रियान अंकल 1 पार्ट 10

रियान अंकल 1 पार्ट 10
लेखक- सीमा
अब आगे की कहानी
उसकी ब्रा की लाइन बाहर से ही साफ नजर आ रही थी, टाईट जींस में उसके चूतड़ भी मस्त लग रही थी, रियान बोला अरे अन्दर तो आओ।
सीमा जब अन्दर आई, तो रियान ने तेज डीओ की महक महसूस की, वो सोफे पर बैठी और कांता ने उसको जूस दिया, और कांता घर का काम करने लगी।
रियान ने उसको एक कमरा दिखा कर बोला ये कमरा मैंने तुम्हारे लिए बुक कर दिया है, तुम जब चाहो, आ सकती हो, इस कमरे में सब कुछ है।
तुम जैसे चाहो एन्जॉय कर सकती हो, तुम्हें कोई डिस्टर्ब नहीं करेगा, सीमा बोली मैं अभी वर्जिन हूँ, आपको लगता है कि मुझे ये सब अभी इस उम्र में एन्जॉय करना चाहिए ?
रियान बोला देखो यदि तुमको लगता है कि तुमको सेक्स की जरूरत है, तो जरूर करो, हां अगर कोई डर है तो अलग बात है।
रियान ने आज जानबूझ कर सीमा से बात कहते हुए सेक्स शब्द का इस्तेमाल किया था, ये उसको ओपन करने के लिए उसकी सोच थी।
सीमा चौंक कर बोली सेक्स, फिर कुछ रुक कर वो बोली मेरा तो मन करता है पर डर लगता है कि कुछ गड़बड़ ना हो जाए, ये सुन कर रियान सोचने लगा।
एक बात जरूर समझ में आई मुझे कि सीमा सेक्स की बात पर कहीं से शर्मा नहीं रही थी, इस बात से ये तो मुझे समझ में आ रहा था कि उसको एक लंड की कितनी जरूरत है।
रियान बोला देखो, वर्जिन गर्ल को पहली बार में तो दर्द होता है, पर बाद में सब ठीक हो जाता है, अब ये सब तुम्हारे दोस्त पर निर्भर है कि वो तुम्हारे साथ कैसे सेक्स करता है।
अब रियान खुल कर सब बात करने लगा था, उसकी कोशिश थी कि वो उससे खुल जाए और रियान की कोशिश कामयाब भी हो रही थी।
सीमा उसे सेक्स के विषय में बात करने लगी थी, सीमा बोली बहुत दर्द होता है क्या, वो लड़का मुझे धोखा तो नहीं देगा, या मेरे साथ बाद में ब्लैकमेल तो नहीं करेगा।
या फिर मुझे अपने दोस्तों में या कोचिंग में बदनाम तो नहीं करेगा ? जैसा कि लड़कों की आदत होती है, वो अपने दोस्तों में डींग मारते हुए सब खोल देता है।
रियान बोला हां दर्द तो होता है पर सेक्स को आराम से किया जाए, तो दर्द बहुत कम होता है, रही बात उस लड़के की कि धोखा देगा या नहीं, मुझे नहीं पता।
पर तुम्हें ब्लैकमेल कर सकता है , ये मैं कह सकता हूं, क्या उसका भी पहली बार है? सीमा बोला हां, रियान बोला उसने कभी किस करते हुए तुम्हारी बूब्स दबाई है और तुमने उसका लंड पकड़ा है?
रियान ने जानबूझ कर एक कदम आगे जाकर लंड चूची जैसे शब्द बोले, उसे देखना था कि सीमा कैसे रियेक्ट करती है, पर वो सीमा ये सब सुन कर रियान की तरफ से आंखो से घूरने लगी।
उसका मुँह शर्म से लाल हो गया था, वो बहुत देर तक कुछ नहीं बोली, फिर रियान ने बोला सीमा बोलो न क्या तुमने उसका लंड देखा है? या उसने तुम्हारे बूब्स को दबाया है?
