्फर्म की और सामान बस मे रखवा दिया.

फिर उसने चाची को सपोर्ट दिया और वो स्लीपर बर्त पर चढ़ गयी. कमाल फिर बाहर से कुच्छ कोल्ड ड्रिंक्स और स्नॅक्स लेकर आया और बर्त पर चढ़ कर काँच बंद कर लिया. बस निकल पड़ी. अभी 8 बजे है और वो कल सुबह 8 से 9 बजे तक अपने शहेर पहुँच ने वाले थे.

‘कैसा रहा तेरा ट्रिप?’ चाची ने बात शुरू करते हुई कहा.

‘मस्त, बहुत मज़ा आया. थॅंकआइयू सो मच मुझे अपने साथ लाने के लिए.’ कह कर कमाल ने चाची के बूब्स स्क्वीज़ कर दिए और एक हल्की सी किस भी डी.

‘सच कहूँ तो तेरे मिलने से पहले तक तो आएसा लग रहा था की, क्या होगा मेरा? तेरे चाचा तो बस काम काम और काम.’

‘कोई ना चाची, अब तो मैं हू.’ कमाल ने कहा.

‘ह्म, वेसए मेरे घर आना तुझे अक्चा तो लगता है ना.’

‘अक्चा नही, बहुत अक्चा लगता है. आपकी मम्मी और बहें दोनो सुपर्ब हैं.’

‘हन, तेरे आने से उन्हे भी खुशी मिलती है.’

बात करते हुई हम दोनो ने अपने अपने कपड़े उरत दिए और चदडार लेकर सो गये.

‘चाची आज की सुबह हमेशा याद रहेगी. सच मे बहुत मज़ा आया.’

‘ह्म, मज़ा क्यू नही आएगा, तीनो मा बेटी एक साथ छोड़ने को जो मिल गयी.’

कहते हुई चाची ने लीप किस देना शुरू कर किया की तभी चाची का मोबाइल बजा. चाची ने मोबाइल लेने के लिए हाथ उठा कर अपने पर्स मे डाला. कमाल हल्का नीचे होते हुई उनके बूब्स मो मूह मे भर कर चूसने लगा.

‘तेरे चाचा का कॉल है.’

पर कमाल ने कोई ध्यान नहीं दिया और अपने काम मे लगा रहा.

‘हेलो’

‘हन, कमाल सो गया है.’

‘हन, वो कल रात हम साबने बातें करने मे निकल दी, और दिन में भी शॉपिंग करने चली गयी थी. वो साथ ही था तो उसे आराम करने का टाइम ही नही मिला, इसलिए बस मे आते ही सो गया.’

‘हा हा कहो. वो तो सो रहा है.’

‘अक्चा जी, जनाब का लंड सलामी दे रहा है.’

कहते हुई चाची ने एक हाथ नीचे किया और कमाल का लंड पकड़ा और उसे मुट्ठी मे भर कर सहलाने लगी.

‘हब मैं पास मे होती हू तो आपको काम के साइवा कुछ नहीं दिखता. चार दिन के लिए अपनी मम्मी के पास क्या गयी, सामने से फोन कर रहे हो.’

‘हा बाबा, कल आ रही हू, तब जी भर के छोड़ लेना.’

‘ओक, गुड नाइट.’ और चाची ने फोन रख दिया.

‘उनका जी भर के भी 5-7 मिनिट से ज़्यादा नहीं होता.’ चाची ने कमाल के सिर पर हाथ फेरते हुई कहा. कमाल ने उपर देखा और उनकी आँखें टकरा गयी.

‘ई लोवे योउ कमाल.’ इतना कहा और कमाल का माता चूम लिया.

कमाल बूब्स चूस्ता रहा और चाची उसके सिर पर हाथ घुमाती रही. कुछ मिनिट मे दुबारा फोन की घंटी बाजी.

‘अब किस को याद आ गयी.’ चाची ने फोन हाथ मे उठाते हुई कहा. फिर कॉल रिसीव करके कान पर लगा लिया.

‘हन मम्मी.’

‘हन, बस निकल गयी.’

‘मेरा दूध पी रहा है.’

‘हन, पहुच कर कॉल कर दूँगी.’

‘ह्म.’

‘चाची, आज की रात ही है हुमारे पास.’ कमाल ने सिर उठाते हुई कहा.

‘हन मेरे राजा पता है मुझे, पर तू ज़ोर से नहीं करेगा. जितना ज़ोर लगाना था, तूने मम्मी और छ्होटी पर लगा लिया.’

‘कोशिश करूँगा.’

