रियान अंकल 1 पार्ट 13

रियान अंकल 1 पार्ट 13
लेखक- सीमा
अब आगे की कहानी
रियान ने आंखों से इशारा किया मुंह में लो तो वह मुस्कराते हुए लंड को साफ करने लगी, उसने उसे साफ करने से मना किया और बोला कि ऐसे ही मुंह में लो।
उसने बिना कुछ बोले ही हाथ से अपने बाल पीछे करते हुए जीभ बाहर निकाली और लंड की मुंड पर धीरे-धीरे जीभ फेरने लगी।
सीमा रियान के लंड में लगे हुए अपनी चूत के पानी को जीभ से चाटने लगी, काफी देर तक चाटने के बाद जब लंड उनकी चूत के पानी से साफ हो गया।
तो सीमा बोली आज से पहले मैंने ऐसे इस तरीके से तेल मिक्स चूत का पानी मुंह में नहीं लिया है, बहुत ही मादक और टेस्टी है।
यह कहते हुए सीमा उसके बाजू में लेट गई और अपने दोनों पैर फैलाकर उसकी आंखों में देखने लगी, वो देख कर समझ गया कि सीमा मुझसे क्या कहना चाहती है।
रियान उठ कर उसके पैरों के बीच में आया और गांड के नीचे तकिया रखकर अपनी जीभ उनकी चूत पर घुमा दी जिससे सीमा की मादक सिसकारी निकल गई।
फिर रियान अपनी जीभ को चूत के छेद में डालकर तेजी से अंदर बाहर करने लगा, सीमा फिर से गर्म होने लगी और झड़ने के करीब आ गई।
तो सीमा ने जल्दी से अपनी कमर हवा में उठाई और अपने दोनों हाथों से रियान के सिर को खुद अपनी चूत पर दबाया और पानी छोड़ दिया।
सीमा की चूत का कुछ पानी रियान के मुंह में आया और वो स्वाद लेने लगा, चूत का कुछ पानी उसके होंठों और ठोड़ी पर लग गया।
फिर सीमा ने अपने चूतड़ों को एकदम से नीचे धड़ाम से बेड पर पटक दिया और जल्दी हाथ के सहारे से उठ कर बैठ गई।
उसने अपने दोनों हाथों से रियान के चेहरे को पकड़ा और अपनी जीभ निकालकर जहां जहां अपनी चूत का पानी उसके चेहरे पर लगा हुआ था, चाट कर साफ़ कर दिया।
रियान बोला चल कुतिया बन जा,जब वह कुतिया बन गई तो उसकी नज़र सीमा की चमकती हुई गांड के छेद पर पड़ी, उसका लंड उसकी गांड में घुसने के लिए लालायित हो गया।
रियान ने कुछ तेल अपने लंड पर लगाया और कुछ तेल उसकी गांड के ऊपर लगाया और उंगली करने लगा, उसका मकसद था कि जिससे तेल अंदर तक चला जाए।
सीमा बोली अंकल क्या कर रहे हो, वहां पर नहीं करना है, रियान बोला मैंने तुमसे अभी कुछ देर पहले गांड मांगी है और तुमने भी कहा है कि हां कर लेना।
तो अब अपनी बात से क्यों पीछे हट रही हो ? सीमा बोली वह तो मैं उस समय होश में नहीं थी, मैं अपनी कुंवारी गांड अपने पति को मारने दूंगी, तुमको क्यों मारने दूंगी ?
