हॉट सीमा 2 Xxx की चूदाई कहानी 13

हॉट सीमा 2 Xxx की चूदाई कहानी 13
मेरी पिछली कहानी आई थी
हॉट सीमा 2 Xxx की चूदाई कहानी 12
अब आगे की कहानी
मैं सोच कर ही अन्दर से उसके लिये प्यार महसूस करने लगी, मैंने अजू को अपने पास बुलाया और उसे गले लगा कर रोने लगी।
अजू- दी, आप प्लीज रोओ मत, मैंने कुछ नहीं किया सच में… प्लीज आप माफ कर दो, मैंने ऐसे आपको छुआ।
मुझे उसकी इस बात से और रोना आ गया ये सोच कर कि मेरी गलती के लिये वो सॉरी बोल रहा है।
अजू – बताओ ना दी, क्या हुआ?
मैं- कुछ नहीं।
अजू- आप सोच रही हो कि मैं किसी से कहूंगा कुछ.. आपके बॉय फ्रेंड के बारे में और आप ड्रिंक की इसके बारे में?
मैं और जोर से रोने लगी और अजू को कस कर पकड़ लिया।
अजू – प्लीज दी, आप चुप हो जाओ, मैं किसी से कुछ नहीं कहूंगा, प्रोमिस! और आप जैसे चाहो रह सकती हो, ये आपकी लाइफ है दी।
मैं अजू की इस बात से बहुत खुश हुई और अब अजू सोफे पर बैठ गया और मैं उसके पास बैठ गई।
अजू ने मुझे पानी पिलाया और दुबारा चाय बनाने के लिये चला गया।
फिर मैं नहाने चली गयी और नहा कर अपने बैडरूम में कपड़े पहनने के लिये जाने लगी।
मैं पेंटी को हाथ में लेकर दर्पण में खुद के जिस्म को देख कर सोच रही थी कि कल रात में कितना कुछ हो गया।
मैं दरवाजा लॉक करना भूल गयी थी, इतने देर में अजू चाय लेकर अन्दर आ गया और मुझे देख कर शॉक्ड हो गया फिर वापिस जाने लगा।
मैं- रूको अजू ।
अजू ने अपनी आँखें बंद की हुई थी, हाथ में चाय का ट्रे लेकर खड़ा था और सॉरी बोल रहा था।
मैंने ट्रे लेकर बैड पर रख दिया और बोली- एक शर्त पर माफ करूंगी।
अजू – दी, आप माफ कर दो, मुझे हर शर्त मंजूर है।
मैं झुकी और अजू के हाथ में ब्रा देकर बोली- बिना मुझे देखे इसे मुझे पहनाओ जैसे रात को पहनाई थी।
अजू – पर दी..
अजू कुछ बोलता उससे पहले मैंने उसके होंठों पर उंगली रख दी और बोली- जैसे कहा, वैसा करो।
और उसका हाथ पकड़ कर उसे दर्पण के सामने ले गयी जहाँ पर मैं खुद का नंगा जिस्म अपने भाई के हाथों में देख सकूँ।
मैं- पहना दो देर मत करो।
अब मेरे भाई ने एक हाथ मेरे नंगे कन्धे पर रख दिया और दूसरे हाथ को मेरे चेहरे पर लगा कर छूने लगा। फिर उंगलियों से मेरे आँखों को फिर होंठों को छूते हुए नीचे जाने लगा।
उसके बाद उसने दोनों हाथों को मेरी नंगी चुचियों पर रख दिया और सहलाते हुए ब्रा का कप मेरे चुचियों पर लगा दिया।
फिर एक हाथ से मेरे एक चुची पर ब्रा को दबा कर अजू मेरे पीछे आ गया। जिससे मेरे दूसरी चुची का कप हट गया।
अजू ने मेरे पीछे से मेरी दूसरी चुची को पकड़ लिया और ब्रा को दुबारा लगा कर उसका हुक बंद करने की कोशिश करने लगा।
मेरे भाई का लंड बिल्कुल खड़ा हो गया था जो मेरी गांड में छू रहा था। अब मैंने अपनी गांड को थोड़ा पीछे किया और अजू के लंड पर रगड़ दिया।
जिससे अजू थोड़ा सा असामान्य हो गया और कसकर मुझे पीछे से पकड़ लिया और अपने लंड को मेरी गांड पर दबा दिया।
