रेलवे स्टेशन पर मा के ग्रूप सेक्स की कहानी

ये कहानी मेरे दोस्त राजा की मा की है. उसकी मा का नाम उर्वशी था. उनकी उमर 41 साल और रंग एक-दूं गोरा था. उसकी मा की गांद एक-दूं गोल और बाहर निकली हुई थी. उनकी चूचियाँ क़ास्सी हुई, लेकिन सॉफ्ट थी.

उनकी हाइट 5 फीट 6 इंच थी. बाल लंबे और जिस्म दूध की तरह मुलायम था. उसका बाप बाहर रहता था.

एक बार मा को अपने माइके में शादी में जाना था. और राजा के एग्ज़ॅम थे. इसलिए उसने चलने से माना कर दिया. मा ने अकेले ही जाने को कहा तो राजा ने माना किया, लेकिन उसकी मा नही मानी.

राजा के बाप ने जाने की इजाज़त दे दी, तो उसकी मा अकेले ही जाने लगी. उसको बड़ी मुश्किल से रात की एक ट्रेन मिलती है, जो 2 बजे की थी. तो वो रात को 1 बजे घर से निकल जाती है.

फिर स्टेशन पर पहुँच के पता चलता है, की ट्रेन 2 घंटे लाते थी. मतलब ट्रेन अब 4 बजे आएगी. क्यूंकी घर स्टेशन से बहुत डोर था, और उसका बेटा भी साथ नही था, तो वो घर भी नही जेया सकती थी. इसलिए वो स्टेशन पर ही इंतेज़ार करने लगती है.

फिर इंतेज़ार करते हुए वो बेंच पे लेट जाती है, और मा को नींद आने लगती है. उसकी मा ने आज लहंगा-सारी पहनी थी. फिर ज़ोर से हवा चलने लगती है, जिससे उनका लहंगा सारी उडद के उपर उठ जाते है. इससे उनकी मोटी-मोटी जांघें दिखने लगती है.

वाहा से थोड़े बहुत लोग ही निकल रहे होते है. उनमे से कोई शरारत में मा का लहंगा और उपर उठा देता है, जिससे उनकी नंगी जांघों के साथ-साथ उनकी ब्लॅक पनटी भी दिखने लगती है.

अब वाहा स्टेशन के आस-पास 2 लड़के घूम रहे होते है. उनकी नज़र मा पे पड़ती है. इतनी गड्राई हुई जांघें और गांद देख के उनके लंड टाइट हो जाते है. फिर वो लड़के मा के पास आते है, और जब स्टेशन पर कोई नही होता, तो वो मा को बातों में उलझा कर अपने साथ ले-जाते है.

जब वो मा को एक सुनसान जगह पर ले जाते है, तो वो झटपटाने लगती है. लेकिन इसका कोई फ़ायदा नही होता. वो दोनो मा को एक सुनसान रेलवे पटरी पे ट्रेन के डब्बे में ले जाते है. फिर एक लड़का उनकी जाँघो को चूमने लगता है. जांघें इतनी मुलायम होती है, की उसको बहुत मज़ा आ जाता है. फिर दूसरा लड़का मा के रसीले गुलाबी होतो का चुंबन लेने लगता है.

मा लगातार विरोध करती रहती है, और कहती है: मुझे छ्चोढ़ दो, प्लीज़ जाने दो.

लेकिन उन दोनो ने मा को ज़ोर से दबा कर रखा था. फिर दोनो मा के कपड़े उतारने लगते है. पहले उनके ल़हेंगे की दूरी खीच देते है, और ज़ोर से खीच के उतार देते है. फिर ब्लाउस के बटन खोलने लगते है, तो मा उनको रोकती है, जिससे उनके बटन टूट जाते है.

फिर ब्लाउस भी उतार देते है. अब मा सिर्फ़ ब्रा और पनटी में होती है. फिर उन दोनो से रहा नही जाता, तो दोनो मा पे टूट पड़ते है. एक उनकी गांद पे लंड रगड़ता है, और दूसरा उनकी चूची दबाने लगता है. वो उनकी ब्रा और पनटी फाड़ देते है, और फेंक देते है.

अब मा पूरी नंगी हो जाती है, और गरम भी होने लगती है. फिर दोनो लड़के भी नंगे हो जाते है. मा अब बिल्कुल चुप होती है, और कोई विरोध नही कर रही होती. अब एक लड़का मा की गोरी-गोरी जांघें चाटने और मसालने लगता है, और दूसरा मा के दूध को मूह में भर लेता है, और चूसने लगता है. फिर 1स्ट्रीट लड़का जांघों से धीमे-धीमे उपर आता है, और राज की मा की छूट को सूंघटा है.

उसको मदहोशी चढ़ने लगती है. फिर वो उनकी छूट जीभ से चाटने और चूसने लगता है जिससे मा सिहार जाती है. लेकिन वो शांत पड़ी रहती है. फिर 2न्ड लड़का अपना लंड मा के मूह में डालता है.

