बच्चे के लिए अपनी और पति की बहनो को चुडवाया

हेलो ड्के फ्रेंड्स, कैसे हो आप सब? मैं ज्योति दिरबा पुंजब से अपनी सॅकी और असली चुदाई कहानी लेकर हाज़िर हू. सबसे पहले आप मेरे और मेरे परिवार के बारे में जानिए.

मेरे परिवार में मैं ज्योति, मेरी छ्होटी बेहन आरती, और मेरे मम्मी-पापा है.

मेरे पति नीरज गूव्ट. जॉब करते है, और मेरी दो छ्होटी ननद अंजलि और निशा और सास ससुर है. मेरी शादी को 2 साल से ज़्यादा समय हो चुका है, पर मैं अभी तक मा नही बन पाई.

मेरे पति नीरज मेरी चुदाई तो ठीक-ताक कर लेते है, पर उनके वीर्या में इतना दूं नही के वो मुझे छोड़ कर गर्भ से कर सके. जब हमे ये बात पता चली, तब नीरज मुझे धन्दास बँधा कर बोले-

नीरज: ज्योति हम कोई बच्चा गोद ले लेते है.

ऐसे ही एक बार मैं अपने माइके गयी. तब मुझे पता चला की मेरे चाचा की बेटी प्रियंका जिसने अभी पिछले महीने ही घर से भाग कर एक ड्राइवर से शादी की थी, वो भी आई हुई थी.

अब आप मेरे चाचा और उसके परिवार के बारे में जानिए. मेरे चाचा की डेत हो गयी है और चाची किरण गूव्ट. जॉब करती है. प्रियंका चाची की सबसे बड़ी बेटी है, और उसके बाद रूबल भैया जिसकी पढ़ाई पूरी हो गयी है, और उसे चाचा वाली जॉब मिलने वाली है. सबसे छ्होटी बेटी सपना अभी कॉलेज में पढ़ रही है.

मैं उससे मिलने चाचा के घर गयी. वाहा जेया कर पहले मैं चाची से मिली. फिर मैं और प्रियंका बैठ कर बातें करने लगे. बातें करते हुए मुझे पता चला की प्रियंका मा बनने वाली थी.

मैने प्रियंका से कहा: वाह प्रियंका, झट शादी और पट्ट बच्चा. तू कितनी किस्मत वाली है, और एक मैं हू जो बच्चे के लिए तारप रही हू.

प्रियंका बोली: दीदी तू ऐसा क्यूँ कहती है.

मैने प्रियंका को पूरी बात बताई और प्रियंका मेरी बात सुन कर बोली-

प्रियंका: दीदी बुरा ना मानो तो एक बात काहु?

मैने कहा: बोलो क्या कहना चाहती हो?

प्रियंका कुछ देर सोच कर बोली: दीदी अगर तू चाहे तो तू भी मा बन सकती है. पर उसके बदले में तुझे कुछ देना होगा, और जीजू की सहमति भी लेनी होगी.

मैने पूछा प्रियंका: वो कैसे?

प्रियंका बोली: दीदी बस तुझे उसके साथ सोना होगा और बदले में उन्हे आरती और तेरी दोनो ननद अंजलि और निशा को छुड़वाना होगा.

मैने कहा: प्रियंका तुझे पता है तू क्या बक रही है? आरती तेरी और मेरी बेहन है, और तूने ये सोच भी कैसे लिया की नीरज मुझे और अपनी बहनो को ऐसा गंदा काम करने देंगे?

तभी चाची बीच में बोली: ज्योति ज़रूरत इंसान को हर काम करने को कहती है, और तेरी मर्ज़ी है. अगर तूने मा बनने का सुख लेना है, तो एक बार नीरज से बात करके देख, और मुझे यकीन है की वो मान जाएगा.

मैने कहा: चाची तुम भी.

प्रियंका हेस्ट हुए बोली: ज्योति दीदी, मम्मी के जिस्म की आग ने मम्मी को भी मेरे राजा के लंबे और मोटे लंड के नीचे आने को बेबस कर दिया. और फिर तूने और जीजू ने तो मम्मी पापा बनना है.

मैं प्रियंका की बात सुन कर हैरान रह गयी और पूछा: प्रियंका, तो क्या अरुण चाची के साथ भी?

