शादी के बाद कज़िन की चुदाई

हेलो मित्रो, मैं नीलेश [30] सूरत का रहने वाला हूँ, आपके लिए अपनी हिन्दी सेक्स स्टोरी लेकर आया हूँ, टेक्सटाइल इंडस्ट्रीस एक छोटा सा मेरा बिज़्नेस है, मेरी बीवी रीमा और एक बेटा है. मैं दिखने मे वैसे स्मार्ट हूँ पर लड़कियों को इंप्रेस करने के चक्कर मे अट्रॅक्टिव दिखने की कोशिश करता हूँ.

बीवी के साथ मेरी सेक्सुअल लाइफ ओके है. आइ एक्सेप्ट रीमा भी मुझे बिस्तर पे पूरा मज़ा देती है, पर क्या करूँ कोई भी खूबसूरत लौंडी को देखा अपना लंड सलामी देने लगता है. जो आदत से मजबूर है, और इसी वजह से बीवी के अलावा बाहर भी मुँह मारता फिरता हूँ.

सेक्स तो मैने शादी से पहले ही सिख लिया था और शादी तक तो एक्सपर्ट बन गया था. मैने अपना पहला सेक्स मेरी चचेरी बहन ऋतु से किया था. ऋतु और मेरी उमर सेम सेम ही है, हम संयुक्त परिवार मे रहते थे. ऋतु और मैं साथ मे ही पाले बड़े है.

साथ मे पढ़ाई की, खेले , घूमते. जवानी के आने तक हम एकदुसरे को अच्छे से समझने लगे थे. ऋतु और मुझे प्यार तो नही, पर जवानी के शुरुआती वक़्त पे जो सेक्स की तलब जागती है ना तो उसको समझने लगे थे और एकदुसरे से पूरी की. यानी उस वक़्त अपनी जवानी की बेसिक नीड्स को हमने अच्छे से पूरी की थी.

ऋतु शादी के बाद अपने पति के साथ देहरादून चली गयी. क्यूंकी उसका पति राजीव वहाँ काम करता था. और बाद मे मेरी भी शादी हो गयी. शादी के बाद भी ऋतु कई बार आई है, पर उसके बाद हमने कोई सीमाए नही लँघी.

ये सब सोचते सोचते मेरी विचारधारा टूटी, मैं देहरादून आया था एक काम से तो सोचा ऋतु को मिलता हुआ चलु. काफ़ी संपन्न परिवार है ऋतु का, दो बच्चे है और राजीव भी खुश रखता है.

हाला की मैं सिर्फ़ मिल कर जाने वाला था पर ऋतु ने फोर्स किया की आए है तो दो तीन दिन घूम कर ही जाओ.. तो मैं ठहेर गया. कमरे का दरवाजा खुला और ऋतु कमरे मे आई, वक़्त के साथ साथ उसके फिगर मे भी काफ़ी बदलाव आ गया था, पहले पतला सा फिगर था, अब भरौदार हो गया है.

“जाग गये तुम..”, ऋतु ने चाय का कप मेरे हाथ मे थमाया और बेड पे साइट पे बैठ गयी. मैने अंगड़ाई लेते उठा. “हां.. यार.. अच्छा लग रहा है यहाँ, शांति है काफ़ी, राजीव कहाँ है..”, “वो तो ऑफीस गये..”, मैने चाय की चुस्की लेते हुए कहा,”एक बात बोलू ऋतु, बुरा तो नही मानोगी.”, “मैं तुम्हारी किसी बात का बुरा नही मानूँगी.कहो”.

मैने धीमे लहज़े मे कहा, “आज सुबह सुबह मेरे ज़हेन मे अपने पुराने दिन ताज़ा हो गये, शादी से पहले हमने कितने मज़े किए थे, एक बात कहूँ अपने दिल की, अगर हमारे . मे हमारा रिश्ता अलाउड होता तो हम शादी कर सकते थे.पर खैर जो हुआ वो हुआ, अब बताओ तुम कैसी हो, राजीव खुश तो रखता है ना तुम्हे”

ऋतु मेरे तोड़ा करीब आई और बोली, “तुम्हारे साथ शादी करने की मेरी भी ख्वाहिश तो थी, पर किस्मत को कुछ और ही मंज़ूर था, क्या कर सकते है, राजीव बहोत अच्छे है, मुझे कोई प्राब्लम नही है उनके साथ. अच्छा वैवाहिक जीवन चल रहा है हमारा.”