‘नही अगर कोशिश ही करेगा तो रहने दे, मैं तेरे बाकछे को खोना नही चाहती. एक तो तेरा मूसल इतना बड़ा है, ना बाबा कहीं कुछ हो गया तो?’

‘ठीक है, धीरे ही करूँगा पक्का प्रॉमिस.’

‘एक काम कर तू आयेज से कर ही मत पीछे से कर ले.’

जैसे तैसे चाची मानी और कमाल ने रात भर मे करीब 5 बार उनकी चुदा करी. घर जाकर इतनी आज़ादी कहाँ मिलने वाली थी.

‘आ गये तुम दोनों.’ कमाल की मम्मी ने दरवाज़ा खोलते हुई कहा.

‘जी भाभी, आ गये.’ चाची ने अपनी जेठानी के पैर छ्होटे हुई कहा. कमाल रिक्शा से सामान उतार रहा था.

‘आजा अंदर. मैं चाय बनाती हूँ, तू फ्रेश हो जेया.’ दोनो अंदर चली गयी और कमाल भी सामान लेकर अंदर आया और गाते बंद करके सीधे अपने रूम मे चला गया.

करीब 15 मिनिट बाद जब वो बाहर आया तो उसकी चाची और मम्मी डिन्निंग टेबल पर चाय पी रही थी.

‘आजा बेटा, चाय ठनदीी हो रहिी है.’ कहते हुई मम्मी ने कमाल को चाय की तरफ इशारा किया.

‘मम्मी तो कह रहिी थी कमाल को और कुच्छ दिन यही रहनी दे, पर मैं ही नहीं मानी और कहा की मेरा मॅन नहीं लगता मेरे बेटी की बिना, इसके बिना मैं भी नहीं जवँगी.’ कहते हुई चाची कमाल की तरफ देखने लगिइ.

‘सच ही है, जानम मैने दिया है इसे, पर मुझसे ज़्यादा तो यह तुझसे प्यार करता है. मैं देवकी और तू यशोदा.’ इतना कहा और दोनो खुशी से मुस्कुराने लगिइ.

अचानक कमाल का फोन बजा. देखा तो चाची मी मम्मी का था. कमाल ने कॉल रिसीव किया…

‘हेलो’ कमाल

‘हन कमाल बेटा.’ माजी

‘जी माजी’ कमाल

‘बड़ी का फोन नहीं लग रहा है.’ माजी

‘जी, वो उनके फोन की बॅटरी डाउन हो गाइइ थी, इसलिए वो रास्ते में ही बंद हो गया था.’ कमाल

‘ओक, तुम दोनों अकचे से पहुँच तो गयी ना.’ माजी

‘जी, एक दम अच्छे से. कोई तकलीफ़ नहीं हुई.’ कमाल

‘तुझे कैसी तकलीफ़, तकलीफ़ तो तूने मेरी बेटी को डी होगी.’ माजी

‘लीजिए बात कीजिए.’ कमाल

‘जी मम्मी.’ चाची

‘पहुच गाइइ आराम से.’ माजी

‘हन मम्मी.’ चाची कहते हुई चाची ने कुच्छ देर बात की और फिर फोन वापिस कमाल को दे दिया.

‘सुन तू जाकर आराम कर ले, देवर जी भी आते ही होंगे. . का . है ना . के साथ.’ कहते हुई मम्मी . में चली गयी.

‘क्या बोलती हो चाची?’ कमाल ने अपना . टेबल से बाहर आकर पाजामा नीचे करके चाची को . हुई कहा.

चाची झुकी और कमाल के लंड पर एक किस करते हुई कहा… ‘बाद मे’ और अपने रूम मे चली गयी.

‘आअहह म्माआ धीरे कमाल. तेरे चाचा चाची को गये काफ़ी वक़्त हो गया है. उूउउफफफफ्फ़ वो कभी भी आ सकते है. अभी छ्चोड़ दे, रात को कर लियो. मैं कहा भागी जेया रही हू बेटा आआहह.’ मम्मी किचन प्लॅटफॉर्म के सहारे घोड़ी बनी हुई थी और कमाल पूरे दिल-ओ-जान से उनकी छूट छोड़ रहा था.

‘बस मम्मी थोड़ी देर और, हो गया मेरा.’ कहते हुई कमाल ने मम्मी की कमर को कस के पकड़ा और लंड पूरा बाहर निकल कर छोड़ने लगा.

‘आअहह, मा… धीरे कमाल… उफ़फ्फ़…’

‘क्या करू मम्मी, कितने दीनो बाद तुम्हारी छूट मार रहा हू, कसर तो निकालूँगा ही.’

‘आहह इतना ही था, तो क्यूँ गया था मुझे छ्चोड़ के.?’