वो मूह नही खोलती तो उसके मूह के उपर और होंठो पे अपना लंड रगड़ने लगता है. इतने में मा की छूट गीली होने लगती है. अब दूसरा वाला बोलता है की मुझे आने दे, तो पहला वाला हॅट जाता है. फिर दूसरा लड़का उनकी छूट पे लंड को घिसता है, जिससे मा के मूह से धीमी-धीमी आहह आहह निकालने लगती है.

इससे उसको और जोश आने लगता है, और वो उनकी छूट पे ढेर सारा थूक लगता है, और लंड को छूट में डालने लगता है. मा हटने की कोशिश करती है तब पहला उनको पकड़ लेता है, और उठने नही देता.

फिर दूसरा अपने पूरा लंड धीमे-धीमे मा की छूट में उतार देता है, और मा को छोड़ने लगता है. मा लेती रहती है, और मज़ा लेने लगती है. पहला मा के हाथ से अपना लंड हिलवाता रहता है, और एक हाथ से मा के चूचे दबाता रहता है.

फिर धक्के तेज़ होने लगते है, और वो मा के बूब्स को कस्स के पकड़ लेता है, और मा को हिलने लगता है. फिर वो अपना सारा गरम-गरम माल राज की मा की छूट में गिरा देता है. उसके बाद वो हॅट जाता है, और पहला आ जाता है. फिर वो भी मा को पेल देता है.

मा की गांद जो की एक-दूं रयी जैसी सॉफ्ट थी. वो उसपे थप्पड़ मारता है, और उनकी गांद को चूमने-चाटने के बाद उनकी गांद के छेड़ को चूस्टा है. फिर मा की गांद में ढेर सारा थूक लगता है. उसके बाद वो गांद में लंड डालने लगता है तो राज की मा माना करती है.

वो कहती है: प्लीज़ ऐसा मत करो.

तो लड़का पूछता है: क्या ना करू?

तो मा कहती है: यही, जो तुम कर रहे हो.

फिर लड़का बोलता है: तुम जैसी हसीन और चिकनी माल को कैसे ना छोड़ू? ऐसा मौका रोज़ कहा मिलता है?

फिर वो लंड एक-दूं से मा की गांद में थोक देता है, जिससे मा की चीखे निकल जाती है.

मा: अहः मैं मॅर गयी, निकली इसको जल्दी. बहुत दर्द हो रहा है.

लेकिन उस लड़के ने एक ना सुनी, और तेज़-तेज़ गांद छोड़ने लगा. मा के मूह से आहह आहह निकलती रहती है. फिर 10-15 मिनिट तक छोड़ने के बाद वो लड़का मा की गांद को ज़ूर से भींचता है, और तेज़-तेज़ झटके देने लगता है. वो अपना सारा लावा जैसा माल मा की गांद में छ्चोढ़ देता है. फिर वो दोनो वाहा से भाग जाते है.

मा वैसे ही लेती रहती है, और सोचती है ये क्या हो गया. वो ये सोचते हुए वही सो जाती है. 5 मिनिट बाद दो सफाई करंचारी आ जाते है, और मा को इस हालत में देख के चौंक जाते है.

वो आपस में कहते है, “ये कों है”? तो दूसरा कहता है, “वाह, इतनी चिकनी और गड्राई हुई आइटम कों है? चलो मज़े ले लेते है”. पहला कहता है, “लगता है किसी ने इसको छोड़ा है. चलो हम भी मज़े कर लेते है. कॉन्सा किसी को पता चलेगा”.

फिर वो दोनो अपने कपड़े उतारते है, और एक बेंच पे लेट जाता है, और दूसरा मा को उसके उपर लिटा देता है, और उनकी छूट में लंड डाल देता है. फिर दूसरा मा की गांद में लंड डाल देता है.

जब तक मा को होश आता है, तब तक देर हो जाती है. दोनो मा को एक साथ छोड़ने लगते है, और मा ताकि होने के कारण उन्हे माना नही करती और उनको पकड़ के चूड़ने लगती है.

मा: आहह आहह आहह.

दोनो ने 1 घंटे तक मा को छोड़ा. फिर मा का भी पानी छूटने लगा.

मा: आहह आहह हहाा.

और उन दोनो ने और स्पीड बढ़ा दी, और दोनो ने मा को सॅंडविच की तरह दबा दिया. उन्होने मा की छूट और गांद में एक साथ अपना-अपना पानी निकाल दिया. फिर दोनो ने मा के पुर बदन को चूसा, और दूध निचोढ़े, और जल्दी से वाहा से चले गये.

मा ने फिर जल्दी से कपड़े पहने, और शादी में ना जाके घर वापस चली गयी, और बेटे को सारी कहानी बताई, और प्रॉमिस माँगा की किसी को ना बताए.

दोस्तों प्लीज़ बताए की कहानी कैसी लगी?

यह कहानी भी पड़े  बार में मिले अंकल्स ने लड़की की ग्रूप चुदाई की


error: Content is protected !!