सीमा फिर भी चुप रही, फिर उसने रियान की तरफ देखा और शरमाते हुए बोली हां उसने मेरे दबाए है, पर मैंने उसका न ही देखा है न छुआ है।
रियान बोला जब उसने पहली बार तुम्हारी बूब्स छुए थे, तो तुमको कैसा लगा था ? सीमा बोली बहुत अजीब सा लगा था, पर अच्छा भी लगा था।
एक सिहरन सी हो रही थी, कई दिन तक ऐसा लगता रहा था कि उसका हाथ मेरे उसको छू रहे हैं, रियान बोला उसको किसको ?
सीमा बोली अरे आप समझो न, क्यों आप परेशान कर रहे हो, जैसे आपको पता नहीं है, रियान बोला देखो सीमा ये सब शब्द सेक्स के आनन्द को दुगना कर देते हैं।
सो शरमाओगी तो दोस्त के साथ मज़ा कैसे लोगी, हम दोनों को पता है कि तुम मेरे घर में क्या करना चाहती हो, अब तो वैसे भी मैं तुम्हारा राज जानने वाला दोस्त बन गया हूं।
सो अगर मुझसे फ्री हो कर बात नहीं करोगी, तो फिर सेक्स कैसे करोगी, सीमा फिर भी चुप रही, रियान ने उसका हाथ पकड़ कर पूछा डर लग रहा है क्या ?
जैसे ही उसका हाथ पकड़ा रियान के लंड में तीखा करेंट दौड़ गया, सीमा के बदन की सिरहन और कंपकंपाहट भी उसे तुरंत महसूस हो गई।
सीमा बोली हां, रियान बोला किससे दोस्त से या सेक्स से या मुझसे, सीमा बोली दोस्त से मुझे उस पर विश्वास नहीं हो रहा है, मैं बहुत कंफ्यूज हूँ।
रियान बोला तो उसके साथ मत करो, सीमा बोली फिर किसके साथ करूं ? रियान बोला हूँ, तुम मुझे एक बात बताओ कि क्या तुम्हारा मन सेक्स करने का है।
और तुम कितना बेताब हो सेक्स के लिए? सीमा बोली मेरा सेक्स करने का बहुत मन है, मैं रात भर सो नहीं पाती, पर किसके साथ करूं, मुझे ये समझ में नहीं आता।
मुझे कॉलेज के लड़कों पर भरोसा नहीं है,रियान बोला एक बात बोलूं तुम मेरे साथ सेक्स कर लो, तुमको कभी भी किसी भी बात का डर नहीं रहेगा।
और मैं तुमको कभी नुकसान भी नहीं पहुंचाऊंगा, सीमा बोली आपके साथ ? रियान ने सीधे सीधे उससे चुदाई की बात कह तो दी थी।
मगर रियान की गांड फट रही थी कि लौंडिया उखड़ न जाए, रियान ने सोचा कि अब कह तो दिया ही था, जो होना होगा सो देखा जाएगा।
रियान ने उसे समझाते हुए कहा देखो मैं ऐसा कह रहा हूं, जरूरी नहीं कि तुम मान ही जाओ, तुम मना भी कर सकती हो, मैं तुमसे दोबारा कभी नहीं कहूंगा ।
ये कह कर रियान ने फाइनल दाना डाला और फिर से कहा चलो अब मुझे देर हो रही है, मुझे ऑफिस जाना है मुझे काम है।
सीमा ने भी जूस खत्म किया और वो रियान के साथ निकल गई रियान ने उसे घर पर छोड़ा और ऑफिस पहुंच कर काम में लग गया।
पांच दिन बीत गए थे रियान की सीमा से इस विषय पर कोई बात नहीं हुई, ना ही वो उसके घर पर आई।
फिर एक दिन सुबह सुबह में वो रियान के घर पर आई और सीमा धीरे से उससे बोली मैं आपके साथ तैयार हूं।
ये सुन कर तो रियान का दिल उछल कर उसके मुँह में आ गया, उसे विश्वास ही नहीं हुआ कि उस जैसी कमसिन कन्या मेरे साथ चुदाई को राज़ी हो जाएगी।