रियान को उसकी बात सुनकर बहुत बुरा लगा और गुस्सा भी बहुत आया तो वो बाजू में लेट गया, सीमा बोली क्या हुआ तुमको ? तुम पलंग पर क्यों लेट गए।
मेरे साथ सेक्स नहीं करना क्या ? रियान बोला मैंने कब तुम्हें मना किया है सेक्स करने के लिए यह मेरा लंड खड़ा हुआ है,ओर मैं बेड पर लेटा हुआ हूं।
इसे अपनी चूत में लो और झटके मार कर अपना पानी निकाल दो, जब तुम्हारा काम हो जाएगा तो मैं भी नहा धोकर अपने ऑफिस पर चला जाऊंगा।
फिर सीमा रियान के ऊपर चढ़कर लेट गई और किस करते हुए बोली लगता है तुम मेरी आज गांड मारकर ही रहोगे, नहीं मानोगे, मगर यार अंकल गांड मरवाने में बहुत दर्द होता है।
ऐसा मैंने पोर्न मूवीज में बहुत देखा है, रियान फिर भी कुछ ना बोला, फिर सीमा बोली क्या अंकल आप नाराज है ? नहीं मानोगे ? अपना लंड मेरी गांड में ही डालोगे तब ठीक है।
वो बिना कुछ बोले फिर रियान के सामने कुतिया बन गई, और सीमा बोली लो रियान अंकल मैंने अपनी कुंवारी गांड तुम्हारे हवाले कर दी है, अब प्यार से मारो या बेदर्दी से चाहे चोदो या फाड़ो यह गांड तुम्हारी है।
रियान खड़ा हुआ और सीमा को अपनी ओर खींचा और उसकी गांड को बेड के किनारे पर कर लिया, लंड को गांड के छेद पर सैट कर दिया।
तभी सीमा फिर से बोली अंकल, धीरे करना ये गांड है चूत नहीं है, मैंने चूत में तो आपका लंड ले लिया, पर मुझे नहीं लगता मेरी गांड आपके इस लंबे मोटे लंड को ले पाएगी।
मेरी गांड एकदम सीलपैक है, मुझे बहुत दर्द होगा प्लीज़ अंकल धीरे धीरे करना, रियान को सीमा पर थोड़ी दया आ गई और उसने धीरे धीरे करके लंड के टोपे को गांड में डालने की कोशिश की।
चिकना होने के कारण थोड़ी ताकत लगाई तो टोपा गांड़ के छेद में घुस गया, सीमा चिल्ला पड़ी आआहह हहहमम धीरे धीरे डालो प्लीज़ नहीं तो मैं मर जाऊंगी।
रियान धीरे धीरे लंड के टोपे को अन्दर बाहर करने लगा, उसे बहुत मजा आ रहा था टोपे को अन्दर बाहर करने में, सीमा के मुँह से भी कामुक आवाज़ें निकल रही थी आआहह उम्म आहह आहह।
रियान बोला मजा आ रहा है सीमा ? सीमा बोली हां, पर थोड़ा और अन्दर डालो पर ज़रा धीरे धीरे पेलना, उसने लंड पर थोड़ा दबाव डाला और लंड को और अन्दर तक डाल दिया।
अब रियान का लंड सीमा की गांड में 4 इंच तक घुस गया था, सीमा की फिर से चिल्लाई आआहह रुक जाओ कमीने, हरामी और अंदर मत डालो।
रियान रुक गया और लंड को 4 इंच तक ही धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा, 2 मिनिट बाद सीमा का दर्द थोड़ा शांत हुआ तो वो फिर बोलीं कि अंकल थोड़ा और अन्दर डालो।
रियान ने फिर से थोड़ा ज़ोर लगाया और इस बार अपना लंड उसके छेद में 6 इंच तक घुसा दिया, सीमा चीख़ पड़ी आअह उफ्फ याह उह एई ईईईई एई एईई ईई उफ फ्फ्फ़।