मेरी ब्रा नीचे गिर गयी थी। मेरा भाई मेरे नंगे जिस्म को पीछे से पकड़ कर सहला रहा था, मेरी चुचियों को दबा रहा था और अपना लंड मेरी गांड की में रगड़ रहा था।
मेरी चूत पानी छोड़ रही थी, मैंने अजू का हाथ अपनी चूत पर रख लिया और बोली- जैसे रात में किया था, वैसे करो।
अब अजू ने मेरे चेहरे को घुमा लिया और मेरे होंठों पर होंठ रख कर चूसने लगा और अपने हाथ की दो उंगली मेरी गीली हूई चूत में डाल दी।
मैं सिहर गई और कसकर अपने भाई की बांहों में सिमट गयी। मेरा भाई तेज तेज मेरी चूत में उंगली डाल रहा था।
अब मैंने अपना हाथ पीछे ले जाकर भाई की पैंट को खोल दिया। मेरे भाई ने अंदर कुछ नहीं पहना था जिससे उसका खड़ा लंड मेरे चूतड़ से टकरा गया। मैंने अपने चूतड़ों को फैला कर अपने भाई का लंड अपनी गांड में फंसा लिया।
मैं- अजू , मेरा नंगा जिस्म देखोगे?
अजू ने आँखें बंद किये हुए ही हां में सर हिलाया।
मैं अजू के होंठों को चूम कर बोली- आँखें खोलो।
मेरा भाई धीरे धीरे आँखें खोल रहा और दर्पण में देख रहा था उसकी बहन बिल्कुल नंगी उसकी बांहों में है।
उसका एक हाथ अपनी बहन की नंगी चुचियाँ दबा रहा है और दूसरा हाथ अपनी बहन की चूत में उंगली डाल रहा है। उसकी बहन हाथ पीछे ले जाकर अपने भाई का लंड हिला रही है और अपनी गांड पर सेट कर रही थी।
अजू – दी, आप बहुत खूबसूरत हो अन्दर से।
मैं- क्या अच्छा लग रहा है मेरे भाई को?
अजू- आपके दूध, आपकी नंगी कमर, आपकी नंगी जांघें… आपकी नंगी चू…
मुझे ये सब सुन कर बहुत उत्तेजना होने लगी थी- अजू, क्या करना चाहते हो अपनी बहन के नंगे जिस्म के साथ?
अजू – चाटना चहता हूँ दी… आपके निप्पल चूसना चहता हूँ।
अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, मैं अजू की तरफ घूम गई उसके होंठों को मुँह में ले लिया और उसका टीशर्ट निकाल कर उसे बेड पर लिटा दिया।
और खुद नंगी ही उसके ऊपर लेट गयी। अपना निप्पल उसके मुंह में दे दिया जिसे मेरा भाई आँख बंद करके चूसने लगा।
मैं- आह्ह्ह… जोर से चूसो अजू, निकाल दो इसमें से दूध और पी जाओ।
अजू मेरी एक बूब्स को दबा रहा था और दूसरी को पी रहा था।
मैं- आहह आहह आहह जोर से अजू।
अब मैंने चाय का कप उठा लिया, अब तक चाय ठंडी हो चुकी थी, उसमें निप्पल डाल कर अजू को अपने निप्पल से चाय पिलाने लगी। मेरा भाई मेरे निप्पल पर लगी हुई चाय को चाट रहा था।
मैं- आह्ह्ह आह्ह्ह… जोर से काट लो मेरी निपल्स को। आह पी लो मेरे भाई!
अब अजू ने मुझे बेड पर सीधा लिटा और मेरे टांगों के बीच आ गया।
मैं- अजू मुझे जोर से चोदो आज, अपनी बहन की चुदायी करना चाहते हो ना?
अजू – हां दी, मैं तो आपको रात में ही चोदना चाहता था पर आप होश में नहीं थी।
मैं- तो जगा कर चोद देते मेरे भाई, मेरी चूत तो लंड की प्यासी रहती है हमेशा।
अजू – दीदी और आप लंड की प्यासी नहीं हो?