मैने कहा,”गौर किया है मैने तुम्हारे फिगर पे वक़्त के साथ साथ काफ़ी बदल गयी हो, पहले कितनी हल्की फुल्की थी, अब तो हेहेहे..” मेरे मज़ाक करने पर तकिये से वो मुझे मारने लगी. “मज़ाक करने की तुम्हारी आदत अभी भी नही गयी..”

यह कहानी भी पड़े  मम्मी मैं आदमी वाला काम करूंगा तेरे साथ--2

“पर कसम से, अब तुम बिल्कुल पटाका लगती हो.. तुम्हारे ऑरेंज पहले से काफ़ी बड़े लग रहे है, और बड़ा मटक मटक के चलने लगी हो..”, “तुम भी पहले की तरह दिलफेंक थे और आज भी हो.. पर सच कहूँ तो अब भी बड़े हैंडसम दिखते हो..”.

मैने उसका हाथ पकड़ के कहा,”क्या सच मे, अगर तूमे मैं हैंडसम लगता हूँ तो सो फीसाद मे लगता होंगा, तुमसे बेहतर मुझे और कोई नही समझ सकता.”

ऋतु एक मिंट. बोलकर गयी, मैं समझ नही पाया और बाथरूम मे फ्रेश होने गया बाहर आया तो देख के मेरे होश उड़ गये, ऋतु सिर्फ़ ब्लाउस और पेंटी मे पलंग पे लेटी हुई थी मेरे, और देख के कातिल अड़ाओ से मुस्कुरा रही थी. मैने स्वालियान नज़रों से पूछा तो, उसने अपनी गोरी थाइस पे हाथ फेरते कहा, “बच्चो को स्कूल भेज दिया है, और ये भी ऑफीस गये है, आओ हम पुराने दिन फिर से जी ले.”

ऋतु का जवाब सुन के मेरी खुशी का कोई ठिकाना नही रहा, मैने सीधे बेड पे छलाँग लगाई और ऋतु का चेहरा अपने करीब लेके उसके रसीले होंटो को अपने तपते होंटो से जोड़ दिया. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

वैसे ही मिठास आज भी थी उसके होंटो की, मेरे हाथ खुद बा खुद उसके बूब्स को नापने लगे, मम्मो का कड़कपन ब्रा के उप्पर से ही महसूस हो रहा था, मैने स्मूच जारी रखते हुए ब्रा के हूक़ खोल दिए और नाजुक पुरज़ो को कपड़ों की क़ैद से आज़ाद कर दिया..

“आअहह.. ऋतु जान, तेरे बूब्स एक संतरे से बढ़ के काफ़ी बड़े हो गये है..” मैने ऋतु के बूब्स को अपने मुँह मे जकड़ा तो उसने कहा, “ससस्स उई मा आराम से आअहह प्रज्ञेंसी के बाद बहोत सेन्सिटिव हो गये है मेरे बूब्स आईईइ..”

अब मैं धीरे धीरे गोरे पेट को चूमते हुए गोरी चिकनी थाईज़ को मसलने लगा, दाँत से पेंटी को घुटनो तक खींच दी और हाथ से उतार दी, “ऋतु, आज भी तू अपनी चूत चिकनी रखती है, यही मुझे पसंद है,उउउम्म्म्म” मैने चूत मे मुँह दबाने लगा, ज़बान को यौनी के अंदर घुसा के सहलाने लगा..

मुझे पता है, इस से ऋतु बड़ी गरम हो जाती है, “आआईयइ आआहह सस्स तुम्हे आज भी पता है, मैं इस से बड़ी उत्तेजित हो जाती हूँ आआहह..” मैने यौनी मे अपनी ज़बान से हलचल जारी रखी, ऋतु का चीख चीख के बुरा हाल था..

शायद ऐसा सुख उसे राजीव भी नही देता होगा. “ऊओफफफ्फ़…” एक लंबी आहह के साथ ऋतु मेरे मुँह पे ही झड़ गयी, मैं अपनी ज़बान से उसके नमकीन पानी को चाटने लगा.

ऋतु ने मेरे उसके पानी मे मेरे चेहरे को अपने हाथो मे थाम के चाटने लगी, मैने फिर से अपने होंठ उसके होंटो मे क़ैद कर लिए और उसकी ज़बान को अपनी ज़बान के साथ मिला के आनंद लेने लगा. ऋतु ने मेरा टी-शर्ट निकाल दिया और मैने फटाफट अपनी लोवर निकाल दी, अब मैं पूरा नंगा अवस्था मे था, ऋतु अपने दोनो हाथो से मेरे आठ इंच लंबे और तीन इंच मोटे लंड को सहलाने लगी.

