रियान अंकल 1 पार्ट 3

रियान अंकल 1 पार्ट 3
लेखक- सीमा
अब आगे की कहानी
परी की जीभ आखिरी बार पूरे लंड पर घूमने लगी और वो उसे चाट कर साफ़ करने लगी, लंड पूरा साफ़ होने के बाद उसने सुपारे को अपने होंठों में एक बार फिर से भरकर चूसा और फिर अपने होंठ उसपे दबाकर एक ज़ोरदार चुम्बन लिया।
कुछ देर आराम करने के बाद रियान ने परी को बेड पर लिटा दिया और उसकी छोटी सी कुंवारी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा।
कुछ ही देर में परी उत्तेजना से तड़पने लगी, रियान झुक कर परी की चूत को धीरे से चूम लिया और दरार को नीचे से ऊपर तक चाटा।
कई कई बार चाटा और समूची चूत को मुंह में भर लिया और झिंझोड़ डाला, आनन्द के मारे परी के मुंह से किलकारी निकल गई।
फिर ऊपर हाथ ले जाकर परी के दोनों मम्में पकड़ लिए और चूत का दाना अपनी जीभ से टटोलने लगा और इसे अपनी मुंह में लेकर चूसा और चूत की गहराई में जीभ घुसा कर प्यार से चाटने लगा।
रियान बहुत ही निष्ठा पूर्वक परी की शर्बती चूत चाटने लगा, वो बेचारी इतना सब कैसे सहन कर पाती, बदले में वो अपनी चूत उठा उठा कर रियान के मुंह पे मारने लगी।
अब रियान अपनी जीभ चूत की गहराई में रगड़ता हुआ चाटने लगा, मुश्किल से 5 ही मिनट बीते होंगे कि परी भलभला कर झड़ गई।
हाय हाय हाय रियान अंकल वो इतना ही बोल पाई और अपनी जांघें ताकत से रियान के सिर पर लपेट दीं और झड़ने लगी।
चूत रस का नमकीन स्वाद रियान के मुंह में आ गया, करीब एक दो मिनट तक वो यूं ही रियान के सिर को अपनी चूत पर जांघों से दबोचे रही फिर धीरे से पैर खोल दिए और चित लेट के गहरी गहरी साँसें लेने लगी।
रियान उसकी जांघ पर सर रखे हुए लेटा रहा, प्लीज अंकल , मेरे पास आओ परी की आवाज बदली बदली सी थी जैसे किसी कुएं के भीतर से बुला रही हो।
रियान ऊपर खिसक कर परी के पहलू में लेट गया और उसे अपने सीने से लगा लिया, वो मासूम अबोध किशोरी सी रियान से चिपक गई ।
और अपनी अंगुली से उनकी छाती पर जैसे कुछ लिखती रही।
क्या लिखा मेरे सीने पर? रियान ने उसका सिर प्यार से सहलाते हुए पूछा, म्मम्म कुछ नहीं परी बोली और रियान को अपनी बांहों में कस लिया।
कैसा लगा ये सब? रियान उसे चूमते हुए पूछा, परी बोली बहुत अच्छा बहुत ही प्यारा प्यारा, जब आप मेरी चूत चाट रहे थे ।
तो जैसे मेरे बॉडी में फूल ही फूल खिल गये थे, सारे बदन में रंगीन फुलझड़ियाँ सी झर रहीं थीं, मैंने सोचा भी नहीं था कि ये सब इतना मस्त मस्त लगेगा।
और अब कैसा लग रहा है ? रियान ने पूछा। लग रहा है मैं बहुत हल्की फुल्की सी हो गई हूँ, मेरे भीतर से कुछ बह के निकल गया है, जो मुझे हरदम बेचैन किये रहता था, परी ने बताया।
कुछ ही देर बाद रियान परी की छोटी छोटी टाइट चूचियों को पूरा मुँह में भरकर चूसने लगा, उसके छोटे छोटे निप्पल को दाँतों से काटने लगा।
