पुराने स्टूडेंट ने विडो मैडम को चोदा

हेलो दोस्तों मेरा नाम अरुण है और मैं २३ साल का हु. मेरा लुंड ६ इंच का है और किसी भी औरत को बड़ी ख़ुशी से संतुस्ट कर सकता है.

पिछली कहानी में आपने पढ़ा की कैसे मेरी टीचर हमारी बिल्डिंग में रहने आयी. फिर हम क्लोज आ गए और मैंने मम की सेक्सी साइड भी देखि.

अब मैं उनका बर्थडे सेलिब्रेट कर रहा था और केक उनके मुँह पर लगाना चाहता था. लेकिन वो मन कर रही थी. अब आगे की कहानी-

में – देख लीजिये मम केक तो मैं लगूंगा. या तो प्यार से वर्ण वैसे भी.

मम – अरे नहीं अरुण प्लीज. नहीं मुझे नहीं पसंद.

में – अरे मम केक होता ही लगाने के लिए है. अब आपकी मर्ज़ी है. या तो फेस पे वर्ण मैं कही मर्ज़ी लगा दूंगा जो भी हाथ लगा.

मम – अरे अरुण मान जाओ न.

फिर मेरा और मम की केक लगाने पे थोड़े मज़े-मज़े में खेल स्टार्ट हो जाता है. मैं लगा रहा होता हु और मम बच रही होती है और मम आगे भाग रही थी.

मैं उनके पीछे होता हु केक लेके और एक-दम से मम को पेट से पकड़ता हु. अब सबसे पहले केक मम के पेट पे लग जाता है.

में – मम साड़ी में कहा तक भागोजी? जितना भागोजी उतनी ज़्यादा जगह लगेगी.

और फिर मैं केक लगाने लगता हु. मैं मम के मुँह गले पीठ सब जगह केक लगा देता हु.

में – आया मज़ा मम?

मम – बहुत शैतान है तू. तेरा बर्थडे आने दे पूरा बदला लूंगी तेरे से. अब हेल्प कर मेरी केक हटाने में बदमाश.

फिर मैं मम के बदन से मोटा-मोटा केक हटाता हु. मम का बदन यु छु कर मुझे बहुत मज़ा आ रहा होता है और सायद मम को भी. भाग दौड़ में मम की साड़ी थोड़ी नीचे हो जाती है और मम की सेक्सी नैवेल बाहर दिखने लगती है.

मुझे नैवेल बहुत सेक्सी हिस्सा लगता है औरत का और मम की सेक्सी नैवेल मुझे बहुत अछि लग रही थी. फिर मैंने एक हाथ मम की नैवेल पर रखा और दुसरे से केक हटाने लगा.

मम – अरे ये कैसे केक खा रहे हो?

में – अरे मम आपकी नैवेल में केक न भर जाये इसलिए ढकी है.

मम – ाचा काफी साफ़ हो गया. अब मैं नाहा लूंगी. थैंक यू सो मच आने के लिए. बहुत सालो बाद ऐसे कोई केक लाया मेरे लिए तो मुझे बहुत ाचा लगा.

फिर मम ने मुझे हुग दिया और एक फ़ोरेहेअद पर किश दिया. इससे मेरा थोड़ा लुंड खड़ा हो जाता है.

में – मेंशन नॉट मम. अपनी फवौरीते टीचर और पड़ोसन के लिए तो ये सब कुछ नहीं. ाचा बाकि आपका कल का क्या प्लान है मम?

मम – कुछ नहीं घर पर ही हु. तुम आ जाना मैं ाचा खाना बना दूँगी.

में – नहीं मैं शाम को नहीं आऊंगा.

मम – क्यों! कुछ काम है तुम्हे?

में – नहीं मैं सुबह ही आऊंगा और पूरा दिन हम सेलिब्रेट करेंगे.

मम( बहुत ख़ुशी से – – सच्ची?

में – जी मम बस रेडी रहिएगा आप सुबह.

मम – ओके.

नेक्स्ट सुबह मैं मम के घर पहुँचता हु और मम एक सिल्क साड़ी पहन के रेडी होती है.

में – मम रेडी हो जाओ?

मम – अरे रेडी ही तो हु.

में – आज स्पेशल डे है तो स्पेशल कपडे होने चाहिए न मम.

मम – तो क्या पह्नु? में – एक जीन्स और टॉप देते हुए – – प्लीज मम मन मत करना. आपको मेरी कसम.

