भतीजे ने चाची के साथ शुरू की चुदाई

हेलो दोस्तों, मुझे उम्मीद है आपको मेरी चाची की चुदाई करने की कहानी अच्छी लगेगी।

तो ये कहानी लॉकडाउन के टाइम की है जब मेरे कॉलेज में छुट्टी हुई थी, और मैं कुछ महीने के लिए घर पर था। उसी टाइम मैंने अपनी चाची की चुदाई की थी।

मैं अपने बारे में बता दूं। मेरे लंड का साइज 6 इंच है, लेकिन काफी मोटा है, और मेरी चाची की चूची थोड़ी छोटी है, लेकिन गांड मोटी है। देखने में मस्त लगती है दूध सी गोरी।

मेरे चाचा की शादी हुए 10 साल हो गए, उनके 2 बच्चे भी है। चाची अभी 30 साल की थी, और इस उम्र में औरत को चुदने का ज़्यादा ही मन होता है।

बात उस टाइम की जब घर पर मेरी मम्मी, चाची, चाचा और उनके 2 बेटे थे। दोनों 5-7 साल के बच्चे थे। चाची ढीली मैक्सी पहनती थी, जिसमें उसकी मोटी गांड साफ दिखती थी। चाची जब झाड़ू लगाने झुकती थी, तो उसके दूध देख कर मेरा लंड खड़ा हो जाता था।

मेरे मन में चाची को कैसे चोदू यही चलता था। उस टाइम एक रात में एक रूम में 2 बेड थे। एक पर चाची और उसका बच्चा सो रहे थे, एक पर मैं। और चाचा उस दिन काम से बाहर गए थे, और मम्मी दूसरे रूम में।

रात को मेरा लंड खड़ा हो गया, तो लगभग 2 बजे थे। मैंने लंड निकाला और हिलाने लगा, लेकिन चाची सो रही थी। तो मैंने जोर से आह की आवाज़ निकाली और देखा चाची थोड़ा हिली और मेरी तरफ देखी। तब मैं लंड हिलाने लगा, लेकिन चाची ने कुछ नहीं किया और सो गयी।

फिर मैंने एक प्लान किया। मैं रोज अपने अकेले रूम में ही सोता था, और चाची सुबह 5 बजे झाड़ू लगाने आती। फिर मैं अगले दिन सुबह 4 बजे जग गया, चाची का रूम फर्स्ट फ्लोर पर मेरे बगल वाला रूम था, और चाचा नीचे रूम में सोते थे। उनका उम्र ज्यादा थी, और उनको बीमारी भी थी। तो मुझे लगता था चाचा चाची को चोद नहीं पाते होंगे।

सुबह मैंने अपना लंड बाहर निकाल कर खड़ा कर लिया। फिर चाची के आने का वेट करने लगा। नवंबर का टाइम था, फैन ऑफ था। तो चाची ने जब अपना गेट खोला तो मेरा लंड खड़ा हो गया। फिर 5 मिनट बाद चाची रूम में आयी। गेट खोलते ही मेरा लंड देख कर बाहर चली गयी।

फिर बोली (मेरा नाम लेकर): सो गए क्या?

फिर गेट नॉक किया लेकिन मैं उठा नहीं। मेरा कोई रिएक्शन ना देख कर चाची चुप-चाप रूम में झाड़ू लगा कर चली गयी। मुझे लगा चाची मुझसे चुदवाने वाली नहीं थी। लेकिन कुछ दिन बाद मम्मी, चाचा और उनका बच्चा गांव चले गए 4 दिन के लिए। उस टाइम दीवाली थी, और मैं और चाची यहां रूके थे।

मुझे लगा अब लंड को चूत मिलेगी। फिर उस रात को खाना खाने के बाद मैं अपने रूम में चला गया, और एक पोर्न वीडियो लगा कर गेट के साइड फ़ोन करके और गेट आधा खुला छोड़ कर लंड हिलाने लगा। मुझे लगा इस बार चाची को चोद ही दूंगा। कुछ देर बाद चाची के आने की आवाज़ आयी, तो मैंने लंड हिलाना शुरु कर दिया। लेकिन इस बार भी चाची बिना कुछ बोले अपने रूम में चली गई तो मैं लंड हिला‌ के सो गया।

सुबह मैंने चाची का फोन देखा तो चाची ने रात में यूट्यूब पर चुदाई की वीडियो सर्च की थी। उनको ज़्यादा फोन चलाना नहीं आता था। तो मुझे ये अच्छा मौका लगा। उस रात मैंने डायरेक्ट चाची को चोदने का सोचा, लेकिन डर से कुछ किया नहीं।