रियान रुक गया, जब सीमा शांत हुई तो बोली कितना घुसा है अब तक ? रियान ने कहा कि सिर्फ़ सड़े तीन इंच बचा है।
तो सीमा बोली चूदाई करते करते घुसा दे इसे भी और आज फाड़ दे मेरी गांड को भी, ये सब सुन कर वो जोश में आ गया और धीरे धीरे उसकी चूदाई करने लगा।
3 मिनिट की चूदाई के बाद रियान ने एक ज़ोर का धक्का लगा दिया, अब उसका पूरा सड़े 9 इंच का लंड सीमा की गांड में जड़ तक समा गया था।
धक्का लगते ही सीमा ज़ोर ज़ोर से चिल्लाती हुई रोने लगी आआहहह ऊईई अंकल ने गांड फाड़ दी मादरचोद हरामी ऊऊईई माँ मर गई आआहह।
रियान लंड को गांड़ में डाले ही थोड़ा रुक गया और कुछ पल बाद लंड को थोड़ा थोड़ा अन्दर बाहर करके आराम आराम से धक्के लगाने लगा।
सीमा को दर्द से थोड़ी राहत मिली, तो उसने लंड को गांड से बाहर निकाल लिया और नीचे झुक कर अपनी जीभ से उनकी चूत को बड़े प्यार से चाटने लगा।
थोड़ी देर चाटने के बाद रियान ने फिर से लंड को गांड़ के छेद पर सैट किया और इस बार अपनी पूरी ताकत से एक ही धक्के में लंड को गांड में पूरा उतार दिया।
धक्का लगते ही सीमा ज़ोर से चिल्लाईं अअह ऊऊई माँ अंकल आज तो आप मुझे मार कर ही दम लोगे , रियान ने धक्के लगाना शुरू कर दिए और अपने सड़े 9 इंच के लंड को सीमा की गांड के छेद में पूरा अन्दर बाहर करने लगा।
और कुछ ही देर में सीमा के मुँह से मस्त आवाज़ें निकल रही थी आआहह आह ओह मजा आ गया ये सब सुनकर वो जोश में आ गया और उसने अपनी रफ़्तार तेज़ कर दी।
फिर सीना को भी गांड मरवाने में मज़ा आने लगा और वो खुद ही अपनी कमर आगे पीछे करने लगी, फिर रियान ने पोजिशन बदली और उसकी गांड़ को मारने लगा।
अब तो सीमा खुद कूल्हे ऊपर उठा उठा कर लंड लेने लगी, ऐसे ही रियान ने उसकी गांड क़रीब 10 मिनट तक मारी पर वो अभी भी झड़ने वाला नहीं था।
कुछ देर बाद रियान ने लंड को गांड से बाहर निकाल लिया और सीमा को बेड पर फिर से कुतिया बना कर उसके पीछे से लंड को गांड में डाल दिया।
रियान ज़ोर ज़ोर से गांड को अन्दर तक पेलने लगा, काफी देर की धक्का पेल गांड चुदाई के बाद वो चरम सीमा पर पहुंच गया।
तो रियान ने लंड को गांड से बाहर निकाल कर सीमा की चूत में डाल दिया और अपनी पूरी ताकत से धक्के लगाने लगा।
कुछ तूफानी धक्कों के बाद रियान सीमा की चूत में ज़ोरदार धमाके के साथ झड़ गया और उसकी चूत को अपने माल से पूरा भर दिया।
रियान ने लंड को बाहर निकाला और सीमा के मुँह में डाल दिया, उसने लंड को चूस चूस कर पूरा साफ़ कर दिया, और वो थक कर उसके ऊपर ही ढेर हो गया।
सीमा ने रियान को अपनी बांहों में भर लिया और बोली वाह आज मेरी क्या मस्त चुदाई की है रियान अंकल मुझे बहुत मज़ा आया।
वो दोनों थक कर 30-35 मिनट तक ऐसे ही लेटे रहे, फिर सीमा ने रियान के लंड को धीरे धीरे रगड़ने लगी, जिससे लंड फिर से तन गया।
