तड़पति लड़कियों के बीच लेज़्बीयन सेक्स

ही मेरे प्यारे ड्के रीडर्स, हाउ अरे योउ ऑल? ई आम किंजल (बॉय) फ्रॉम आमेडबॅड, गुजरात. आप सब ने मेरी लास्ट स्टोरी को बहुत प्यार दिया, उसके लिए दिल से थॅंक्स. कोई भी फन लविंग लेडी और कपल मुझे बिना संकोच मैल कर सकते है, आगे डोएस्न’त मॅटर. ई बिलीव इन स्प्रेडिंग लोवे आंड हॅपीनेस. मेरी मैल ईद लास्ट में दी है. आज मैं जो मेरा एक्सपीरियेन्स बताने जेया रहा हू, वो जस्ट कुछ दिन पहले का है.

लास्ट वो क्यूक्कल्ड कपल के साथ अबू में एंजाय करके मैने स्टोरी लिखी थी. उसके बाद एक दिन मैं मेल्स चेक कर रहा था, तो उसमे एक गर्ल का मैल था, और उसको मेरा एक्सपीरियेन्स अछा लगा. तो वो तारीफ कर रही थी.

फिर हमने इंस्था ई’द शेर की, और उसपे बातें करने लगे. बातों से पता चला की उसका नामे सौम्या था, और वो कोलकाता से थी. उसकी आगे 24 थी, और वो किसी मंक में वर्क कर रही थी.

जैसे की आप सब जानते हो मैं जब भी छत करता हू, ज़्यादा किसी को बोर नही करता, और सीधा अपने टॉपिक पे आ जाता हू. तो मैने उसकी फॅंटेसी पूछी. उसने बताया वो भी 6-7 बाय्स के साथ सेक्स कर चुकी थी. उसको जो अछा लगता थी, उसके साथ एंजाय कर लेती थी. वो भी फन लविंग और ओपन माइंडेड थी. फिर 2-3 दिन हमने रात के 2-3 बजे तक सेक्स छत की, और सडन्ली वो बोली-

सौम्या: मुझे गाँधीनगर किसी काम से आना है 4 दिन. लेट’स मीट.

आंड मेरी तो खुशी का ठिकाना नही रहा. ई इमीडीयेट्ली साइड एस. फिर वो बोली उसकी बुकिंग किसी 4 स्टार्ट होटेल में थी, और वो विज़िटर अलो करवा देगी. सब अरेंज्मेंट्स वो कर देगी. मुझे सिर्फ़ 24त नोव की शाम को उसके होटेल में जाना था. वो रात बहुत देर तक मैने उसके साथ फोन सेक्स किया, और उसका 3 बार पानी निकाला. वो भी बहुत एग्ज़ाइटेड थी.

फिर मैने अपनी फॅंटेसी बताई उसको, की मुझे क्या-क्या अड्वेंचर करने में इंटेरेस्ट है. वो भी बहुत कुछ फर्स्ट टाइम ट्राइ करना चाहती थी. जैसे की उसने कभी गांद नही मरवाई थी. वो मेरे से फर्स्ट टाइम गांद मरवाने को रेडी थी. फिर उसने कभी ओपन में सेक्स नही किया था. ना ही कभी कार में. तो हमने वो भी प्लान बना लिया.

उसको वाइल्ड रफ सेक्स बहुत पसंद था मेरी तरह, तो हमारी बॉनडिंग अची बन गयी थी. हमने सब प्लान कर लिया था 4 दिन का, की कों सी नाइट में क्या-क्या करेंगे. अब 24त नोव को सुबह उसका मेसेज आ गया की वो आमेडबॅड में आ गयी थी, और हमने रात को 8 बजे मिलने का डिसाइड किया था. तो मैने उसको वेलकम बोला, और किस का एमोजी भेज दिया.

फिर वो बोली दोपहर में क्लाइंट से मीटिंग ख़तम करके मेसेज करूँगी. मैं बोला ओक. फिर 3 बजे उसका मेसेज वापस आया.

वो बोली: मैं 5 बजे तक फ्री हो जौंगी. तुम जल्दी आ जाना, और कॉंडम लाना मत भूलना.

