तर्की आदमी और 2 औरतों की चुदाई स्टोरी

ही गाइस, मैं आज स्टोरी के नेक्स्ट पार्ट के साथ हाज़िर हुआ हू. लास्ट पार्ट में आपने पढ़ा था, की किस तरह से असलम साब ने राधिका को अपने घर में छोड़ा था. अब उससे आयेज.

5 मिनिट्स तक दोनो ऐसे ही लेते रहे. फिर असलम साब उठ कर नंगे ही बाहर टीवी लाउंज में चले गये. असलम साब सिगरेट पीने लगे, और साथ ही अंजलि दीदी को कॉल मिलाई.

दीदी: आपका काम हो गया? छोड़ लिया बेचारी को?

असलम साब: बेचारी नही है, बड़े मज़े ले-ले कर चूड़ी है.

दीदी: अछा अब छ्चोढ़ दो उसको.

असलम साब: मैं सोच रहा हू तुम दोनो को एक साथ चोदु.

दीदी: अभी आप थके नही?

असलम साब: तुम दोनो ने मिल कर तकना है. अब आ जाओ, और आते हुए राधिका का कोई सूट लेती आना?

दीदी: आप ने उसके कपड़े भी फाड़ दिए?

असलम साब: हा, तुमको पता है मुझको बड़ा मज़ा आता है कपड़े फाड़ने में.

दीदी: चलो मैं आती हू.

असलम साब: रात इधर ही रुकना, वैसे भी तुम्हारे बच्चे सुबा 9 बजे तक ही उठेंगे.

दीदी: अछा.

दीदी उठ कर अपने कमरे में गयी. फिर बच्चो को सोता देख कर मिरर में देख कर हल्का सा मेकप किया, और तेज़ लाल रंग की लिपीसटिक लगाई. फिर असलम साब के फ्लॅट की तरफ चल दी. दीदी ने उस टाइम एक जीन्स और रेड कलर की कमीज़ पहनी हुई थी.

वो जैसे ही असलम साब के फ्लॅट में गयी, तो अंदर का नज़ारा देख कर दीदी शर्मा गयी. असलम साब सोफे पर बिल्कुल नंगे बैठे हुए थे, और पास राधिका सिर्फ़ ब्रा और पनटी में बैठी हुई थी. वो दोनो मिल कर सिगरेट पी रहे थे.

दीदी को आता दाख कर राधिका शरमाई, और अपने कपड़े ढूँढने लगी. तो असलम साब ने राधिका का हाथ पकड़ कर अपनी गोद में बिता लिया, और बोले-

असलम साब: राधिका शरमाती क्यूँ है? अब अंजलि को भी नंगा करके छोड़ूँगा.

दीदी असलम साब की बात सुन कर हासणे लगी, और राधिका की नंगी कमर पर हाथ मार कर बोली-

दीदी: शरमाना छ्चोढ़ दे, और मज़े ले.

इतना बोल कर दीदी ने भी अपने कपड़े उतार दिए. ब दीदी भी सिर्फ़ रेड ब्रा और पनटी में थी. दीदी असलम साब की दूसरी तरफ बैठ गयी. असलम साब दोनो के बीच में बाइटे हुए थे, और अपने हाथ से अपना काला और मोटा लोड्‍ा हिला रहे थे.

दीदी थोड़ी से आयेज हुई, और असलम साब को किस करने लगी. उसको इतना बोल्ड देख कर राधिका की शरम भी उतार गयी थी. फिर राधिका ने अपना हाथ आयेज किया, और असलम साब का लोड्‍ा पकड़ कर सहलाने लगी. 2 मिनिट्स तक किस करने के बाद, असलम साब ने दीदी को बोला-

असलम साब: अंजलि वो सामने कॅबिनेट से मेरी दवाई ले आ.

दीदी उठी, और दवाई ले आई, और असलम साब को दवाई दे कर पूछा-

दीदी: ये किस चीज़ की दवाई है?

असलम साब: तुम दोनो शरीफ-ज़ादीयों को रात भर छोड़ने के लिए.

साब की बात सुन कर दीदी और राधिका दोनो ही शर्मा गयी. असलम साब ने दवाई खाई और राधिका को किस करने लगे. अब राधिका के लाल होंठ असलम साब के काले होंठो में थे, और दोनो एक-दूसरे को किस कर रहे थे.

दीदी भी पुर मूड में आ गयी थी. उन्होने अपनी ब्रा और पनटी उतार दी, और अपने बूब्स को असलम साब के लोड पर रगड़ने लगी. दीदी को गरम होता देख कर असलम साब ने राधिका के होंठ छ्चोढे, और राधिका की ब्रा भी उतार दी. अब दोनो नंगी हो गयी थी, और दोनो के टाइट बूब्स आज़ाद थे. असलम साब ने दीदी को बोला-

असलम साब: अंजलि इस राधिका को लोड्‍ा चूसना तो सीखा दे.

दीदी ने हेस्ट हुए असलम साब की तरफ दखा, और अपने हाथ में उनका लोड्‍ा पकड़ा, और अपनी ज़ुबान लोड के पास ले कर गयी. फिर पुर लोड पर अपनी ज़ुबान फेरी. फिर आहिस्ता से लोड का टोपा अपने मूह में लिया, और चूसने लगी.

