रियान अंकल 1 पार्ट 12

रियान अंकल 1 पार्ट 12
लेखक- सीमा
अब आगे की कहानी
सीमा ने अपनी टांगों से रियान की कमर को जकड़ लिया और एक चीख के साथ उसकी चूत ने भरभरा कर पानी छोड़ दिया।
उसके नाखून रियान की पीठ पर गड़ते चले गए, उसकी टांगों ने रियान की कमर को इतनी तेज़ी से जकड़ा कि उसका भी सब कुछ रुक गया।
उउइइ ईई ईईम्म अम्माआआह आह मैंई निकल गईईई मैं आह सब निकल गया आह्ह आहह बस सीमा अस्फुट सी आवाज करती हुई चरम को प्राप्त हो गई।
वो लम्बी लम्बी सांसें ले रही थी, उसकी आंखें बंद थी, वो लंड चूत के अन्दर रस की बौछार महसूस कर रही थी, सीमा ने कुछ पलों में आंख खोली।
रियान को अपनी तरफ देखता पाकर उसने उसे अपने पास खींच लिया, वो रियान के होंठों को चूसने लगी, करीब दो मिनट के बाद वो बोली अंकल मज़ा आ गया।
जो उत्तेजना रियान के अन्दर भरना शुरू हुई थी, वो भी कुछ शांत हो गई थी, उसका लंड अभी भी चूत में था, सीमा बोली अब निकाल लो न रियान अंकल।
रियान बोला मेरी सीमा रानी अभी कैसे निकाल लूं, अभी तो मज़ा आना शुरू हुआ है, सीमा बोली हाई दइया अभी और करोगे मेरी तो दुखने लगी है।
रियान बोला जान अभी तो तुमको और मज़ा आएगा, ये कहकर उसने लंड को खींच कर फिर से चूत में पेल दिया, उसकी चूत बहुत गीली थी।
तो लंड आराम से समाता चला गया, पर सीमा ने तो ऐसी सिसकारी भरी कि रियान का रोम-रोम खिल उठा, उईईई अम्मा मार दिया अंकल्ल धीरे पेलो।
रियान ने लंड फिर निकाला और चूत के खून से रक्ततंजित तौलिया को उसके चूतड़ों के नीचे से उठा कर उसकी चूत को पौंछ दिया।
अब रियान ने सीमा को घोड़ी बनने का इशारा किया, नए जमाने की इस मॉर्डन लड़की ने तुरंत इशारा समझ लिया और वो घोड़ी बन गई।
रियान ने तुरंत पीछे से सीमा की चूत में मुँह लगा दिया, उसकी चूत से गांड के छेद तक चाटने लगा, आहह अहहह उईईई एई आहह डालो न अंकल्ल।
रियान ने भी सूखा लंड बाहर से सूखी और अन्दर से गीली चूत में उतार दिया, उई अम्मा मार डाला बता तो देते अंकल।
सीमा की कमर को पकड़ कर रियान अपने लंड को पिस्टन की भांति चूत में अन्दर बाहर करने लगा, आह आह ई उई वाओ अंकल आह अंकल।
साली रण्डी की मस्त चूत थी लंड बड़े प्यार से ले रही थी, रियान की जांघें उसके चूतड़ों से टकरातीं तो पट पट पट की आवाज आ रही थी, कुछ ही पलों बाद वही सीमा अब मादक सिसकारी भर रही थी।
सीमा के चूतड़ मस्त गोल और छोटे से पर भरे हुए थे, रियान चाह कर भर भी उन पर चांटे मारने से खुद को रोक नहीं पाया, चटाक की आवाज हुई और सीमा की सिसकारी निकली आई आई ईई।
करीब दस मिनट की धकापेल चुदाई के बाद रियान का भी होने वाला था, सो उसने सीमा को पीठ के बल लिटा कर उसके ऊपर चड़ गया।
एक बार फिर से लंड ने चुत में हमला करना शुरू कर दिया, उफ्फ उफ्फ्फ आह कितने अन्दर तक पेल रहे हो अंकल आह उई धीरे करो न मैं बस जा रही हूँ आह अंकल मैं आ गई बस।
