अंकल और मम्मी की चुदाई

मम्मी – ( हँसती हुई) क्या कर रहे हो.

अंकल- अब और कंट्रोल नही होता मुझसे उर्मिला जी.

मम्मी – नही क्या कर रहे हो छ्चोड़ो मुझे.

अंकल मम्मी को घुमा कर मम्मी का फेस अपनी तरफ कर लिए और मम्मी की आँखो मे आँख दल कर मम्मी का हाथ पकड़ते हुए.

अंकल – प्लीज़ उर्मिला मान जाओ तुमको मेरी कसम.

मम्मी – आप पागल हो गये हो ये सब ठीक नही है…

अंकल – उर्मिला प्लीज़ अब और मत तड़पाव यार प्लीज़..

मम्मी -नही रफ़ीक जी आप समझने की कोसिस कीजिए अगर रोहन के पापा को पता चल गया तो सबकुछ बर्बाद हो जाएगा.

अंकल -ऐसा कुछ नही होगा उर्मिला. प्लीज़ मान भी जाओ, देखो तुमको सद्दाम की कसम. फिर अंकल मम्मी को अपने गॅल लगा लिए.

मम्मी – रफ़ीक जी अगर किसी को पता चल गया तो परेशानी खड़ी हो जाएगी.

रफ़ीक मम्मी को अपनी बाहों मे कसने लगे. मम्मी की सारी का पल्लू भी नीचे गिर गया था. मम्मी की सेक्सी बॅक दिखने लगी.

अंकल- कुछ नही होगा उर्मिला मुझपर भरोसा रखो… फिर मम्मी उनकी बाहों मे सिमट गयी.

अंकल मम्मी की आँखो मे आँखे डाल कर.

अंकल – ई लोवे योउ उर्मिला… और मम्मी के होंठो पर अपने होंठ रख मम्मी को किस करने लगे. और मम्मी की नंगी पीठ पर हाथ घूमने लगे. अंकल के किस करने से मम्मी सिहर उठी थी.

अंकल- लोवे योउ सो मच उर्मिला उंह तुम्हे नही पता मई कितना तड़प रहा हूँ तुम्हे पाने के लिए.

मम्मी – उउउँह मुझे बहुत दर लग रहा है कुछ परेशानी ना हो जाए.

अंकल – उंह नही कुछ नही होगा. फिर अंकल मम्मी को अपनी गोद मे उठा लिए. मम्मी हँसती हुईई.

मम्मी – गिरा दोगे मुझी..

अंकल मम्मी को बिस्तर पर लेता दिए. मम्मी अंकल को सेक्सी नज़ारो से देखने लगी. और अंकल भी मम्मी को सेक्सी नज़ारो से देख और फिर मम्मी के उपर लेट कर मम्मी को चूमने लगे.

दोनो के फेस पर स्माइल थी, अंकल मम्मी के राशीले होंठो को चूस रहा था.

अंकल – उउउम्म्मह ज़ोया की अम्मी के जाने के बाद आज मेरे दिल की प्यास भुजेगी उूउउँह. अंकल बहुत खुश हो गया था और मम्मी भी मचलने लगी थी. आज अंकल को देख ऐसा लग रहा था जैसे की अंकल मम्मी को जमकर पेलने वाला है.

फिर अंकल ने मम्मी की सारी खोलकर निकल दी. मम्मी का गड्राया भरा हुआ जिस्म ब्लाउस और पेटीकोत मे गजब लग रहा था. अंकल अपना कुर्ता और पयज़ामा निकल दिया.

अब रफ़ीक अंकल सिर्फ़ अंडरवेर मे थे और मम्मी के उपर लेट कर मम्मी को अपनी बाहों मे भरने लगा. मम्मी के फेस को चूमने लगा. जिससे मम्मी का फेस अंकल के थूक से गिल्ला हो गया. मम्मी अंकल की नंगी पीठ पर हाथ घूमने लगी. अंकल मम्मी को चूमते हुए मम्मी की बड़ी बड़ी चूंचियो को अपने हाथो से दबाने लगा. मम्मी के मूह से आहह निकालने लगी.

अंकल – आहह उउम्म्म्मम उर्मिला कितना भरा हुआ गड्राया जिस्म है तुम्हारा उंह गोपाल भाई बहुत लकी है जिसको तुम जैसी वाइफ मिली उउउँह.

