शूटिंग में लड़की के नंगे होने की कहानी

दीदी अब तक जे और राहुल के साथ 2 रोमॅंटिक किस्सिंग सीन्स कर चुकी थी, और राहुल ने रात को Wहत्साप्प पर दीदी के साथ रियल सुहग्रात मानने की इक्चा ज़ाहिर की.

अब अगले दिन सुबा फिरसे राहुल मुझे और दीदी को लेने आ गया.

हम तैयार हो कर उसके साथ उसकी गाड़ी में चल पड़े, और शूटिंग लोकेशन पर पहुँच गये.

थोड़ी देर में दीदी को स्क्रिप्ट दी गयी, और दीदी को रूम में ले-जेया कर तैयार किया गया. कुछ देर बाद दीदी बाहर आई, तो वो देखने लायक माल थी.

दीदी ने एक टांक टॉप डीप नेक वाला, और उसके अंदर ब्रा भी नही थी. क्यूंकी दीदी के बूब्स और निपल सीधे बाहर दिख रहे थे, और क्लीवेज भी काफ़ी दिख रही थी. और नीचे एक छ्होटा सा शॉर्ट था, जो बस उनके कुल्हो यानी गांद को धक रहा था. और शायद शॉर्ट के नीचे भी पनटी नही थी उनके.

दीदी की ड्रेस देख के लग रहा था की आज उनकी इज़्ज़त लूटने वाली थी. फिर शूटिंग शुरू हुई, और स्टोरी के हिसाब से नेक्स्ट नाइट का सीन शूट होने वाला था. स्टोरी में दीदी और उसके हज़्बेंड यानी राहुल के बीच लास्ट नाइट कुछ नही हो पाया था. तो आज रात का इंटिमेट सीन शूट होने वाला था.

दीदी अपनी उसी ड्रेस में बेड पर करवट लेकर लेट गयी. तभी राहुल अंदर से आया, और वो सिर्फ़ अंडरवेर में था. दीदी हैरान होते हुए बोलने ही वाली थी, तभी डाइरेक्टर ने बोला की तुम दोनो सेक्स करते हुए लगने चाहिए, इसलिए.

फिर राहुल भी दीदी के पीछे चिपक कर लेट गया. उसका अंडरवेर में लंड खड़ा सॉफ दिख रहा था. शूट स्टार्ट हुआ. राहुल पीछे से दीदी की गर्दन पर किस करते हुए उसके पेट पर हाथ चलाने लगा. दीदी की आँखें बंद हो रही थी.

तभी राहुल ने किस करते-करते टॉप के उपर से दीदी के एक बूब को पकड़ लिया, और मसालने लगा. तभी दीदी आयेज होते हुए वाहा से हॅट गयी और बोलने लगी-

दीदी: ये स्टोरी के हिसाब से नही है.

डाइरेक्टर: लेकिन सेक्स को रियल बनाने के लिए करना होगा, और ये तो ओन्ली बूब्स को दबाने का ही सीन है. कॉन्सा हम तुम्हारे नंगे बूब्स शूट करने वाले है.

दीदी: लेकिन फिर भी बूब्स दबाना वल्गर लगेगा.

डाइरेक्टर: वो हम बड़े देखेंगे की सीन रखना है या नही. लेकिन अभी तुम शूट करो.

दीदी ना चाहते हुए वापस अपनी उसी पोज़िशन में लेट गयी, और राहुल दीदी के पीछे अपना लंड चिपका कर लेट गया. राहुल फिरसे दीदी को किस करते हुए पेट पर हाथ फिरा रहा था.

राहुल ने दीदी का टॉप उपर उठा दिया, और नंगा पेट कॅमरा के सामने दिख रहा था. फिर करीब एक मिनिट बाद उसने अपना हाथ दीदी के टॉप में घुसा दिया, और एक नंगा बूब पकड़ लिया, और मसालने लगा.