खड़े लंड को देख कर सीमा बोली लगता है आपके लंड को मैं पसंद हूँ, आपका लंड अभी और मज़े लेने चाहता है, और वो सामने घोड़ी बन गई।
रियान ने सीमा के चूतड़ पर चपत मारी और कहा कि वो उससे और दूसरी पोजिशन में चोदना चाहता है, और रियान बेड पर सीधा लेट गया।
सीमा उसके ऊपर चढ़ गई और अपने एक हाथ से लंड को चूत पर सैट करके धीरे धीरे पूरा लंड चूत में डालकर ऊपर नीचे होकर लंड पर कूदने लगी।
कुछ देर बाद सीमा ने अपनी रफ़्तार तेज़ कर दी और ज़ोर ज़ोर से लंड पर कूदने लगी, उसके मुँह से मस्त आवाज़ें निकलने लगीं आआहह ओहह ।
क़रीब 7 मिनट तक लंड पर कूदने के बाद सीमा ने लंड को चूत से बाहर निकाल कर बेड पर लेट गई रियान उसके ऊपर आकर चूत को चोदने लगा।
10 मिनिट बाद अब सीमा ने रियान को लिटाया और उसके लंड को अपनी गांड में डाल लिया और फिर से लंड पर कूद कूद कर गांड में लंड को अन्दर तक लेने लगी।
सीमा ने अपनी रफ़्तार तेज़ कर दी और ज़ोर ज़ोर से लंड पर कूदने लगी, कोई 5 मिनट की उछल कूद की गांड चुदाई के बाद थक कर लंड पर ही बैठ गई।
सीमा का मुँह पसीने से भर गया, तो रियान ने सीमा को अपनी ओर झुका लिया और नीचे से उसकी गांड को थोड़ा ऊपर करके नीचे से धक्के मारने शुरू कर दिए।
थोड़ी देर बाद उसने अपनी स्पीड तेज़ कर दी और ज़ोर ज़ोर से गांड की ठुकाई करने लगा, अब सीमा के मुंह से मादक सिसकारियां निकल रही थी।
कुछ मिनट तक सीमा की गांड की अच्छे से ठुकाई करने के बाद रियान ने लंड को गांड से बाहर निकाला और उसकी चूत में घुसा दिया।
अब रियान ज़ोर ज़ोर से चूत की ठुकाई करने लगा और चूत ठुकाई के बाद फिर से लंड को बाहर निकालकर उसकी गांड में डाल दिया।
ऐसे ही रियान ने सीमा के दोनों छेदों की मस्त ठुकाई की और चूत में झड़ गया, सीमा की चूत के साथ साथ आज गांड की सील तोड़कर गांड को भी अच्छे से खोल दिया।
रियान बेसुध होकर बेड पर ही लेट गया, सीमा भी उसके बग़ल में ही लेट गईं और उसके होंठों पर किस करती हुई कहने लगीं वाह मेरी जान, मान गई आज आपको मैं।
आपने आज मेरी बहुत ज़बरदस्त ठुकाई की है, जो आपने आज मेरी गांड की सील तोड़ चुदाई की है, उसमें मुझे बहुत मज़ा आया।
आराम करने के बाद वो दोनों नंगे ही बाथरूम में एक साथ साफ करने गए और सीमा ने रियान के लंड को साबुन लगा कर अच्छे से धोकर पूरा साफ़ कर दिया।
रियान ने भी सीमा की चूत और गांड में उंगली डाल डाल कर अन्दर तक पूरी गांड चूत साफ़ कर दी, फिर वो दोनों बाथरूम से बाहर आ गए।
उसके बाद सीमा ने अपने कपड़े पहन लिए और रियान की तरफ देखते हुए बोली में अपने घर पर जा रही हूं।
रियान ने कहा कि अभी तो 12 ही बजे है, तुम्हारी छुट्टी तो 1 बजे होती है और डेढ़ बजे तुम घर पहुंचती हो, सीमा हंस कर बोली तो क्या करने का मूड है अब ?
