सेक्सी कल्लिएंट कणिका को चोडा बिज़्नेस के लए

हेल्लो इस सेक्स कहानी की वेबसाइट के सभी दर्शक गण को ,मेरा सलाम और प्रणाम. मेरा नाम गौतम हे और मैं जयपुर का हूँ लेकिन अभी दिल्ली में रहता हूँ. मैं 27 साल का हूँ और मेरी हाईट 6 फिट में बस एक ही इंच कम हे. मेरी बॉडी भी सही हे और दिखने में और स्टाइल में एकदम हेंडसम लौंडा हूँ. मेरे लंड का साइज़ पुरे 8 इंच हे और जब वो खड़ा हो तो किसी भी औरत की चूत को खुश और शांत कर सकता हे. मैं मसाज देने में भी एक्सपर्ट हूँ और तेल लगा के बॉडी को एकदम हल्का कर देता हूँ. अब आप को बोर किये बिना मैं सीधे कहानी के ऊपर आता हूँ.

बात उन दिनों की हे जबी मैं एक दोस्त के साथ मिल के इवेंट कम्पनी चलाता था. और हम नए थे तो हमें क्लाइंट भी उतनी जल्दी नहीं मिल रहे थे. हम लोग क्लाइंट की खोज में रहते थे. आये दिनों मीटिंग और नए नए चेलेंज मिलते थे. लेकिन एक क्लाइंट कनिका ने जो चेलेंज दिया था उसकी तो बात ही कुछ और थी.

दरअसल कनिका हमारे एक क्लाइंट की मार्केटिंग मेनेजर थी और वो सुपर फ्लर्ट किस्म की औरत थी. और वो हमें काम को ले के डरा रही थी की आप के रेट्स ज्यादा हे, आप के कम्पीटीटर हमें बढ़िया रेट दे रहे हे वगेरह वगेरह. मेरे दोस्त ने मुझे कहा की यार ये कनिका को कुछ और चाहिए ऐसे लगता हे मेरे को. मैंने कहा कुछ और मतलब? वो बोला की एक काम कर उसको वीकेंड पर डिनर के लिए इनवाट कर लेता हु और वहां पर तू उसे सब कुछ समझा देना.

मैंने भी हां कर दिया क्यूंकि कनिका के थ्रू ही बिजनेश मिलने वाला था. मैंने पुरे प्रेजेंटेशन पर और रेट्स पर दुबारा वर्क किया और होटल में कनिका से मिलने के लिए रेडी हो गया. मैं होटल पर पहुँचा तो कनिका को कॉल करने के लिए जब सेल निकाला ही था की उसने मुझे आवाज दी. वो अपनी गाडी में बैठे हुए ही मेरे को वेव कर रही थी. मैं अपनी कार से निकल के उसकी कार के पास पहुंचा तो उसने मुझे अंदर बैठने को कहा. मैं अन्दर बैठा और उसने उसी वक्त गाडी स्टार्ट कर दी. तो मैंने पूछा अरे नमन ने सीट्स रिजर्व की हे यहाँ पर हमारे लिए. वो मुस्कुराते हुए बोली, लेकिन यहाँ तुम मुझे अच्छी तरह से प्रेजेंटेशन नहीं दे पाओगे, बहुत नोईसी हे.

यह कहानी भी पड़े  जवानी का रिश्ता

मैं चुपचाप बैठा रहा और वो गाडी ड्राइव कर के शहर के सब से पोश एरिया में बने एक अपार्टमेन्ट में ले गई. गाडी पार्किंग में लगा वो मुझे बोली, यहाँ मेरा फ्लेट हे सुकून से प्रेजेंटेशन भी दे देना और कुछ खाने के लिए ऑर्डर भी कर लेंगे.

हम दोनों कनिका के फ्लेट में पहुंचे जो काफी अमेजिंग था. और उसने काफी अच्छे से सजाया हुआ था उसको. कनिका ने मुझे काउच पर बैठने को कहा और खुद अंदर चली गई. जब कुछ देर के बाद वो बहार आई तो वो टाईट वाइट शॉर्ट्स में और ब्ल्यू स्लीवलेस टॉप में थी. वो एकदम डाम सेक्सी लग रही थी उन कपड़ो में.

उसने वही पर एक ट्रंक को खोला जिसके अन्दर शराब की बोतले थी. उसने कहा जो पीते हो वो उठा लो. मैंने कहा ये सब तो चलता रहेगा आप पहले प्रेजेंटेशन तो देख लो. वो स्माइल दे के बोली, ये लेने से प्रेजेंटेशन देने का कांफिडेंस बढेगा. और ये कह के उसने वोडका की एक ड्रिंक अपने लिए और मेरे लिए बनाई. मैंने भी हाथ में ले ही लिया जाम को.

हम दोनों ड्रिंक लेते हुए प्रेजेंटेशन देख रहे थे. तभी मैंने महसूस किया की कनिका मेरे काफी करीब आ चुकी थी. और लगभग मेरे कंधे के ऊपर टिक के प्रेजेंटेशन देख रही थी. उसकी साँसे मेरी गर्दन के ऊपर साफ महसूस हो रही थी. मैंने ग्लास रखने के लिए खुद को उस से दूर किया तो वो किसी बहाने से और करीब आ गई. अब हम लोग कास्टिंग के पेज पर पहुंचे ही थे की उसने मुझे कहा, तुम्हारी बस यही बात मुझे पसंद नहीं हे.

यह कहानी भी पड़े  इंतेजार चुदाई का

मैंने कहा लेकिन कास्टिंग तुम्हारे हिसाब से ही बनाई हे मैना. वो बोली तुम इतना काम क्यूँ करते हो. और ये कह कर उसने मेरे हाथ से लेपटोप ले कर टेबल पर रख दिया और खुद मेरी तरफ मुहं कर के मेरी गॉड में बैठ गई. ये सब एकदम अनएक्सपेक्टेड था और इतना जल्दी हुआ की मैं खुद को संभाल भी नहीं पाया.

कनिका के कंधो तक लहराते हुए बाल अब मेरे चहरे के ऊपर थे और उसके लिप्स मेरे लिस्प को छू रहे थे. मैंने सोचने समझने के होश में ही नहीं था. मैंने भी उसके रसीले होंठो को चुसना चालू कर दिया और कनिका भी बराबर मेरा साथ दे रही थी. वो मुझसे लिपट गई और उसके तने हुए चुचें मुझे महसूस होने लगे थे जिन्हें अब मैंने हलके हाथ से मसलना शरु कर दिया था. कनिका ने मेरे होंठो को चूमना जारी रखा और इस कद्र चूमा की होंठ तो होंठो मेरी दाढ़ी भी उसके थूंक से गीली हो गई थी. मैंने उसे पलटा दिया, अपने मुहं को साफ कर के मैंने उसका टॉप उतार दिया. मैंने नोटिस किया की उसने ब्रा नहीं पहनी थी. उसके भरे हुए सांवले चुचे मेरे मुहं में थे जिन्हें मैं मस्त चूसने लगा. मुझे उसके चुचें इतने अच्छे लग रहे थे की उनके आगे मैं सब कुछ भूल चूका था.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!