प्रियंका बोली: दीदी ये तूने किस गान्डू का नाम ले लिया. अर्रे उस गान्डू से तो मैने नाम की शादी की है. मेरे असली राजा तो मेरी मम्मी और सपना को पिछले 4 साल से ज़्यादा समय से अपने गढ़े जैसे लंड से छोड़ रहे है.

उसके बाद चाची ने कहा: ज्योति किसी को कुछ भी पता नही चलेगा. मैं तेरी मा जैसी ही हू, और मैं तेरे भले के लिए ही बोल रही हू. बाकी तेरी मर्ज़ी.

मैं ये बोल करके मैं नीरज से बात करके देखती हू, अपने घर आ गयी. रात को मैं और आरती दोनो बहने सोने लगी. पर मुझे नींद नही आ रही थी, और मैं चाची और प्रियंका की बातें सोच रही थी.

आरती ने मुझसे पूछा: दीदी क्या बात है? तुम परेशन लग रही है.

मैने आरती को टालते हुए कहा: कुछ नही, बस यू ही.

आरती बोली: दीदी कुछ बात तो ज़रूर है. आप नही बताना चाहती तो वो अलग बात है.

मैने आरती को प्रियंका और चाची से हुई बात बताई.

आरती बोली: दीदी अगर ये सब करने से तुम मा और मैं मौसी बन सकती हू, तो मुझे मंज़ूर है.

मैने आरती को कहा: आरती तुझे पता है तू क्या बोल रही है.

आरती बोली: दीदी तू मेरी सहेली पूजा को जानती है? मैने और पूजा दोनो ने एक दूसरे से वादा किया है की हम दोनो एक ही दिन एक ही लंड से अपनी कोरी मखमली कोमल सील पॅक छूट की सील तुडवाएँगी. और अगर तुम जीजू को तोड़ा एमोशनल हो कर बात करोगी, तो मुझे यकीन है की जीजू भी मान जाएँगे.

अगले दिन सुबह ही मैं अपने ससुराल आ गयी, और रात को जब मैने नीरज से बात की तो नीरज मेरे लिए तो मान गये पर अंजलि और निशा के लिए माना कर दिया.

मैने नीरज से कहा: जानू क्या मैं अकेली मा बनूँगी. पापा तो आप भी बनेंगे. जब मुझे आरती से कोई ऐतराज़ नही है, तो फिर आप अंजलि और निशा के बारे में क्यूँ इतना सोच रहे है?

जैसे आरती मेरी बेहन है, वैसे ही अंजलि और निशा आपकी बहने है. जब मुझे अपनी बेहन पर ऐतराज़ नही, तो आपको अंजलि और निशा पर क्यूँ ऐतराज़ है?

नीरज मुझे अपनी बाहों में भर कर बोले: ज्योति अगर ऐसी बात है तो मुझे मंज़ूर है. पर अंजलि और निशा से बात तुझे करनी होगी.

अगले दिन जब मेरी सास घर पर नही थी, तब मैने अंजलि और निशा से बात की, और मेरी बात सुन कर अंजलि और निशा एक-दूं से तैयार हो गयी.

मैने चाची को फोन करके कहा-

मे: चाची सब कुछ ठीक हो गया. अब आयेज क्या करना है?

चाची बोली: ज्योति तू अपने घर पर बोल की चाची ने मुझे और नीरज को एक साधु बाबा से मिलने के लिए बुलाया है, और वो बाबा हमे मम्मी पापा बनाने के बारे में बात करेंगे.

अगले दिन मैं और नीरज घर पर बोल कर चाची के घर आ गये. तब घर पर चाची, सपना और रूबल भैया थे, और हमारे आते ही सपना बोली-

सपना: चलो दीदी चलते है.

मैं नीरज, चाची, सपना, और रूबल भैया कार से चल पड़े. शहर से बाहर जब हम एक सुनसान सड़क पर आ गये, तब सपना ने मुझे नंगी होने को बोला, और खुद भी अपने कपड़े उतारने लगी.

मैने कहा: सपना ऐसा क्यूँ?

सपना बोली: दीदी हमारे राजा के फार्महाउस में कोई भी औरत कपड़े पहन कर अंदर नही जेया सकती.