‘आपको तो पता है ना, चाछीी प्रेग्नेंट है, और चाचा काम काज में. किसी ना किसी को तो जाना ही था.’

‘मुझे तो तेरे पापा पर शक़ है… आअहह’

‘किस बात का शक है?’

‘ह्म्‍म्म्म… यही की तेरी चाछीी को उन्होंने ही प्रेग्नेंट किया है. धीरे कमाल… आआहह’

‘बस हो गया मम्मी.’ कहते हुई कमाल ने अपना पानीी अपनी मम्मी की छूट में हिी छ्चोड़ दिया.

मम्मी सीधी खड़ी हुई और अपनी सारी और पेटिकोट नीचे करके सही करने लगी.

‘मम्मी आपको पापा पर आएसा शक़ क्यूँ है?’ कमाल ने अपना पाजामा उठाते हुई कहा.

‘मैं क्या अब इस घर में आई हू. मुझे आए 24 साल हो गये है. शुरुआती वक़्त में तेरे पापा बाहर रहते थे, तब मेरा चक्कर तेरे चाचा के साथ चल गया. उसने मेरी जी भर के चुदाई करी, जिससे मुझे चुदाई की आदत पद गाइइ.

मुझे शक़ यूँ हुआ की, तेरे चाचा हमेशा अपना पानीी मेरे अंदर ही छ्चोड़ते थे. पर मैं कभी प्रेग्नेंट नही हुई. मैं भी दर गयी थी, की कही मुझ मे हिी तो कमी नहीं. फिर तेरे पापा शहेर मे शिफ्ट हो गये. उनके आने के बाद मैं दूसरे ही महीने प्रेग्नेंट हो गयी.’

‘अक्चा जी, तो यह कहानी है आपकी.’ कमाल ने च्छेदते हुई अपनी मम्मी को छूटी काट ली.

‘मत कर ना आएसए. इसीलिए मुझे शक़ हुआ.’

‘आपको लगता है पापा और चाची भी चुदाई करते हैं?’

‘लगता है, मैने देखा है तेरी चाची को तेरे पापा के आयेज घोड़ी बने हुई.’

मम्मी किी बात सुन कर कमाल के काम खड़े हो गये. उसका गुस्सा सांत्वे आसमान तक पहुच गया. वो फॉरन अपने कमरे मे चला गया, बिन कुछ कहे बिन सुने.

शाम का खाना मम्मी बना रही, जिस वजह से चाची अपने कमरे मे ही आराम कर रही थी. कमाल अपने कमरे से निकला और पूरे घर का मुआयना करते हुई सीधा चाची के कमरे मे गया.

चाची बोली – ‘कमाल, आ बैठ मेरे पास.’

कमाल पलंग पर जाकर बैठ गया. उसका मूड उसके चहरे से सॉफ झलक रहा था. चाची एक नज़र देखते ही भाँप गयी. वो तुरंत कमाल के बराबर आकर बैठी और उसका हाथ अपने हाथ मे थमते हुई कहा…

‘क्या हुआ कमाल? सब ठीक है ना.’ कमाल ने चाची की आँखों मे देखा.

‘क्या हुआ? बताएगा मुझे?’

‘यह बच्चा किसका है? मेरा या पापा का?’

चाची ने एक लंबी साँस ली. और कहा…

‘ऐसा मूह बना कर आया, डरा दिया था मुझे.’ फिर तोड़ा रुक कर कहा.

‘मुझे नहीं पता तुझे कैसे पता चला पर अब मेरी भी सुन ले. हा यह सच है की मैने भैसाहब के साथ चुदाई करी. और करती भी क्या? इस बार शादी को 7 साल हो जाएँगे. जब तेरे चाचा से कुच्छ नहीं हुआ तो मैने अपने मेडिकल टेस्ट्स करवाए.

फिर मैने भाभी से बात की. तब उन्होने बयाया की भैसाहब ने तो उन्हे 2 ही महीनों मे प्रेग्नेंट कर दिया था. मैं भी मजबूर होकर, चूपते छुपाते उनके साथ सो गयी. बाड़मे पता चला की उनकी उमर हो जाने के कारण वो अब बच्चे पैदा नही कर पा रहे. मुझे फिर कोई जवान चाहिए था, जो मेरी गोद हरी कर दे. उसके बाद तुझे सब पता है.’

कहते हुई चाची की आँख नाम हो गयी. कमाल ने आयेज बढ़ कर उन्हे गले लगा लिया.

‘ई लोवे योउ चाची…’

‘ई लोवे योउ टू मेरी जान…’

यह कहानी भी पड़े  होटल में अजनबी लेडिज की चूत और गांड मारी

error: Content is protected !!