मैं अजू का लंड अपनी तरफ खींचती हुई- मैं तो हमेशा रहती हूँ।
अब मेरा भाई मेरे चुचियों पर बैठ गया और अपनी बहन के मुँह में लंड डाल कर चुसवाने लगा।
अजू – आहह आहह दीदी, आप बहुत अच्छा लंड चूसती हो। अनुम जीजू ने सिखाया है?
मैं मन में सोच रही थी इसको पूरी सचाई बताने की जरूरत नहीं है। कि तेरी सीमा दीदी कितनी बड़ी लंड खोर है, अपने तीनों छेदों में कई सारे लंड ले चुकी है इसलिये मैंने हां में सर हिला दिया।
अजू – दी, क्या आपके मुँह को चोद सकता हूँ?
मैंने मुंह से लंड बाहर निकल कर बोला- जो मन हो वो करना बिना कुछ पूछे।
अब अजू मेरे मुँह को जोर जोर से चोदने लगा, उसका लंड मेरे गले में जाने लगा… मैं गुं गुं गुं गुं करते हुए अपने भाई का लंड चूस रही थी।
अजू मेरी टांगों के बीच आ गया और मेरे मुँह में अपनी जीभ डाल कर मेरी चूत पर लंड रख दिया- सीमा दीदी, आप बहुत मस्त माल हो।
मैं- दीदी को माल बना दिया चोदने के लिये।
अजू मेरी चूत में लंड धीरे धीरे घुसाते हुए बोला- मैं तो अपको जोर जोर से चोदना चाहता हूँ। आपका जिस्म सबका लंड खड़ा कर देता होगा।
मैं- आअह्ह आहह… लंड को जोर से घुसा दे।
अजू – लो मेरी जान!
और एक झटके में पूरा लंड अन्दर घुसा दिया।
मैं- आअह्ह मम्मी… मर गयी… उम्म्ह… अहह… हय… याह…
अजू का लंड ठीक था,
अब अजू मेरी चूत में लंड डाल कर मुझसे बात करने लगा- दीदी, आपकी चूत बहुत मस्त है। अनुम जीजू चोदते नहीं हैं क्या?
मैं- चोदते हैं… पर उनका तेरे जितना लम्बा नहीं है। हां पर मोटा बहुत है। उस का दिल रखने के लिए झूठ बोल दिया।
अजू – तो कल रात में चोदा था जीजू ने आपको?
मैं- नहीं।
अब मैं कमर हिलाने लगी जिससे अजू समझ गया और मुझे चोदने लगा।
अजू – इसी लिये आप इतना तड़प रही थी?
मैं- हां, अनुम तो बस छूकर और लंड चुसवा कर चला गया।
अजू को जब पता चला मैं लंड बहुत चूसती हूँ तो उसका जोश और बढ़ गया, वो मुझे तेजी से चोदने लगा।
मैं- आअह्ह आह्ह्ह जोर से अजू और जोर से… आह्ह्ह चोदो मुझे! आहह आह्ह्ह मेरी चूत को फाड़ दो मेरे भाई! आह्ह्ह आअह्ह!
अजू – लो दीदी, और तेज… और तेज… आपकी वो बहुत अच्छी है दीदी… आपका मुँह और भी मस्त है। रोज मुँह में लंड लेकर रहोगी ना?
मैं- आह्ह्ह आअह्ह्ह… जोर से चोदो मेरे भाई। रोज मुझसे अपना लंड चुसवाना और मुझे चोदना। मेरी चूत को मजा आ रहा है।
अजू – आहह आहह मेरी बहन की वो बहुत टाइट है।
मुझे अजू की इस बात पर हंसी आ गयी। बहन ‘चूत’ बोल रही है और भाई ‘वो’ बोल रहा है।
मुझे लगा अजू को सेक्स में थोड़ा सा खोलना पड़ेगा। इसलिये मैंने अजू के होंठों को अपने मुँह में ले लिया और नीचे से कुल्हे उछाल उछाल कर चुदवाने लगी।
मैं- जोर से चोदो अपनी बहन को… अपनी बहन की वो फाड़ना चाहते हो ना?
