माँ ट्रेन में 5 लंड से चुदी – गेंगबेंग कहानी

मेरे 12 के एग्जाम ख़त्म हो गए थे. और मेरा एडमिशन डेड को केरला कराना था तो मुझे और मेरी मोम को केरला जाना पड़ा. डेड अपने काम में बीजी थे इसलिए वो साथ में नहीं आये थे और उन्होंने हम दोनों का कोंकण रेलवे में बुकिंग करवा दिया था. और पापा हमें स्टेशन के ऊपर छोड़ने के लिए आये थे.

कोंकण की ट्रेन में स्टॉप बहुत ही कम होते हे. पापा ने मुझे ट्रेन में चढ़ाया और वो चले गए फिर. ये ट्रेन का पहला ही स्टेशन था इसलिए ट्रेन खाली खाली ही थी. ट्रेन के अन्दर ही कुछ लड़के अगले स्टॉप  से चढ़े जो गोवा जा रहे थे. और साथ में अब ट्रेन एकदम भर चुकी थी क्यूंकि यहाँ से काफी लोग ट्रेन में चढ़े थे.

मैंने देखा की वो जवान लड़के बार बार मेरी माँ को गन्दी नजर से देख रहे थे. मेरे दिमाग में एक आइडिया आया की क्यूँ ना माँ को इन लडको से चुदवाया जाये! मैंने अपनी माँ के मोबाइल के ऊपर टेक्स्ट कर के उसे टॉयलेट वाली साइड पर बुला लिया. पहले मैं निकला और फिर मोम भी मेरे पीछे आ गई.

मैंने मोम के आने के बाद कहा मोम आप को चोदने का मन हो रहा हे. तो उसने कहा अभी कहा से करेंगे पागल, रात को करेंगे ना. मैंने कहा मोम चलो न टॉयलेट में चले जाते हे. वो मान गई. टॉयलेट में घुस के मैंने माँ के बूब्स को मसलना चालू कर दिया. वो अह्ह्ह अहह कर रही थी.

मम्मी ने अपनी टी शर्ट को ऊपर उठा लिया और ब्रा में से दोनों बूब्स को मेरे लिए बहार निकाला. मैंने माँ की जींस को खोल दी जिसे वो अपने घुटनों तक ले के आ गई. मैंने पेंटी निचे की. फिर माँ वही पर घोड़ी बन गई. मैंने पीछे से उसकी चूत में ऊँगली की तो वो पहले से ही गीली थी. मैंने माँ के कंधे को पकड़ा और उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और हम दोनों चोदने लगे. चलती हुई ट्रेन में मम्मी की गांड मस्ती से हिल रही थी और मैं मजे से उसे चोदने लगा था.

यह कहानी भी पड़े  कुछ मनोरंजन हो जाये

मेरा पानी निकल गया और मम्मी अपने कपडे सही करने लगी. मैंने उनसे कहा माँ आप को गेंगबेंग करवाना हे? तो वो बोली, चूप कर कुछ भी बोलता रहता हे तु. वो जाने लगी लेकिन मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसके होंठो के ऊपर मस्त किस कर ली. मोम भी मेरा साथ दे रही थी. मैंने किस छुड़ा के कहा, माँ मन जाओ ना पैसे कमा सकते हे.

वो बोली, कैसे?

मैंने कहा, वो जो लडको का ग्रुप आया हे ना उन्के सामने तुम रंडी जैसी एक्टिंग करो. फिर उनसे चुदवा के तुम पैसे ले लो. काम का काम हो जाएगा और कमाई भी.

माँ बोली लेकिन कैसे करूँ?

मैंने कहा आप बस ऐसे नखरे करो जैसे आप छिनाल हो और वो लड़के मुझे ठरकी ही लगते हे वो सामने से ही तुम्हे कहेंगे सेक्स के लिए. बस तुम एकदम सेक्सी बन जाओ कुछ देर के लिए.

मम्मी ने बोला ठीक हे.

मैंने कहा पहले तो आप एक काम करो इस जींस की जगह पर स्कर्ट पहन लो ताकि आप की जांघ उनको दिखे.

मोम ने कहा ठीक हे.

फिर वो पहले बहार निकल गई. मैंने पांच मिनिट अंदर रुका और फिर बहार आ गया. मम्मी ने बेग से अपना स्कर्ट लिया और वो जींस की जगह स्कर्ट पहन के वापस सिट पर आ गई. अब वो लड़के मेरी माँ की सेक्सी जांघो को देख रहे थे.

मम्मी के बूब्स उसके टी शर्ट में लटक से रहे थे. शायद पूरी रंडी बनने के लिए वो ब्रा भी उतार के आ गई थी. मम्मी की स्लीव के अन्दर से देखो तो उसके बूब्स दिख भी रहे थे. माँ अब जानबूझ के बार बार निचे झुक के अपने बूब्स उन लडको को दिखा रही थी.

यह कहानी भी पड़े  भिखारिन को खाना देने के बदले उसकी चूत का सौदा किया

मैंने मम्मी को बोला की मैंने सो जाता हूँ. और फिर मैं ऊपर की बर्थ पर चला गया और ऊपर अपने मुहं के ऊपर मैंने चादर रख ली लेकिन मैं निचे अपनी माँ के कारनामे को ही देख रहा था.

कुछ देर में एक लड़के ने मेरी माँ के साथ बातें चालु कर दी. वो दोनों हंस हंस के बातें करने लगे थे. और फिर बाकी के लोगों ने भी माँ के साथ बातें चालु कर दी.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!