मम – पर अरुण ये सब नहीं पहनती मैं.

में – तो आज पहन लो. जाओ जल्दी जाओ – और मम को रूम में भेज देता हु –

मम – बाहर आती है चेंज करके – कैसी लग रही हु?

में – बहुत ज़्यादा अछि सुन्दर और सेक्सी.

मम – धत बदमाश! वैसे मुझे ये क्यों पहनाया तूने?

में – बस आज स्पेशल डे है. तो स्पेशल चीज़े साड़ी.

फिर मैं मम को मूवी दिखने लेके जाता हु और एम्यूजमेंट पार्क घूम के आते है हम. मम का टॉप बिलकुल साइज का होता है. तो अब जब भी वो खुश होक नाचती या और किसी वजह से हाथ ऊपर करती तो उनकी नैवेल दिखने लगती मुझे. उनकी नैवेल देख कर मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

मम – मुझे बहुत मज़ा आ रहा है अरुण.

में – तो मम और मज़ा लो. आज आपका दिन है.

हम मस्त एम्यूजमेंट पार्क में वाटर राइड ले रहे होते है और भीग गए होते है. पर मम फुल मेरे से हैप्पी और मस्ती के मूड में होती है.

वो बहुत ज़्यादा हॉट लग रही होती है. उनको देख-देख कर मेरा लुंड टाइट ही रहा पूरा दिन.
अब हमने खाना वगैरा खाया.

में – मम आप ऐसे ही हैप्पी बहुत अछि लगती हो.

मम – शरमाते हुए – – थैंक यू फॉर सरप्राइज अरुण.

में – अरे मम अब नो थैंक यू बस एन्जॉय.

मम – एक बात बताऊ?

में – जी मम.

मम – मेरी तो लिंगेरी भी गीली हो गयी है इतनी वाटर राइड्स ले ले कर.

में – मम मेरा भी शामे हाल है.

फिर हम मस्त चिपक-चिपक के वाटर डांस करते है. मम इतनी हॉट लग रही होती है की आस-पास के लड़के भी उनको देख रहे होते है.

मम – अरे ये सब मुझे क्यों देख रहे है?

में – आप हो ही इतनी सुन्दर इनकी क्या गलती?

मम – धत बदमाश.

फिर हम दोनों खूब नाचते है और बहुत सारा ेंजो य करते है. फिर हम घर आ जाते है.
मैंने पहले से ही एक डेकोरेटर को बोल के मम का घर थोड़ा डेकोरेट करवा दिया था.

फिर हम घर जाते है और मैं मम की आँख बंद करके उनको अंदर ले जाता हु. वो मेरा सरप्राइज देख कर बहुत खुश हो जाती है और मुझे बहुत टाइट हुग करती है.

उनके बूब्स मेरी चेस्ट में घुस रहे होते है. मैं भी उनको उठा ही लेता हु हुग करते हुए और गोल घुमते है हम.

मम – ी ऍम सो हैप्पी अरुण.

में – अरे कण्ट्रोल अभी तो काफी चीज़े बची है.

मम – अभी क्या बचा है अरुण.

में – देखती जाओ मम.

फिर मैं एक बॉक्स मम को देता हु जिसमे एक सेक्सी ड्रेस होती है ब्लू कलर की और वो बॉक्स मैं मम को दे देता हु. उसके बाद मैं उनको अंदर भेज देता हु और थोड़ी देर में मम वो ड्रेस पहन कर बाहर आती है. फिर वो बोलती है-

मम – बहुत बदमाश है तू.

में – मम बहुत ज़्यादा सेक्सी लग रही हो आप.

– वो एक लेग स्लिट वाली ड्रेस थी और ऊपर से डीप नैक और थोड़ी बैकलेस –

मम – थैंक यू.

में – आओ अब केक कट करते है.

मम – ओके अरुण.

में – मम एक बात कहु?

मम – हां कहो.

में – आप बहुत ब्यूटीफुल है और आपको अपने ऊपर डाउट करने की एक बार भी ज़रुरत नहीं है. और इसका फ़ायदा ही फ़ायदा है. आप पास्ट में हुई एक चीज़ से अपनी आने वाली ज़िन्दगी को बर्बाद नहीं कर सकती मम.

मम – हां.

में – आप बस मस्त जिओ मम. जैसे आप स्कूल में थे मस्त खुश एनर्जेटिक एंड सेक्सी.

