शूटिंग में मेरी बीवी की गांद फाड़ दी

हेलो मुत्ताल दोस्तों, अब इस कहानी को पढ़ कर और भी मूठ मारने को तैयार हो जाओ. क्यूंकी अब दानिश अपने फौलादी लंड से नेहा की गांद फाड़ देगा. तो शुरू करते है बिना किसी की गांद मारे.

कुछ देर बाद नेहा कपड़े पहन कर आती है, तो विजय डाइरेक्टर कहता है-

विजय: इस पार्ट में तुम्हारा सेक्स सीन दानिश सिर के साथ है. तो आज ही शूट कर लेते है. अगर तुम्हे प्राब्लम नही हो तो.

नेहा: ठीक है सिर.

विजय: तो सीन ऐसा है. नेक्स्ट दिन ये दोनो निकल जाते है, और शाम को तुम्हारा देवर कॉल करता है, की वो आज फ़ासस गया है कही, तो आ नही पाएगा. क्यूंकी तुम्हे अकेले दर्र लगता है, तो वो दानिश को भेज देगा, और फिर तुम दोनो छुदाई करोगे. तुम पूरी स्क्रिप्ट पढ़ लो.

फिर वो नेहा को कोई स्क्रिप्ट देता है, और कुछ देर बाद कहता है सीन स्टार्ट करते है. सीन स्टार्ट होता है. रात को वो सो जाते है, और सुबा नाश्ता करके दोनो निकल जाते है. जब तक नेहा वीडियोस देख कर टाइम पास करती है, और फिर शाम को निखिल की कॉल आती है.

निखिल: भाभी सुनो, मैं बाहर आया था. वाहा फ़ासस गया हू. आज आना मुश्किल है, तो आप सो जाना.

नेहा: पर मैं पुर घर में अकेली हू. मुझे दर्र लग रहा है.

निखिल: अछा दररो नही, मैं दानिश से कहता हू आज रात वो रुक जाएगा.

नेहा: वो ठीक तो है ना?

निखिल: मैने बताया था ना की तुम्हारे पति से ज़्यादा जिगरी वो है. तो टेन्षन ना लो, अभी आ जाएगा वो.

नेहा: ओके.

फिर कुछ आधे घंटे बाद बेल बजती है, और नेहा गाते खोलती है. बाहर दानिश होता है, और फिर वो गाते लॉक कर देते है.

नेहा: ये आज भी पॉलितेन में क्या लाए हो?

दानिश: अर्रे निखिल ने बताया तुम्हे दर्र लग रहा है. और हमारी आदत है एक-दो पेग मारने की शाम में, तो वही लाया हू.

नेहा: अर्रे मैं रोज़ नही पीटी हू.

दानिश: मैं कों सा रोज़-रोज़ आता हू, तो पी सकती हो ना.

नेहा: ठीक है.

दानिश: तो मुझे जब रुकना है, तो मैं कपड़े चेंज कर लेता हू. फिर बनता हू. जब तक तुम भी चेंज कर लो, या सारी में ही सोती हो?

नेहा: नही मैं भी करके आती हू. तुम भी निखिल के रूम में कर लो.

फिर वो दोनो कपड़े चेंज करने जाते है, और कुछ देर बाद दानिश सिर्फ़ एक शॉर्ट्स में आता है. उसने और कुछ नही पहना होता है. आंड जैसा लूस लग रहा था, उससे पता चल रहा था उसने अंदर अंडरवेर भी नही पहना था. फिर नेहा आती है एक स्कर्ट और लूस टॉप पहन कर.

दानिश: तुम्हे कोई प्राब्लम तो नही है मेरे ऐसे कपड़ो से?

नेहा: नही, आराम से रहो.

दानिश: तो जाओ चकना ले आओ.

फिर नेहा चकना लेकर आती है, और टेबल पर रखती है. तब दानिश देखता है की नेहा ने अंदर ब्रा नही पहनी थी, और उसकी नज़र मेरी बीवी के दूध पर होती है. फिर वो दो पेग बनता है, और एक नेहा को देता है

दानिश: कल तो तुम हमारे साथ बैठे थी, और आज वाहा.