दीदी असलम साब का लोड्‍ा चूस रही थी, और असलम साब अपने दोनो हाथो से राधिका और दीदी दोनो के बूब्स मसल रहे थे.

2 मिनिट्स तक लोड्‍ा चूसने के बाद दीदी ने राधिका की तरफ इशारा किया तो राधिका असलम साब का लोड्‍ा चूसने लगी. राधिका लोड्‍ा चूस रही थी, तो असलम साब ने दीदी को इशारा किया. फिर दीदी आयेज हुई, और असलम साब के लोड के नेआचे से उनके टटटे चूसने लगी.

असलम साब को बड़ा मज़ा आ रहा था, की दोनो मिल कर उनका लोड्‍ा चूस रही थी. साब बोले-

असलम साब: काश कोई दखता की किस तरह से दोनो शरीफ-ज़ादियान आज मेरे लोड को चूस रही है.

दीदी: क्या करे, तुमने हुमको शरीफ छ्चोढा ही नही.

असलम: हाहाहा, जो मज़ा शरीफ-ज़ादीयों को छोड़ने का है, वो किसी में नही.

फिर असलम साब ने अपने आँखें बंद कर ली. 3 मिनिट्स के बाद राधिका असलम साब के टटटे चूसने लगी और दीदी उनका लोड्‍ा. 10 मिनिट्स तक लोड्‍ा चूसने के बाद दीदी अपने बूब्स असलम के लोड पर मसालने लगी. असलम साब ने राधिका का हाथ पकड़ कर उठाया, और अपने लोड पर बिताया.

दीदी ने असलम साब का लोड्‍ा राधिका की छूट पर सेट किया तो राधिका उछाल-उछाल कर अपनी छूट छुड़वाने लगी. राधिका असलम साब के लोड पर उछाल-उछाल कर छूट मरवा रही थी, और दीदी आयेज हो कर असलम साब को किस कर रही थी.

3 मिनिट्स तक किस करने के बाद दीदी दोबारा से सोफे के नीचे आ गयी, और असलम साब के टटटे चूसने लगी.

15 मिनिट्स तक राधिका को छोड़ने के बाद असलम साब ने राधिका को अपनी गोद से उतरा, और दीदी को अपने लोड पर बिता लिया. अब दीदी अपनी गांद हिला-हिला कर चुड रही तो.

दीदी अपना मूह आयेज ले गयी, और असलम साब को किस करने लगी. दूसरी तरफ राधिका असलम साब के टटटे चूस रही थी. 5 मिनिट्स तक टटटे चूसने के बाद राधिका उठी, और आयेज हो कर दीदी के होंठो पर अपने होंठ रख कर किस करने लगी.

दीदी राधिका को ये सब करता देख कर हैरान हुई और दोनो एक-दूसरे को किस करने लगी. 5 मिनिट्स के बाद असलम साब ने दीदी को गोद से उतरा, और दोनो को अपना लोड्‍ा चूसने को बोला.

अब दीदी और राधिका दोनो अपनी-अपनी ज़ुबान असलम साब के लोड पर फेर रही थी, और दीदी अपने हाथ से भी उनका लोड्‍ा मसल रही थी. अचानक असलम साब के लोड से तेज़ पानी निकला जो दोनो को मूह पर गिरा.

अब दीदी और राधिका दोनो का मूह असलम साब के पानी से भर गया था. असलम साब ने दोनो को एक-दूसरे के मूह से पानी चाट कर सॉफ करने को कहा.

दोनो को पानी चाटने में घिन आ रही थी. पर दीदी आयेज हुई, और अपनी ब्रा से अपना मूह सॉफ किया. दीदी को देख कर राधिका ने भी अपनी पनटी से अपना मूह सॉफ कर लिया.

राधिका ने अपना मूह सॉफ किया, और फिर अपनी ज़ुबान से असलम साब का लोड्‍ा सॉफ करने लगी.

राधिका को ऐसा करते देख कर दीदी भी आयेज हुई, और दोनो ने मिल कर असलम साब का लोड्‍ा अपनी अपनी ज़ुबान से चाट कर सॉफ कर दिया. असलम साब ज़मीन पर लेट गये थे, और उन्होने दोनो को अपनी दोनो साइड्स में लिटा लिया था.

5 मिनिट्स तक किस करने के बाद दीदी उठी और वॉशरूम में चली गयी, और नहा कर नंगी ही बाहर आ गयी. फिर राधिका उठ कर वॉशरूम चली गयी. असलम साब ने अपना मोबाइल पकड़ा, और ऑनलाइन पिज़्ज़ा का ओरडर दे कर वॉशरूम चले गये.

10 मिनिट्स के बाद टीवी लाउंज में दीदी और राधिका दोनो नंगी बैठी हुई थी, और असलम साब एक ककचे में बैठे हुए थे.

तो बे कंटिन्यूड…

आपको मारी स्टोरी कैसी लगी, मुझको एमाइल लाज़मी करना.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त के साथ मिल कर उसकी मा चोदी


error: Content is protected !!