उसकी चूत से पानी तेजी से बह रहा था, लंड अभी ताबड़तोड़ खेल रहा था, अब फच फचा फच की मधुर ध्वनि आने लगी थी, रियान अपने चरम पर था।
रियान का लंड चूत में सटासट अन्दर बाहर हो रहा था, सीमा की मादक आवाजें उसकी उत्तेजना बड़ा रही थी, सीमा अपनी कमर को उछाल कर गपा गप गपा गप लंड को ले रही थी।
रियान के शॉट भी तेज होते गए और उसकी आह निकलना शुरू हो गई आह मेरी जान सीमा मेरी रण्डी मैं भी गया आ आ आह ले रस पी ले।
एक तेज हुंकार के साथ रियान के लंड ने अपना लावा सीमा की चूत में उड़ेलना शुरू कर दिया, उसने भी जोर से उसे बांहों में भर कर अपने में समेट लिया था।
कमरे का एसी फुल पर था, मगर तब भी पसीने से तरबतर दो नग्न जिस्म एकाकार हो गए थे, उन दोनों की सांसें एकदम धौकनी के समान चल रही थी।
रियान का भारी जिस्म उस फूल सी जान के ऊपर ढह गया था, सीमा उसको बांहों में भरे उसकी पीठ को सहला रही थी, रियान का लंड भी चूत को अपने रस से सराबोर करके बाहर आ गया था।
रियान उसके ऊपर से हट कर बाजू में लेट गया था, तभी रियान बोला क्यों मज़ा आया ना ? सीमा बोली हां अंकल, ये कह कर सीमा ने उसके होंठों को चूम लिया।
फिर सीमा बोली पर अंकल आप तो पूरे जानवर हो,एक बार भी ख्याल नहीं आया मेरी कमसिन चूत का, और कितनी बेरहमी से अपना लंड मेरी चूत में डाला मेरी तो जान ही निकाल दी आपने।
रियान बोला सीमा जान वो पल ही ऐसा होता है, जब मर्द को जानवर बनना पड़ता है, वरना जो आनन्द बाद में आना है, उससे तुम वंचित रह जाती और मैं अगर तुम्हारी बात मान लेता।
तो तुम मेरे को लंड दोबारा डालने ही नहीं देती, पर वो दर्द हर लड़की के जीवन में एक बार सहना ही पड़ता है, तो आज ही क्यों नही, फिर देखो ना तुम भी तो कूल्हे उछाल कर मेरा लंड चूत में ले रही थी।
सीमा बोली धत्त कितने गंदे हो आप पर आप में दम बहुत है मेरा कितनी बार हुआ, मुझे खुद ही नहीं पता, हर बार होने पर ऐसा लग रहा था कि मैं खुले आसामान में तैर रही हूं पर आपके लंड की चोट मुझे वापस जमीन में ले आती।
इन सब बातों में बीस मिनट हो चुके थे और इसी के बीच सीमा रियान के लंड से बराबर खेल रही थी, कभी वो लंड का सुपारा हाथ में लेती, तो कभी लंड पर मुठ्ठी से आगे पीछे करती।
रियान का लंड भी फुदकने लगा था, तभी सीमा ने उठ कर पूरा लंड मुँह में ले लिया और चूसने लगी, उसका लंड भी तुरंत तैयार होकर फुदकने लगा।
सीमा के लंड चूसने का अंदाज इतना निराला था कि लग ही नहीं रहा था कि वो आज ही के दिन से उसने लंड को चूसना शुरू किया है , कभी वो लंड के सुपारे पर अपनी गीली जीभ गोल गोल घुमाने लगती।
तो कभी पूरा लंड मुँह में भर कर अन्दर ही रख कर जीभ से पूरा लंड चाट जाती, शायद ये पोर्न का कमाल था, पर वो जो भी कर रही थी वो सब रियान की आह आह निकालने के लिए काफी था।
अब रियान भी उसके बाल पकड़ कर उसका मुख चोदन करने लगा, जब सीमा ने देखा कि उसका लंड तैयार है, तो खुद ही अपने दोनों तरफ पैर करके उसके लंड पर बैठ गई।
