रंडी बनके दीदी चुदी पापा से

हेलो दोस्तों, मेरा नाम कबीर है. ये हमारे घर की सॅकी कहानी है, जिसमे की हमारी घर की चुदाई के बारे में बताया है. हमारे घर में मों दाद के डाइवोर्स के बाद मेरी बेहन ने किस तरह घर को संभाला, और हमारे बिस्तर को भी संभाला.

मेरी बेहन के बारे में जितना बतौ कम है. गोरा भरा हुआ शरीर, 34द के बड़े बूब्स, और 34″ की ही आस है. उसका नाम रिया है, जो चेंज करके लिखा है. आगे उसकी 21 है. मैं कबीर, आगे 26, दाद 48 आगे के है.

कहानी पिछले साल की है. मों को दाद के अफेर के बारे में पता चल गया था. तब उन्होने डाइवोर्स दे दिया था, और मों चली गयी थी. मैं और रिया दाद के पास ही रहे. ये सब 8-9 मंत पहले शुरू हुआ.

रिया नहा रही थी, और वॉशरूम का दरवाज़ा खुला था. मैं जैसे ही उसे बुलाने उसके रूम में गया, तो देखा की वो वॉशरूम में थी. फिर जब मैने डोर नॉक किया, तो वो खुल गया. सामने रिया बिल्कुल नंगी थी. बड़े-बड़े बूब्स, और मोटी आस देख कर मेरी आँखें जैसी फटत गयी. उसने मेरी तरफ देखा, और खुद को धक लिया, और दरवाज़ा बंद कर लिया.

रिया: ओह शीत, भैया आप! सॉरी-सॉरी दरवाज़ा खुल रह गया.

मे: कोई बात नही बहना. इट’स ओक. मैं तो तुझे खाने के लिए बुलाने आया था.

उसने बोला: आई मैं 5 मिनिट में.

मैने बेड पर उसकी ब्रा पनटी देखी लाल रंग की. तभी मुझे उसके साइज़ का पता चला था. मैने उसको स्मेल किया. मेरा डिक मानो बिल्कुल टाइट हो गया था. बुत मैने कुछ नही किया, और चला गया.

मों दाद का डाइवोर्स था, तो दाद उन दीनो अकेले जैसे थे, मुरझाए जैसे. तो मैने रिया से बोला-

मैं: रिया, दाद की ऐसी हालत देखी नही जाती यार.

रिया: क्या कर सकते है भाई? इस आगे में कोई शादी भी नही करेगा.

मे: ये तो है बेहन.

एक चीज़ बताना भूल गया. मेरे और रिया में हल्का मज़ाक चलता था. नों-वेग बातें वग़ैरा.

रिया: भाई चलो हम तो कुछ कर नही सकते.

तभी दाद आए हॉल में, और दाद खाना खाने लगे. रिया उठी, और किचन में गयी. मैने देखा रिया किचन से बिना ब्रा के टॉप पहन कर आई. दाद उसको घूर रहे थे. एक तो वो टॉप भी डीप नक्क पहनती है, तो सॉफ-सॉफ नज़ारा दिख रहा था.

रिया: दाद कुछ लोगे? अगर कुछ भी चाहिए तो बोल दो.

मैने उसको इशारा किया की क्या था वो.

रिया (इशारे में): कुछ नही है भाई.

उसके बाद दाद चले गये. शाम को दाद ऑफीस से घर आए. रिया किचन में काम कर रही थी. पता नही उसको क्या हो गया था, उसने ब्रा पहनना बंद जैसा कर दिया घर में.

रिया ने दाद को पानी दिया, और काम में लग गयी. रात को हमने खाना खाया. फिर मैं रूम में चला गया अपने. जैसे ही मैं पानी लेने गया, रिया जागी हुई थी, और किचन में थी.

मे: क्या कर रही हो तुम?

रिया: दाद को दूध देकर सो जौंगी. तुम सो जाओ भैया.

मे: ओक बेब, गुड नाइट (मैं कभी-कभी बोल देता हू उसको मज़ाक में बेब).

जैसे ही मैं सोने लगा 11 बजे लगभग, मैने दाद और रिया की आवाज़े सुनी बात करते हुए. मैं देखने गया दाद के रूम में. रिया दाद के साथ बेड पर बैठी थी, और मोविए देख रही थी. वो कुछ बोल रही थी दाद को, और दाद ड्रिंक कर रहे थे.

रिया: दाद आप आज कल बहुत अकेला फील करते होंगे.

दाद: क्या कर सकता हू बेटी, ग़लती की थी. बुत तेरी मों तो छ्चोढ़ कर ही चली गयी.