मैं बोला: ओक मेरी जान.

मैने जॉब का कम जल्दी से ख़तम करके कॉंडम का बड़ा पॅकेट लिया, और कुछ सिल्क चॉक्लेट्स लेके उसके होटेल पे पहुँच गया. अभी तोड़ा ठंड का माहौल बन गया है इधर, तो शाम को अंधेरा जल्दी हो जाता है. मैं 6:45 को वाहा पहुँच गया था. फिर मैने उसको कॉल किया इंस्था पे, क्यूंकी आप सब जानते है मैं प्राइवसी की वजह से किसी का मोबाइल नंबर नही लेता.

फिर वो मुझे रिसेप्षन पे लेने आई और मी गोद क्या पताका माल थी. उसने सिर्फ़ ओनेपीएसए पहना था, वो भी सिर्फ़ जांघों तक. उसकी डीप क्लीवेज एक-दूं सॉफ दिख रही थी. वो थी स्लिम, लेकिन उसका फिगर 34-28-34 होगा. ब्लॅक ओनेपीएसए में वो आसम लग रही थी. उसको तो देख के ही मेरा लंड खड़ा हो गया. उसने भी मुझे उपर से नीचे देखा और बोली-

सौम्या: क्या बात है, अभी से तंबू बन गया.

और वो हासणे लगी.

फिर वो बोली: चलो पहले डिन्नर कर लेते है इधर रेस्टोरेंट में. बाद में रूम में चलते है. ताकि आराम से एंजाय कर सके.

मैं बोला: ओक.

फिर हम होटेल के रेस्टोरेंट में गये. वाहा उसने कॉर्नर का लास्ट टेबल चूज़ किया, और मेरे पास में बैठ गयी. हमने खाना ऑर्डर किया, तब तक वो थोड़ी नॉर्मल बात कर रही थी. लेकिन मुझे सिड्यूस भी कर रही थी. जैसे बात-बात में हेस्ट हुए अपने बूब्स को मेरे हाथो पे टकराना. मेरी जाँघ पे हाथ रख के सहलाना.

ये सब देख के मैं कहा पीछे हटने वाला था. मैने उसकी नंगी जाँघ पे हाथ दिया, और सहलाने लगा. तो वो एक-दूं नशीली आँखों से मेरी और देखने लगी, जैसे उसका अभी मूड बन गया हो. मैने एक्सपेक्ट नही किया था वो इतनी बोल्ड होगी. उसने भी अपना हाथ सीधा मेरी पंत में से होते हुए अंडरवेर में डाल दिया, और मेरा लंड पकड़ लिया.

इधर मैं भी उसकी नंगी जाँघ को सहलाते हुए हाथ उसकी छूट पे ले गया और छूट सहलाने लगा. वो मेरा लंड बड़ा मसल रही थी. वैसे हमने कॉर्नर का टेबल चूज़ किया था, और उधर स्टाफ भी कम था, तो कोई दिक्कत नही थी. टेबल भी बड़ा था, तो नीचे क्या हो रहा था किसी को पता नही चला. हम अपने एक्सप्रेशन्स पे कंट्रोल कर रहे थे.

मैं मौका देख के उसके बूब्स को प्रेस करने लगा. इससे वो और बोल्ड हो गयी, और टेबल पे से चम्मच नीचे फेंक दिया. फिर उसको उठाने के बहाने वो नीचे झुकी, और वही मेरी पंत खोल के लंड बाहर निकाल लिया, और सीधा मूह में लेके ब्लोवजोब देने लगी. मैने ये सोचा नही था. मैं आस-पास देखने लगा, की कोई देख तो नही रहा था.

ये मेरा फर्स्ट एक्सपीरियेन्स था ऐसे. मैं भी उसका मूह पकड़ के मेरा बड़ा लंड उसके मूह में देने लगा. उसके मूह में तो पूरा जेया भी नही पा रहा था. फिर भी वो ले रही थी, और उसकी थूक से पूरा लंड चिकना हो गया, और फुल मूड में आ गया. हम दोनो उसमे इतने खोए थे की हमे पता ही नही चला की वेटर हमारे खाने का ऑर्डर लेके आ गया.