उसके गालों की लाली देख कर शर्म से झुका चेहरा देख कर रियान का दिल बागबां हो गया, रियान बोला कब।
सीमा बोली जब आप कहो, बस एक दिन पहले आप बता देना, रियान बोला फिर सोच लो, बाद में मुझे दोष मत देना।
सीमा बोली मैं खूब सोचा, पांच दिन तक सोचा तभी आपको यस कहा, मुझे पता है कि आप मुझे धोखा नहीं दोगे और मुझे जिंदगी भर की ऐसी यादगार यादें दोगे।
बस मुझे प्रेग्नेंट मत करना, मैं सिर्फ कोचिंग टाइम में ही आपके पास रह सकती हूं, आप देख लो कि आप कितनी देर अपना काम बंद कर सकते हो।
रियान बोला क्यों ना हम वीक में एक दो दिन ही मिलाकरे ?, सीमा बोली ओके तो परसों मैं आ जाऊंगी, रियान बोला डन, परसों मेरे घर में ही हम एन्जॉय करेंगे।
ऐसा कह कर रियान ने उसके हाथ को पकड़ा और अपनी तरफ खींच कर उसके लबों को अपनी लबों से जोड़ कर एक प्रगाढ़ चुम्बन लिया।
साथ ही साथ उसकी मखमली बूब्स को भी दबा दिया, उफ्फ्फ, क्या रस भरे होंठ थे, क्या नरम सी चूचियां थी, ऐसी लगीं कि रुई के गोले हो, मुलायम सा बदन।
सिल्की सी उसकी त्वचा, रियान का लंड तो फुल मूड में आ गया था, और आए भी क्यों नहीं, पहली बार लंड से 18 साल की एक कुंवारी चूत का उद्घाटन करने जा रहा था।
सीमा बोली मैं आपके घर सुबह 9 बजे आ जाऊंगी, और 1 बजे चली जाऊंगी, रियान बोला ओके, मेरे घर में तुम्हारा स्वागत रहेगा हमेशा।
सीमा ने मुस्कुरा कर रियान की तरफ झुक कर एक उसके होंठों को चुम्बन दिया और जाने लगी, उफफ, जाते जाते सीमा जोर से उसके लंड को भी दबा गई।
मतलब वो लंड के लिए हद से ज्यादा बेताब थी, जितना वो सीमा को सीधा समझ रहा था वो नही थी, अब तो रियान के लंड को उसकी चुत फाड़ने का इंतज़ार था।
अगले दिन रियान रात को ऑफिस से घर की ओर आते हुए, अंदाज़े से उसके लिए मस्त लाल ब्रा पैंटी, एक पारदर्शी नाइटी काले रंग की, जो उसके हिसाब सीमा के चूतड़ों को भी ठीक से ढंक नहीं पाती।
और ब्रा और पैंटी बहुत झीनी सी थी, जिसमें सब कुछ दिख सकता था, साथ में केवाई जैली और दो रंग के गुलाब के ढेर सारे फूल लेकर घर आया।
अगली सुबह रियान ने कांता से घर को खूब साफ-सुथरा करके दूसरे कमरे को सजाने में लगा दिया, बिस्तर पर धुली सफ़ेद चादर बिछा कर उस पर सफ़ेद गुलाब के फूलों से एक दिल का आकार बनवाया।
उस सफ़ेद गुलाबों के दिल में लाल गुलाब भर दिए, पूरे बिस्तर पर गुलाबों की चादर बिछा दी, परदे चेंज करके मोटे परदे लगा दिए, जिससे कमरे में काफी हद तक रात का माहौल तैयार हो गया।
पूरे कमरे खुशबू वाली कैंडल लगा दी, पंखे की पंखुड़ियों पर गुलाब रख दिए और मस्त परफ्यूम स्प्रे कर दिया, माहौल बहुत खुशनुमा कर दिया।
आखिर पहली बार रियान एक 18 साल की कुंवारी कमसिन कन्या की चूत की सील तोड़ने वाला था, तो सीमा का इतना हक़ तो बनता ही था ।
कमरा सजाने के बाद रियान ने उस कमरे को बंद कर दिया, और अब्दुल और कांता को घर के बाहर गुमने को भेज दिया और अब इंतज़ार कर रहा था सीमा के आने का।