दीदी के चेहरे पर परेशानी सॉफ देखी जेया सकती थी. लेकिन वो ये सब सहन करते हुए सीन जल्दी ख़तम करना चाहती थी, और आँखें बंद किए लेती हुई थी. लगभग 3 मिनिट तक कभी उपर वाला कभी नीचे वाला बूब्स दबाने के बाद, दीदी की भी बीच बीच में सिसकारियाँ आनी शुरू हो गयी थी.

तभी राहुल ने दीदी का एक निपल पकड़ कर दबा दिया, तो दीदी चीख कर उछाल पड़ी. वो अलग हो गयी, और अपना टॉप ठीक करने लगी.

डाइरेक्टर ने कट बोलते हुए कहा: ये क्या किया? पूरा सीन शूट हो चुका था, जस्ट लास्ट कुछ सेकेंड का बाकी था. पूरा सीन खराब कर दिया तुमने.

दीदी: लेकिन बूब्स दबाने का सीन लंबा नही हो गया क्या? फिर मुझे कुछ अकड़न सी भी हो रही थी बॉडी में इसलिए.

मैं भी ये बात सुन के समझ गया की दीदी पूरी गरम हो गयी थी, और अकड़न का मतलब दीदी झड़ने के करीब आ गयी थी.

सीन फिर से शूट करने का बोल के डाइरेक्टर ने दीदी को वापस अपनी पोज़िशन में आने को कहा. दीदी ना चाहते हुए भी बुरा सा मूह बनाते हुए वैसे ही लेट गयी, और सीन स्टार्ट हुआ.

राहुल ने दीदी का गर्दन और कान चूम-चूम कर गीले कर दिए थे पुर. और वो पीछे से दीदी के गांद पर अपने खड़े लंड से धक्के भी मार रहा था हल्के-हल्के, जो सब देख रहे थे. फिर से राहुल दीदी का टॉप पेट तक उठा कर टॉप में हाथ डाल कर बूब्स दबाने लगा.

दीदी की आँखें बंद हो चुकी थी, और वो बस मज़ा ले रही थी. कभी राहुल के हाथ को पकड़ने की भी कोशिश करती, लेकिन डाइरेक्टर बीच में बोल जाता. राहुल ने दीदी के निपल भी आचे से निचोढ़े. फिर सीन कंप्लीट हुआ, और दीदी अपनी जगह टांगे मोड़ कर बैठ गयी.

दीदी का चेहरा पूरा लाल हो गया था, और उसके निपल्स टॉप में से बहुत नुकीले नज़र आ रहे थे. दीदी को हल्का पसीना भी आ रहा था.

फिर दीदी का मेकप किया गया, और ड्रेस थोड़ी ठीक की गयी. और नेक्स्ट सीन समझाया गया, की रियल सेक्स दिखाने के लिए दीदी और राहुल को उनके शॉर्ट और अंडरवेर थोड़े नीचे खिसकने का सीन है. क्यूंकी धक्के लगते हुए उनके हिप्स की नंगी हड्डी और कमर दिखनी चाहिए.

दीदी तोड़ा सहम गयी. लेकिन फिर जैसे-तैसे अपनी उसी पोज़िशन में साइड में करवट लेकर लेट गयी. राहुल पीछे दीदी की गांद से अपना लंड चिपका कर लेट गया. शूटिंग स्टार्ट हुई, दीदी के सामने से कॅमरा शूट करते हुए उनकी कमर एट्सेटरा को शूट कर रहा था.

राहुल ने पीछे लेते हुए अपना एक हाथ आयेज ले-जेया कर दीदी के शॉर्ट को तोड़ा नीचे खिसकना स्टार्ट किया, तो दीदी ने उसका हाथ पकड़ लिया. डाइरेक्टर ने कट बोला और फिर से दीदी को समझाया. सीन फिर से स्टार्ट हुआ.

राहुल ने दीदी के शॉर्ट को पकड़ कर तोड़ा नीचे खिसकाया, तो दीदी की छूट के उपर के थोड़े बाल नज़र आने लगे. हलाकी वो घने नही लेकिन हल्के-हल्के थे. ऐसा लग रहा था जैसे अभी 10 दिन के लगभग शेव किया हो.