ऐसा कह कर रियान बेड के किनारे पर आकर बैठ गया और अपने दोनों पैरों को ज़मीन पर रखकर सीमा को अपनी ओर खींचा और सीमा उसकी दोनों टांगों के बीच में आकर बैठ गई।
और लंड को हाथ में पकड़कर हिलाने लगी और लंड पर जीभ फिराने लगी, कुछ ही पल में रियान का लंड फिर से तन कर साँप की तरह खड़ा हो गया।
सीमा ने लंड को मुँह में लेना चालू कर दिया, 5 मिनट तक उसने रियान का लंड अच्छे से चूसा और फिर खड़ी होकर अपने कपड़े उतार कर फिर से नंगी हो गई।
रियान ने सीमा को फिर से बेड पर ही कुतिया बना दिया और पीछे से चूत में धीरे धीरे पूरा लंड घुसा दिया, वो ज़ोर ज़ोर से धक्के लगा कर लंड को पूरा अन्दर बाहर करने लगा।
ऐसे ही क़रीब 5 मिनट तक चूत की ठुकाई की और चूत से लंड निकाल कर गांड में डाल दिया, अब गांड की भी खूब ठुकाई की, फिर लंड गांड से निकाल कर चूत में डाल दिया।
रियान ने लंड की रफ़्तार बढ़ा दी और चूत को ज़ोर ज़ोर से पेलने लगा, कुछ मिनट की ज़ोरदार धक्का पेल चूत चुदाई के बाद सीमा की चूत ने दूसरी बार रस छोड़ दिया।
रियान का पूरा लंड सीमा की चूत के रस से लथपथ हो गया था, तो उसने लंड को चूत से बाहर निकाला और लंड को फिर से उसकी गांड के छेद में डाल दिया।
इस बार रियान ने गांड को खूब पेला और अब वो झड़ने को हो गया, तो स्पीड बढ़ा दी और 15-20 ज़ोरदार धक्कों के साथ उसने अपना सारा माल सीमा की गांड में छोड़ दिया।
रियान ने लंड को गांड से बाहर निकाला और सीमा के बग़ल में लेट गया, फिर सीमा ने खड़े होकर अपने कपड़े पहन लिए और लंड का एक ज़ोर का चुम्मा लेकर अब्दुल के साथ घर चली गई।
दो दिन बाद रियान ऑफिस में बैठ कर काम कर रहा था, तो दोपहर में उससे मिलने उसका एक पुराना दोस्त अजय उससे मिलने आया हुआ था।
तो रियान ने उसे मुलाकात की, उसने अजय से कहा तुम और भाभी जी तो बहुत टाइम से दिल्ली में जॉब कर रहे हो, और इस शहर में कैसे आना हुआ?
अजय बोला मैने और स्वाति ने जॉब छोड़ दी है और खुद का ड्रेस डिजाईन का बूटिक डालना चाहता हूं , इसलिए तुम से मिलने उसी काम की बात करने आया हुं।
तो अजय ने अपना पूरा काम का प्लान रियान को समझाया और उसे कहा की इस बिजनेस में हम 60 40 % के मालिक होगे ।
रियान ने उसे काल रात को अपने घर डिनर के लिए बुलाया, रात को घर पहुंच कर उसने अब्दुल, हमीद और कांता से कहा कल डिनर पर उस का दोस्त आ रहा है।
तुम को क्या क्या खाने में बनाना है, उसके बाद रियान ने उन तीनों से कहा की तुमे मेरी लिए एक काम करना होगा क्या तुम तीनों वो काम कर दोगे क्या?
तो वो तीनों एक साथ हां बोले फिर रियान ने उन तीनों को बताए कि उने क्या क्या करना है ये सुन कर अब्दुल ने कांता के चूतड़ पर एक चपत लगाई।
और बोला ये सब तो कांता के बाईं हाथ का खेल है, इस के बाद सब सोने चले गए, अगले दिन रात में डिनर के बाद रियान अजय को एक कमरे में ले आया ।
कमरे में फुल रोशनी थी बेड के पास एक सोफा पर रियान और अजय बैठकर बाते करने लगे, थोड़ी देर में कांता, अब्दुल और हमीद बेड पर आकर नंगे हो गए।
अजय ने रियान से पूछा ये सब क्या हो रहा है ?, तो रियान ने उसे सब देखने को कहा, कुछ ही देर में कांता की चूदाई अब्दुल और हमीद करने लगे।