सीमा ने लंड को चूत के अंदर न लेते हुई दरार में फंस लिया, और रियान के ऊपर झुक गई और रियान उसके निप्पल चूसने और काटने लगा, उफ लड़की थी या क़यामत थी।
रियान कभी निप्पल चूसता, तो कभी होंठ तो कभी कान की लौ चूमने लगता, तो कभी गर्दन पर गर्म सांस छोड़ते हुए होंठ फेरने लगता, कभी वो उसके कान में गर्म हवा छोड़ता, तो कभी बूब्स पर दांत गड़ा देता।
आअह उफ्फ याह यस यस उह एई ईईईई एई एईई ईई उफ फ्फ्फ़ अंकल जान लोगे क्या ? रियान तो अपनी ही धुन में था, वो सीमा की तरफ देखता और मुस्कुरा देता, फिर उसके जिस्म को चाटने लगा।
कुछ देर बाद सीमा ने नीचे से लंड को पकड़ कर चूत के मुहाने पर सैट किया और उस पर बैठती चली गई, सीमा बोली आआहह ओहहह्ह मीईताताआ।
एई ईई ईई ई ई ई अम्मा मर गई उई कितना मोटा है उफ्फ्फ कर लो जो करना है अंकल, ये सीमा आज उफ़ भी न करेगी निचोड़ लो इसको बहुत तड़पाती है रातों को।
फिर सीमा रियान के सीने पर हाथ रख कर उसके लंड पर कूदने लगी, जिंदगी में दूसरी बार वो चुद रही थी, उफ्फ ये कयामत से कम नहीं था।
अचानक वो रुक कर वो गोल गोल घूमने लगी, उफ्फ्फ साली पूरी पोर्न ऐक्ट्रेस का कोर्स करके आई थी, रियान की आहें और कराहों ने मस्ती की धुन बहाना शुरू कर दिया था।
आह ऊह्ह रियान के लंड की जड़ों तक की नसें फूल गई थी, फिर वो झुक कर अपने निप्पल चुस्वाने लगी साथ ही साथ अपने कूल्हे उछालने लगी।
पट पट की मधुर ध्वनि फिर से कमरे को तरंगित करने लगी थी, रियान भी अपने कूल्हे साथ ही उछालने लगा था, कमरे में सिर्फ मादक सिसकारियों का शोर था।
सीमा के झटके तेज होते गए, रियान ने भी उसकी कमर पकड़ कर लय में लय मिला कर उसका साथ देना शुरू कर दिया।
लंड सटासट चुत के अन्दर बाहर होने लगा, कुछ ही देर में सीमा ढहने के करीब आ गई थी, रियान अभी ढहने के नजदीक भी नहीं था।
तभी सीमा भरभरा कर रियान के ऊपर गिर कर अपना रस उसके लंड पर छोड़ने लगी, उसकी चूत ने रियान के लंड को जोर से जकड़ लिया।
फिर रियान ने सीमा को पेठ के बल लिटा दिया और उसके दोनों चूतड़ों पर एक एक जोरदार चपत लगाई, जिससे उसकी जोर से चीख निकल गई।
रियान ने अपने लंड को सीमा की चूत पर सेट किया और एक जोरदार झटका मारकर पूरा लंड उसकी चूत के अंदर तक पेल दिया, उसकी फिर से चीख निकल गई।
रियान सीमा की चूत में 15 मिनिट तक ताबड़तोड़ धक्के लगाता रहा और उसने सीमा को जोर से भींच कर उसकी चूत में वीर्य का फव्वारा छोड़ दिया।
सीमा ने हूटकर अपने कपड़े पहने और घर जाने के लिए तैयार हो गई तो रियान बोला यही आराम कर लो तो वह बोली कि मैं घर जाकर आराम कर लूंगी।
जब तक घर में कांता और अब्दुल भी वापस आ चुके थे रियान ने अब्दुल से सीमा को उसके घर छोड़कर आने को कहा तो उसने ऐसा ही किया।
तीन दिन बाद सुबह ही सीमा का कॉल आया कि में अभी ही आ रही हूं, रियान समझ नही पाया कि सीमा को चूदवाना था, तो कल कॉल कर देती।