मम – हां अरुण यू are right.

में – आज वो लोग एम्यूजमेंट पार्क में आपकी ब्यूटी देख रहे थे की कैसे कोई इतनी सुन्दर हो सकती है.

मम (शरमाते हुए) – सही कहा.

में – मम आप बहुत अछि हो.

मम – थैंक यू अरुण.

अब मैं मम को हुग करता हु बहुत ज़ोर से और उनकी बैकलेस कमर पे हाथ फेरता हु. मम भी थोड़ा गरम होने लगती है और मेरा लुंड खड़ा होने लगता है.

अब मैं मम को गाल पे किश देता हु और वो पूरा फील लेके ले रही होती है. मैं उनकी गांड पे हाथ रखता हु और लिप किश स्टार्ट करता हु. और वो पूरा साथ दे रही होती है.

मैं मम को बहुत किश करने लगता हु और अलग-अलग जगह छूने लगता हु. मम की भी बरसो की आग भर आने लगती है और वो वाइल्ड होने लगती है.

फिर वो मेरे को किश देने लगती है और मुझे नंगा करने लगती है. वो मेरी पंत शर्ट उतार देती है और मैं अंडरवियर जिसमे लुंड पूरी तरह खड़ा होता है उसमे उनके सामने आ जाता हु.

फिर मैं मम की लेग्स को किश करने लगता हु और मम को तैसे करने लगता हु.

मम – अरुण यु न तड़पाओ अब इतने सालो की आग है.

में – आग है तभी तो उसको शोला बना रहा हु मम.

मम – आआह अरुण.

मैं मम के कपडे उतारने लगता हु. मम तो पागल सी हो गयी थी जैसे उनका जिस्म छुम से भरा हुआ हो और वो बाहर आना चाहता हो. मैं मम की ड्रेस निकाल देता हु और बिकिनी मैं ले आता हु. फिर मैं हर जगह किश देने लगता हु.

हम दोनों पागलो की तरह एक दुसरे से चिपके हुए थे और मज़े ले रहे थे. मेरा लुंड अब अंडरवियर फाड़ के बाहर आने को था. मम ने अंडरवियर उतार कर लुंड सीधा मुँह में ले लिया.

ाःह क्या फीलिंग थी. मम के मुँह में मेरा लुंड सपना सा लग रहा था. फिर मैं मम को मुँह में ही छोड़ने लगा और डीप थ्रोट देने लगा.

हम दोनों बहुत वाइल्ड हो रहे थे. फिर मेरे छुम की धार मम के मुँह में भर गयी और मम मेरा पूरा छुम पी गयी. आआ क्या फील थी वो. अब मैंने मम की बिकिनी फाड़ फेंकी और छूट पे टूट पड़ा और चाटने लगा ज़ोर-ज़ोर से.

मैं बहुत ज़ोर-ज़ोर से चाट रहा था. और जब तक छाता तब तक उनका छुम बाहर आ गया. फिर मैं उनका सारा छुम चाट गया.

अब हम फिरसे किश और टचिंग करने लगे और एक-दुसरे को खूब चढ़ने लगे. अब मैंने मम को लिटाया और उनके ऊपर आ गया और अपना लुंड मम की छूट में घुसा दिया.
वाह क्या छूट थी. इतने दिन से उसे न होने के कारण टाइट हो गयी थी. मम लुंड के घुसते ही चिल्ला पड़े-

मम: ाःह.

मैंने पूरा लुंड अंदर घुसा दिया और झटके मारने लगा. मैं झटके मारता गया और किश करता गया मम को और मम मुझे. अअअअअ अअअअअ ऊऊह्ह्ह अअअअअ ऊह्ह्ह की आवाज़े कमरे में गूँज रही थी.

फिर मैंने मैडम को ऊपर बिठा लिया और झटके मारने लगा और फिर हम दोनों साथ में झाड़ गए. मम की छूट में बहुत मज़ा आया उस दिन और उसके बाद से चुदाई जारी है.

स्टोरी पढ़ने के लिए थैंक यू.

आपको मेरी स्टोरी कैसी लगी प्लीज कमेंट सेक्शन में ज़रूर बताये. और अगर आप नैना मम या मुझसे बात करना चाहते है तो हमें मेल कर सकते है. मेरी मेल ईद है: [email protected]

यह कहानी भी पड़े  कॉमेंट से घोड़ी तक का सफ़र

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!