मेरी सेक्सी मॉम

ये कहानी उस समय कि है जब मे सोल्लेगे मे सतुदेनत था। I was 20 and my mom was of 35yrs. She was a sexy lady with very good attaractive body figure and also full of sexual desires. I have seen her from bathroom holes bathing nudes and once having sex with father. From that day I had a desire to have sex with mom like my father was enjoying on that night. One night my father was out of station and I was in my bedroom. But I could not sleep thereafter I started masturbating on a long round pillow doing act like having sex and in the mean time my mom opened the door and entered the room.

दरवजा खुलने कि अवज़ से मैं घबरकर रुक गया लेकिन मैं तकिये के उपर था। फिर मैं तकिये पर से बगल मे लेत गया। मोम ने पुछा कया हुअ,कया कर रहे थे? मैने कहा कि निनद नहि आ रह है, कुच बैचेनि सि है । फिर मैने मोम से पुछा कया तुमको निनद नहि आ रहि है। वो बोलि हान मुझे भि निनद नहि आ रहि है। मैने कहा कि आप भि यहिन लेत जैये। फिर वो मेरे पस भैथ गयि। मैने फिर कहा कि यहि सो जओ मेरे पस। फिर वो लेत गयि। कुतच देर बद मैने पुछा निनद नहि आ रहि है तो कहनि पधते है, मैने पपा कि कितब कि रसक से एक सेक्सी कहनि कि बूक निकलि और कहा कि इसको पधते है –मोम बोलि कया है, मैने कहा पधने मे बहुत मजा अयेगा, बहुत गुदगुदि भि होति है इसको पधने से। फिर मैने कितब को बितच मे रखकर दोनो पधने लगे, फिर मैने कहा मैं पधकर सुनता हु लिघत कम थि। मैने उनको सेक्सी कहनि पधकर सुनने लगा और उसमे एक लदी का दुसरे मरद के सथ सेक्स का किस्सा था बहुत देतैल मे था वो बोलि ये सब कया है मैने कहा अलमरि मे रखि थि, वो बोलि इसमे बदो कि गनदि बते है, इसको नहि पधना चहिये, मैने कहा फिर तुमहरि और दद कि अलमिरह मे कयो रखि है, एक बर पधते है,सुनो ना फिर उसको भि मज़ा अने लगा वो भि एक्ससितेद होने लगि और बिच बितच मे अपनि बुर खुजला रहि थि मैने कहा गुदगुदि हो रहि है ना, मेरे भि इसमे(अपने लनद पर इसरा करते हुए कहा) बहुत हो रहि है सरे बदन मे हो रहि है। फिर मैने कहा कि अब आप पधिये, फिर वो पधने लगि वो बहुत एक्ससितेद हो गयी। फिर उसने कितब बनद करके रख दि और बिसतर पर लेत गयी। मैने पुचा कया हुअ तो वो बोलि बैचेनि हो रहि है, कुच खुजलि भि बदन पर हो रहि है। मैने पुचा पोवदेर बदन पे लगने से अरम मिलेगा वो बोलि हान थिक है पोवदेर हि लगा दो मैं बगल रूम से पोवदेर लेकर अया तब मोम पेत के बल लेति थी बोलि कमर मे लगा दो, मैने देखा क्कि उनहोने बलोवसे के बुत्तोन खोले हुए थे और बरा भि खोल दि थि।

यह कहानी भी पड़े  Bivi Se Pahle Uski Saheli Ki Chudai

मैं पोवदेर कमर पर बलोवसे के अनदर हथ देकर मलने लगा अहिसता अहिसता पुरि कमर पर मलते हुए सिदे से बूबस भि मसलने लगा फिर मैने सिदे से बूबस पर पोवदेर लगते लगते दबने लगा उसको मज़्ज़ा आ रहा था। फिर मैन कहा कि समने घुमो गरदन के पस भि लगा देता हुन। वो घुमि तो बलोवसे के बुत्तुन खुले हुए थे और बूबस बहर ननगे थे। ।बदे बदे बूबस बहुत सेक्सी लग रहे थे, मैने तुरनत गरदन और फिर बूबस पर पोवदेर लगने लगा और अब तो बूबस भि मसल रहा था वो कुच नहि बोल रहि थि। फिर मैने मसलते मसलते हथ बूबस के निचे पेत पर फिर नवहि पर मसला और धिरे से उनका पेतिकोत का नरा खोल दिया, और अपने हथ अनदर दलकर जनघ पर फेरते फेरते बुर पर भि पोवदेर लगने लगा वो बोलि ये कया कर रहे हो मैने कहा थिक से लगा देता हु फिर निनद भि थिक से आ जयेगि। फिर मैने हथ उनके गोल गोल चुतर पर फेरने लगा सच मे बदा मज़ा आ रहा था – मैने पुचा कया मज़ा आ रहा है अरम मिल रहा है अब तो अछा लग रहा है, मैने चुतर पर हथ फेरते फेरते उनके उपर चद गया और बोला अब बान भि दब जयेगा फिर मैने कमर के निचे से बूबस पकद कर जोर जोर से दबने लगा अब वो पुरि तदप रहि थि मैने कहा कितब वला ससेने करते है मेरे बदन मे जोर जोर से गुदगुदि हो रहि है फिर अचनक वो बोलिये कया कर रहे हो, मैने कहा दरवजा बनद है, किशि को पता नहि चलेगा, मैं किसिसे नहि कहुनगा,तुमहरि कसम, और मज़ा भि आ जयेगा,पलेअसे मना मत करो। मैने फिर से उनको कहा कि कहनि कि तरह मज़ा करते है मैने अपना पज़मा खोल दिया और उनके जनघो पर बैथा तो उनहोने मेरा लंद पकद कर लनद पर हथ फेरते हुए कहा कि परोमिसे करो तुम किसिसे कभि भि नहि कहोगे। मैने कहा परोमिसे और फिर कया था उनहोने अपने सरे कपदे बदन से अलग कर दिये मैने कहा कि आप जैसे बोलेनगि वैसे करुनगा उनहोने कहा वैसे हि करते जओ जैसे जैसे कहनि मे पधा था मैने उनके बूबस को चुसना शुरु किया और दबा भि रहा था फिर वो भि मेरे लंद पर हथ फेरने लगि मैने भि एक हथ कि अनगुलि से बुर दबने लगा और अनगुलि अनदर कर दि।

यह कहानी भी पड़े  आ देखें ज़रा तुझमे कितना है दम

Pages: 1 2

error: Content is protected !!