सुबह 8 बजे ही सीमा रियान के घर में आ गई, जब रियान ने उसे देखा तो समझ गया कि सीमा पूरी रात नही सोई है, वो चूदाई की भूखी है।
रियान ने भी देर ना करते हुए उसे नंगा कर दिया और धुआधार सीमा की चूत में लंड पेलने लगा, उसने सीमा को कई सारी पोजिशन में चोदा।
इस बीच रियान 2 बार झड़ा और सीमा 5 बार झड़ी, ये 1 घंटे से ज्यादा चली चूदाई के बाद रियान के बाहों में सीमा की नरम चूचियां उसके सीने से दब गईं।
उन दोनों ने एक दूसरे को इतनी जोर से जकड़ रखा था कि जैसे सिर्फ एक जिस्म का ढेर हो सांसें इतने तेज थी, कि धड़कनें सुनाई दे रही थी।
दोनों ही एक दूसरे को छोड़ना नहीं चाह रहे थे जब तक सांसें सामान्य होती, वो दोनों ही थक कर नींद के आगोश में चले गए।
सबसे पहले रियान की नींद खुली तो देखा कि सीमा आधी उसके ऊपर लेटी नग्नावस्था में सो रही थी, उसका मासूम सा चेहरा, रुई के माफिक चूचियां।
आधी उसके सीने में दबी थी, उसने घड़ी देखी तो 12 बज रहे थे, रियान ने वैसे ही सीमा के माथे को चूम लिया और धीरे से उसको अपने ऊपर से हटा कर बगल में लिटा दिया।
वो कुनमुनाई और उससे चिपक कर बोली सोने दो ना अंकल, उसके जिस्म पर रियान के वहशियाना हरकतों के लाल निशान थे, चूचियों के पास तो कई बहुत बड़े लाल लाल निशान थे,
जो सूख कर भूरे रंग के हो गए थे, सीमा की एक टांग उसके लंड पर थी, हाथ उसके पेट पर और सीमा का मुँह उसके सीने से चिपका था।
रियान जागने के बाद अपने आप को ताज़ा मेहसूस कर रहा था तो उसका लंड सर उठाए खड़ा था, उसने धीरे से उठ कर सीमा को सीधा किया और उसकी टांगों के बीच में आ गया।
रियान ने थोड़ा सा थूक लगा कर लंड को गीला किया और लंड को चूत में सरका दिया, सीमा नींद में ही कराह उठी आआ हहह अहह अंकल।
उसकी नींद रियान के लंड ने खोल दी थी, सीमा ने भी मुस्कुरा कर लंड का स्वागत किया, वो रियान को अपने ऊपर खींच कर उसके होंठों को चूसने लगी।
साथ ही अपनी कूल्हे भी उछालने लगी, रियान ने भी तेज शॉट लगाने शुरू कर दिए, सीमा के मुंह से आह अंकल हां हां हां यस यस यस अंकल चोदो।
करीब दस मिनट की धुआंधार चुदाई के बाद, उसने पोजिशन बदली और चोदने लगा, उसने 20 मिनिट बाद एक बार फिर से अपना लंड रस उसकी चूत में भर दिया।
दो दिन बाद जब रियान ऑफिस में था तो सीमा का कॉल आया तो रियान ने उसे हार्ड कोर्ड चूदाई के लिए कहे दिया था वो मन गई।
और सीमा ने भी अपने घर पर कहा दिया था कि कोचिंग के बाद वो अपनी दोस्त के घर पर पढ़ाई के लिए जायेगी और श्याम को ही घर लोट कर आयेगी।
सीमा 9 बजे रियान के घर आ गई , उसने सीमा तो 11:30 तक कई बार उसकी चूत की चूदाई कि, फिर रियान उसको बाथरूम में ले गया।
उधर अच्छे से डेटोल और गर्म पानी से उसकी चूत की अच्छे से सिकाई की, उसका पूरा बदन, उसकी चूचियां, पेट, पीठ, गांड, जांघ सब जगह लाल निशान थे, मतलब लव बाईट थे।
फिर रियान ने उसे नंगा सुला दिया, करीब 5 घंटे में वो उस हालत में हो गई थी कि वो घर जा सके, जब सीमा पैंटी पहन रही थी।