रिया: कोई बात नही दाद. अब क्यूँ याद करते हो.

दाद: बेटी कमी महसूस होती है तेरी मा की.

रिया: कमी कहा महसूस होती है? बेड पर सेक्स के लिए? क्यूंकी घर के काम तो मैं कर देती हू.

दाद: क्या बतौन बेटी.

रिया: दाद दोस्त समझ कर बता दो.

दाद ( रोने लगे): बेटी एक मंत से सेक्स नही किया. हिला-हिला कर ही गुज़ारा कर रहा हू.

रिया: कोई बात नही दाद. मैं हू ना. आपकी बेटी आपके लिए कुछ भी कर सकती है.

दाद: बेटी है तू मेरी. तेरे साथ नही बेटा, पाप है ये.

रिया: जब पराई औरत के साथ किया था, तब पाप नही था?

( रिया अपनी त-शर्ट खोल देती है, और बिना ब्रा के 34सी के बूब्स बाहर होते है)

दाद: बेटी ये क्या कर रही है? पागल हो गयी है क्या तू?

रिया: दाद मैं आपको ऐसे नही देख सकती.

तभी रिया दाद के पाजामे में हाथ डाल देती है, और लंड बाहर निकल देती है दाद का. ये सब देख कर मेरा बुरा हाल हो रहा था.

दाद: रिया मत कर बेटा, बेटी है तू मेरी.

रिया: दाद आपको मैं पसंद नही आई क्या?

दाद: बेटी तू बहुत खूबसूरत है.

रिया झुकती है, और दाद का लंड मूह में ले लेती है सीधा. ये देख कर मैं पागल हो जाता हू.

दाद: आहह बेटी, ये क्या कर रही है? मत करो.

दाद मज़ा ले रहे होते है. बस ऐसे ही माना कर रहे होते है. ड्रिंक में उन्हे क्या पता की बेटी बाप का लंड मूह में लिए बैठी थी. रिया बहुत खूब और मज़े से ब्ज दे रही थी. दाद उसके बूब्स पकड़ कर बोलते है.

दाद: वाह क्या तरबूज़ है तेरे. ऐसे तो उसके भी नही है, जो डाइवोर्स देकर चली गयी.

रिया: आज से ये सब कुछ आपका है, जब मॅन करे चूस लिया करना.

दाद: नीचे का भी उतार दे, जब कर ही रही है बेटी.

रिया: इतनी हिम्मत करके मैने किया. अब इतना तो कर सकते हो आप.

दाद फिर रिया को नंगा कर देते है, और उसके शरीर को चाटने लगते है.

रिया: मेरी पुसी लीक करो आचे से.

दाद: ज़रूर मेरी जान.

और दाद मज़े से उसकी पुसी चाट-ते है. दाद का डिक बिल्कुल टाइट होता है.

रिया: उपर आ जाओ पापा, और डाल दो अंदर.

दाद उसके उपर आ कर एक-दूं से लंड डाल देते है. रिया चीखती है, और पुर घर में उसकी चीखे गूँजती है. जैसे कोई घर में ना हो ऐसे चुड्ती है साली.

दाद: तूने आज मुझे खुश कर दिया बेटा.

रिया: दाद मैं आपकी ही अमानत हू. जब मॅन करे उपर चढ़ जाना, माना नही है.

सारी रात दाद उसकी चुदाई करते रहे. हर एक पोज़िशन में चुड्ती है वो. सुबा मैं जल्दी उठ कर फिर देखने चला गया. बेहन दाद के डिक को मूह में लेकर चूस रही होती है. दाद उठ कर बोलते है-

दाद: ये क्या कर रही है बेटी तू? यहा कैसे?

रिया: सारी रात चुदाई के बाद अब नाटक मत करो.

दाद शॉक हो जाते है और थोड़ी देर बाद फिर चुदाई करते है, और ऑफीस के लिए तैयार हो जाते है. बेहन ने उस दिन के बाद घर में ब्रा पनटी पहनना बंद कर दिया. या तो वो ब्रा ही पहनती थी, या त-शर्ट ही.

अगले पार्ट में जानिए की मेरी बेहन मुझसे कैसे चूड़ी, और अगर कहानी अची लगी हो, तो प्लीज़ मैल करे. और किसी भी बेहन, भाभी, मों किसी औरत को कोई हेल्प चाहिए हो, और किसी को अपनी बीवी, गफ़, मों, सिस किसी को भी छुड़वाना हो, तो मैल करके जवाब दे. और बात करे प्राइवसी की, तो सेफ रहेगी सब की.

यह कहानी भी पड़े  बीमार बेटी की चूत की आग की स्टोरी


error: Content is protected !!