मम्मी अंकल की बतो पर स्माइल कर रही थी और अंकल को अपनी बाहों मे लेकर अंकल की पीठ पर हाथ घूमने लगी. रफ़ीक मम्मी की गर्दन को चूमते हुए नीचे की तरफ आया और मम्मी के बड़े बड़े बूब्स जो बालौज मे केड है उनपर मूह घूमने लगा. मम्मी मीठी मीठी सिसकारिया ले रही थी.

रफ़ीक मम्मी को बूब्स को ब्लाउस के उपर से ही मूह मे दल लिया. और अपने मूह से चूसने लगा. जिससे मम्मी का ब्लाउस गीला हो गया. और मम्मी की चिकनी मोटी कमर पर हाथ घूमता हुआ नीचे की तरफ गया और मम्मी की फुल्ली हुई गांद को ज़ोर से दबाने लगा.

अंकल- उंह कितनी मस्त गांद है तुम्हारी.

मम्मी – हॅट बेसराम कहिके…

अंकल – आ हमेरी जान उंह. मस्त लगती हो जब तुम ये गांद मटका मटका कर चलती हुओ…..

मम्मी – हाँ और आप बेशरमो की तरह घूरते थे.

फिर दोनो हासणे लगे. मम्मी और अंकल का ये सेक्स रोमॅन्स देखकर तो मेरा लंड भी खड़ा होने लगा. लेकिन क्या करू सामने कोई दूसरी औरत नही मेरी मम्मी ही है. जिसे अंकल पागलो की तरह नोच रहा था. और मम्मी भी ऐसे खुश दिख रही थी जैसे की रफ़ीक अंकल उनके बचपन का यार हो.

अंकल मम्मी के ब्लाउस के बटन खोल दिए. मम्मी की बड़ी बड़ी गोरी गोरी चूंचिया ब्लॅक ब्रा मे से बाहर आने के लिए तड़प रही थी. रफ़ीक मम्मी के बूब्स को दबाने लगा. मम्मी के मूह से आहह निकालने लगी. रफ़ीक का लंड अंडरवेर मे फंफना रहा था. अंकल के लंड को मम्मी महसूस कर ली थी.

क्यूँ की अंकल का लंड मम्मी की छूट पर चुभ रहा था. अंकल को फुल नशा हो चुका था. रफ़ीक अंकल उपर से नंगा मम्मी के उपर लेट कर नशे मे मम्मी के पूरे जिस्म पर हाथ फेर रहा था.. और मम्मी भी मदहोश होकर अंकल के साथ मज़ा कर रही थी.

अंकल मम्मी के पेटीकोत को उनकी टॅंगो से उपर कर दिए. उहफफफफफफ्फ़ मम्मी की चिकनी चिकनी जंघे देख कर मेरा लंड कड़क हो गया. मम्मी के पैरो मे पायल थी जिसमे मम्मी की चिकनी टाँगे बहुत हॉट लग रही थी. अंकल मम्मी के बूब्स को उनके ब्रा से बाहर कर दिया.

आअहह मम्मी की गोरी गोरी कड़क मलाई जैसी चूंचिया देखकर मई अपने आप को रोक नही पाया और अपना हाथ अपने लंड पर ले गया. मम्मी के बूब्स बहुत कड़क है और ब्राउन कलर के निपल उउउँह सो यम्मी, अंकल मम्मी के बूब्स को दबाते हुए.

अंकल – ऊओह उर्मिला आहह कितने बड़े बूब्स है तुम्हारे उउँह देखो कितना ढूढ़ भर गया है इनमे आहह.

अंकल तो बूब्स को माँगो की तरह अपने मूह मे डालकर चूसने लगा था. मम्मी अपनी आँखे बंद की हुई आहह ष्ह कर रही थी. रफ़ीक मदारचोड़ कुत्ते को बहुत मजेदार औरत मिली थी चूड़ने के लिए. रफ़ीक बरी बरी बूब्स को मूह मे डालकर चूस रहा था.

