रंडी बहन को ससुर ने गुलाम बनाया

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम गुरुप्रसाद है और में चेन्नई का रहने वाला हूँ। आज में आप सभी चाहने वालों को अपने जीवन की एक सच्ची घटना को सुनने आया हूँ जिसमें मैंने अपनी बड़ी बहन के साथ सेक्स किया। वैसे तो मुझे अपनी बहन की शादी से पहले भी बहुत अच्छी तरह से पता था कि वो एक बहुत बड़ी चुदक्कड़ किस्म की है और उसको शुरू से ही चुदाई का बहुत शौक रहा था, इसलिए मैंने उसको कई बार लड़को के साथ पकड़ भी लिया और वैसे उसका वो गोरा बदन आकार में बड़े बूब्स उठे हुए निप्पल मटकती हुई मोटी गांड और अपने जाल में किसी को भी फंसाकर अपनी चुदाई करवाने की कला की वजह से हर कोई उसकी तरफ आकर्षित हो जाता था और हमारे आसपास के बहुत सारे लड़के हमेशा बस उसी के ऊपर अपनी नजर रखते थे। उनको उसके घर से बाहर निकलने का इंतजार सदा रहता था और उसके बाद वो उसके जिस्म के मज़े लेकर उसके लिए बहुत गलत बातें गंदे शब्द बोलते थे और मेरी बहन भी कोई कम नहीं थी वो भी सभी को चाहे वो जवान हो या बुड्ढा उसको अपनी तरफ आकर्षित करने के लिए हमेशा बड़े आकार के गले वाले सूट जो उसके बदन से एकदम चिपककर उसके गोरे सेक्सी जिस्म के हर एक अंग को प्रदर्शित करते जिसको देखकर हर कोई अपने होश खोकर पागलो की तरह उसको घूरने पर मजबूर हो जाता हर कोई उसको अपनी चकित नजरो से उसको देखकर उसकी चुदाई करने की इच्छा अपने मन में रखता था, इसलिए वो शुरू से ही हर किसी की नजर में थी और भी उसके दीवाने थे।

फिर मेरे घरवालों ने अपने घर की इज्जत को बचाने के लिए तुरंत ही उसकी शादी करके उसको अपने ससुराल के लिए रवाना कर दिया, लेकिन फिर भी उसकी वो गंदी आदत कहाँ खत्म होती। वो हर कभी अपने प्रेमी के साथ हर कभी मुझे नजर आ चुकी थी, जिसको देखकर में उसके ऊपर बहुत गुस्सा करता, लेकिन उसके समझ में कभी कुछ नहीं आया। दोस्तों अब में अपनी आज की कहानी को शुरू करता हूँ दोस्तों उस दिन मैंने देखा कि मेरी बहन रवीना अपने आशिक जिसका नाम अर्जुन है वो उसके साथ आधी नंगी होकर नीचे जमीन पर लेटी हुई थी और वो उसके साथ सेक्स करने की कोशिश कर रही थी और इतने में वहाँ पर में भी पहुँच गया। फिर मुझे अचानक से उस समय अपने सामने देखते ही वो डरते हुए एकदम से घबरा गयी और फिर उसका वो आशिक भी तुरंत ही अपने कपड़े ठीक करके वहाँ से चला गया।

यह कहानी भी पड़े  पति के साथ गोवा में हनीमून का मजा

उसके बाद अब वो मेरे साथ अपने घर (सौरल) आ रही थी और आते समय सारे रास्ते वो अपनी गलती की वजह से शरम के मारे मुझसे कुछ भी नहीं बोल सकी और मुझे भी यह सब बड़ा अजीब सा लग रहा था और अब बार बार मेरी आखों के आगे उसकी नंगी और चिकनी पीठ वो गोरा बदन आ रहा था, जिसको उसका आशिक कुछ देर पहले अपनी जीभ से चाट और चूम रहा था और जैसे ही हम उसके ससुराल पहुँचे तो उसके ससुर वहाँ पर पहले से ही घर के दरवाजे पर खड़े हुए थे, इसलिए उन्होंने बहुत ही ध्यान से मेरी बहन को सबसे पहले ऊपर से नीचे तक देखा, क्योंकि उसके सारे कपड़े मिट्टी से भरे हुए थे। अब वो तुरंत ही समझ गये कि कोई गड़बड़ वाली बात है, इसलिए उन्होंने मुझसे गुस्से में आकर पूछा कि तेरी यह साली रंडी बहन कहाँ से आ रही है? तो में उनके मुहं से यह बात सुनकर एकदम से डर की वजह से उनको कुछ नहीं बोल सका, क्योंकि मुझे लगा कि मेरे उनको कोई भी जवाब देने या कुछ बोलने से मेरी बहन का घर बिगड़ जाएगा और यह बात सोचकर में चुपचाप खड़ा होकर उनकी वो बातें सुनता रहा।

फिर उन्होंने एक बार फिर मुझसे गुस्से में वही सब पूछा, लेकिन में तब भी वैसे ही चुपचाप खड़ा रहा, लेकिन अब उन्हे बहुत तेज गुस्सा आ गया और उन्होंने मुझे एक बड़ा जोरदार थप्पड़ मार दिया और अब मेरी बहन मतलब कि उनकी बहू की बारी थी, उन्होंने उसको भी एक जोरदार थप्पड़ मार दिया, जिसकी वजह से वो ज़मीन पर नीचे गिर पड़ी। फिर उन्होंने उसके बाल पकड़े और कहा कि साली रंडी कुतिया कहाँ से तू आज तेरा मुहं काला करवाकर आ रही है, बता वरना तुझे मार मारकर में तेरा मुहं लाल कर दूँगा? उन्होंने इतने गंदे शब्दों में मेरी बहन के बारे में बोला, लेकिन में कुछ ना बोल सका क्योंकि रिश्ता ही कुछ ऐसा था और में अपनी वजह से मेरी बहन का घर नहीं बिगाड़ना चाहता था, इसलिए चुप ही रहा। अब रवीना रोने लगी और वो उनको कहने लगी कि पिताजी आप मुझे माफ़ कर दो में आगे से कभी भी ऐसा नहीं करूंगी, बस एक बार आज आप मुझे माफ़ कर दो और इसके बारे में आप किसी को कुछ भी मत बताना और वो यह बात कहते हुए उनके पैरों में गिर पड़ी, लेकिन उन्हे तो मेरी बहन के ऊपर बड़ा गुस्सा आ रहा था। अब उन्होंने एक बार फिर से उसके बाल पकड़े और कहा कि साली मादारचोद रंडी, मेरा बेटा यहाँ नहीं है तो तू बाहर गलियों में किसी भी कुत्ते से चुदवाती फिरेगी, तूने क्या सोचा हमें पता नहीं चलेगा कि तू कैसे काम कर रही है और फिर यह बात कहकर उसको तीन चार जोरदार थप्पड़ मार दिए और उसकी गांड पर भी एक थप्पड़ लगा दिया, जिसकी वजह से वो अब ज़ोर ज़ोर से रोने लगी और उनके पैरों में पड़कर माफी माँगने लगी। फिर मुझसे भी रहा नहीं गया और मैंने भी रोते हुए अपनी बहन की तरह उनके पैरों में पड़कर में उनको कहने लगा कि मेरी बहन को आप माफ़ कर दो, लेकिन उन्होंने हम दोनों को और भी मारा उसके बाद अपने पैरों से हटा दिया।

यह कहानी भी पड़े  Bua Ki Beti Ki Choot Ki Pyas

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!