नेहा: नही ऐसी कोई बात नही है. वो कल देवर जी थे हमारे ना.

फिर ऐसे ही बातों में पहला पेग ख़तम होता है, और नेहा को सुरूर होने लगता है, और दानिश दूसरा पेग बना कर दे देता है.

दानिश: आपके देवर जी से ट्रिपल है हम.

नेहा: अछा जी, आपको बहुत पता है. पहले कही बॅटिंग की है लगता है.

दानिश: हा, तभी तो पता है.

और फिर दो पेग हो जाते है दोनो के. अब नेहा सही सुरूर में थी, और तब तक दानिश एक भारी हुई सिगरेट जला लेता है, और कहता है-

दानिश: अब तो यहा आ जाओ, एक सिगरेट हो जाए.

और फिर नेहा उठ कर चली जाती है. फिर वो सुत्ता मार्टी है, जिससे और अछा नशा हो जाता है उसे. अब दानिश एक-एक पेग और बना रहा होता है.

नेहा: मुझसे नही पिया जाएगा अब, रहने दो.

दानिश: बस ख़तम ही हो गयी है. और टेन्षन नही लो, बस मैं और तुम है, तो रिलॅक्स हो कर पी लो.

नेहा: ठीक है ख़तम करो इसे.

फिर वो तीसरा पेग उठाते है, और अब दानिश एक-दूं करीब हो जाता है. नेहा और वो पेग पीने लगते है.

दानिश: तुम तो यार बहुत फिट हो. पर फिर भी मॉडर्न जैसी नही रहती हो.

नेहा: हा, और कैसे मॉडर्न रहना है?

दानिश: अर्रे इतना शरमाना और ये पीने में ना-ना.

नेहा: नही इतना कहा शरमाती हू? तुम्हारे साथ इतनी पी ली, और अकेली हू.

और इसके साथ उनके 3 पेग ख़तम होते है.

दानिश: ठीक है, तो एक कपल डॅन्स करते है. आज देखते है शरमाती हो या नही.

नेहा: ठीक है, कर लेते है.

फिर सॉंग बजा देता है दानिश हटे स्टोरी का “आज फिर तुम पे प्यार आया है”, और वो खड़े हो जाते है, और दानिश एक-दूं चिपक कर नेहा के साथ डॅन्स करने लगता है. फिर वो उसके क्लोज़ होता जाता है.

कुछ देर बाद दानिश टॉप में हाथ डाल कर कमर पर हाथ रख कर डॅन्स करने लगता है.

तभी नेहा कहती है: बस-बस, हो गया बहुत.

दानिश: देखा शर्मा गयी ना. और वैसे कहती हो की मॉडर्न हो.

नेहा: पर तुम्हारे साथ इतने क्लोज़ तो नही हो सकती.

दानिश: कल ही तुम्हे निखिल ने बताया की मैं और वो मतलब एक ही है. आंड मैं उसके भाई से बढ़ कर हू. तो फिर जितना क्लोज़ निखिल हो सकता है, उतना मैं भी तो हो सकता हू.

नेहा: अछा बस-बस.

दानिश: ठीक है, तुम्हे नही पसंद तो चला जाता हू. मुझे नही रुकना यहा.

नेहा: अर्रे बुरा नही मानो. तुम निखिल जैसे ही हो.

दानिश: फिर मुझसे भी मत शरमाओ.

नेहा: ठीक है, नही शर्मा रही.

दानिश: पक्का ना? फिर बाद में दोबारा ने कहो बस-बस.

नेहा: एक-दूं पक्का.

दानिश: ठीक है, तो तुम्हे आशिक़ बनाया आपने का वीडियो सॉंग देखा है.

नेहा: हा देखा है, वो तो…

दानिश: तो हम वो सॉंग बजाते है, और सेम वैसे करते है आक्टिंग. फिर मानूँगा की नही शर्मा रही हो.

नेहा: पर उसमे तो इतना सब, और किस.

दानिश: देखा शरमाने लगी ना.

नेहा: अछा करते है.