मैने शरमाते हुए अपने कपड़े उतार दिए और तभी हमारी गाड़ी एक बड़े से फार्महाउस के बाहर रुकी, और रूबल भैया ने गाते खोल कर गाड़ी अंदर लगाई. जब हम फार्महाउस के अंदर गये, तो वाहा दीवारों पर चाची, प्रियंका, और सपना की नंगी फोटोस लगी हुई थी.

सपना बोली: दीदी कैसा लग रहा है? ये क्या, तेरी छूट पर तो बहुत बड़ी-बड़ी झाँते है.

फिर वो झुक कर मेरी छूट देख कर नीरज से बोली: जीजू अब ज़रा आप मेरे सामने दीदी को छोड़ो. मैं देखना चाहती हू की आपके लंड में कितना दूं है.

जब नीरज नंगे हुए, तो सपना नीरज का लंड देख कर हेस्ट हुए रूबल से बोली: रूबल सेयेल बेहन छोड़ देख, साली ये लुल्ली तेरी दीदी की ठीक-ताक चुदाई करती है.

रूबल नीरज का लंड देख कर बोला: सपना आज तो मुझे जीजू की सील पॅक गांद फाड़ कर मज़ा आने वाला है.

और नीरज के छूतदों पर एक ज़ारदार थप्पड़ मारा. तभी नीरज मेरी चुदाई करने लगे. फिर जैसे अक्सर होता है, वैसे ही नीरज मेरी छूट में झाड़ गये, और अपना लंड मेरी छूट से निकाला. तब तक रूबल भी नंगा हो चुका था, और रूबल का लंड नीरज के लंड से बहुत बड़ा था.

मैं रूबल का लंड देख कर बोली: ओह सपना, रूबल भैया का लंड तो बहुत बड़ा है.

सपना अपनी फाटती छूट मुझे दिखाते हुए बोली: दीदी देख मेरी छूट. रूबल का लंड तो मेरे राजा के लंड के आयेज कुछ भी नही.

फिर वो हमे अंदर रूम में ले गयी. रूम के अंदर चाची, प्रियंका, और सपना की नंगी फोटोस के साथ-साथ रूबल भैया के दोस्त टोनी की भी फोटो लगी हुई थी. टोनी का लंड बहुत लंबा और मोटा था, और चाची, प्रियंका, और सपना बारी-बारी से कभी टोनी का लंड चूस रही थी. कभी टोनी का लंड अपने चुचो पर, और कभी छूट में ले रही है.

मैने सपना से कहा: सपना ये तो रूबल भैया का दोस्त टोनी है ना?

सपना बोली: दीदी तूने बिल्कुल सही पहचाना, और अब साली रंडी प्रियंका, मम्मी, और अरुण के साथ हमारे राजा आते होंगे. अब चल बातरूम में, अगर कही टोनी राजा ने तेरी ऐसी झांतो से भारी छूट देख ली, तो वो तुझे छोड़ने से माना ना कर दे.

सपना ने मेरी छूट से झांते सॉफ की, और तभी बाहर कोई आया.

रूबल बोला: ज्योति दीदी, अब तैयार हो जेया. टोनी मेरा यार तुझे छोड़ कर गर्भ से करने को आ रहा है.

तभी एक कार फार्महाउस में आई और उस कार में से प्रियंका टोनी के लंड पर झूलती हुई निकली, और साथ में किरण चाची और प्रियंका का पति अरुण भी था.

अंदर सोफे पर बैठ कर प्रियंका टोनी के लंड से उठी, और टोनी का लंड देख कर मेरी आँखें फटी की फटी रह गयी. मेरी आवाज़ मेरे हलाक में फ़ासस गयी.

दोस्तों ये कहानी बहुत लंबी चलने वाली है. तब तक आप इमॅजिन करो की कहानी में आयेज क्या होगा और जल्द ही अपनी कहानी का अगला भाग लेकर अवँगी. आप मेरी कहानी को लीके और कॉमेंट करके बताए, की आपको कहानी का इंट्रो कैसा लगा. [email protected]

यह कहानी भी पड़े  सेक्सी आंटी की चूत चुदाई


error: Content is protected !!