अजू – हां दी दी… आज आपको चोद चोद कर फ़ाड़ दूंगा आपकी वो।
मैं- क्या फाड़ोगे मेरी?
अजू – दीदी आपकी चूत फाड़ दूंगा। आपकी चूत को खूब चोदूँगा.
मैं- आह आह फ़ाड़ दो मेरे भाई। मेरी चूत को फाड़ो।
अब अजू मुझे जोर जोर से चोद रहा था, मैं टांगों को हवा में उठा कर अपने भाई का लंड ले रही थी।
मुझे अच्छा लगा मेरा भाई जवान हो गया है और अपनी बहन को चोद रहा है। यह सोच कर मैं झड़ गयी और मेरी चूत की गर्मी से अजू ने भी पानी छोड़ दिया।
अब अजू मेरे नंगे जिस्म पर लेटा हुआ था, मैं उसको बांहों में लेकर सहला रही थी।
अजू – दीदी आप बहुत अच्छी हो।
मैं- तुम भी मेरे भाई।
अब अजू उठ कर बाथरूम में गया और फिर लंड धो कर चड्डी पहन लिया।
मैंने एक ट्रान्स्परेन्ट नाईटी पहन ली जिससे मुझे देख कर अजू हर वक्त मुझे चोदना चाहे।
मैं थोड़ी देर बेड पर लेटी रही तो अजू मेरे लिये जूस बना कर ले आया जिसे हम दोनों ने साथ में पिया।
फिर भाई ने बोला- दीदी, भूख लग रही है।
तो मैं किचन में खाना बनाने के लिये चली गयी और अजू बेड पर लेट गया।
मैं खाना बनाते हुए सोच रही थी कि कैसे मेरे भाई ने मेरी चूत को चोद दिया और अब आगे कैसे कैसे चोदेगा। अब तो हर रात मेरा भाई मेरी चूत मारेगा।
या फिर मैं खुद ही उसके लंड से दूर नहीं रह पाऊंगी। कैसे मैं सर को बुलाऊंगी फ्लैट पर? और अब नया लंड कैसे मिलेगा मुझे?
सोचते सोचते खाना भी रेडी हो गया।
तो मैं अजू को खिलाने के लिये अपने बेडरूम में गयी तो देखा मेरा भाई नंगा होकर सोया हुआ है और उसकी चड्डी साइड में रखी हुई है और वो अपने दोनों पैर खोलकर अपने लंड को हवा लगवा रहा है।
उसका सोया हुआ लंड भी बहुत प्यारा लग रहा था.
3 इंच का सोया हुआ लंड देख कर मेरे मुँह में पानी आने लगा, मैंने अजू के लंड को पकड़ लिया और उसे ध्यान से देखने लगी, उसे सूँघने लगी। अजू के लंड से उसके सुसु और मेरे चूत के पानी की महक आ रही थी जो मुझे और मदहोश कर रही थी।
मेरी चूत टाइट हो गयी और अब मुझसे कण्ट्रोल नहीं हुआ, मैं अपनी नाईटी निकाल कर नंगी हो गई और 69 की अवस्था में अपने भाई के मुँह पर चूत रख कर लेट गयी और अब जीभ निकाल कर अपने भाई का लंड चाटने लगी।
फिर भाई के लंड को मुंह में ले लिया और चूसने लगी।
जब मेरे भाई को महसूस हुआ कि उसकी बहन उसका लंड चूस रही है।
तो वो जग गया और सामने मेरी नंगी चूत देखा। फिर अजू ने मेरे सिर पर एक हाथ रख दिया और मेरी नंगी पीठ, मेरी नंगी चुचियों और मेरी नंगी कमर को सहलाते हुए मेरे चूतड़ों पर ले आया।
अब अजू ने मेरे चूतड़ों को फैला दिया और मेरी गांड के छेद को सहलाने लगा। तो मैं खुद अपनी टाँगों को फैला कर अपनी चूत और गांड का छेद अपने भाई को दिखाने लगी। मैं पूरा मन लगा कर अजू का लंड चूस रही थी जो अब 7 इंच का हो चुका था।
अजू मेरी गांड को अपनी उंगली से सहला रहा था। फिर मेरी चूत पर नाक रख कर सूँघने लगा जिससे उसकी गर्म सांसें मेरी चूत को और गर्म करने लगी।
मैंने अजू के लंड मुँह से बाहर निकाल कर एक लम्बी आह भरी और तुरन्त अजू ने मेरी चूत को फैला कर उसमें जीभ घुसा दी।