कुछ 10 मिनट में ही रियान ने परी की दोनों चूचियों को काट कर चुस कर लाल कर दिया, अब परी भी पूरी गर्म होकर सिसियाने लगी।
दोनों पूरी तरह से गर्म हो चुके थे, रियान अपने लंड को परी की छोटी सी कुंवारी चूत पर रगड़ने लगा, परी अपनी कूल्हे ऊपर उठाकर लंड को जल्द से जल्द अंदर लेना चाहती है।
लेकिन रियान परी को ज्यादा से ज्यादा गर्म कर देना चाहता है ताकि उसको कम से कम दर्द हो, तब परी ने रियान के लंड को पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर दबाया।
तो रियान के लंड का सुपारा परी की चूत की फांकों को फैलाता हुआ छेद पर जा लगा, उस की कुँवारी चूत की फाँकें रियान के लंड के सुपारे के चारो तरफ फैलते हुए कस गई।
अपनी चूत के छेद पर रियान के लंड का गर्म सुपारा महसूस करते ही परी के बदन में मानो हज़ारो वॉट की बिजली कौंध गई हो, परी का पूरा बदन थरथरा गया।
परी की चूत से निकल रहे कामरस से एकदम गीली हो चुकी थी, परी ने अपनी आँखों को बड़ी मुश्किल से खोल कर रियान की तरफ देखा।
और फिर काँपती आवाज़ में बोली रियान अंकल धीरे-धीरे ही अंदर करना, मैं ये सब पहली बार कर रही हूँ, इसलिए मुझे दर्द होगा।
रियान अंकल आप चिंता मत करना, चाहे मुझे कितना भी दर्द हो, आप अपना लंड मेरी कुँवारी चूत में पूरा घुसाना, ये सब अपने ही मुझे बताया था में ऐसा ही करोगी।
अब रियान ने धीरे धीरे अपने लंड के सुपारे को परी की चूत के छेद पर दोबारा दबाना शुरू किया, जैसे ही उसके लंड का सुपारा परी की गीली चूत के छेद में थोड़ा सा घुसा।
तो परी एकदम सिसाक उठी, रियान के लंड का सुपारा परी की चूत की सील पर जाकर अटक गया, रियान भी इस रुकावट को साफ महसूस कर पा रहा था।
परी की चूत की झिल्ली, रियान के लंड के सुपारे से बुरी तरह अंदर को खिंच गई जिसके कारण परी के बदन में दर्द की एक तेज लहर दौड़ गई।
उसके चेहरे पर उसके दर्द का साफ पता चल रहा था,
रियान बोला क्या हुआ परी ? ज्यादा दर्द हो रहा है क्या?, परी बोली आहह हां अंकल दर्द हो रहा है।
रियान बोला बाहर निकाल लूँ ? परी बोली नहीं अंकल बाहर मत निकालना , यह दर्द तो हर लड़की को जिंदगी में एक ना एक बार तो सहन करना ही पड़ता है।
रियान अंकल आप बस धक्का मारो और मेरी चूत की सील तोड़ दो, रियान बोला अगर तुम्हें दर्द हुआ तो ? परी बोली मैं सह लूँगी आप मारो न धक्का।
रियान ने अपने आप को कम ताकत का शॉट मारने के लिए तैयार करने लगा, परी ने अपने दोनों हाथों से रियान के बाजुओं को कस के पकड़ लिया, और अपनी टाँगों को पूरा फैला लिया।
परी बोली अंकल रियान अंकल अब फाड़ दो मेरी इस चूत को और मुझे एक कांसिन लड़की से पूरी औरत बना दो चोदकर।
ये सुन कर रियान ने कुछ पल के लिए परी के चेहरे की तरफ देखा, जो अपनी आँखें बंद किए हुए लेटी हुई थी, उसने अपने होंठों को दांतो में दबा रखा था।