वेटर: सिर आपका ऑर्डर आ गया है.

हम दोनो सडन ठीक हुए. वो वेटर हमे स्माइल देते हुए चला गया.

शी: अब मूड बन गया है, चलो रूम में. खाना रूम में मंगवा लेंगे.

मे: चलो फिर, मुझे तो वही भाख है.

फिर उसने वेटर से बात की, और मेरा हाथ पकड़ के मुझे रूम की और ले चली. वो वेटर हमे देखे जेया रहा था, तो मैने उसको देख के आँख मारी, और स्माइल की. तो वो समझ गया सब. रूम में जाते ही वो डोर लॉक करके सीधा मेरे उपर चढ़ गयी गोद में, और बेशुमार किस्सिंग करने लगी. मैं भी उसकी गांद को मसालते हुए उसके मूह में जीभ देने लगा, और चूसने लगा बेहद.

उसने जल्दी ही मेरा शर्ट निकाल दिया, और पंत भी. अब मैं सिर्फ़ अंडरवेर में था. फिर उसको बेड में पटक के उसके उपर चढ़ के सब जगह पुर जिस्म पे पागलों की तरह किस्सिंग करने लगा. उसकी पनटी पूरी गीली हो चुकी थी. अब मैने उसका वन पीस निकाल फेंका, और ब्रा के स्ट्रॅप को कंधो से नीचे करके उसके टाइट बूब्स मसल-मसल के पीने लगा.

शी: आममह योउ अरे सो एक्सपीरियेन्स्ड बेबी. ई फील आसम, दो हार्डर.

मे: एस मी हनी.

मैं और ज़ोर-ज़ोर से बूब्स प्रेस करने लगा, और लोवे बाइट्स करने लगा उसके बूब्स और निपल पे. साथ ही उसकी पनटी को पकड़ के उसकी छूट से घिसने लगा. इससे वो और एग्ज़ाइटेड हो गयी, और इतने ज़ोरो से किस करने लगी, की मेरे होंठो को काट लिया उसने. फिर वो मुझे बेड पे लिटा कर मेरे उपर आ गयी, और मेरा अंडरवेर निकाल के फेंक दिया. फिर मेरा बड़ा लंड पकड़ कर फिरसे ब्लोवजोब देने लगी.

करीब 10 मिनिट उसने बहुत मस्त ब्लोवजोब दिया. मेरी गोतिया भी छाती उसने, और उसके नीचे भी. फिर मेरे जिस्म को चाट-ते हुए वो उपर आने लगी. मैं अपनी बॉडी एक-दूं क्लीन रखता हू ऑल्वेज़. नो हेर ओं मी चेस्ट, सो उसे बहुत मज़ा आ रहा था चाटने में. वो मेरे निपल्स पे किस करके लीक करने लगी. मेरी आर्म्पाइट लीक करने लगी. उसकी छूट से उसका पानी मेरे लंड पे आ रहा था.

फिर उसने बोला: कॉंडम किधर है?

मैने उसे दिया, और उसने मेरे लंड पे कॉंडम लगाया. फिर मेरे लंड पे बैठ के राइड करने लगी. मेरे दोनो हाथो को पकड़ के उसने बूब्स पे रख दिए, और खुद मसलवाने लगी, मोनिंग करने लगी. वो बहुत ते, उछालने लगी, और मैं भी नीचे से तबाद-टोब छोड़ने लगा.

उसकी गांद पे खींच-खींच के छानते मारने लगा. मैं जितना ज़ोर से छाँटा मारता, उतना वो एग्ज़ाइटेड होती. फिर मैं उसके बूब्स पे भी मारने लगा. पुर लाल कर दिए मैने उसके टाइट बूब्स, और निपल को तो मसल दया. अब मैं तोड़ा बैठने की पोज़िशन में आ गया, और वो तो मेरे लंड पे ही थी.

मैं उसके बूब्स चूस्टे हुए छोड़ने लगा. वो मेरा मूह पकड़ के किस्सिंग करने लगी. फिर मैने उसे डॉगी बनाया बेड पे, और मैं खड़े-खड़े उसको छोड़ने लगा. इस सब में करीब 35-40 मिनिट हो गये. उसकी छूट से पानी उसकी जांघों पर बह रहा था, और फिर मेरा भी निकालने वाला था. तो मैं उसकी पतली कमर पकड़ के और ज़ोरो से छोड़ने लगा.

