टुटीओन की सेक्सी स्टूडेंट को पाटने और प्यार करने की स्टोरी

हेलो छूट आंड लंड. ई आम शुभम (बदला हुआ नाम), और ये मेरी पहली कहानी है. तो कुछ ग़लती हो जाए तो माफ़ कीजिए. पहले मैं अपने बारे में बता देता हू. आस योउ नो मी नामे इस शुभम. मैने इस एअर पहले ब.टेक किया है, और अभी ट्स में जॉब करता हू.

मेरी फॅमिली में टोटल 5 मेंबर्ज़ है, दादी, मों, दाद, टू सिस्टर्स आंड बड़ी दीदी की शादी हो चुकी है.

मेरी बॉडी आवरेज है मतलब ना ज़्यादा फट और ना ज़्यादा तीन. मेरा लंड 16सीयेम (7.5इंचस) लोंग और 7सीयेम मोटा (3इंचस) है. और जब पूरा टाइट होता है, तब आयेज का शेप एक-दूं टोमतो की तरह हो जाता है. ये कहानी मेरी और मेरी स्टूडेंट की है.

उसका नाम च्चवि (बदला हुआ नाम) है. उसकी आगे अभी 20 यियर्ज़ है, और उसका फिगर 34-30-35 है, जो किसी को भी पागल बना सकती है. उसका कलर गेहुआ है मतलब एक-दूं छोड़ने लायक माल. तो चलिए ज़्यादा टाइम वेस्ट नही करते हुए सीधे स्टोरी पे चलते है.

ये कहानी आज से 1 एअर पहले स्टार्ट हुई, जब वो 19 एअर की थी, और कॉलेज के फर्स्ट एअर में थी. उस टाइम उसका फिगर 30-28-30 था. चूचियाँ जो अभी तैयार ही हुई थी, और किसी को भी पागल बना सकती थी.

उस टाइम करोना का फर्स्ट वेव स्टार्ट ही हुआ था, इसलिए मैं भी वर्क फ्रॉम होमे कर रहा था. तो एक दिन उसकी मों मेरी मों से बात कर रही थी, की मैं उसे टीच करू. क्यूंकी मेरी इमेज चाइल्डहुड से ही एक इंटेलिजेंट स्टूडेंट की है. तो नेक्स्ट दे वो और उसकी एक दोस्त जिसका नाम मुस्की (इसे कैसे छोड़ा मैने ये नेक्स्ट कहानी लिखूंगा उसमे बतौँगा) मेरे यहा टुटीओन आने लगी.

फर्स्ट दे ही मैं उसको देख के ये भूल गया की वो मेरी बेहन थी, और ये सोचने लगा की उसे कैसे पटौ और छोड़ू. फिर कुछ दिन ऐसे ही गुज़र गये. अब हम दोनो में फोन पे भी बात होने लगी थी, और वो धीरे-धीरे मेरी तरफ अट्रॅक्ट भी होने लगी थी.

अब पढ़ने के टाइम उन दोनो की बॉडी को मैं टच भी किया करता था, और वो दोनो भी एंजाय किया करती थी. कभी-कभी वो जान-बूझ कर झुक कर अपने बूब्स दिखाया करती थी. क्वेस्चन बताने टाइम मैं भी कभी-कभी बूब्स को प्रेस कर दिया करता था, और ऐसे बिहेव करता था जैसे ग़लती से हो गया हो. वो भी इस्पे मुस्कुरा दिया करती थी. अब मैं उसको लेकर एक-दूं पागल हो चुका था, और किसी भी तरह से उसे छोड़ना चाहता था.

फिर मैने एक दिन उससे फोन पे बात करते हुए ई लोवे योउ बोल दिया. बुत वो माना कर दी, और बोली, की उसे ये सब पसंद नही था. तो मैने बोला की कोई बात नही धीरे-धीरे हो जाएगा. तब वो मुझपे गुस्सा हो गयी और बोलने लगी की वो पेरेंट्स को बोल देगी.

अब मुझे दर्र लगने लगा की कही वो ये बात मेरे या अपने पेरेंट्स को ना बता दे, तब तो मैं गया. इसलिए मैने उस टाइम उसे सॉरी बोला, और प्रॉमिस भी करवाया की वो ये बात किसी को ना बोले. और उसने भी प्रॉमिस कर दिया. तब जेया कर मेरी जान में जान आई. क्यूंकी की हम तीनो, मेरा, च्चवि और मुस्की का घर एक ही गली में आस-पास है.