जैसे वो अपने आप को उस दर्द के लिए तैयार कर रही हो, उसके माथे पर पसीने की बूंदें उभर आई थी, रियान ने एक गहरी साँस ली और फिर अपनी कम ताकत के साथ एक धक्का मारा।
रियान के लंड का सुपारा परी की चूत की झिल्ली को फाड़ता हुआ अंदर घुस गया, रियान के लंड का टोपा परी की कुँवारी चूत के अंदर जा चुका था।
और एक जोर की चीख निकली हाय मम्मी मर गई हाई ए अहह अंकल आआआ बहुत दर्द हो रहा है, परी छटपटाती हुई अपने सर को इधर उधर पटक रही थी, उसे अपनी चूत में दर्द की तेज लहर दौड़ती हुई महसूस हो रही थी।
परी के इस तरह से दर्द के कारण बिलबिलाने से रियान भी घबरा गया, उसने परी की ओर देखा, उसकी बंद आँखों से आँसू बह कर उसके गालों पर आ रहे थे।
परी मैं बाहर निकाल लेता हूँ रियान ने परी की ओर देखते हुए कहा, परी अपनी आँखों को खोलते हुए बोली नहीं नहीं रियान अंकल बाहर मत निकालना।
रियान बोला पर परी बेटी मेरा लंड बहुत लंबा और मोटा है, परी बोली मैंने कहा ना मेरी परवाह मत करो आप अपना लंड मेरी चूत में डाल कर चोदते रहो।
रियान ने अपने लंड की तरफ देखा, जो परी की टाइट चूत के छेद में घुसा हुआ था, और फिर थोड़ी देर रुकने के बाद उसने एक बार फिर से झटका मारा।
इस बार उसके लंड का सुपारा उसकी चूत की दीवारों को फैलाता हुआ दो तिहाई अंदर जा घुसा, परी के मुंह से उन्ह्ह्ह ह्म्प्फ़्फ़ ओहह हहहह यस ओहह हहह यस ओहह उम्ह्ह अंकल ऽऽ अंकल ऽऽ योर डिक अंकल स्स्स्साऽऽ सो बिग अंकल।
परी ने दर्द से छटपटाते हुए अपने हाथों से रियान के बाजुओं को इतनी कस के पकड़ा कि उसके नाख़ून रियान के बाजुओं में गड़ने लगे।
रियान को अपने लंड के इर्द गिर्द परी की टाइट चूत की दीवारें कसी हुई महसूस हो रही थी, उसके लंड में तेज गुदगुदी सी होने लगी।
दोनों थोड़ी देर वैसे ही लेटे रहे, रियान अब धक्के लगाने की सोच ही रहा था कि परी ने रियान के शरीर को अपनी टाँगों और हाथों से कस के लपेट लिया ।
जिसकी वजह से रियान हिल भी नहीं पा रहा था,कुछ लम्हे दोनों यूँ ही लेटे रहे, फिर धीरे-धीरे परी का दर्द कुछ कम होने लगा और उसे अपनी चूत में अजीब से एहसास की संतुष्टि प्राप्ती होने लगी थी ।
अब परी का दर्द धीरे धीरे कम होने लगा था और उसने अपनी टांगों और हाथों को जो कि उसने रियान के शरीर पर कस रखी थी,उन को ढीला कर दिया।
जैसे ही रियान के शरीर पर परी की टाँगों और हाथों की पकड़ ढीली हुई, रियान ने अपना आधे से ज़्यादा लंड बाहर निकाला।
और जैसे ही परी की चूत से लंड बाहर खींचा और फिर से एक जोरदार झटके के साथ परी की चूत में पूरा की पूरा लंड पेल दिया।
धक्का इतना जबरदस्त था कि परी का पूरा बदन हिल गया, रियान का लंड परी की चूत को चीरता हुआ उस की बच्चेदानी से टकराया।
परी के मुंह से निकला आह शीईइ रियान अंकल उंह धीरे उन्ह्ह्ह ह्म्फ उम्म्ह अहह हय याह यस ओह यस ओह्ह उम्ह अंकल ऽऽ अंकल ऽऽ।
