प्यासी भाभी दूसरे देश से आई चूड़ने को

हेलो दोस्तों, आज मैं अपनी एक और रियल सेक्स स्टोरी लेके आया हू. मैने एक पाकिस्तानी भाभी को छोड़ कर यूयेसेस प्रेग्नेंट किया, और भाभी की ताबड़तोड़ चुदाई की. ये स्टोरी पूरी रियल है, और बहुत ही काम-वासना से भारी हुई है.

मेरा नामे रोहित है. मैं कॉल बॉय हू. मेरे लंड का साइज़ 7 इंच है. मुझे कुछ दिन पहले एक हाउसवाइफ का मैल आया. जिसमे उसने मुझे अपने बारे में बताया. भाभी का नामे शगुफ्ता है. उनकी आगे 39 है. वो कराची पाकिस्तान से थी. वो एक हाउसवाइफ थी. उन्होने मुझे कहा की-

शगुफ्ता: मैने आपकी सारी सेक्स स्टोरीस पड़ी है. मुझे आपके सेक्स करने का तरीका पसंद आया है. आप बहुत हार्ड सेक्स करते हो. मुझे आपसे प्रेग्नेंट होना है. मेरे हज़्बेंड सेक्स तो करते है. लेकिन मुझे प्रेग्नेंट नही कर पाए. आप मुझे आचे से छोड़ कर मुझे बच्चा पैदा करने का सुख दे दो.

मैने उससे कहा: प्यारी भाभी जी. आप जाईपुर आ जाइए. मैं आपको पूरा सुख दूँगा चुदाई का और बच्चे का.

शगुफ्ता: मुझे आपसे हार्ड सेक्स चाहिए. जिसमे आप मेरी छूट और गांद को फाड़ दे. मेरे हज़्बेंड भी करते है. लेकिन वो मज़ा नही आया, जो आपकी स्टोरी में था. मेरी रोज़ छूट गीली हो जाती है, जब स्टोरी पढ़ती हू.

मैं: आपको प्रेग्नेंट होना है. तो आप 4 से 5 दिन के लिए मेरे पास आइए. जिससे आचे से बच्चा पेट में होगा.

वो बोली: जी, मैं 4 दिन के लिए आ जौंगी.

उसने मुझे बताया की वो 3 दिन बाद जाईपुर आ रही थी. मैं भी उसके लिए रेडी था. तो वो जब जाईपुर आई, उसने मुझे कॉल करके अपनी लोकेशन बता दी. मैं 1 अवर में वाहा पहुँच गया. होटेल रूम में जाते ही मैने उसके रूम की बेल बजाई. शगुफ्ता ने डोर खोला, तो मैं उसे देखने लगा.

मेरे सामने एक पाकिस्तानी हाउसवाइफ खड़ी थी, जिसने रेड कलर का सलवार सूट पहना था. वो 39 की नही 30 की लग रही थी. उसके बाल उसके कंधो से होके उसकी कमर तक आ रहे थे. होंठो पर रेड लिपस्टिक लगा रखी थी. चेहरा उसका गोरा और ब्यूटिफुल था. उसकी आँखें बहुत सुंदर थी.

शगुफ्ता ने मुझे अंदर बुलाया. मैने उसकी कमर पकड़ कर उसके बालों में हाथ फेरते हुए उसकी नेक पर किस कर दिया. इससे उसकी हल्की गरम सिसकी निकल गयी.

शगुफ्ता: ष्ह, रोहित. क्या मस्त स्टाइल है आपके मिलने का. आप तो बहुत हॅंडसम और गुड लुकिंग बॉय हो. आपके साथ 4 दिन एंजाय करूँगी तो बहुत मज़ा आ जाएगा. तो मेरे हॅंडसम, आज आप मुझे अपनी कस्टमर ना समझ कर मुझे अपनी पत्नी समझना ओक? और फुल हार्ड आंड वाइल्ड सेक्स करना. मैं पिछले कुछ दिन से बहुत तदपि हू. आपका मोटा लंड मुझे सोने नही देता है.

मैं: मेरी जानेमन. आज भी आपको ये लंड सोने नही देगा.

वो बोली: हा रोहित, आज मुझे सोने मत देना. जैसे दिल करे वैसे मुझे छोड़ना. मेरी इतनी ज़बरदस्त चुदाई करना, की मैं आपका सेक्स याद रखू.

