सुबह की चुदाई भाई के साथ

सभी लंड वालो को मेरा सलाम और छूट वालीयो को गहरी जीभ डाल के गीला वाला किस, कैसे है सब? आपने मेरी कहानी का पिछल पार्ट पढ़ा होगा, अगर नही पढ़ा तो पढ़ लीजिए ताकि और मज़ा आए आपको इस कहानी मे.

चलिए आयेज चलते है अब…

सुबा-सुबा हमारे बीच फिरसे मॉर्निंग सेक्स हुआ, लेकिन वो मई आपको अगले पार्ट मे बतौँगी. फिर एक दिन हमने होश मे फोरप्ले किया और चुदाई भी की.

आपको ये कहानी कैसी लगी, मुझे मैल करके ज़रूर बताए.

सारे रीडर्स को मेरा नमस्ते. ये कहानी आपको कैसी लगी, मुझे ज़रूर बताए और मुझे फालतू मैल ना करे जिसमे आप मुझसे मिलने और सेक्स के लिए कहते है. आप मुझे खुशी-खुशी अपनी फॅमिली की और अपने डिक की पिक्स भेज सकते है. आज-कल मुझे लेज़्बियन्स बड़ी पसंद आ रही है.

फिर रात की चुदाई के बाद मेरी आँख सूभ खुली क्यूकी मुझे तोड़ा तोड़ा गुग्गूडी फील हो रहा था. मुझे लग रहा था मेरी छूट को कोई चूम रहा हो जैसे पहले मुझे लगा मई सपने मे हू. बुत थोड़ी देर मे जब जीभ मुझे छूट के अंदर जाती महसूस हुई.

तब याद आया की भैया फिर से चालू हो गया है. इसलिए मई साँझ गयी थी की मेरी चुदाई फिर से होने वाली है. लेकिन मई इस मॉर्निंग चुदाई को बहुत आचे से फील करना चाह रही थी.

इसलिए मैने अब भाई का साथ दिया और अपने पैर फैला दिए और अपना हाथ उसके सिर पे लगा कर उसको छूट मे ड़बने लगी और वो अपनी स्पीड बड़ाने लगा और मई अपना हाथ उसके नीचे ले जाने लगा.

अब वो साँझ गया था की मई क्या चाह रही हू. इसलिए वो 69 मे आ गया और मैने बिना सोचे समझे उसका लंड सीधा अपने मूह मे दल लिया और उसको आइस क्रीम की त्रह हूसना स्टार्ट कर दिया. क्यूकी मई महहॉष जा रही थी और उसने फिंगर को मेरी छूट मे चलाने लगा और साथ ही साथ झीब से छत रहा था, मेरी दोहरी चुदाई वो कर रहा था.

मई भी उसके हिप्स पकड़ के उसका पेनिस मूह मे सक कर रही थी. वो भी मूह मे झतके दे कर लंड मेरे डीप थ्रोट तक ले जा रहा था. वो मुझे खराब कर रहा था बुत उसका टॉप वाला पार्ट सक करने मे बहोट मजा आ रहा था. इसलिए मैने उसको लास्ट मोमेंट तक बहोट तिघली सक किया और उसने मेरे मूह मे ही स्पर्म दल दिया.

उसके 15 सेक के अंदर पे उसने फिंगर आंड टंग का कमाल दिखाया और मैने टाँगे फैला कर अपने छूट लिप्स उसके मूह मे भर दिए और पूरा पानी उसके मूह मे निचोड़ दिया और ऐसे सी लेती रही.

फिर भाई ने छूट से ही स्टार्ट किया और फिर से किस करना स्टार्ट किया. मई फिर से तोड़ा गरम होने लगी और अब मुझे चुदाई करनी थी. इसलिए मैने अपना हाथ से उसका पेनिस को सहलाना स्टार्ट कर दिया और दोनो एक जैसे लेट कर किस करने लगे.

किस करते करते डीप स्मूच होने लगे वो मेरे गले पे किस करने लगा और मई मदहोश होने लगी. उसने मेरी ब्रा मे हाथ डाल दिया और निपल को छेड़ने लगा. फिर गले से किस करते ब्रा स्ट्रीप और ब्रा कप तक वो अपनी टंग से खेल रहा था.