ठीक 9.15 पर सीमा का फ़ोन आया कि में कुछ ही देर में आने वाली हुं आपके घर पर, तो रियान ड्राईंग रूम में बैठ गया, थोड़ी देर में उसे दरवाजा खुलने की आवाज आई।
अन्दर आते क़दमों की आहट और उस आहट ने रियान की धड़कनें और भी बढ़ा दी, उसने पलट कर देखा तो सामने एक खूबसूरत सा चेहरा एक कातिल सी मुस्कान लिए सीमा खड़ी थी।
कुछ ही पलों में रियान को एक तेज बॉडी स्प्रे की महक सी आई, तो रियान ने देखा, सीमा क्या खूबसूरत लग रही थी, उसने लाल रंग का पटियाला सूट पहना हुआ था।
आंखों में काजल, दो अमृत कलश के बीच में साफ़ दिखती गहरी रेखा, गोरे गाल सेव सी गुलाबी रंगत लिए हुए थे, सीमा की सुराही जैसी गर्दन और उसके कुर्ते के अन्दर उसकी उभरी हुई चूचियां कहर बरपा रही थी।
कागजी त्वचा वाले कानों में बूंदे, हाथों में कंगन, खुले हुए बाल, उफ़ ये तो खुद ही दुल्हन की तरह सज कर आई थी।
उसे देखते ही रियान का मुँह खुला का खुला ही रह गया, सीमा पास आई और अपने नर्म हाथों से उसका मुँह बंद करके पूछा क्या हुआ ?
रियान बोला कुछ नहीं, तुम बहुत खूबसूरत लग रही हो, बिल्कुल दुल्हन की तरह, सीमा , तुम्हारे कोमल-कोमल गाल, कोमल-कोमल होंठ, बड़ी-बड़ी आंखें, जो हल्का सा काज़ल लगने के बाद इतनी कातिलाना हो जाती हैं कि किसी का भी खून हो जाए।
अब देखो तुमने मेरा ही क़त्ल कर दिया ना, ये कह कर रियान ने उसे अपनी बांहों में ले कर उसके गालों पर हौले से एक चुम्बन दे दिया।
इस चुबंन और बाहों में लेने के साथ ही रियान ने सीमा के लाल होते चेहरे के साथ उस के शरीर में एक सिहरन सी महसूस की।
सीमा बोली क्या आप भी अंकल, मुझे क्यों बना रहे हो, मैं इतनी भी खूबसूरत नहीं हूँ, जितनी आप तारीफ कर रहे हो।
रियान को उसकी यह बात बहुत अच्छी लगी, इतनी बला की खूबसूरत होने के बाद भी उसमें फालतू वाले नखरे नहीं थे, जो कहना है वो साफ कह देती है ।
रियान बोला मैं सच कह रहा हूं सीमा, आज तुम बहुत ज्यादा ही खूबसूरत लग रही हो, बहुत तैयारी की साथ आई हो।
सीमा बोला पता नहीं, पर मन में बहुत डर है, पता नहीं, मैं सही कर रही हूं या गलत, रियान बोला देखो सीमा अगर तुम्हारा मन नहीं कर रहा है, तो तुम अभी भी वापस जा सकती हो।
यह कह कर रियान ने सीमा के होंठों पर अपने होंठ रख दिए, वो उसके नर्म होंठ को चूमने लगा, सीमा भी अपने मुलायम होंठों से उसके होंठों को चूसने लगी।
रियान ने उससे बांहों में भर रखा था, रियान नहीं चाहता था कि वो वापस जाए, ये तो सीमा को पता था कि वो दोनों एक साथ क्यों हैं, उसको लंड चाहिए था और रियान को उसकी कुंवारी चुत और गांड़।
वो दोनों करीब 10 मिनट तक एक दूसरे के होंठों को चूसते रहे, फिर सीमा बोली अंकल आप तो मुझे वापस नहीं जाने दोगे, एक तो मैं वैसे ही मेरा बहुत मन है।
उस पर से ये आपका गर्म किस उफ्फ आप तो मुझसे ज्यादा बेक़रार हो, इतना अच्छा किस तो मेरा बॉयफ्रेंड भी नही करता है मुझे।