मैं उसकी गरम और कामुक बातों से जोश में आ गया, और मैं भाभी को पकड़ कर दीवार के सहारे ले गया. मैं उसके कोमल गालों को चूमने लगा. शगुफ्ता अपने दोनो हाथ मेरी बॅक पर करके मेरे पीठ को सहलाने लगी. वो अपनी सेक्सी आँखों को बंद करके मेरे चूमने का मज़ा ले रही थी.

मैं चूमते हुए उसके होंठो पर आ गया. शगुफ्ता के लाल होंठो को अपने होंठो से चूसने लगा. मैं उसके उपर वाले होंठ को मूह में लेके ज़ोर से खींचने लगा. जिससे भाभी की सिसकी निकल जाती.

शगुफ्ता: उहह श आह.

भाभी के 38द के बूब्स के अपने हाथो से सहलाने लगा. अब मैने उसके हाथ उपर कर दिए, और उसके पुर फेस को चाटने लगा. शगुफ्ता भी मेरे फेस को अपनी गरम मुलायम ज़ुबान से चाटने लगी, और सिसकते हुए बोली-

शगुफ्ता: आह मेरे हॅंडसम रोहित. आपकी ज़ुबान से मेरे बदन में आग भड़क गयी है.

अब वो भी मुझसे लिपट कर मेरे फेस और गले को चूमने चाटने लगी. उसके टाइट मोटे बूब्स मेरी चेस्ट में दबने लगे, और मैं अपना एक हाथ पीछे करके उसकी 36″ की मोटी नरम गांद को सलवार के उपर से दबाने लगा. मैं भाभी की गांद को मसलता और एक हाथ से उसके बालों को पकड़ कर उसकी नेक को अपने दांतो बीते करने लगा. इससे उसकी गरम सिसकी निकालने लगती.

शगुफ्ता: आह अयाया श मा.

अब वो मेरे मूह से मेरी थूक को चूसने लगी. हमारा रफ्ली स्मूच चलने लगा. भाभी बहुत गरम हो गयी. वो फुल जोश में मुझसे चिपक कर मेरे होंठो को ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगी. उसके चूसने से हमारी सिसकियाँ निकालने लगी.

शगुफ्ता ने अपने दोनो पैर मेरी कमर में दोनो तरफ से लपेट लिए. फिर मेरी गर्दन में अपने दोनो हाथ डाल लिए. उसके बाद मुझसे अपनी भारी बॉडी चिपका कर मेरे फेस और होंठो को चूसने काटने लगी. भाभी पूरी तरह से जोश में सब भूल गयी. मैं उसे दीवार से दबा कर उसके होंठो काटने लगा. उसकी गरम आवाज़ आने लगी.

शगुफ्ता: उहह उम्म्म आह श. मेरे प्यारे हॅंडसम पति जी. आपके होंठ चूसने में बहुत मज़ा आ रहा है. और आप मेरी गांद को और ज़ोर से दब्ाओ. आपके हाथो में मेरी गांद बहुत अची लग रही है.

करीब 25 मिनिट हमारा जोश भरा स्मूच चला. इससे भाभी की छूट गीली हो गयी थी. अब मैने उसे अपनी गोद में पकड़ कर ही उसका रेड सूट फाड़ दिया. वो मेरे जोश को देख कर खुश होने लगी, और मुझे फिरसे चूमने लगी. फिर वो बोली-

शगुफ्ता: आह ऑश मेरे राजा. हा फाड़ दो आप मेरे सारे कपड़े. बहुत मज़ा आ रहा है.

अब उसने भी अपने मेहंदी लगे गोरे हाथो से मेरी शर्ट निकाल दी. मैं उपर से नंगा था. भाभी भी उपर से अब अपनी रेड ब्रा में थी. उसके बदन से गरम और मादक खुश्बू आ रही थी.

मैने जल्दी से उसकी ब्रा भी उतार फेंक दी. अब उसके 38″ के बूब्स मेरे सामने लटक रहे थे. बूब्स के निपल्स लाइट ब्राउन थे, जो मुझे चूसने के लिए बोल रहे थे. भाभी दीवार के सहारे मेरी गोद में थी. उसने एक हाथ से मेरे सिर को अपने बूब्स में दबा दिया.

मैं भी भाभी के गोरे सॉफ्ट बूब्स को चूसने लगा. एक बूब को निपल के साथ मूह में लेके चूसने और चबाने लगा. जिससे उसकी गरम सिसकी निकल जाती.