मई उसकी कमर को होल्ड कर र्खी थी और फिर मैने हाथ उसके हिप्स पे ले गयी और उसके हिप्स के बीच मे रब करने लगी. उसने झतके मे ब्रा का हुक खोल कर टाइट टंग से स्मूच किया और बूब प्रेस करने लगा. मई भी बहुत साथ दे रही थी उसका.

उसने अब किस करना ब्न्ड करके वो मेरे बूब्स पर टूथ प्डा. वो भूत तेज तेज से किस और सक करने लगा और अब मेरी छूट गीली होने लगी. मैने उसके पेनिस को आयेज पीछे करनी लगी तो उसको साँझ आ गया की मई क्या चाह रहा.

वो सीधा मेरे उपर आ गया ह्म दोनो पूरा न्यूड हो गये और उसने मेरी छूट पे अपना लुंदड़ रब करना स्टार्ट किया. मैने तुरंत उसके हिप्स और काम्र पकड़ के आयेज को खिच दिया और आधा लंड ले लिया.

मुझे डरड हुआ बुत मे सूभ के चुदाई के नशे मे बहुत मधीॉश हो गयी थी. इसलिए मैने डरड की परवाह किए 2न्ड झटका दिया और पूरा का पूरा लंड अंदर कर लिया और उठ कर उसको स्मूच करने लगी. भाई नीचे स्लो स्लो शॉर्ट मरने लगा.

अब मुझे मजा आने लगा. मई अपने पैर उठाने के साथ साथ पैर को फैलने लगी और वो जोश मे आके और जाहतके तेज देने लगा. आंड नाउ मई सेयिंग प्ल्स फक मे हार्ड प्ल्स हार्ड फक मे हार्डर एस कम ओं… प्ल्स फक मे लीके आ होर प्ल्स कम ओं प्ल्स प्ल्स…

वो उसने दोनो हाथ मेरे हिप्स के नीचे लेक मुझे उप्र को खिचने लगा. मई साँझ गयी ये क्या चाह रहा क्यूकी कभी कभी मैने पॉर्न मे डेका है. मैने भी तोड़ा पैर फैला के पीछे टरफ़ लाई और लंड को और डीट मे फील करने लगी.

ऊऊ एस्स ये क्या हुआ अब वो वू मुझे जंगली की त्रह छोड़ने लगा और रूम मे आवाज़ गुज़्ने लगी. मुझे ऐसे लग रहा था की छूट मे गदडदा कर रहा है वो. उसने ऐसे तेज तेज झटके से मुझे छोड़ रहा था की मुझे लग रहा था की मेरी छूट आज फॅट जाएगी. लेकिन सूभ का सेक्स भूत अछा होता है मई क्या ही बोलू.

मई भूत तेज तेज अपने को उप्र की टरफ़ उछालने लगी और इस त्यम सोचा ही नही की क्या होगा और क्या नही. हम दोनो ने स्पीड बधाई और तोड़ा आयेज पीछे करने लगे. दोनो को बहुत मजा आ रहा था.

अब भाई तोड़ा स्लो होने लगा तो मुझे लगा वो झड़ने वाला है बुत मुझे और चुदाई करनी थी. बुत वो बगल मे आके लेट गया और मेरी एक तंग उठा कर उसने लंड मेरी छूट मे डालने लगा और मेरे हिप्स पकड़ के मुझे रगड़ने लगा.

मेरी छूट मे ऐसे खुजली हो रही थी और वो मेरी खुजली अपने लंड से मिला रहा था. मुझे भूत आ रहा था अब मई भी उसकी कमर पकड़ के झटके देने लगी और बहोट तेज तेज से रूम मे चुदाई होने लगी.

फिर दोनो झाड़ गये और ऐसे ही नंगे सो गये.

जब आँख खुली तो अंदर से ख़ुसी थी क्यूकी बिना कॉंडम की चुदाई आज साँझ आई कैसे होती है. क्यूकी दोस्त कहती थी कॉंडम मे कम फील होता है और मुझे अब टेन्षन होने लगी.

अब मम्मी आने वाली है इसलिए नेक्स्ट पार्ट मे बटौगी कैसे मैने भाई को बोला टेन्षन हो रही और उसने मुझे समझाया. और समझते उसने मुझे फिर से गरम कर दिया और दिन के उजाले मे सेक्स हुआ, बटौगी जल्दी ही.

यह कहानी भी पड़े  कज़िन अमन को चोदा पलंग पे

error: Content is protected !!