परी ने फिर से दर्द से अपने हाथों और पैरों को रियान के शरीर के ऊपर करके उसे अपनी तरफ दबा लिया और रियान से चिपक गई ।
जब परी को अपनी चूत की दीवार पर रियान के लंड के गर्मी महसूस हुई तो वो धीरे धीरे से शांत होने लगी।
फिर थोड़ी देर रुकने के बाद परी ने रियान से धीरे से कहा कि रियान अंकल अब अपने लंड को धीरे से बाहर निकालो मुझे कुछ देखना है।
यह कहते हुए परी ने फिर से अपने हाथो और पैरो की पकड़ ढीली की और रियान ने घुटनों के बल बैठते हुए धीरे धीरे अपने लंड को बाहर निकालना शुरू किया।
एक मज़े की लहर परी के रोम-रोम में दौड़ गई, उसे रियान के लंड का सुपारा अपनी चूत के दीवारों पर रगड़ ख़ाता हुआ साफ महसूस हो रहा था।
ओह्ह रियान अंकल मेरी चूत में आह आह बहुत मज़ा आ रहा है ओह्ह उम्ह्ह परी बोली।
रियान ने जैसे ही अपना लंड परी की चूत से बाहर निकाला तो उसकी आँखें फटी की फटी रह गई, रियान का लंड खून और परी के चूत से निकल रहे कामरस से सना हुआ था।
परी ने अपने पास रखे एक कपड़े को अपनी चूत पर दबा दिया ताकि उसमें से खून निकल कर बेडशीट पर ना गिरे, फिर उसने अपनी चूत को उस कपड़े से रगड़ कर साफ किया।
फिर रियान की तरफ देखा, जो कामुकता से उसकी तरफ देख रहा था,परी बोली क्या हुआ रियान अंकल आप ऐसे क्या देख रहे हो?
रियान बोला परी बेटी, तुम तो काफी समझदार हो, हाँ जानती हूँ परी खिलखिलाकर बोली, और वो फिर से उठ कर बैठ गई।
परी ने रियान के लंड को हाथ में लेकर उसे कपड़े से अच्छे से साफ किया, फिर उस कपड़े को साइड में रखते हुए, बेड पर लेट गई।
परी ने अपनी बांहों को खोल कर रियान को आने का इशारा किया, रियान परी के ऊपर झुक गया, परी ने उसे अपनी बांहों में कस लिया ।
परी रियान की आँखों में झाँकते हुए बोली आई लव यू रियान अंकल और फिर दोनों के होंठ फिर से आपस में मिल गए और दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे।
फिर से वही उम्ह्ह आहह उन्घ्ह की आवाजें उनके मुँह से आने लगी, रियान का लंड अब उसकी चूत की फांकों पर रगड़ खा रहा था.
रियान भी मस्ती में उसके होंठों को चूसता हुआ उसके निप्पलों को अपनी उंगलियों से भींचते हुए उसकी चूचियों को दबा रहा था।
परी की चूत में खलबली सी होने लगी, वो नीचे से अपनी कूल्हों को हिलाते हुए रियान के लंड को अपनी चूत के छेद पर सेट करने की कोशिश कर रही थी।
थोड़ी देर के बाद अचानक से रियान के लंड का सुपारा परी की चूत के छेद पर अपने आप जा लगा, परी का पूरा बदन एकदम से थरथरा गया।
उसने अपने होंठों को रियान के होंठों से अलग किया और फिर रियान की आँखों में देखते हुए मुस्कुराने लगी, फिर उसने अपने आँखें शरमा कर बंद कर ली, उसके होंठों पर मुस्कान फ़ैली हुई थी।
रियान ने भी बिना देर किए, धीरे – धीरे अपने लंड के सुपारे को परी की चूत के छेद में पेलना शुरू कर दिया, उंह रियान अंकल सीईईईई अहह बहुत मजा आ रहा है परी बोली।