मैं आअह्ह आअह्ह आहह करते हुए अपनी चूत चटवा रही थी।
मैंने देखा कि अजू का लंड बिल्कुल टाइट खड़ा है और मुझे भूखी नजरों से देख रहा है और मेरा भाई मेरी चूत को आंखें बंद करके चाट रहा है।
मैं- आहह आहह अजू… मेरी चूत में जीभ डाल कर चोद दो।
अजू – दी, आप मेरा लंड मुँह में ले लो, नहीं तो आपकी चीख निकल जायेगी।
जैसे ही मैंने अजू का लंड होंठों पर लगाया, अजू ने कमर उछाल कर मेरे गले तक अपना लंड ठूस दिया और मुझे घुमा कर अपने नीचे लिटा लिया।
अब मैं अपने भाई का लंड मुँह में लिये बेड पर लेटी हुई थी और मेरा भाई 69 की अवस्था में मेरी चूत में जीभ डाल कर चोद रहा था, अब मैं नीचे खुद की चूत और मुँह को चुदवा रही थी।
मैं समझ गयी अब अजू जवान हो गया है इसे कुछ भी समझाने की जरूरत नहीं है, ये अब मुझे अच्छे से चोदेगा।
अजू ने मेरी टांगों को और उठा लिया जिससे मेरी गांड उसके मुंह के पास आ गयी।
अब अजू मेरी गांड को सूंघने लगा और अपनी उंगलियों से फैला कर चाटने लगा, साथ में कमर उछाल उछाल कर मेरे मुँह में लंड से चोद रहा था।
अजू की जीभ मेरी गांड को गीला कर रही थी और मेरे जिस्म में सिहरन भर रही थी। मुझे अपनी गांड में अजू की जीभ बहुत अच्छी लग रही थी।
मैं गुं गुं गुं करते हुए अपना मुँह चुदवा रही थी और कमर उछाल उछाल कर भाई के मुँह में अपनी गांड दे रही थी।
अब अजू मेरे ऊपर से हट गया और बेडरूम से बाहर जाने लगा।
मैं हैरान होकर चुदास में बोली- कहाँ जा रहे हो भाई? रुको अजू , प्लीज मुझे चोदो! अजू प्लीज मुझे चोद दो! ऐसे मत तड़पाओ!
अजू मुस्कुरा कर बोला- दीदी, भूख लगी है, आओ बाहर आप लंड खा लेना, मैं खाना खा लूँगा।
मैं खाना लेकर हाल में गयी तो देखा अजू सोफे पर बैठा हुआ है बिल्कुल नंगा और उसका लंड खड़ा होकर मुझे बुला रहा है।
अजू अपने लंड से- देखो लंड बेटा, प्यासी चूत आ रही है।
मैं मुस्कुराते हुए गांड मटकाती हुई चल रही थी बिल्कुल नंगी होकर एक रन्डी की तरह और मेरा यार भाई अपना लंड हिलाते हुए इस रन्डी की चूत को बुला रहा था।
मैं प्लेट को टेबल पर रख कर अजू के पास गयी और अपना एक पैर सोफे पर रख कर अजू के बालों को पकड़ लिया- बहुत भूख लगी है तुझे?
अजू- हां दीदी, और मेरे लंड को आपके चूत की भूख है।
मैंने अजू के बालों को खींच कर उसका मुंह अपनी चूत पर रख लिया और बोला- पहले मेरी चूत से अपनी भूख मिटा ले, फिर लंड की सारी भूख मैं मिटा दूंगी।
अजू ने फिर से मेरी चूत में जीभ घुसा दी और चाटने लगा।
मैं- आअह्ह आहहह आहह… जोर से चाट मेरी चूत को! बहुत प्यासी है मेरी चूत! उम्म्ह… अहह… हय… याह… जोर से चाटो, और जोर से, अपनी जीभ घुसा कर चोद दे मेरी चूत।
अब अजू ने मेरे चूतड़ों को फैला कर उसमें उंगलियाँ घुसा दी और उंगली से मेरी गांड मारने लगा।
मैंने एक टांग सोफे पर रखी थी इसलिये अपना बैलेंस खोने लगी और अजू के ऊपर गिरने लगी।
मैं अजू के ऊपर गिरते हुए- आआह्ह आहह जोर से मेरे राजा… सम्हाल ले मुझे!