रियान बोला सीमा तुम आज इतनी खूबसूरत और सेक्सी लग रही हो कि किस करते करते मेरा मन डोल गया।
सीमा बोली मन तो मेरा भी आपके लिए डोल गया है, पर आप मुझे मानसिक रूप से और शारीरिक रूप से ऐसा गर्म कर दो कि मेरे दिल वो दिमाग में कोई अपराध बोध न रहे।
रियान ने कहा तुम बैठो, मैं कुछ पीने को लाता हूं, ये कह कर रियान कूल्ड्रिंक, चिप्स, समोसा ले कर आया, फिर वो दोनों वहीं सोफे पर बैठे बैठे खाने लगे।
साथ ही साथ रियान बीच में उसकी जांघ और पीठ सहला रहा था, ब्रा की स्ट्रिप्स को खींच कर अचानक छोड़ देता, तो वो चट की आवाज के साथ उसकी पीठ को लाल कर देती थी।
सीमा की दर्द और सिसकारी के आवाज निकल जाती आआह्ह उफ्फ लगती है न।
फिर रियान उसके गाल पर किस कर लेता, इन सबका असर ये हुआ कि सीमा भी जल्दी गर्म होने लगी, उसका हाथ रियान की जांघों पर आ गया।
इस बार पता नहीं सीमा को क्या हुआ कि वो रियान को पागलों की तरह चूमने लगी, और रियान उसके पटियाला सूट के ऊपर से उसके बूब्स दबाने लगा।
सीमा के मुँह से मादक और कामुक सिसकारियां निकलने लगी, वो रियान से कस कर चिपक गई, अचानक रियान को ध्यान आया कि ये वो क्या कर रहा है।
रियान ने तो कुछ और ही प्लान कर रखा था, वो तुरंत उससे दूर हो गया, सीमा उसकी तरफ आश्चर्य से ऐसे देख रही थी, जैसे पूछ रही हो कि क्या हुआ ?
रियान उठा और एक बड़ा सा रुमाल उठा लाया, फिर उसने उसको पकड़ कर उसकी आंखों पर वो रूमाल बांध दिया, वो पूछना चाह रही थी कि ये हो क्या रहा है।
पर रियान ने उसके खुलते लबों को उंगली से चुप करा दिया, फिर उसको बांहों में उठा कर उसको दूसरे रूम में ले चला।
दूसरे रूम में जाकर उसको वाशरूम के सामने खड़ा किया और बोला कि तुम अन्दर जाओ और वहां एक ड्रेस रखी है, तुम्हें वो पहन कर बाहर आना है।
जब तक मैं कहूँ तब बाहर आना, अन्दर जो ड्रेस रखी है उसे देख कर कुछ भी सोचना नहीं बस पहन लेना, वो अन्दर चली गई।
रियान ये भी जानता था कि ऐसी ड्रेस पहनने के लिए उसको टाइम लगेगा, इस बीच उसने कमरे में कैंडल जला दी, कैंडल की पीली रोशनी से कमरा नहा गया।
खिड़की पर लगे मोटे परदों ने पहले ही कमरे को दिन में अंधेरा मतलब रात जैसा कर दिया था, एसी के वजह से कमरा बहुत ही ठंडा था।
कमरे को देखकर ऐसा लग रहा था कि सुहागरात जैसा रोमांटिक माहौल हो, इस बीच सीमा की आवाज आई कि ये मैं पहन नहीं सकती।
रियान बोला सीमा यदि तुम आज के दिन को अपनी जिंदगी का सबसे यादगार दिन बनाना चाहती हो, तो कुछ पूछो मत सोचो मत बस जो मैं कह रहा हूं, वैसा करो।
और हां पहन कर अच्छे से रूमाल को आंखों में बांध लेना और कोई बदमाशी मत करना, थोड़ी देर बाद उसने दरवाज़ा खटखटाया, तो रियान दरवाज़ा खोलने उठा।
उसने दरवाजा बाहर से बंद कर दिया था, उसको खोला तो उसके गोरे रूप को काले रंग में देख कर रियान के तो होश उड़ गए।
रियान ने किसी तरह अपने पर काबू करके उसका हाथ पकड़ कर फैन के नीचे ला कर खड़ा कर दिया, फिर वो स्विच के पास जाकर खड़ा हो गया ।