रियान के लंड का सुपारा परी की चूत के छेद और दीवारो को फ़ैलाकर रगड़ ख़ाता हुआ अंदर बढ़ने लगा, परी के बदन में मस्ती की लहरे उमड़ रही थी।
उसका पूरा बदन उतेजना के कारण काँप रहा था, उसकी चूत की दीवारे रियान के लंड को अपने अंदर कस कर निचोड़ रही थी।
धीरे-धीरे रियान का पूरा लंड परी की चूत में समा गया, परी ने सिसकते हुए रियान को अपनी बांहों में कस लिया और उसकी पीठ को अपने हाथों से सहलाने लगी।
परी के मुंह से आह रियान अंकल और पेलो उंह आ सीईईई आह रियान अंकल और करो रूकन नही उंह आ सीईईई आह मुझे बहुत मज़ा आ रहा है।
रियान ने परी के मासूम चेहरे को अपनी तरफ घुमाया और फिर अपने होंठों को उसके पतले होंठों पर रख दिया, परी ने अपने होंठों को खोल दिया।
रियान ने थोड़ी देर परी के होंठों को चूसा और फिर अपने होंठों को हटाते हुए, उसकी जाँघों के बीच में घुटनों के बल बैठते हुए अपनी पोज़िशन सेट की और अपने लंड को धीरे-धीरे आगे पीछे करने लगा।
रियान के लंड के सुपारे को परी अपनी चूत की दीवारों पर महसूस करके एकदम मस्त हो गई, वो अपनी आँखें बंद किए हुए अपनी पहली चुदाई का मज़ा लेने लगी अह्ह्ह रियान अंकल हाईए मेरी चूत आह मारो और ज़ोर से मारो आह फाड़ दो अह्ह्ह आह।
धीरे-धीरे रियान ने अपने धक्कों की रफ्तार को बढ़ाने लगा, पूरे रूम में परी की सिसकारियों और बेड के हिलने से चर – चर की आवाज़ गूंजने लगी।
परी पूरी तरह मस्त हो चुकी थी, उसकी चूत उसके काम रस से भीग चुकी थी जिससे रियान का लंड चिकना होकर परी की चूत के अंदर बाहर होने लगा था।
परी भी अपनी कूल्हों को धीरे-धीरे ऊपर की ओर उछाल कर चुदवा रही थी, हाई ओईए अहह मेरी चूत अह्ह्ह्ह रियान अंकल बहुत मज़ा आ रहा है।
आह चोदो मुझे अह्ह्ह्ह और तेज करो मैं झड़ने वाली हूँ आह उहह उंघह अंकल ममैं गईए अहह, परी धीरे धीरे आहें भर रही थी।
रियान के जबरदस्त धक्कों ने कुछ ही मिनट में परी की चूत को पानी पानी कर दिया था, उसका पूरा बदन रह रह कर झटके खा रहा था।
रियान अभी भी लगातार अपने लंड को बाहर निकाल निकाल कर परी की चूत में पेल रहा था, परी झड़ने के बाद एकदम मस्त हो गई थी।
उसकी चूत से इतना पानी निकला था कि रियान का लंड पूरा गीला हो गया था, अब परी अपनी आँखें बंद किए हुए लेटी थी और लंबी लंबी साँसें ले रही थी।
कुछ देर बाद परी ने अपनी आँखें खोल कर रियान की तरफ देखा जो पसीने से तर बतर हो चुका था और अभी भी तेज़ी से धक्के लगा रहा था।
अब रूम में सिर्फ़ बेड के चरचराने से चू चू की आवाज़ आ रही थी, जैसे जैसे रियान झटके मारता, बेड हिलता हुआ हल्की हल्की चू चू की आवाज़ कर रहा था।
परी बेड के हिलने की आवाज़ सुन कर शरमा गई और अपने मुँह को साइड में घुमा कर मुस्कराने लगी, रियान अपने लंड को अंदर बाहर करते हुए बोला क्या हुआ ?