फिर जब नेक्स्ट दे वो मेरे यहा पढ़ने के लिए आई, तब भी मैने उसे सॉरी बोला. फिर उस दिन स्टडी टाइम कुछ ज़्यादा नही हुआ बस वो दोनो स्टडी की, और चली गयी. उसी दिन नाइट में उसका उधर से ही मेसेज आया-

च्चवि: ही.

तो मैने हेलो बोला.

फिर वो डाइरेक्ट पूछी: वाइ दो योउ लोवे मे?

तो मैने रिप्लाइ दिया: लोवे करने का कोई कारण नही होता मेडम जी. और जो किसी कारण से हो, वो लोवे नही होता, वो तो बिज़्नेस होता है.

ये सब मैने अपने ब.टेक कॉलेज में सीखा था, और उसे यहा पे उसे किया. उसके बाद उधर से रिप्लाइ आया-

च्चवि: ई आम इंप्रेस्ड.

फिर मैने उससे पूछा की वो किसी और को लोवे करती थी क्या?

तो वो बोली: नही.

फिर मैने बोला: मतलब अभी काउंटर ओपन.

तो बोली: हा.

फिर मैने बोला: क्या ख़याल है मेरे बारे में?

मैने ये सोच कर पूछा की जब तरबूज़ खुद काटने के लिए आया था, तो चाकू को क्या प्राब्लम होनी थी.

तो उसने इसका रिप्लाइ नही दिया और बोली-

च्चवि: दो योउ हॅव अन्य गर्लफ्रेंड?

तो मैने बोला: नो, ई हॅव नो अन्य गफ़.

फिर वो बोली: क्यूँ नही है?

तो मैने बोला: बिकॉज़ तुम्हारे जैसा कोई आज तक मिला ही नही.

वो हासणे लगी और बोली: धात तेरी की!

फिर वो बोली: तो समझो आज से योउ अरे इन आ रिलेशन्षिप.

तो मैने जान बूझ कर पूछा: हाउ?

वो बोली: पागल, ई लोवे योउ टू. मैं तो आपको बहुत पहले से ही लीके करती हू. बुत आप तो मुझ पर ध्यान ही नही देते हो, और वो कल मैने इसी का बदला लिया था.

फिर हम दोनो ने उस दिन नाइट 3 बजे तक बात की. उसके बाद वैसे कॉल पर ही सो गये. फिर नेक्स्ट मॉर्निंग में ही उसका कॉल आया. उस टाइम मैं सो ही रहा था. मैने कॉल पिक किया तो वो गुड मॉर्निंग और हॅव आ गुड दे बोली. फिर मैने भी नींद में ही उसे रिप्लाइ दिया.

वो बोली: अभी तक सो ही रहे हो?

तो मैने रिप्लाइ दिया: ह्म.

वो बोली: मेरा बेबी मुझसे बात नही करेगा?

फिर हम दोनो में कुछ देर बात हुई. कॉल कट होने के बाद मैं फिरसे सो गया. फिर वो टुटीओन के टाइम 30 मिनिट्स पहले ही आ गयी. उस टाइम सब कोई अपने रूम में थे. देन वो डाइरेक्ट मेरे रूम में आई, और गाते लॉक कर दी, और मुझसे आ कर सीधे गले लग गयी. उस टाइम मैं उसके बूब्स अपनी चेस्ट पे महसूस कर रहा था.

फिर उसने मुझे लीप पे किस करना स्टार्ट कर दिया, और मैने भी उसका साथ देना स्टार्ट कर दिया. कभी मैं उसके लिप्स को चूस रहा था, तो कभी वो मेरे लिप्स को. फिर उसने अपनी टंग मेरे मौत में डाल दी, और मेरी टंग को लीक करने लगी.

आज के लिए बस इतना ही. अब नेक्स्ट पार्ट में पता चलेगा उसे मैं छोड़ पाया या नही. नेक्स्ट पार्ट जल्दी ही आएगा. आपको ये कहानी कैसी लगी कॉमेंट करके बताइए. मी एमाइल ईद इस

यह कहानी भी पड़े  मम्मी की ताबड़तोड़ चुदाई एक गैर मर्द से


error: Content is protected !!