वो इतना मोनिंग कर रही थी, की बाहर से कोई निकले तो पता चल जाए की अंदर धमाकेदार चुदाई चल रही थी. पर हम दोनो बेफिकर थे. करीब और 20-25 झटको के बाद मेरा निकल गया, और हम दोनो बेड पे गिर गये. वो उल्टी लेती थी, और मैं भी उसके उपर उल्टा लेता था. थोड़ी देर लंड को छूट में ऐसे ही रहने दिया. फिर लंड ऑटोमॅटिकली बाहर आ गया.

उसके बाद हम दोनो बेड में थोड़े आचे से सेट होके लेते. वो मेरी बाहों में आ गयी, और मुझे गाल पे एक किस देके बोली-

सौम्या: थॅंक योउ, तुमने मुझे इतना खुश किया उसके लिए.

मैं बोला: ये तो अभी शुरुआत है. अभी तो 4 नाइट है हमारे पास.

वो बोली: जनरली में सोच समझ के ही किसी से सेक्स करती हू. पहले मिलना, फिर अछा लगे तो ही चान्स देती हू. तुम फर्स्ट हो जिससे मैने डाइरेक्ट मिलने का सोचा, और थोड़ी नर्वस भी थी, की क्या होगा. मुझे खुश कर पाएगा या नही. लेकिन तुम बहुत फ्रेंड्ली हो. मुझे लगने ही नही दिया की फर्स्ट टाइम मिले है हम. और तुम्हारे लंड में भी बड़ी ताक़त है. मेरी छूट का पानी आचे-आचे नही निकाल पाते. लेकिन तुम फोरप्ले में एक्सपर्ट हो, इसलिए मुझे बहुत मज़ा आया. थॅंक्स अगेन.

ऐसा बोल के फिरसे वो मुझे किस्सिंग करने लगी, और मैं उसके बूब्स स्लोली-स्लोली सहलाते हुए उसका साथ देने लगा. हमने करीब 15 मिनिट तक किस आंड बॉडी प्ले किया. इतने में मेरा लंड फिरसे खड़ा हो गया. अब उसने फिरसे मेरे लंड पे कॉंडम लगा दिया, और मैं मिशनरी पोज़िशन में उसको किस्सिंग करते हुए छोड़ने लगा.

फिर मैने उसको होटेल रूम के टेबल, होटेल की बाल्कनी में, बातरूम में, और सोफे पे छोड़ा अलग-अलग पोज़िशन में. वो बेहद खुश थी मुझसे. वो रौंद भी 40 मिनिट तक चला हमारा. फिर वो मेरे लिए वाइन लेके आई थी. मेरा फर्स्ट टाइम था, क्यूंकी मैं ड्रिंक नही करता.

मैने फर्स्ट टाइम उसके साथ वाइन पी थोड़ी सी. वो नंगी मेरी गोद में आके बैठ गयी, और उसके बूब्स पे थोड़ी वाइन डाल के मुझे पिलाने लगी. इट वाज़ आन आसम एक्सपीरियेन्स फॉर मे. उस रात हमने 3 बजे तक 4 रौंद खेले, और साथ में डिन्नर भी किया, और सुबा 6:30 को मैं उसको किस करके निकल गया. अभी तो और 3 नाइट्स बाकी थी. उसमे तो और भी अड्वेंचर करने थे हमे.

तो दोस्तों कैसा लगा मेरा एक्सपीरियेन्स, मुझे मैल करना मत भूलिएगा. और मुझे फन लविंग लेडी को प्राइवसी में बेस्ट अड्वेंचर करवाना अछा लगता है. तो मैं आपकी मेल्स का वेट करूँगा. मेरी मैल ईद है किंजलपटेल260@गमाल.कॉम. थॅंक्स ड्के फॉर शेरिंग मी एक्सपीरियेन्स.

यह कहानी भी पड़े  भाभी और देवरानी का मज़ेदार लेज़्बीयन सेक्स


error: Content is protected !!