ट्रूथ ओर डरे में बहन ने पिया भाई का माल

ही, इस कहानी के पिछले भाग में आपने बहुत प्यार दिया. उसके लिए आपका बहुत शुक्रिया. मैं तोड़ा लाते हो गया क्यूंकी मेरा एग्ज़ॅम भी था. अब बढ़ते है हम कहानी के अगले भाग में.

अभी तक आपने पढ़ा की कैसे राशि दी ने रात में मेरा लंड चूसा और मैने उनके बूब्स को. आरोही दी के जागने पे हम दर्र की वजह से रुक गये, और सो गये थे. अब आयेज बढ़ते है.

मैं जब सुबह उठा तो मैने देखा की मेरी मम्मी, पापा, और आरोही दी रेडी हो चुकी थी. सभी वेट कर रहे थे. मैं भी जल्दी से रेडी हो गया ताकि उन्हे स्टेशन छ्चोढ़ डू. मेरे मॅन में बहुत कुछ चल रहा था कल रात के बारे में, और आज मैं और राशि दी घर पे अकेले रहने वाले थे, तो मैं एग्ज़ाइटेड था.

मम्मी, पापा, और आरोही दी शाम को घर आने वाले थे. मतलब मेरे पास बहुत ज़्यादा टाइम तो नही था. मैं जल्दी-जल्दी रेडी हो गया. मैने टॅक्सी बुलाई, और सभी को बिता कर खुद भी बैठ गया. राशि दी घर पे ही थी. हम स्टेशन पहुँचे, मैने सब को ट्रेन चढ़ाई, और वापस आने लगा. आते टाइम पता नही मुझमे इतना कॉनफिदँसे कहा से आ गया. मैने एक शॉप में जेया कर कॉंडम खरीद लिया.

जब मैं घर पहुँचा तो राशि दी रेडी हो रही थी. उन्होने एक वाइट कलर की हाफ ट्रॅन्स्परेंट टॉप पहनी थी, जिसमे से उनकी ब्रा का कलर भी पता चल रहा था. नीचे उन्होने एक ब्लू जीन्स डाल रखी थी, जो बहुत टाइट थी. उसमे से उनकी गांद का साइज़ कोई भी पता कर सकता था.

फिर हमने नाश्ता किया. उस टाइम वो बिल्कुल नॉर्मल रिक्ट कर रही थी, जैसे कल रात कुछ हुआ ही ना हो. मुझे समझ नही आ रहा था स्टार्ट कहा से करू. तभी मेरे मॅन में एक खुराफाती आइडिया आया. मैने दी से बोला-

मे: दी बोर हो रहा हू मैं.

राशि दी: मैं भी बहुत बोर हो रही हू.

मे: मेरे पास एक आइडिया है.

राशि दी: कैसा आइडिया?

मे: चलो हम लोग एक ग़मे खेलते है.

राशि दी: कों सा ग़मे?

मे: ट्रूथ ओर डरे.

राशि दी: हा ओक.

अचानक उनकी आँखों में जैसे एक खुशी सी आ गयी. अब मुझे विश्वास हो गया की आग दोनो तरफ बराबर लगी थी. मैने मार्कर से ज़मीन पे सर्कल बनाया और उसे हाफ-हाफ करके बाँट दिया और एक बॉटल ले आया. मैने बॉटल घुमाई, और वो दी की तरफ रुकी.

मे: एस, बताओ ट्रूथ ओर डरे?

राशि दी: ओक ट्रूथ.

मे: बताओ आपका कोई ब्फ है.

राशि दी: ये कैसा सवाल है (नाटक करते हुए)?

मे: ग़मे है दी, बताओ, ऐसे नही मज़ा आएगा.

राशि दी: ओक, नही है. ई आम सिंगल.

इतना बोल कर दी ने बोतटेल घुमाई. बॉटल मेरी तरफ रुकी.

राशि दी: अब तू बोल.

मे: ट्रूथ, पूछो.

राशि दी: तेरी कोई गफ़ है?

मे: नही, अभी तो नही है.

मैने बॉटल घुमाई, वो दी की तरफ रुकी.

राशि दी: ट्रूथ.

मैने मौके का फ़ायदा उठाया, और उनसे अपने सवालों का जवाब पूच लिया.

मे: ओक, बताओ आपको कल रात जो भी हुआ वो याद है या नही?

ये सुनते ही दी बिल्कुल शॉक्ड हो गयी. पहले तो उन्होने कुछ नही बोला, बुत फिर सिर नीचे करके हा में सिर हिलाया. मैं खुश हो गया, और मेरे लंड ने अपनी हरकत शुरू कर दी. इस बार बॉटल मेरी तरफ थी

मे: ट्रूथ.

राशि दी: तू ये सब किसी को बताएगा तो नही ना?

मे: अर्रे नही, अभी तो बहुत कुछ करना है.

ये सुन कर वो हासणे लगी. बॉटल फिर से घूमा, और मेरी तरफ ही रुका.

मे: ओक डरे, बोलिए क्या करू?

राशि दी: जेया मेरे लिए पानी लेकर आ.

मैं पानी ले आया और पानी उनके टॉप पे गिरा दी. उनके टॉप के भीगते ही उनका टॉप ट्रॅन्स्परेंट हो गया, और उनकी ब्रा सॉफ-सॉफ दिखने लगी. हमने ग़मे आयेज बढ़ाया और बोतटेल घुमा दी. इस बार बॉटल उनकी की तरफ मुड़ा.