और बोला अब तुम आंख खोल सकती हो, सीमा ने पट्टी हटा दी, कमरे का माहौल देख कर उसकी आंखें खुली रह गईं, मुँह भी खुला रह गया था।
उसके चेहरे की ख़ुशी देखते ही बन रही थी, तभी रियान ने फैन का स्विच ऑन कर दिया, सीमा पर लाल और सफ़ेद फूल की पखुड़ियों से बौछार होने लगी।
सीमा ख़ुशी के मारे दोनों हाथ खोल कर गोल गोल घूमने लगी, अब रियान के संयम की भी इन्तेहा हो गई थी, उसने धीरे से उसके पास आकर उसकी कमर में हाथ डाला और उसको अपने पास खींच लिया।
वो इतने पास आ गए थे कि वो दोनों एक दूसरे की गर्म सासों को महसूस कर सकते थे, उन दोनों की नजरें मिलीं और फिर उनके होंठ जुड़ते चले गए।
उफ्फ कितने सॉफ्ट रस से भरे गुलाबी होंठ और तीव्र आवेश से भरा एक बोल्ड चुम्बन, रियान के होंठों ने उसके होंठों को चूमना चूसना शुरू कर दिया था।
फिर सीमा ने भी थोड़ा सा रेस्पॉन्स करना शुरू कर दिया, उसके हाथ रियान के कंधों से होते हुए उसके गले का हार बन गए, अब उन दोनों के होंठ इस कदर जुड़े थे कि सांस भी नहीं ले सकते थे।
सीमा जितनी बेसब्र थी, वहीं रियान अब बहुत कूल था, क्योंकि उसे बहुत आगे तक जाना था, रियान उसको वो सब करने दे रहा था, जो कि वो चाहती थी।
सीमा रियान को पागलों की तरह किस करने लगी थी, उन्होंने किस किया और एक लम्बा स्मूच किया, कितने सॉफ्ट और रसीले होंठ थे सीमा के।
इस बार रियान भी कुछ पल के लिए मदहोश हो गया था, थोड़ी देर के लिए सांस लेने के बाद उनके होंठ फिर जुड़ गए, कभी वो रियान के नीचे के होंठ को, तो कभी वो उसके ऊपर के होंठ को चूसने लगती।
इसी बीच उन दोनों की जीभ भी आपस में मिल गई थी, फिर उन दोनों ने एक दूसरे की सलाइवा को महसूस किया और एक दूसरे के सलाइवा को टेस्ट करने लगे।
वो दोनों कुछ सेकंड के लिए रुके, तो सीमा की आंखें बंद थी, उसके मुँह से एक ही आवाज आ रही थी आआहह यस्स आई लवव इट किस मी हार्ड रियान अंकल।
सीमा की आंखें आनन्द में बंद हो गई थी, और उसका दिल तो जोर से धड़क रहा था, क्योंकि काफी इंतजार करने के बाद उसे लंड मिलने वाला था।
रियान को पता था कि सीमा को उसके मोटे लम्बे लंड को लेते समय वो बहुत चिल्लाएगी, रोएगी, पर ये तो हर लड़की को एक न एक दिन सहना ही पड़ता है।
सीमा को देखा, पहले तो वो एक साधारण सी लड़की लगती थी, पर इन कपड़ो में देखकर रियान उसकी बॉडी के बारे में सोचने लगा, करीब पांच फुट 4 इंच लम्बी।
उसकी स्लिम बॉडी, उम्र के हिसाब से 28 साइज की परफेक्ट बूब्स , पीछे 30 इंच की गांड और गांड के ऊपर 24 इंच की एकदम मक्खन सी कमर।
इस हाहाकारी ड्रेस में उसकी चूचियां रियान को साफ दिख रही थी, उसे भोगने के लिए उसके पास काफी टाइम था और वो चाहता था कि सीमा का पहला अनुभव यादगार हो।
ताकि रियान उसको हमेशा पा सके और जब चाहे तब तक उसको चोद सके, यानि की अगले 5 या 6 साल तक जब तक कि उसकी शादी न हो जाए।