तो रियान ने उसकी पैंटी नीचे की और उसको झुका कर थूक से गीला लंड उसकी चूत में उतार दिया, सीमा के मुंह से एई ईई ईई अम्मा मर गईई।
रियान घपाघप उसको चोदने लगा, सीमा करीब 15 मिनट की चुदाई में फिर से झड़ गई, तो रियान ने लंड निकाला और उसके बाल पकड़ कर अपना लंड उसके मुँह में डाल कर मुँह चोदने लगा।
घु गों गों ओं की आवाज के साथ वो उसका लंड किसी सॉफ्टी की तरह चूसने लगी, थोड़ी ही देर में रियान ने अपना साला माल उसके मुँह में भर दिया।
और तब तक लंड नहीं निकाला, जब तक वो सारा माल निगल नहीं गई, थोड़ी देर में वो तैयार हो गई और अब्दुल उसे कार से घर पर छोड़ आया।
इसी तरह एक महीना बीत गया रियान ने राजश्री, परी, कोशी, जूही और सीमा को कई बार चोद कर अपने जिस्म की प्यास को उनकी चूत से बुझाया।
और घर में अब्दुल, हमीद और कांता भी खुश थे अब तो वो दोनों रात में कांता को अपने कमरे में ही सुलाते थे, और वो तीनों एक ही बेड पर सोते थे।
वो हर रात को तीनों नंगे ही सोते थे, कांता अब्दुल और हमीद के बीच में सोती थी, और वो दोनों उसे वीक में कम से कम एक या दो दिन साथ में चोदते थे।
मतलब कि बाकी के दिन वो दोनों कांता की चूत और मुंह में लंड डालकर एक साथ चोदते थे, बाकी के दिन उसकी चूत और गांड़ में एक साथ अपना अपना लंड डालकर चोदते थे।
एक रात को रियान अपने कमरे में अपने मोबाइल पर कांता की लाइव चूदाई देख रहा था कि उसके फोन पर सीमा का कॉल आया कि वो कल आयेगी।
तो रियान उसके बाद फोन बंद करके सो गया, अगली सुबह उसने सीमा को रूम में ले जाकर उसे नंगा की और उसके ऊपर आकर उसके होठों पर किस करने लगा।
रियान ने आज उसकी गांड़ मारने कि सोचा और वो उसके ऊपर से हट गया, तो सीमा बोली मुझसे दूर क्यों जा रहे हो मेरी जान मुझे नंगी छोड़कर ?,
रियान कुछ ना बोला और अपने रूम की एक अलमारी से अपनी वाइफ की गुंगरू की पायल और एक जैतून के तेल की शीशी को बाहर निकाल लिया।
फिर बाजू में रखी हुई टेबल पर तेल की शीशी को रखा और सीमा के पैरो के पास आकर उने चूमकर अपने हाथों से पायल उसके पैरों में पहनाने लगा।
फिर रियान ने सीमा से कहा ही गुड़िया पेट के बल लेट जाओ, सीमा ने भी बात मान कर जल्दी से पेट के बल लेट गई।
रियान ने जैतून की तेल की शीशी का ढक्कन खोल कर काफी सारा तेल सीमा की पीठ पर डाला, उसके चूतड़ों पर लगाया और पैरों पर लगाया।
अब रियान नीचे की ओर आया और सीमा के पैरों के पास आकर खड़ा हो गया और धीरे-धीरे उसकी पिंडली पर मसाज देने लगा।
फिर कुछ तेल रियान ने उसके पैर के तलवों पर लगाया और दोनों हाथों से पकड़ कर अपने हाथ के दोनों अंगूठे धीरे-धीरे उसके तलवे पर ऊपर नीचे चलाने लगा।
इससे सीमा की उत्तेजना तेज होने लगी, यही प्रक्रिया उसने उसके दूसरे पैर पर दोहराई, फिर वो उसकी पिंडलियों पर बैठकर जांघों पर मसाज करने लगा।