परी मुस्कुराती हुई बोली कुछ नहीं, रियान बोला फिर मेरी तरफ देख कर बोलो ना, परी बोली नहीं रियान अंकल मुझे शर्म आती है।
रियान ने अपने दोनों हाथों से परी के चेहरे को अपनी तरफ घुमाया, पर परी ने पहले ही अपनी आँखें बंद कर ली, उसके चेहरे पर शर्मीली मुस्कान फ़ैली हुई थी।
रियान ने परी के होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसते हुए अपने धक्कों की रफ़्तार बढ़ा दी और फिर कुछ ही पलों में उसके लंड में तेज सुरसुरी हुई।
उसका लंड परी की चूत में झटके खाने लगा और फिर वो परी के ऊपर निढाल हो कर गिर पड़ा, परी और रियान दोनों एक साथ झड़ कर शांत हो गए।
30 मिनिट बाद परी अपनी ब्रा पेंटी पहनकर बाथरूम चली गयी, उसके आने के बाद में भी बाथरूम में जा कर पेशाब की और रूम में आ गया।
जब रियान बाथरूम से बाहर आया तो उस ने देखा की परी बेड पर उल्टी लेटी हुई थी, रियान ने अपने लंड को खड़ा कर परी के ऊपर लेट गया ।
अपना लंड परी की चूत में डाल कर चोदने लगा और कई पोजिशन में उसे चोदा, परी को बहुत ज्यादा मज़ा आया क्योंकि अब परी को दर्द नहीं हो रहा था।
चूदाई के बाद उन दोनों ने कपड़े पहने और रियान ऑफिस आ गया और परी अपने रूम में सोने लगी।
दूसरे दिन भी जब मुरली और राजश्री काम पर चले गए , तब रियान ने परी को अपनी बांहों में भर लिया और दोनों चुदाई में वयस्त हो गए।
चूदाई के बाद दोनों रुके और फिर से चूदाई की उसके बाद दोपहर में वे दोनों शॉपिंग करने गए और परी ने काफी सारी चीजे खरीदी अपने लिए ।
रियान ने परी को एक हीरे की अंगूठी दी चूदाई की खुशी में फिर उसने परी को घर छोड़ा और रियान ऑफिस के लिए निकल गया ।
ऑफिस से घर आने के बाद रियान के घर में एक औरत और एक आदमी खड़ा था।
क्यूंकि रियान की वाइफ के मरने के बाद, उस ने सलमान को बॉडिंग भेज दिया तो वो इस घर में अकेला पड़ गया था।
एक काम वाली दिन में अति थी वो भी अब किसी के साथ भाग गई तो रियान के एक रिश्तेदार ने गांव से एक विदवा औरत को भेज दिया।
उस का नाम कांता और उमर 45 साल होगी, उस के कोई बच्चा नहीं हुआ था, उस घर में खाना बनाना और घर की सफाई करने के लिए रख लिया।
एक आदमी जो घर में खड़ा था वो रियान के एक रिश्तेदार का बेटा था और वो दिखने में एक पहलवान जैसा दिखता था ।
रियान ने उसे अपने बॉडीगार्ड और ड्राइवर की तरह काम पर रख लिया था, जो उस के साथ परछाई की तरह रहे।
उस का नाम अब्दुल खान था और उमर 40 की थी वो रियान के बचपन का दोस्त था, रियान को उस पर पूरा यकीन था।
अब्दुल की भी पूरी फैमली भी एक दुर्घटना में मर चुकी थी, इस लिए रियान ने उसे अपने घर में रहने के लिए बुला लिया।
दो दिन बाद रात को 2 बजे रियान की आंख खुल गई फिर उसे नींद नहीं आ रही थी तो वो अपने रूम की बालकनी में आ गया ।
उस ने देखा की अब्दुल के रूम की लाइट जल रही है तो रियान ने सोचा चलो अब्दुल से कुछ बात करेंगे तो टाइम पास हो जायेगा ।
जब रियान दरवाजे के पास पहुंचा तो उसे रूम से चूदाई की आवाज आ रही थी, रियान को पता था कि रूम में क्या हो रहा है।