मम्मी भी पूरी पागल हो गयी थी. अंकल बूब्स के निपल को जीभ से छत रहा था. मम्मी भी अंकल के जिस्म पर हाथ फेर रही थी. अपना हाथ नीचे करके बार बार अंकल के लंड को टच करने की कोशिश कर रही थी. फिर मम्मी अंकल के लंड को ज़ोर से पकड़ ली. और लंबी लंबी आहें भरने लगी.

रफ़ीक अंकल – उर्मिला देख लो मेरा लोड्‍ा कितना तड़प रहा है. उउउम्म्म्मह.

थोड़ी देर पकड़ने के बाद मम्मी अंकल के लंड को छ्चोड़ दी. अंकल बूब्स को चूस्ते हुए मम्मी की गांद पर पेंटी के उपर से हाथ घूमने लगा और मम्मी की फुल्ली हुई गांद को मसालने लगा.

अंकल मम्मी को चूमते हुए नीचे की तरफ आए और मम्मी के पेट नाभि को चूमने लगा और मम्मी की नेवेल के अंदर जीभ डालने लगा. मम्मी का पेटीकोत पूरा उपर हो चुका था. अंकल ब्लॅक पेंटी पर घूमते हुए मम्मी की छूट को पेंटी के उपर से मसालने लगा. मम्मी की हालत बहुत खराब हो चुकी.

रफ़ीक – उम्म्मह उर्मिला इसमे तो आग लग रखी है. उउउँह मम्मी हल्की आँखे मूंद किए हुए….

मम्मी – इश्स आग को अब आप ही को भुजानी है.

कहकर मम्मी हल्की स्माइल करी. अंकल कातिल नज़ारो से मम्मी को देखते हुए हंसा.

रफ़ीक अंकल – उउउँह मेरी जान तुम्हारी इश्स आग को भुजने के लिए तो मई काब्से तड़प रहा हुन्न्ं…..

अंकल मम्मी की पेंटी को नीचे करने लगा और मम्मी की पेंटी को उनकी टॅंगो से बाहर निकल दिया. उुउऊहफफफफफफफफफफफ्फ़ मई पहली बार अपनी की छूट देख रहा था. मम्मी की छूट पूरी गीली हो चुकी थी. उसमे से नमकीन पानी बाहर आ रहा था. ये देख मई अपने लंड की मूठ मरने लगा आआहह. रफ़ीक मम्मी की छूट के दाने को मसालते हुए उसमे 2 उंगली दल दिया.

मम्मी – आआआआआहह और अपने सिर के तकिये को ज़ोर से पकड़ ली.

रफ़ीक अंकल उंगली अंदर बाहर किए जेया रहा था. फिर रफ़ीक अंकल उठकर बेत गया और मम्मी के पेटिकोट के नडे को खोलने लगा. और उसे मम्मी की टॅंगो से बाहर कर दिया.

अब मम्मी पूरी नंगी हो चुकी थी अंकल के सामने. अंकल उठाकर बेत गया और मम्मी को भी हाथ पकड़ कर बेत दिया. मम्मी अपने बॅलो को ठीक करने लगी और अंकल बेड से नीचे उतार गये और पानी पीने लगे.

फिर बॉटल मम्मी को दे दिए पानी पीने के लिए. मम्मी भी तोड़ा पानी पी. तब तक अंकल अपनी अंडरवेर निकल दिए. बप्रे बप्प अंकल का बड़ा लंड स्नेक की तरह खड़ा सलामी दे रहा था.

मेरी तो गांद ही फाट गयी थी अंकल का लंड देखकर क्यूंकी अंकल लंड 10 इंच के करीब होगा. इतना बड़े लंड से मम्मी आज चूड़ने वाली है. ये सोच कर ही मेरी गांद फाटती जेया रही थी.

मुझे लगा अंकल का लंड भी सब की तरह नॉर्मल होगा. लेकिन ऐसा नही था अंकल का लंड घोड़े के लंड की तरह तन्ना हुआ था. जिसको देख मम्मी स्माइल करने लगी.

अंकल का लंड आज मेरी मा छोड़ देगा और मम्मी की च्चीखे निकल देगा. अंकल मम्मी को पलंग पर लेता दिया और मम्मी की गांद के नीचे दो तकिया लगा दिया जिससे मम्मी की छूट उपर हो गयी.

तो बे कंटिन्यूड…

यह कहानी भी पड़े  होली का नया रंग बहना के संग

error: Content is protected !!