रियान ने उठकर अपने दोनों चूतड़ उसके चूतड़ों पर रखे और बैठ गया, जब वो उसके चूतड़ों पर बैठा तो ऐसा लग रहा था जैसे वो छोटी पर बहुत ही मुलायम गद्दों पर बैठा हुआ है ।
रियान धीरे-धीरे उसकी कमर पर गोल गोल हाथ घुमाने लगा, कभी ऊपर नीचे मसाज करने लगा, धीरे-धीरे उसके हाथ सीमा की पीठ पर बढ़ने लगे और उसकी गर्म गर्म सांसें निकलने लगीं।
बहुत धीरे-धीरे रियान उसकी पीठ की मसाज कर रहा था और उसके हाथ जब उसकी पीठ के बगल में होते तो उसके बूब्स से टच कर जाते।
इससे सीमा को गुदगुदी होने लगती मगर वह चुपचाप आंखें बंद किए हुए मजे ले रही थी, कुछ देर पीठ और कंधे की मसाज करने के बाद रियान वापस उसकी जांघों पर बैठा।
उसके दोनों चूतड़ों पर अपने दोनों हाथ रख कर धीरे-धीरे गोल गोल घुमाने लगा जिससे कमसिन सीमा की उत्तेजना और ज्यादा ही बढ़ गई।
अब सीमा अपने पैरों को पटकने लगी, पैरों के पटकने से उसके पैरों में पहनी हुई पायलों से छम छम की आवाज आने लगी जो बहुत मादक लग रही थी।
रियान ने कुछ तेल उसकी चूतड़ों की दरार में डाला जो बहते हुए उसकी गांड से उसकी चूत तक पहुंचा, फिर वो धीरे-धीरे अपनी दो उंगलियां उसकी चूतड़ों की नाली से करते हुए नीचे ले गया।
उन उंगलियों को फिर ऊपर लाता, कभी उसकी गांड के छेद पर अंगूठा रखकर धीरे धीरे गोल गोल घुमाता फिर हटा देता और फिर से घुमाता ।
इससे सीमा की गांड के अंदर की गर्मी बढ़ने लगी, उत्तेजना में उसके पैर हिलते और पायलों की छम छम छम छम आवाज होने लगती।
रियान बोला सीमा आज कुछ मांगू तो मना तो नहीं करोगी ?, सीमा बोली अब क्या रह गया है देने को? सब कुछ तो दे दिया है फिर भी जो बचा है अगर वह मेरे पास है तो मैं बेहिचक दे दूंगी।
फिर रियान बोला मुझे आज तुम्हारी इस प्यारी और कुंवारी गांड में लंड डालना है और अब मना नहीं करोगी आज, सीमा बोली ठीक है, डाल देना।
यह सुनते ही रियान ने तेल में भीगी अपनी उंगली धीरे-धीरे करके सीमा की गांड में डालने लगा, गांड टाइट थी तो सीमा एकदम से बोली यह सब बाद में करना, पहले जो कर रहे थे वह करो।
रियान बोला सीमा पीछे की मसाज पूरी हो गई है, अब सीधी लेट जाओ, वो वापस उसके पैरों पर आया और पैरों की मसाज देने लगा।
फिर रियान उसकी चूत पर बैठा और काफी सारा तेल उसके बूब्स पर डाल दिया और धीरे-धीरे उन पर घड़ी की दिशा में दोनों हाथों से गोल गोल घुमाने लगा।
जहां रियान बैठा था वहां पर अपने दोनों हाथ रख कर ऊपर को ले जाता, यही प्रक्रिया उसने कई बार दोहराई जिससे सीमा पूरी तरीके से गर्म हो गई।
सीमा बोली भाड़ में गई मसाज, अपना लंड मेरी चूत में डाल दो रियान अंकल अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है, मेरी चूत में ऐसा लग रहा है जैसे फट जाएगी।
रियान चुपचाप उसके पैरों के बीच में आया और एक तकिया उठाकर उसके चूतड़ों के नीचे रख दिया, फिर कुछ तेल लेकर उसकी चूत में डाला और अपनी दो उंगलियों को वी-शेप में करके उसकी चूत के दाएं बाएं फिराने लगा।