15 मिनिट बाद रियान ने देखा की अजय का लंड पैंट में खड़ा हो गया है, तो उसने अजय से कहा अजय तुम भी कांता की चूत और गांड़ चोद सकते हो।
उसकी बात सुनकर अजय ने देर न करते हुई वो भी कांता को चोदने लगा, जब अजय, अब्दुल और हमीद ने कांता को चोद लिया ।
उसके बाद वो तीनों कमरे से बाहर चले गए, तो रियान ने अजय से कहा की में जिस औरत और लड़की के साथ सेक्स करता हु उसे रखैल बना लेता हु।
और उसके बाद मेरा जब मन करता है उसे चोदता हुं, और जिससे चाहता हु उस से उसे चुदवता हुं, और में उसका पूरा ध्यान रखता हु कि ये बात बाहर किसी को मालूम न पड़े।
इसके बाद रियान बोला मुझे तुम्हारा आइडिया पसंद आया में इस काम में तुम ने जो रकम बताई है उससे 4 गुना ज्यादा रकम को इस काम में लगाउगा।
लेकिन में रकम पूरी लगा रहा हु तो मुनाफे में, मैं 70% और तुम 10% और भाभी को 20% का हिस्सा मिलेगा, ये सुनकर अजय बहुत खुस हो गया।
फिर रियान बोला कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है, लाइफ को खुश हाल बनाने के लिए समझोते करने पड़ते है, ये कहकर रियान अपने कमरे में चला गया।
उसके बाद अजय अपने घर आ गया वो रियान की बात का मतलब समझ गया था, रियान उसकी बीबी स्वाति को वो अपनी रखैल बनाना चाहता था।
अजय सोच रहा था कि लाइफ में अच्छा मौका मिल रहा है, मुझे कैसे भी , कुछ न कुछ करके स्वाति को इस काम के लिए राजी करना ही होगा।
अजय ने डरते-डरते स्वाति से उसके लिए बात की तो उसे सीधे धमकी सुनने को मिल गई कि अगर मैं किसी दोस्त को इस नियत से घर भी लाया तो समझो मेरा पत्ता यहाँ से कटा।
फिर एक दिन बाद अजय ने फिर स्वाति से बात की तो जैसे तूफ़ान ही आ गया, वह तो ऐसे भड़की जैसे उसने पता नहीं कौन सा गुनाह कर दिया।
छि: छि: और वो उसे लटी-पटी सुना कर ऐसे गई कि एक दिन तो अपनी शकल ही न दिखाई और उसके अगले दिन मायके चली गई थी।
लेकिन कहते हैं न एक बार जब चूत को लंड की लत लग गई तो चुदाई का तय वक़्त होते ही उसमें अपने आप ‘चुल्ल’ मचने लगती है और फिर कुछ सही गलत, अच्छा बुरा नहीं दिखता।
अजय उसी समय का इंतजार कर रहा था, और दूसरी तरफ इस सब बातों से अनजान रियान अपने काम और पांचों की चूदाई में बियस्त था।
15 दिन जैसे तैसे गुज़ार कर आखिरकार फिर स्वाति अजय के पास वापस आ ही गई, लेकिन रियान से चुदने और उसकी बात को मानने को अब भी तैयार नहीं थी।
अजय ने अपनी जीत होते देख, उसने भी इस प्रकरण को एंड नहीं किया और उसे लैपटॉप और मोबाइल पर दो मर्द और एक औरत की चुदाई वाली फ़िल्में दिखा-दिखा कर उस अकूत आनन्द के बारे में बता-बता कर उसकी कल्पनाओं को अपने मनमाफिक उड़ान देता रहा।
कहते हैं न कि बात चाहे कितनी भी गन्दी और घिनौनी क्यों न हो लेकिन बार-बार कानों में पड़ती है तो मन को उसे सुनने की आदत हो जाती है।
और फिर विरोध भी क्षीण हो कर ख़त्म हो जाता है और ऐसा ही स्वाति के साथ भी हुआ, जो बात पहली बार सुन कर वो आगबबूला हो गई थी।
करीब तीस दिन के बाद उसी बात पर उसने यह पूछ लिया कि वो सब पूरी दुनिया को बताएंगे तो नहीं ? अजय को तो जैसे मुँह-मांगी मुराद मिल गई।
अजय ने स्वाति को भरोसा दिलाया कि वो मेरा खास दोस्त है और बेहद भरोसे का इंसान है और वैसे भी वो हमारे वूटिक में पार्टनर बनने वाले है।