अजू ने मेरी एक चुची को मुँह में ले लिया और मुझे सोफे पर पटक दिया और मेरी टांगों को फैला कर एक झटके में लंड मेरी चूत में पेल दिया।
मैं- आअह्ह्ह मर गई मेरे राजा, आराम से चोदो, तुम्हारी बहन हूँ, कोई रन्डी नहीं हूँ।
अजू ने लंड को बाहर खींचा और मेरी चुचियों को जोर से दबा कर लंड दुबारा से ठूँस दिया और बोला- दीदी, कोई रन्डी भी आपके जैसी सेक्सी नहीं हो सकती।
मुझे अजू के मुंह से अपनी तारीफ सुन कर अच्छा लगा और मैंने उसके गले में बाहें डाल दी और अजू को अपनी चूत चोदते हुए देखने लगी।
मैं- आहह आहह जोर से चोद मेरे भाई।
अजू – लो दीदी, मेरा लंड आपकी चूत फ़ाड़ रहा है।
मैं बहुत प्यार से अपने भाई के लंड से चुद रही थी और मेरा भाई मेरी चुचियों को मुँह में लेकर चूसते हुए अपनी बहन को चोद रहा था।
मैं- अजू कोई रन्डी होती तेरे नीचे तो ऐसे ही चोदता क्या उसको?
अजू – नहीं दीदी।
मैं- फिर कैसे चोदता किसी रन्डी को?
अजू मेरी चूत को चोदते हुए बोला- दीदी रन्डी तो मेरे लंड की प्यास बुझाने के लिये आती ना।
मैंने टांगों को उपर उठा लिया और अजू की कमर में लपेट लिया जिससे मेरे भाई का लंड और अन्दर तक घुस जाये।
मैं- अपनी बहन को चोद कर प्यास नहीं मिट रही है तेरे लंड की?
अजू – दीदी रन्डी होती तो उसको मारता उसके चुचे जोर से काट लेता। उसकी गांड मारता और उसको गालियाँ दे देकर जंगली की तरह चोदता।
मैं- कैसी गाली देता उसको?
अजू ने एक जोर का शॉट मेरी चूत में मार कर बोला- माँ बहन की देता और रन्डी बोलता।
मैं- ऐसे नहीं, मुझे देकर बताओ।
अजू मेरी चूत में लंड डाल कर रुक गया और बोला- पर आप मेरी दीदी हो।
मैं- मुझे पता है… पर मैं देखना चाहती हूँ क्या क्या गाली देते हैं और उससे क्या मजा आता है।
अजू ने लंड को पीछे खींचा और मेरे चुचों को दबा कर पकड़ लिया, एक जोर का शॉट मेरी चूत में मारते हुए बोला- ले रन्डी मेरा लंड अब तेरा भोसड़ा बना देगा।
मैं अजू की गाली सुनकर और भी ज्यादा उत्तेजित हो गयी और बोलने लगी- आआह्ह आहह आहह मेरी चूत फ़ाड़ दे मेरे राजा। अपने रन्डी बहन की चूत का भोसड़ा बना दे अपने लंड से।
अजू – हां रन्डी, मेरा लंड तेरी चूत का भोसड़ा बना देगा। ले मादरचोद लंड ले चूत में।
अजू ने मेरे चुचियों को कस कर दबा दिया और जोर जोर से मुझे चोदने लगा। मुझे ऐसे चुदवाने में बहुत मजा आ रहा था।
मैं- आहह आह… जोर से चोद अपनी रन्डी को… और जोर से, पूरी ताकत से लंड घुसा दे मेरे भोसड़े में। आह आह आहह!