राशि दी: अर्रे यार, ओक डरे, बोल.

मे: सोच लो एक बार और.

राशि दी: बोल क्या करना है?

मे: आप अपनी ब्रा खोल कर निकाल दो.

ये बोल कर मैने अपनी आँखें बंद कर ली क्यूंकी मुझे दर्र था कही मैने ज़्यादा तो नही बोल दिया. थोड़ी देर बाद मैने आँखें खोली तो देखा राशि दी हस्स रही थी. उन्होने अपने हाथ टॉप में डाले और ब्रा खोल कर बाहर निकाल ली, और मेरे उपर फेंक दी.

अब मुझे उनके बूब्स सॉफ-सॉफ दिख रहे थे. उनके पिंक निपल्स मेरे लंड को उत्तेजित कर रहे थे. ये इस बात का इशारा था की अब हम एक-दूसरे से कुछ भी करने को रेडी थे. मैने भी प्यार से उनकी ब्रा पकड़ी और उस पर किस कर दिया. नेक्स्ट बॉटल मेरी तरफ मुड़ा. हमने अब ग़मे से ट्रूथ वाला पार्ट हटा दिया, ओन्ली डरे ही रहने दिया.

राशि दी: अब तू देख बेटा. चल अपनी पंत उतार.

मे: अछा जी, ओक.

मैने पंत उतार दी. मेरा लंड अब बिल्कुल टाइट हो चुका था, और वो मेरी अंडरवेर से बाहर निकालने को बेताब था. खेल आयेज बढ़ा और बॉटल फिरसे मेरी और थी.

राशि दी: 5 मिनिट तक स्टॅच्यू बन कर रह.

मे: इसमे क्या बड़ी बात है.

मैं वैसे ही रुक गया. बुत दी का प्लान कुछ और था. वो मेरे पास आई बहुत पास, और उन्होने अपने लिप्स मेरे लिप्स के करीब लाए. राशि दी मेरे लिप्स को हल्का सा टच करती और फिर पीछे हो जाती. मैं किसी फिश की तरह तड़पने सा लगा, बुत मैं हिल नही सकता था.

फिर उन्होने मेरे लंड को अंडरवेर से आज़ाद किया. बाहर निकलते ही वो किसी बॅमबू की तरह तंन कर खड़ा हो गया. राशि दी ने पहले उसे अपने हाथो से मसाज दिया. फिर उसको अपने मूह में ले लिया. अफ… अब मैं खुद पे कंट्रोल नही कर सकता था. मैं बहुत ज़्यादा तड़पने लगा. राशि दी मेरा लंड चूज़ ही जेया रही थी.

फिर वो मेरे लिप्स के करीब आई. मैने किसी तरह खुद पे कंट्रोल किया, और जैसे ही 5 मिनिट पुर हुए मैं उनपे टूट पड़ा. मैने किसी भूखे शेर की तरह उनके लिप्स को चूसना शुरू कर दिया. करीब 5 मिनिट हमने नों-स्टॉप किस्सिंग की.

हम बहुत कुछ करना चाहते थे. बुत ग़मे में मज़ा आ रहा था, इसलिए हमने ग़मे आयेज बढ़ाया. इस बार बॉटल राशि दी की तरफ रुका. मैं बहुत खुश हुआ, की अब मौका मिला था.

मे: अब मौका मिला है.

राशि दी: बोलो क्या करू?

मे: घुटने के बाल बैठो पहले.

राशि दी (बैठ कर): अब.

मैने अपना लंड जो बिल्कुल तन्ना हुआ था, उनके मूह पे मारा और बोला-

मे: अब इसे चूसो, जब तक मेरा माल नही निकलता.

राशि दी: ओक मेरे मलिक.

ये सुनते ही मेरा लंड और भी ज़्यादा टाइट हो गया. मैने उनके बाल पकड़े और पीछे घोड़ी की पूंछ की तरह कर दिए. राशि दी ने पहले मेरे लंड को आचे से देखा, फिर हाथ में लेकर हिलने लगी.

फिर उन्होने मेरा लंड अपने मूह में डाला और उसे किसी लॉलिपोप की तरह चूसने लगी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. उनके चूसने का स्टाइल इतना सेक्सी था क्या बतौ.

पहले उन्होने लंड को आचे से चूसा. फिर उसे मूह के बाहर किया और मेरे लंड की स्किन हटाई और टोपे पर जीभ फिरने लगी. फिर उन्होने अपने मूह से थूक निकाला, और लंड पे गिराया, और लंड की मालिश करने लगी. इतना करने के बाद उन्होने फिरसे मेरा लंड चूसना शुरू किया.

इतने अटॅक के बाद मेरा लंड झड़ने के लिए बिल्कुल रेडी हो गया. मैने उनके मूह में अपना पूरा लंड घुसा दिया, और दबा दिया. कुछ ही देर में मेरे लंड ने अपनी पूरी ताक़त से राशि दी के मूह में अपना माल निकाल दिया. राशि दी उसे आचे से पी गयी बिना एक भी बूँद गिराए.

आयेज की कहानी हम अगले भाग में पढ़ेंगे. आपके प्यार और सपोर्ट के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद. मैं अपनी स्टोरी आचे से आपके आयेज रखने की कोशिश करूँगा. मुझे मैल करना ना भूले ओं आर्यन्मे987@गमाल.कॉम. थॅंक योउ.

यह कहानी भी पड़े  अपनी बहन को कुंवारी माँ बनाया एक सच्ची कहानी


error: Content is protected !!