फिर अजय ने यह खुशखबरी रियान को सुनाई और बताया तुम्हे मेरे साथ मिलकर पहली बार चुदाई करनी होगी, वो भी इसे सुन कर प्रसन्न हो गया, और सोचने लगा कि चलो उसके लंड के लिए एक और चूत और गांड़ की जुगाड़ हो गई ।
अजय ने स्वाति को पूरी स्कीम समझाई और कहा की तुम साड़ी नही पहनना बल्के टाइट सलवार कुर्ती को पहनना और दस बजे उसने रियान को बुला लिया।
अजय ने रियान को कॉल कर पहले ही समझा दिया था कि किसी गैर मर्द के साथ उसकी बीबी का ये सब पहला अनुभव है, रियान बोला में सब समझता हुं।
रियान जब आया तो वो दोनों नीचे ही बैठे थे प्रथम दृष्टया देख कर स्वाति की आँखों में डर, अरुचि, मज़बूरी या अप्रियता के भाव न आए, बल्कि उसकी आँखें शर्म से झुक गईं।
तो अजय को तसल्ली हुई कि अब ऐन मौके पर स्वाति बिदकेगी नहीं, उधर स्वाति को देख कर रियान भी गदगद हो गया, इसमें भी कोई शक नहीं कि स्वाति ज़बरदस्त माल थी।
बहरहाल, स्वाति को अजय नीचे ही छोड़ कर उसे ऊपर के कमरे में ले आया और वो इधर-उधर की बातें करने लगे, रियान सब कुछ समझ रहा था।
कि स्वाति को मानसिक रूप से तैयार होने के लिए थोड़ा और समय चाहिए, करीब पंद्रह या बीस मिनिट के बाद अजय ने उसे आवाज़ देकर ऊपर बुलाया।
स्वाति ने उसकी पुकार का उत्तर तो दिया, लेकिन ऊपर न आई, उसने दो बार और बुलाया लेकिन वह ऊपर न आई तो उसने रियान से कहा नीचे ही चलना पड़ेगा भाई ।
इसके बाद इस प्रोग्राम के लिए अजय रियान के साथ नीचे पहुँचा तो स्वाति अपने कमरे में पहुँच चुकी थी, रियान ने अपने बैग को लिया और अजय के पीछे चल दिया।
जिस वक़्त वो दरवाज़े की चौखट पर पहुँचे वह अपने बेड के पायताने बैठी अपने पांव के अंगूठे से फर्श को कुरेद रही थी और चेहरा नीचे झुका रखा था।
उसका दुपट्टा कायदे से सीने पर व्यवस्थित था, अजय उसके पास आ बैठा और उसे अपने कंधे से लगा कर उसका सर सहलाने लगा।
अजय के इशारा करने पर रियान भी स्वाति के दूसरी तरफ उसके पास आ बैठा और उसकी वजह से वो जैसे और भी सिमट गई।
अजय ने उसके पहलू से हाथ अन्दर घुसा कर उसकी एक बूब्स सहलाना शुरू की और दूसरे हाथ से उसका चेहरा थाम कर उसके होंठ चूसने लगा।
रियान ने यह देख उसकी जाँघ पर हाथ रखा लेकिन उसने झटक दिया, उसने अजय को देखा तो उसने आँखों के इशारे से उसे कोशिश करते रहने को कहा।
फिर रियान ने अपने हाथ से स्वाति का दुपट्टा हटा कर अलग फेंक दिया, और फिर से उसकी जाँघ पर हाथ रखा स्वाति ने फिर उसका हाथ झटकना चाहा।
लेकिन इस बार अजय ने थोड़ी फुर्ती दिखाते हुए अपने दोनों हाथ उसकी बगलों में घुसा कर ऊपर किए तो उसके दोनों हाथ उसके कन्धों पर आ गए।
और फिर उसने अपने होठों से उसके होंठ समेट लिए और उसकी ज़ुबान को चूसने लगा, अब रियान थोड़ा और सरक के उससे एकदम सट गया।
और सीधे हाथ से उसकी जाँघें सहलाते हुए, उलटे हाथ से उसकी कमर थाम ली, इस नए स्पर्श से स्वाति एकदम से सिहर गई, उसकी झुरझुरी उन दोनों ने महसूस की।
आप मेरे साथ बने रहिए और इस रियान अंकल की सेक्स कहानी पर किसी भी प्रकार की राय देने के लिए आप मेल पर मुझसे संपर्क कर सकते हैं.
[email protected]

यह कहानी भी पड़े  रियान अंकल 1 पार्ट 8


error: Content is protected !!