“हा.. मेरे हीरो. पहले से काफ़ी बड़ा और मोटा हो गया है तेरा हथियार..”, “तो चल अपनी मनपसंद चीज़ को अच्छे से प्यार कर” ऋतु मेरा लंड अपने मुँह मे लेके लॉलिपोप की तरह चूसने लगी. रीमा मेरा लंड कभी नही चुस्ती है और कोई कोई लड़कियाँ ही चुस्ती है, ऋतु पहले से ही मेरा लंड अच्छे से चुस्ती थी. इसलिए आज जब ऋतु ने अपने पुराने अंदाज़ मे मेरा लिया तो मैं सातवे आसमान मे उड़ने लगा.आआअहह…

यह कहानी भी पड़े  खेल खेल में चुदाई

ऋतु के चूसने से मेरा लंड किसी रोड की तरह सख़्त हो गया था. अब मैने उसे ना मे इशारा किया तो ऋतु ने मुँह हटा लिया और बेड पे अपनी टांगे चौड़ी कर के मुझे अपनी चूत मे लोडा घुसाने का आमंत्रण दे रही. मैं अपने लोडे को हाथ से हिलाते हुए बोला,”जान कॉन्डोम…?”, ऋतु अपनी चूत पे उंगलियाँ फेरते हुए बोली, “आज उसके बिना ही डालो तुम”

मैने ऋतु की टाँगों को अपने हाथों मे उठाया और अपना लंड का टोपा उसकी चूत के मुँह पर सेट किया और एक हल्का धक्का दिया तो थोड़ा सा चूत मे सरक गया, पर इतने मे भी ऋतु की सिसकी निकल गयी..

फिर मैने खिच कर और एक धक्का लगाया और इस बार आधा लंड डाल दिया इस बार उसकी हल्की आहह निकली कुछ देर मे वैसे ही चूत को लंड से सहलाता रहा फिर अचानक से एक ज़ोरदार धक्का लगाया और इस बार पूरा का पूरा लंड घुसेड दिया, मेरे इस हमले से ऋतु की चीख पूरे कमरे मे गूँज उठी, मैं अपने लंड को ऐसे ही चूत मे रहने दिया और उसके बदन पे लेट गया.

मैने उसके बूब्स को मसलते हुए कहा, “मेरी ऋतु जान, आज पहली बार बिना कॉन्डोम के मेरा लंड तेरी चूत मे गया है.. मज़ा आ गया.” ऋतु ने मेरी कमर पे अपने हाथ लिपटा लिए और मेरे चेहरे को चूमते हुए बोली..

“हन अब कोई फिकर नही आआहह सस्स आराम से कर ना बड़ा दर्द कर रहा है..”, मैने कहा “क्यूँ राजीव का दर्द नही करता है..” वो फिर सिसकते बोली, “राजीव का तुमसे छोटा है ना बाबा..”

मैने जोश मे आके हल्के हल्के धक्के लगाना शुरू किया, “इसलिए तेरी चूत इतनी टाइट है आज भी..वरना मेरे साथ चुदाई जारी रहती तो अब तक तेरी चूत का भोसड़ा बन चुका होता..”, “आअहह तो अब बना दे मेरी चूत का भोसड़ा..”

मैने अब जबरदस्त धक्के लगाने लगा, एक तो गरम देखती चूत और उप्पर से टाइटनेस ग़ज़ब का अनुभव करा रही थी.. अब मैं ऋतु को साइड से चोदना शुरू किया, मेरे हर वार पे उसकी आअह्ह्ह्ह निकल रही थी..

मेरे अंदर जोश जगाती पोन घंटे तक मैं उसे तीन अलग अलग पोज़िशन मे लेके चोदता रहा फिर मुझे लगा अब मैं झड़ जाऊंगा तो मैं नॉर्मल पोज़िशन मे आ गया और एक दमदार धक्का लगाया और उसकी बछेड़नी तक की गहराई मे लंड को पहोचा दिया

और एक गुर्राहट के साथ अपने अंदर का लावा से चूत की दीवारों को भिगोने लगा आआहह सस्स ऋतु भी साथ मे झड़ गयी.

हम दोनो एकदुसरे को बाहों मे कस के ऐसे ही नंगे कुछ देर सो गये. फिर उठ के मैने ऋतु की गांड मारी. और दो दिन तक रहा तब तक जम के ऋतु की चुदाई की. उसे एकबार फिर अपना दीवाना बना दिया, आपको मेरी हिन्दी सेक्स स्टोरी कैसी लगी कॉमेंट्स मे ज़रूर लिखना!

Comments 1

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!