फिर सॉंग बजा देता है दानिश, और उसके बाद एक-दूं सॉंग की तरह वो जाने की आक्टिंग करता है, और फिर नेहा उसे रोक लेती है. उसके बाद वो किस करने लगती है. अब यही तो दानिश चाहता था, और वो उसके होंठो को अपने होंठो में भर कर आचे से स्मूच करने लगता है.

वो पुर होंठो को निचोढ़ कर नेहा को गोद में उठा लेता है, और रूम में ले आता है. फिर उसका टॉप निकाल देता है

नेहा: मैने ब्रा नही पहनी है दानिश.

दानिश: निखिल और मैं अगर एक है तो क्या फराक पड़ता है?

फिर नेहा अब उपर से नंगी होती है, और दानिश उसे अब टेबल पे ले आता है सॉंग की तरह. फिर वो उसकी स्कर्ट उपर करने लगता है. उसके बाद स्कर्ट में हाथ डाल कर पनटी निकाल देता है. फिर वो नेहा को उठा कर बेड पर लिटा देता है, और फिर बूब्स चूसने लगता है, और एक हाथ स्कर्ट में डाल कर छूट पर रख देता है. उसने शायद उंगली अंदर डाल दी थी, जिससे नेहा एक-दूं हिल जाती है सुरूर में होने पर भी.

नेहा: अर्रे ये क्या है सिर?

विजय: तुम्हे बताया तो है की पिछले पार्ट से भी हॉट सेक्स सीन देना है, तो तुम अब ऐसे नही करो, आंड बाकी सब हम कट कर देंगे.

जब तक दानिश एक-दूं नंगा अपना अनकॉंडा जैसा 10 इंच का लंड लेकर नेहा के मूह पर आ जाता है.

दानिश: ब्लोवजोब दो.

नेहा: लास्ट टाइम वो ग़लती से हो गया था.

विजय: अब अगर फेक करेंगे तो ये फ्लॉप हो जाएगी, और तुम भी फ्लॉप हो जाओगी. तो कर लो आराम से.

फिर नेहा उसके लंड को देख कर कुछ शॉक्ड भी होती है, और दानिश के लंड को पकड़ कर मूह में लेती है. वो आधा ही ले पाती है, और ऐसे डुमदार लंड को चूसने में नेहा को भी मज़ा आ रहा था. वो कोशिश कर रही थी पूरा लेने की, पर ले नही पा रही थी, और ऐसे ही बहुत देर तक वो चूस्टी रही. उसे ये पता ही नही चला.

विजय: पहले तुम लंड चूसने से माना कर रही थी, और अब छ्चोढ़ नही रही हो. क्या पानी मूह में निकाल कर मानोगी?

फिर ये सुन कर नेहा को मदहोशी से होश आता है, और वो लंड छ्चोढती है. और यहा दानिश एक-दूं तैयार था, और वो नेहा की स्कर्ट खोल देता है. फिर वो उसे उठा कर घोड़ी बना देता है. उसके बाद बिना कुछ बोले लंड को उसकी गांद पर लगता है.

नेहा: सिर मैने ये कभी नही किया. बहुत दर्द होगा, प्लीज़ रहने दो.

विजय: अर्रे इस पार्ट में कुछ न्यू होना चाहिए, और नही किया है तो अछा है ना, कुछ न्यू सीखोगी.

इतने में दानिश ज़ोर से अंदर पुश करता है, और इससे नेहा की तेज़ चीख निकल रही थी. पर दानिश नही मान रहा था, और उसने आधा लंड अंदर डाल दिया था. फिर वो झटकों के साथ पूरा घुसा देता है, जिससे नेहा की गांद से हल्का सा खून भी आ जाता है, और नेहा की हालत एक-दूं खराब हो गयी थी.

फिर दानिश उसकी गांद को एक-दूं टाइट्ली छोड़ना शुरू करता है और नेहा की चीखें निकलती जाती है. कुछ देर बाद जब गांद में लंड की जगह सेट हो जाती है, और फिर नेहा प्रॉपर घोड़ी की तरह छुड़वाने लगती है. शायद यहा नेहा को दानिश का लंड पसंद आया था.

आयेज की स्टोरी नेक्स्ट पार्ट में.

यह कहानी भी पड़े  कॉलेज फ्रेंड से चुदाई की कहानी


error: Content is protected !!