क्योंकि रियान की वाइफ के मरने के बाद , उस ने पूरे घर में हिडन केमरे और हर रूम में दो केमरे लगवा दिए थे कि उस की गैर मौजूदगी में घर में क्या चल रहा है, उसे पता चल जाए।
रूम में जाकर उस ने अपने फोन में देखा की कांता गोड़ी बनी हुई थी और अब्दुल उस के ऊपर चढ़ का तेज स्पीड से उस की गांड मर रहा था।
रियान ने केमरे की पुरानी रिकोडिंग को चेक किया तो देखा की अब्दुल ने तो कल भी कांता की तीन बार चूत की चूदाई की थी।
और आज एक बार चूत चोद चुका है और अब उस की गांड मर रहा था, उनकी चूदाई में खलल न पड़े तो रियान ने फोन साइड में किया, वो रिलेक्स था तो उसे नींद आ गई।
सुबह 8 बजे रियान बिस्तर से उठा और मुंह हाथ धो ने के बाद ऑफिस के लिए तैयार होकर नीचे डाइनिंग टेबल पर नाश्ते के लिए आ गया।
अब हर रोज रियान और अब्दुल सुबह का नाश्ता एक साथ करने लगे है तो वह नाश्ते की टेबल पर नाश्ते का इंतजार कर रहे थे।
कुछ ही देर में कांता इन दोनों के लिए नाश्ता ले आई थी, रियान और अब्दुल ने नाश्ता करना शुरू कर दिया था, कांता टेबल के पास ही खड़ी थी।
रियान का पूरा ध्यान नाश्ते के बजाए कांता और अब्दुल पर था, उन दोनों के चेहरे पर चूदाई के बाद होने वाली खुशी साफ साफ दिखाई दे रही थी।
वहा एस लग रहा था कि कांता और अब्दुल आंखों और चेहरे के इशारे से एक दूसरे से बात कर रहे हो।
नाश्ता करने के बाद रियान और अब्दुल ऑफिस चले गए, 2 बजे खान खाने के बाद रियान के फोन पर परी का कॉल आया।
परी बोली मुझे नहाना हे और उस ने कॉल काट दिया, ये सुन कर रियान बहुत खुश हो गया था।
क्योंकि इस बार परी ने उसे खुद अपनी चूदाई के लिए बुलाया है, परी को रियान से चुदवाने में कोई परेशानी नहीं हो रही है।
रियान मुरली के घर पहुंच गया फिर उन दोनों ने अपने कपड़े उतारे एक साथ में बाथरूम में घुस गए, दोनों साथ में ही नहाये और वहा रियान ने परी की जबरदस्त चुदाई की।
इस चुदाई से परी बहुत गर्म हो गयी तो बोली रियान अंकल आप 5 दिन बाद रात में घर आ जाना , घर पर में अकेली ही रहूंगी।
क्यूंकि पापा और मम्मी नाना जी से मिलने जा रहे है अगले दिन शाम को लोटेगे, और मैं आपको एक सरप्राइज़ गिफ्ट देने वाली हूँ।
रियान बहुत खुश होता है और परी को बाथरूम में ही दोबारा कुतिया बना के पेलने लगता है, परी भी अपनी कूल्हे आगे पीछे करके रियान के हर धक्के का जबाब देने लगती है।
आधे घंटे की चुदाई के बाद रियान ने अपना सारा माल परी के मुँह में भर देता है जिसे परी चाट जाती है।
फिर वो दोनों फ्रेश होकर बाहर आ जाते हैं, और रियान ऑफिस चला जाता है, रात को रियान के बंगले में तीनों एक साथ खाना खा रहे थे।
रियान ने अब्दुल और कांता को देखा वो आपस में एसे इशारे कर रहे थे कि वो दोनों एक दूसरे से कह रहे हो कि चूदाई कैसे कैसे करेगे साथ में।
खाना खाने के बाद कांता सब के लिए कोल्ड्रिंक ले आई रियान ने कूल्ड्रिंक पीते पीते कांता और अब्दुल से कहा।
आप मेरे साथ बने रहिए और इस रियान अंकल की सेक्स कहानी पर किसी भी प्रकार की राय देने के लिए आप मेल पर मुझसे संपर्क कर सकते हैं.
[email protected]

यह कहानी भी पड़े  हॉट सीमा Xxx की चूदाई कहानी 7


error: Content is protected !!