शादी में गयी लड़की को रिश्ता आया

हेलो ड्के फ्रेंड्स, मैं अंजलि धुरी पुंजब से अपनी सुहग्रात की मस्त चुदाई कहानी लेकर आई हू. आप मस्त हो कर मेरी चुदाई की कहानी का मज़ा ले, और मेरी कहानी को लीके और कॉमेंट ज़रूर करना.

मेरी सुहग्रात को मेरे पति ने मेरे साथ-साथ मेरी छ्होटी बेहन कोमल और अपनी मौसी की बेटी प्रिया की छूट की सील तोड़ चुदाई करके हमारी सुहग्रात को यादगार बनाया. मेरे पति मुझसे पहले अपनी बेहन से शादी करके उसको मा बना चुके थे.

हेलो दोस्तों, पहले आप मेरे और मेरे परिवार के बारे में जानिए. मेरे परिवार में मेरे मम्मी, पापा, मेरी 2 छ्होटी बहने कोमल और नीतू, और मेरा छ्होटा भाई संजीव है.

मेरे ससुराल परिवार में मेरे पति टोनी, उनकी बेहन कम पत्नी, और मेरी सौत नेहा, और उनका एक 6 महीने का बच्चा है.

अब मैं अपनी कहानी पर आती हू. मेरी शादी जो लगभग 5 साल पहले हुई है, अब तक चल रही है. दोस्तों मेरे पापा के दोस्त प्रेम अंकल की बेटी प्रिया की सगाई में मैं और पापा गये थे.

तब मैं कॉलेज में 2न्ड एअर में पढ़ रही थी. मेरी छ्होटी बेहन कोमल 1स्ट्रीट एअर में और नीतू 12त में थी, और संजीव 8त में पढ़ रहा था. प्रिया की सगाई में उसकी मौसी की बेटी नेहा जो शादी-शुदा और एक बच्चे की मा थी, अपने भाई टोनी के साथ आई हुई थी.

नेहा का पति शादी के बाद विदेश चला गया था, और नेहा अपने भाई टोनी के साथ ही उसके घर में रह रही थी. टोनी एक बहुत बड़ा बिज़्नेसमॅन है, और उसके पास बहुत पैसा और जयदाद है.

टोनी एक भरे हुए गातीले शरीर का एक रूबीला जवान है, और उसे देख कर कोई भी लड़की अपनी छूट छुड़वाने को तैयार हो जाए. प्रिया की सगाई में टोनी की बेहन नेहा ने मुझे टोनी के लिए पसंद कर लिया.

अब आप मेरे बारे में जानिए. मेरे 32″ के गोल-गोल चुचे, मोटी काली आँखें, लंबे बाल, जो खुले में मेरे घुटनो तक और छोटी बाँध कर मेरी गांद तक आते है.

मेरे फूले हुए चूतड़ जिन्हे मटकता देख कर किसी का भी लंड खड़ा हो जाए, और दूध जैसा गोरा रंग है. सगाई के अगले दिन प्रिया के पापा प्रेम अंकल हमारे घर आए और पापा से कहने लग-

प्रेम अंकल: केवल (मेरे पापा का नाम), वो क्या है की मेरी साली के बेटे टोनी को जो पत्रण में रहता है, तेरी बेटी अंजलि प्रिया की सगाई में देख कर पसंद आ गयी है. और उसकी बेहन नेहा तो अंजलि और टोनी की शादी जल्द से जल्द करवा देना चाहती है.

पापा अंकल की बात सुन कर बोले: प्रेम ये तू क्या बोल रहा है? कहा मेरी आर्थिक पोज़िशन, और कहा तेरी साली का बेटा, जो बहुत बड़ा बिज़्नेसमॅन होने के साथ-साथ बहुत पैसे वाला है. मैं कहा उनके दाज-दहेज की डिमॅंड पूरी कर पौँगा.

अंकल बोले: नही यार, ऐसी कोई बात नही. तुझे तो पता है की टोनी के मम्मी-पापा बहुत पहले ही दोनो भाई बेहन को छ्चोढ़ कर चले गये थे. अब नेहा की भी शादी हो गयी है, और वो भी कुछ महीनो में अपने पति के पास विदेश चली जाएगी. पीछे से टोनी अकेला रह जाएगा.

अंकल: दाज-दहेज वाली कोई बात नही है, और अपनी अंजलि के लिए ऐसा रिश्ता फिर नही आएगा. तू जल्दी से हा बोल दे, और आज शाम को ही हम अंजलि और टोनी की सगाई कर देते है.

पापा कुछ देर सोच कर मम्मी की तरफ देखने लगे, और मम्मी ने तुरंत ही अपनी सहमति देते हुए कहा-

मम्मी: भाई साहेब, मुझे कोई ऐतराज़ नही है.

