प्लेबाय बनकर आंटी की चूत मारी

स्वागत है आपका मेरी कहानी मई मेरा नाम विशाल गौतम है.

ये कहानी 20 ऑगस्ट 2021 की है. मैने इंस्टाग्राम पर एक पेज बनाया था रियल प्ले बॉय के नाम से. पहले उसपर कोई फॉलोवर नही थे फिर मैने सोचा क्यू ना मई ही सभी को फॉलो करू.

तो मैने एक एक करके लड़कियो को आंटी को फॉलो करना स्टार्ट कर दिया/ तभी मुझे एक आंटी नज़र आई जिसको देख कर मेरे होश उड़ गये. उनकी आगे 35 -40 होगी लकी मानो ऐसी थी जैसे जन्नत से पारी उतार कर आ गयी हो 36 28 और 40 होगा.

उनके चुचे इतने मोटे मोटे की तुम अगर बीच मे अपना मूह रख कर चुचो को दबाओगे तो ऐसा लगेगा जैसे मखमल का गद्दा. और कमर हयीईई मानो जैसे कमसिन क्लि हो वो. उनकी गांद ऐसे उठी हुई तुम चाहो तो एक छाए का कप उस पर टीका दो.

मैने उनको फॉलो किया और मेसेज करना स्टार्ट कर दिया. पहले तो उन्होने मुझे कोई रेस्पॉन्स नही दिया फिर भी मई डेली मेसेज करता था.

पता नही एक दिन क्या हुआ सुबा सुबा उनका मेसेज आया हुआ तो. सॉरी मई आपको अपने बारे मई ब्ताना भूल गया. मेरा नाम विशाल गौतम है और मई घाजियाबाद से ब्लोंग करता हू मई एक प्ले बॉय हू जो पैसे लेकर लड़कियो अंत्ियो को छोड़ता है.

स्टोरी कंटिन्यू करता हू.

उस लेडी का नाम अंकिता था. अंकिता ने जब मुझे मेसेज किया तो मेरे होश उड़ गये थे.

उसने मेसेज मई अपना नंबर और अपना अड्रेस लिखा हुआ था और लिखा था की सुबा 10 भजे तक फूच जाना वो देल्ही से थी. तो मई टाइम से फूच गया.

फिर मैने अंकिता को कॉल की तो वो बोली की बिल्लड़िंग मई आओ 7 फ्लोर पर और सीधे रू मई आ जाना बिना नॉक किए. मैने ऐसा ही किया. जब मई रूम मई फुचा तो मैने डैखहा वो एक ब्लॅक निघट्य मई खड़ी थी.

जिस्मै उसके चुचे निकल कर बाहर आ रहे थे. और म उसे घुरे जा रहा था मानो ऐसा लग रहा था. की जैसे अंकिता की चुचिया मुझे बुला रही हो मेरा ही इंतेजार कर रही हो..

मई उसके पास गया तो उसने मुझे जाते ही अपनी बाहू मई ले लिया और मुझे तुरंत किस करने लगी. और फिर मई भी उसको अपनी बाहू मई भर कर किस करने लगा.

मई किस करते करते उसके कपड़े उतरने लगा वो मेरे कपड़े उतरने लगी. अब हम दोनो बिल्कुल्ल नंगे थे और एक दूसरे को किस किए जेया रहे थे. फिर मई उसे उसके कमरे मई ले गया और जाकर उसके बेड पर लेता दिया. अब मैने उसकी दोनो टॅंगो को फैला कर अपनी जीभ जैसे ही उसकी छूट पर रखी.

वो झिलमिला उठी और मेरे सिर को अपनी छूट पर दबाने लगी और मई उसकी गुलाबी गुलाबी और चिकनी छूट को चाटने लगा. वो पागलो की त्राह आवाज़ निकल रही थी. आआआअहह… म्‍म्म्मममममम…. डाअल दो ना अपना लंड मेरी छूट मे… प्लीज़ आआआआहह हमम्म्ममम…

फिर म उसके उपर 69 पोज़िशन मई आ गया. अब मेरा लंड उसके मूह पर था और उसकी छूट पर मेरी जीभ. मई उसकी छूट को चूस रहा था और वो मेरे लंड को चूस रही थी जैसे कोई आइस क्रीम चूस रही हो.वो बहुत एंजाय कर रही थी.

अब मैने उसे डोगी स्टाइल मई किया और अपने सामने जुखा लिया, अब मेरा लंड लंड उसकी छूट पर रखा था. वो आवाज़ कर रही थी की जल्दी डालो जल्दी डालो..