फिर रियान ने एक उंगली धीरे से सीमा की चूत में डाली और आगे पीछे करने लगा, उंगली में तेल लगा होने की वजह से उंगली काफी जल्दी अंदर बाहर हो रही थी।
उसके बाद रियान ने अपनी दो उंगलियां सीमा की चूत में डालकर तेजी से अंदर बाहर करने लगा, 10 मिनट तक अपनी दोनों उंगलियों को वो उसकी चूत में अंदर बाहर तेजी से करता रहा।
सीमा की सांसें बहुत तेज होने लगीं, शायद वो झड़ने वाली थी, मगर वो नहीं रुका, सीमा अपने हाथ से रियान के हाथ को हटाने की कोशिश करती मगर नाकाम होती रही।
सीमा ने अपने दोनों पैर रियान की पीठ से हटाकर उसकी जांघों पर रखे और अपनी कमर हवा में उठा दी, फिर भी उसने अपनी उंगलियों को चलाना नहीं छोड़ा।
सीमा ने अपनी कमर जब तक हवा में उठाए रखी जब तक वो झड़ नहीं गई, वो एकदम से पलंग पर गिर कर काफी लंबी लंबी सांसें ले रही थी।
उसकी चूत से निकला हुआ पानी और तेल रियान की हथेलियों को भिगो गया और उसके हाथों में काफी रस लग गया, उसने उसकी चूत का पानी उसके पेट पर लगा दिया।
रियान ने उसको देखा तो उसकी आंखें बंद थीं और वो काफी जोर जोर से सांसें ले रही थी, वो भी उसके बाजू में लेट गया,जब वो सामान्य हो गई।
तो वह बिना कुछ बोले उठ कर बैठ गई और बाजू में रखी हुई जैतून के तेल की शीशी रियान के शरीर पर डाल कर बोली मुझे मसाज करना तो नहीं आता लेकिन कोशिश करके देखती हूं।
यह कहकर वो रियान के लंड पर बैठ गई, मगर वह इस तरीके से बैठी थी कि देखने से ऐसा लग रहा था कि उसका लंड उनकी चूत से बाहर निकल कर उसे देख रहा हो।
सीमा ने कुछ तेल उसके शरीर पर लगाया और अपने दोनों हाथ ऊपर से नीचे और नीचे से ऊपर ले जाने लगी, करते करते उसका बदन भी गर्म हो गया और वह अपने बदन को उसके बदन पर घिसने लगी।
सीमा की चूत बार बार रियान के लंड पर रगड़ खा रही थी या यूं कहें कि वो अपनी चूत को बार बार उसके लंड पर रगड़ रही थी।
जब उससे बर्दाश्त नहीं हुआ तो थोड़ा ऊपर होकर उसने रियान के लंड को अपनी चूत के छेद में सेट किया और एक ही झटके में बैठ गई।
चूत और लंड में तेल लगा होने के कारण लंड सीधा उसकी चूत में जड़ तक घुस गया, इससे सीमा को बहुत तेज दर्द हुआ तो वो जोर से चिल्लाई।
वह रियान के लंड पर कूदने लगी, उसे मजा आने लगा और उसकी हालत तो देखने लायक थी, ऐसा लग रहा था जैसे उसके लंड को चूत में ही समा लेगी।
कुछ 8 मिनिट तक कूदते हुए जब सीमा थक गई तो रियान के लंड से उतर कर बाजू में बैठ गई और उसके लंड को अपने हाथ में लेकर खींचने लगी।
रियान ने आंखों से इशारा किया मुंह में लो तो वह मुस्कराते हुए लंड को साफ करने लगी, उसने उसे साफ करने से मना किया और बोला कि ऐसे ही मुंह में लो।
आप मेरे साथ बने रहिए और इस रियान अंकल की सेक्स कहानी पर किसी भी प्रकार की राय देने के लिए आप मेल पर मुझसे संपर्क कर सकते हैं.
[email protected]

यह कहानी भी पड़े  हॉट सीमा Xxx की चूदाई कहानी


error: Content is protected !!