अगले दिन रात को मैंने 2 भांग खा लिया, ताकि हिम्मत आ जाए। फिर रात को डिनर के बाद चाची टीवी देख रही थी। मुझे भांग का नशा हो गया था। मैं चाची के पास गया। मैंने उनके फोन में उनका सर्च किया हुआ चुदाई का वीडियो दिखाया, तो चाची बोली-

चाची: मैंने से सर्च नहीं किया।

मैं: चाची ये रात को ही सर्च हुआ है, और फ़ोन भी आपके पास ही था।

चाची: हां मैंने ही सर्च किया, लेकिन किसी को बताना मत।

तब मैंने डरते-डरते चाची को कहा: चाची यूट्यूब पर ये सब वीडियो नहीं मिलता। मैं आपको दिखा सकता हूं।

चाची मना करने लगी तो मैंने कहा: चाची घर में कोई नहीं है, किसी को पता नहीं चलेगा।

तो फिर चाची मान गयी। फिर हम दोनों बेड पर लेट कर वीडियो देखने लगे। कुछ देर बाद मेरा भांग का नशा ज़्यादा हो गया और लंड भी खड़ा हो गया। तब मैंने फ़ोन चाची के हाथ में दे दिया। फ़ोन में इंडियन सेक्स वीडियो चल रहा था। फिर मैंने अपना एक हाथ चाची के ऊपर रखा, तो उसने मेरा हाथ हटा दिया। लेकिन फिर से चाची के पेट पर हाथ रखा तो चाची बोली-

चाची: मैं अपने रूम में जा रही हूं।

फिर मैंने कहा: सॉरी चाची अब नहीं करूंगा।

लेकिन 10 मिनट बाद फिर से मैंने चाची के पेट पर हाथ रखा, और मैंने बोला-

मैं: कुछ नहीं करूंगा।

फिर दूसरा वीडियो लगाया। अब चाची मज़े से वीडियो देख रही थी। तो मैंने एक हाथ चाची के दूध पर एक हाथ उसकी चूत पर रखा। वो मुझे हटाने लगी, लेकिन मैंने उसको जोर से पकड़ लिया, और वो रुक गयी।

मैंने कहा: चाची एक बार चोदने दो। चाचा भी आपको नहीं चोदते होंगे।

चाची: नहीं किसी को पता चल जायेगा तो?

मैंने कहा: किसी को पता नहीं चलेगा।

फिर मैंने चाची की मैक्सी निकाल दी। चाची‌ अब सिर्फ ब्रा-पेंटी में थी।

मैंने कहा: चाची आप पहले क्यूं नहीं आये? मुझे कब से आपको चोदना था।

चाची: मन तो मेरा भी था, लेकिन डर लगता था किसी को पता चल जायेगा।

मैंने कहा: चाची आपको चाचा चोद पाते हे या नहीं?

चाची: तुम्हारे चाचा पहले बहुत चोदते थे, लेकिन अब उससे नहीं होता। उनको बहुत बीमारी है।

अब मैंने चाची की ब्रा निकाल दी, और उसके दूध दबाते हुए कहा: चाची कितने दिन से अपनी चूत में लंड नहीं लिया है?

वो बोली: 4 महीने पहले लिया था। लेकिन तुम चूत मत बोलो, बुर बोलो बुर। सुनने में मज़ा आता है।

मैंने कहा: ठीक है, आज आपकी बुर में अपना लंड पेलूंगा।

उसने अब मेरे कपड़े निकाल कर मेरा लंड पकड़ कर बोली: तुम्हारा चाचा से थोड़ा छोटा है, लेकिन ज़्यादा मोटा है।

मैंने कहा: आज आपको इसी छोटे मोटे लंड से मज़ा आएगा।

उसने कहा: ये वीडियो में लंड मुंह में लेते है और बुर चाटते है।

मैंने कहा: क्यूं आपने कभी लंड मुंह में नहीं लिया?

वो बोली: नहीं।

तब मैंने अपना लंड उसके मुंह में देने की कोशिश की।

तो वो बोली: नहीं, कैसा ही लगेगा। मैंने कभी नहीं लिया।

तब मैंने उसकी पेंटी निकाल दी और एक हाथ से दूध दबाने और एक हाथ से उसकी चुत में ऊंगली करने लगा। वो मज़े से मेरा लंड हिला रही थी। मैं चाची को लिटा कर उसकी चूत में सैनिटाइजर से साफ करके चूत चाटने लगा।

ये मेरा फर्स्ट टाइम था लेकिन पोर्न देख कर समझ आ गया था, कैसे करते है।

इसके आगे क्या हुआ, ये आपको कहानी के अगले भाग में पता चलेगा।

यह कहानी भी पड़े  दोस्त की मम्मी बड़ी निकम्मी


error: Content is protected !!