अजू – तेरी चूत मस्त है रन्डी, तू बहुत मस्त रन्डी है।
मैं- आहह इस रन्डी की प्यास बुझा दे राजा!
अजू – ले मादरचोद मेरी रखैल बनेगी तू… और जोर से ले लंड अपनी चूत में।
मुझे बहुत मजा आ रहा था, मैं टांगों को हवा में उठा कर लंड को अपनी चूत में घुसवा रही थी। अब मैंने अजू को कस कर पकड़ लिया और उसके कान को मुंह में लेकर चूसने लगी।
बोलने लगी- जोर जोर से चोद मेरे राजा, और जोर से… मैं आ रही हूँ। मुझे आज रन्डी बना दे। आह आह फ़ाड़ दे मेरा भोसड़ा। आअह्ह्ह मैं गयी।
मैं अब झड़ गयी थी जिससे मुझे चूत में फील होने लगा।
अजू – और तेज ले रन्डी! मेरा निकलने वाला है, चूत भर दूँ तेरी?
मैं- मुँह में गिराना मेरे।
अब अजू खड़ा हो गया और मैं बैठ कर अजू का लंड मुँह में ले लिया, अजू ने मेरे सिर को पकड़ लिया और अपने लंड का पानी मेरे मुँह में गिराने लगा।
मैं अपने भाई के लंड का पूरा पानी पी गयी और फिर लंड को चाट कर साफ कर दिया।
अब वो सोफे पर बैठ गया नंगा ही… और मैं उसके गोद में नंगी ही बैठ गयी।
अजू ने अपने एक हाथ को मेरी कमर में लपेट लिया और दूसरे हाथ को मेरी चूत पर रख कर सहलाने लगा। मैं अजू को अपने हाथ से खाना खिला रही थी और खुद भी खा रही थी।
मैं किचन में प्लेट रख कर बेडरूम में गई जहाँ अजू पहले ही आ गया था। मैं अजू की बांहों में नंगी ही लेट गयी और उसके होंठों को अपने होंठों में दबा कर सो गयी।
हम दोनों 2 घन्टे तक सोते रहे।
फिर फूफा जी का फ़ोन आया तो हमारी नीन्द खुली, पता चला कि फूफा जी की माता जी बीमार हैं तो अजू को जल्दी घर जाना होगा।
मैं उदास हो गयी यह सुनकर की अजू दो सप्ताह के लिये घर जायेगा।
अजू – क्या हुआ दी, आप उदास क्यों हो गयी?
मैं- तुम जाओगे तो मैं अकेले कैसे रहूंगी इतने दिन?
अजू – दी, बस दो सप्ताह की ही तो बात है।
मैं और अजू दोनों नंगे थे, मैं अजू से चिपक कर रोने लगी, अजू ने मुझे चुप कराया फिर मेरे होंठों को चूम कर बोला- आप और मैं दोनों प्यासे हो जायेंगे दीदी। फिर जब मिलेंगे तो एक दूसरे की प्यास मिटाएंगे।
अजू – दीदी, मेरा भी तो मन नहीं कर रहा है पर जरूरी है जाना।
मैंने अजू के लंड को पकड़ लिया और बोली- इसको यहीं पर रहने दे।
अजू ने अपना लंड मेरे होंठों पर लगा दिया और मेरे मुँह में लंड डाल कर खडा हो गया- दीदी, मेरा लंड भी हर वक्त आपके मुँह में रहना चाहता है, आपका मुँह तो मेरे लंड का घर है।
मैं अब अजू के लंड को चूस रही थी।
अजू का लंड बहुत टाइट हो गया और मेरे गले में घुसने लगा। अजू ने मेरे सर को पकड़ लिया और जोर जोर से मेरे मुँह को चोदने लगा। फिर मैं थोड़ी देर लंड चूसने के बाद उठ कर दूसरे कमरे में चली गयी।
आप मेरे साथ बने रहिए और इस हॉट सीमा 2 हार्ड सेक्स कहानी पर किसी भी प्रकार की राय देने के लिए आप मेल पर मुझसे संपर्क कर सकते हैं.
[email protected]

यह कहानी भी पड़े  हॉट सीमा Xxx की चूदाई कहानी 2


error: Content is protected !!