फिर मैने अपना लंड उसकी उसकी छूट पर टेल ल्गकर रखा और एक जोरदार धक्का मारके अपना पूरा लंड एक बार मे छूट मे डाल दिया. उसकी आँखो से आँसू आने ल्गे, वो चिल्ला रही थी बस बस मत डालो छोड़ दो मुझे.. पर मई कहा रुकने वाला था, अब मई उसे लगातार छोड़ते जा रहा था..

हुँने बहुत देर तक चुदाई की. 11 भजे से 6 बजे तक चुदाई करते रहे. मई बहुत तक गया था और वो भी. तब अंकिता बोली की मई तुम्हे हर 4त दिन बुलाया करूँगी चुदाई करने के लिए और पेसे भी दिया करूँगी चुदाई के लिए.

फिर वो किचन मे गयी और मेरे जूस ले आती है. उसने जूस मे सेक्स की दवाई मिला रखी थी जिसका मुझे पता नही था. मैने आधा ग्लास जूस पिया और आधा उसने पिया.

जूस पीने के थोड़ी देर बाद मेरा लंड दोबारा से खड़ा हो गया. इस बार मेरा लंड लोहे की त्राह हो गया था. अचानक वो मेरे पास आई और मेरे लंड को अपने मूह माए लेकर चूसने लगी. मुझे बहुत मजा आ रहा था… आआअहमम्म्म…

जिस त्राह से वो मेरा लंड चूस रही मानो बहुत एक्सपर्ट हो इस चीज़ मे. आधा घंटे मे मई झाड़ गया और वो मेरा स्पीर्म पी गयी थी. मेरा लंड अब भी खड़ा था तो मैने उसे उल्टा किया और उसकी तकिये जैसी गांद पर रख दिया, उसकी गांद बहुत टाइट थी.

मैने एक धक्का मारा तो मेरा आधा लंड उसकी गांद मे चला गया. वो एक दूं खड़ी हो गयी. मैने उसको रोका और दोबारा से उसकी गांद पर अपना लंड ल्गया और उसे टाइट पकड़ कर एक जोरदार धक्का मारा.

मेरा आधे से ज़्यादा लंड उसकी गांद मे चला गया और उसकी गांद से खून आने लगा. शायद उसने पहले कभी गांद नही मरवाई थी इसलिए खून आ रहा था.

पर मई नही रुका, मई उसकी गांद मे धक्के बजता रहा और अब वो भी मजे से अपनी गांद छुड़वा रही थी. और कह रही “और तेज और तेज और तेज..” मई भी फीलिंग के साथ छोड़ रहा था.

इस बार मई 45 मिनिट मे जाकर झाड़ा. क्यूकी उसने मुझे सेक्स की गोली खिला दी थी जूस मे मिला कर. तब मैने उसकी गांद काई बार मारी.

अब मई उसकी चुदाई करता रहता हू. जबसे मैने उसे 3 बार उसके घर और होटेल जाकर चुदाई कर दी है. और वो अपनी फ्रेंड को भी छुड़वाने के लिए बोली थी.

दो दिन बाद उसकी कॉल आई और उसने मुझे घाजियाबाद के एक होटेल मे बुलाया था. मई जब वाहा गया तो मैने देखा उसकी एक फ्रेंड भी उसके साथ थी, जो अंकिता से भी ज़्यादा सेक्सी लग रही थी.

मेरे तो होश ही उड़ गये उसकी चुचियो को देख के. क्यूकी उसकी चुचि एक दूं उठी हुई थी. मैने अंकिता से पूछा की ये कौन है? तो अंकिता बोली की ये तुम्हारी नयी क्लाइंट है पूजा, आज तुम हम दोनो को एक साथ छोड़ना.

मई खुश हो गया और तुरंत पूजा के उपर चढ़ कर किस करने लगा. वो मेरे सिर को पकड़ कर किस का मज़ा ले रही थी. तभी मैने देखा की अंकिता मेरी पंत उतार रही है. और वो मेरी पैंट को उतार कर मेरे लंड को अपने मूह से चूसने लगी. उस रात हम तीनो ने बहुत मज़े किए.

अगर किसी को अपनी चुदाई करनी है तो वो मुझे मैल कर सकता है, मेरी एमाइल ईद है – [email protected]

यह कहानी भी पड़े  मेरी पड़ोसन भाभी की चुदाई

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!