उसके बाद पापा भी मान गये और शाम को मेरी और टोनी की सगाई हो गयी. सगाई के 2 हफ्ते बाद हमारी शादी तय हो गयी. सगाई के अगले दिन मेरी होने वाली ननद नेहा हमारे घर आई और मुझे शादी की शॉपिंग करने के लिए अपने साथ लुधियाना ले गयी.

वाहा हमने खूब शॉपिंग की. मुझे जो भी चीज़ अची लगती, नेहा दीदी बिल्कुल वैसी ही चीज़ अपने लिए लेती. कपड़े, जूते, और ज्यूयलरी सब के सब एक ही तरह के दो. और यहा तक की शादी का जोड़ा और चूड़ा भी एक जैसा ही लिया. शॉपिंग करके हम दोनो एक रेस्टोरेंट में बैठ कर नाश्ता करने लगे.

नाश्ता करते हुए नेहा ने मुझसे कहा: अंजलि तुम मुझे अपनी ननद नही अपनी बड़ी बेहन मानना. और मैं भी तुझे भाभी नही अपनी छ्होटी बेहन मानूँगी. हम दोनो आपस में कोई भी बात एक-दूसरे से शेर किया करेंगे.

उसके बाद नेहा ने मुझसे पूछा: अंजलि सच बता, तेरा कोई बाय्फ्रेंड है? और क्या तूने कभी सेक्स किया है?

मैं शरमाते हुए बोली: दीदी ये आप कैसी बातें कर रही हो? मुझे तो शरम आ रही है.

नेहा बोली: अंजलि अभी मैने तुझे अपनी छ्होटी बेहन माना है, और क्या तू अपनी बड़ी दीदी को अपने दिल की बात नही बताएगी?

मैने कहा: दीदी ऐसी कोई बात नही है, जैसा आप सोच रही हो.

नेहा दीदी बोली: सच अंजलि, फिर तो ये सुहग्रात को बहुत खुश हो जाएँगे.

बोल कर उन्होने मेरी जाँघ सहला दी.

नेहा ने फिर कहा: अंजलि अगर तुझे पता चले की तेरे होने वाले पति की पहले से शादी हो चुकी है, और वो एक बच्चे का पापा है, और अपनी पत्नी को बहुत प्यार करता है. तब क्या तू उससे शादी करने से माना कर डोगी?

मैने कहा: दीदी ये ऐसे-कैसे हो सकता है. अगर ऐसी बात होती तो वो मुझसे सगाई ही क्यूँ करते?

नेहा हेस्ट हुए बोली: अंजलि मैं तो यू ही मज़ाक कर रही थी.

उसके बाद हम घर आ गये. नेहा दीदी ने मुझे हमारे बीच हुई बातें और एक ही साथ की शॉपिंग वाली बात घर में किसी से भी शेर करने से रोक दिया.

मेरी शादी से एक दिन पहले नेहा दीदी मुझे लेकर एक पार्लर में गयी. पार्लर में मेरे पुर जिस्म की पहले वॅक्सिंग हुई. फिर मेरे सारे जिस्म को फेशियल करके जब मैने अपने आप को आईने में देखा, तो मैं अपने आप को पहचान नही पाई.

मेरी खूबसूरती पहले से कही ज़्यादा बढ़ गयी थी, और मैं जैसे कोई स्वर्ग की अप्सरा ज़मीन पर उतार आई हो, ऐसी लग रही थी. मेरी शादी वाले दिन हम दोनो ननद भाभी एक ही पार्लर में तैयार हुई.

हम दोनो ननद भाभी इतनी खूबसूरत लग रही थी, जैसे हम दोनो ननद भाभी में एक-दूसरे से खूबसूरत दिखने का कॉंपिटेशन चल रहा हो. विदाई के समय मेरे पति टोनी ने मेरे पापा से कहा-

टोनी: पापा वो क्या है की आज हमारी शादी की हमने आज रात को एक छ्होटी सी पार्टी रखी है. और मैं चाहता हू की आप सब इस पार्टी में शामिल हो.

पापा बोले: बेटा हमारा जाना तो संभव नही है. मैं आपके साथ कोमल को भेज देता हू.

टोनी बोले: पापा मैं तो चाहता हू की आप सब चलते, पर अब आपकी मर्ज़ी.

तभी प्रिया बोली: भैया आप चलो, मैं कोमल को लेकर आती हू.

नेहा बोली: प्रिया हम पहले घर जेया रहे है, और तू कोमल को लेकर सीधा पार्टी वाली जगह पर आ जाना.

उसके बाद मेरी विदाई हुई, और मैं अपने पति टोनी और ननद नेहा के साथ अपने ससुराल आ गयी. घर में कुछ रस्में करने के बाद नेहा मुझे लेकर रूम में गयी.

मेरी कहानी अभी जारी रहेगी. आप मेरी कहानी को लीके और कॉमेंट ज़रूर करना. मेरी मैल ईद है

यह कहानी भी पड़े  फ्रेंडशिप तोड़ने वाली लड़की की चुदाई की प्लॅनिंग


error: Content is protected !!