शगुफ्ता: आह उहह उम्म्म. हॅंडसम बेबी और चूसो ज़ोर से. मज़ा आ रहा है मेरे राजा.

मैं अब दूसरे बूब्स के टाइट निपल को मूह में लेके काटने लगा. वो मेरे काटने से मचल उठी, और उसने भी मेरी नेक पर एक बीते दी. दोनो गरम होके चुसाई करने लगे.

मैं बारी बारी से भाभी के दोनो बूब्स चूसने और काटने लगा. भाभी मेरे बदन से चिपक कर ज़ोर-ज़ोर से गरम सिसकियाँ ले रही थी. उसकी और मेरे सिसकियों की आवाज़ पुर रूम में गरम माहौल बना रही थी.

मैने 30 मिनिट तक खड़े-खड़े उसे अपनी गोद में दबा कर उसके बूब्स चूस-चूस कर लाल कर दिए. गोरे-गोरे मुलायम बूब्स और ब्राउन निपल पर मेरे दांतो के काटने के निशान बन गये.

अब मैने उसे नीचे खड़ा किया, और एक बार में उसकी सलवार निकाल दी. वो अब मोटी गांद के साथ खड़ी थी. मैने उसकी रेड पेंटी भी फाड़ के फेंक दी. शगुफ्ता मेरे सामने नंगी खड़ी थी. उसकी छूट गीली थी. गोरी छूट पर एक भी बाल नही था.

शगुफ्ता की गोरी छूट बहुत सॉफ्ट थी. मैं नीचे बैठा, और मैने अपनी नाक उसकी छूट पर रख कर सूंघने लगा. छूट से मादक और नमकीन स्मेल आ रही थी. जो मुझे जोश दिलाने के साथ मुझे गरम कर रही थी. मैने अपनी ज़ुबान उसकी मुलायम छूट के च्छेद पर रखी. तो शगुफ्ता की सिसकी निकल गयी. उसने जोश में मेरा मूह छूट में दबा दिया, और आँखें बंद करके बोली-

शगुफ्ता: ष्ह उहह रोहित. आपकी ज़ुबान छूट में हलचल मचा रही है. मेरे बदन में बिजली दौड़ रही है.

मैं अपनी ज़ुबान से छूट के दाने को चाटने लगा. जिससे उसके पैरों में कपकपि होने लगी. मैं अपना मूह छूट में दबा कर छूट को ज़ोर-ज़ोर से चाटने लगा. भाभी भी छूट मेरे मूह पर रगड़ने लगी. मैं उसकी छूट के माज़ को मूह से चूसने लगा, और मूह में लेके खींचने लगा. इससे उसकी गरम आवाज़ निकालने लगी.

शगुफ्ता: ष्ह आह ऑश. मेरे हॅंडसम रोहित. क्या मज़ा दे रहे हो. मेरे राजा जी खा जाओ इसे.

मैने छूट के दाने पर अपने दाँत से एक बीते दी. इससे वो ज़ोर से चीख कर उछाल गयी और बोली-

शगुफ्ता: आह उफ़फ्फ़ क्या करते हो आप. छूट में काट लिया.

मैं: क्यूँ मज़ा नही आया?

वो: आप जो करना है करो. मेरी छूट झड़ने वाली है.

मैं छूट में मूह दबा कर दोनो हाथो से उसकी गांद दबाते हुए उसकी छूट को चूसने लगा. वो मेरे सिर को दबा कर मेरे मूह पर छूट का रस्स बहाने लगी. मैने अपना मूह छूट नही निकाला, और छूट को चाट-ता रहा. छूट से निकली एक-एक बूँद रस्स को पीने लगा.

वो सिसकियाँ लेके बोली: ष्ह आह कितना सुकून मिला है. मेरे हॅंडसम पति आपने मुझे अभी से तका दिया. क्या एक्सपीरियेन्स्ड सेक्स करते हो.

बाकी नेक्स्ट पार्ट में.

किसी को मेरे साथ सेक्स करना है तो आप मुझे [email protected] पर मेसेज करे. आपकी प्राइवसी और सेक्स सर्विस सेक्यूर रखी जाएगी. आपको पूरा सॅटिस्फॅक्षन मिलेगा. मुझे एक बार मैल ज़रूर करे. बिना डरे अपनी बात शेर करे.

थॅंक्स ड्के.

यह कहानी भी पड़े  Yeh Choot Chodne Ke liye Bana hai


error: Content is protected !!