जब दीदी को महसूस हुआ की उसके बाल नज़र आ रहे थे, तो उसने उठ कर अपना शॉर्ट उपर खींच लिया.

डाइरेक्टर ने समझाया: नीचे का पार्ट वेजाइना को नही दिखाएँगे कॅमरा पर, और तुम आराम से लेती रहो. जो करना है राहुल करेगा आराम से. तुम्हारा प्राइवेट पार्ट उसके हाथ से ढाका हुआ रहेगा, कॅमरा में नही आएगा.

मेरा तो ये देख के लास्ट 2 घंटे से बुरा हाल था. फिर सीन स्टार्ट हुआ, और राहुल ने दीदी का शॉर्ट नीचे खिसकाया, और उसकी छूट पर हाथ फिरने लगा. डाइरेक्टर ने तोड़ा और नीचे खिसकने को बोला, की हिप्स पुर नंगे दिखाई देने चाहिए, उतना खिसका दो.

राहुल ने तुरंत अपना अंडरवेर निकाल दिया. मैं शॉक्ड हो गया. और वो अपना खड़ा लंड दीदी की गांद में घुसा के वापस चिपक गया, और दीदी के शॉर्ट को और नीचे खिसकाया तो दीदी का शॉर्ट उसकी गांद से हॅट गया.

दीदी को तब राहुल का नंगा लंड अपनी गांद में महसूस हुआ तो उसने अपना हाथ पीछे किया. अब दीदी का हाथ राहुल के नंगे खड़े लंड पर जेया लगा. दीदी फिरसे उछाल कर आयेज हो गयी, और बोली-

दीदी: ये क्या राहुल, तुमने अपने कपड़े क्यूँ उतारे?

डाइरेक्टर बोला: तुम्हारा शॉर्ट नीचे खिसकाया गया है, ताकि तुम्हारे हिप्स नंगे लगे, और सेक्स रियल लगे. इसलिए ही राहुल को भी अपना अंडरवेर निकालना पड़ा.

और दीदी को फिरसे पोज़िशन लेने को कहा गया. इस बार राहुल दीदी की इजाज़त से उसके नंगी गांद में अपना खड़ा नंगा लंड घुसने लगा. और पीछे से धकक्के लगाने लगा. दीदी ने शायद अपनी गांद टाइट कर रखी थी. राहुल का हाथ दीदी के आयेज छूट पर चलने लगा.

धीरे-धीरे दीदी का शॉर्ट्स उसके घुटनो से भी नीचे चला गया और राहुल अपना हाथ दीदी की छूट पर रग़ाद रहा था. सब को वो सीन आचे से दिखाई दे था था. राहुल का लंड और दीदी की छूट और गांद भी.

दीदी की आँखें बंद थी, राहुल के लंड के धक्के गांद में पद रहे थे, और राहुल के हाथ छूट रग़ाद रहे थे.

दीदी का बुरा हाल हो चुका था. तभी राहुल ने अपना हाथ दीदी की छूट से हटा कर दीदी के बूब्स पकड़ लिए, और मसालने लगा. दीदी ने भी ध्यान नही दिया. या शायद वो गरम हो चुकी थी, की इस बार कोई रिक्षन नही दिया. अब राहुल पीछे से गांद में लंड से धक्के मारने के साथ बूब्स दबा रहा था, और दीदी सिसकारियाँ ले रही थी.

दीदी की छूट बिल्कुल नंगी सब के सामने खुली पड़ी थी. राहुल का हाथ फिरसे नीचे आया, और छूट पर रगड़ने लगा. लगभग 1 मिनिट बाद डाइरेक्टर ने कट बोला, और सीन एंड हुआ.

दीदी अपना शॉर्ट उपर खींचते हुए रूम में भागी, और राहुल ने भी अपना अंडरवेर पहना. डाइरेक्टर ने दीदी को प्रेज़ किया और राहुल को भी.

नेक्स्ट पार्ट सून. कीप अपडेटेड.

यह कहानी भी पड़े  कच्ची उम्र की कामुकता Part 3


error: Content is protected !!