सीमा की आंखें आनन्द में बंद हो गई थी, रियान कभी उसकी गर्दन पर चुम्बन करता, तो कभी चूचियों के ऊपर, दूसरी तरफ सीमा उसके सोच से एक कदम आगे थी।
वो रियान से बेल सी लिपटी जा रही थी, सीमा ने उसके शर्ट के बटन खोलना शुरू करके उसको दो ही पल बाद उतार कर फेंक दिया, उसकी छाती जो कि बिल्कुल चिकनी थी।
सीमा उसके सीने को चूसने के साथ चुम्बन भी करने लगी, रियान ने उसको अपनी बांहों में समेट लिया और उसके दोनों चूतड़ों को मसलने लगा।
साथ ही उसकी काली ड्रेस को ऊपर करने लगा, जैसे ही उसकी गांड की दरार पर रियान ने उंगली लगाई और फिराई तो सीमा उछल सी गई।
और ‘आअह्ह्ह’ की आवाज के साथ वो उसे देखने लगी, इस काली ड्रेस में उसका जिस्म पूरा दिख रहा था, ब्रा और पैंटी के अन्दर से उसका दमकता यौवन दिख रहा था।
रियान ने उसकी नाईट ड्रेस निकल कर फैंक दी, अब सीमा सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी, उफ्फ़ क्या मदमस्त यौवन था, उसको लिटा कर वो उसके ऊपर आ गया।
उसके दोनों पैर फैला कर उसकी पैंटी से ढकी चूत के ऊपर अपना लंड पेंट के साथ से ही रगड़ दिया, सीमा सरसराते हुए बोली उफ्फ्फ ये क्या चुभ रहा है ?
रियान बोला तेरी पसंद का खिलौना है खुद देख ले, सीमा बोली हटो अंकल आप मुझे दिखाओ मुझे देखना है आपका, रियान ने उसको उकसाया क्या देखना है ? नाम लो न।
सीमा बोली अरे आप भी ना बस दिखाओ, रियान बोला नहीं पहले बोलो क्या देखना है ? सीमा बोली देखो अंकल मैं शहर की लड़की हूं, मुझे सब नाम पता है।
एक बार मैं अपने पर आ गई, तो फिर आपको ही शर्म आएगी, रियान बोला तो बोलो ना, में चहता हूं तुम खुलकर सेक्स करो ?, रियान ने उसको और उकसाया।
सीमा बोली मुझे अपना लंड दिखाओ, जो मेरी कुंवारी चूत में जाएगा और अब आप खुश, रियान बोला तुम खुद ही निकाल कर देख लो।
रियान के इतना कहते ही सीमा ने उसे धकेल कर गुलाब से भरे बिस्तर पर गिरा दिया और उसके ऊपर आ गई, उसके बिखरे बाल गोरा बदन और लाल ब्रा और पैंटी में नंगी जवान सीमा।
झुक कर रियान की पेंट के बटन खोलने लगी, वो इत्मीनान से उसकी बेसब्री, दीवानगी देख रहा था, जो उसकी रियान के लंड के प्रति थी।
फिर सीमा रियान की पैन्ट उतारने लगी, पहले उसने सिर्फ रियान की पैन्ट उतारी अंडरवियर नहीं, गजब की लड़की थी, मर्द को तड़पाना वो इस उम्र में ही सीख गई थी।
रियान ने अपने कूल्हों को उठा कर उसको सहयोग किया, उसके पैन्ट को खींच कर उसने एक तरफ फेंक दिया, फिर उसने रियान के लंड को अंडरवियर के ऊपर से सहलाया।
फिर उसने रियान के लंड को जोर से दबा कर उसकी तरफ कातिल अदाओं के साथ देखा, जैसे पूछ रही हो कि क्यों अंकल मज़ा आया क्या ?
आप मेरे साथ बने रहिए और इस रियान अंकल की सेक्स कहानी पर किसी भी प्रकार की राय देने के लिए आप मेल पर मुझसे संपर्क कर सकते हैं.
[email protected]

यह कहानी भी पड़े  हॉट सीमा 2 Xxx की चूदाई कहानी 15


error: Content is protected !!