मेरी पत्नी ने मेरा इंतज़ाम किया

दोस्तो मेरी एक और कहानी आपके– लिए –दोस्तो अब थोड़ा सा अपने बारे में भी बता देता हूँ दोस्तो मेरा नाम राज है। मेरी उम्र, 33 साल की है और मैं एक गठीले बदन का मालिक हूँ.. मेरी लंबाई 6 फीट है और वजन है, करीब 70 किलो..
मेरा लौड़ा, काले रंग का है.. बहुत लंबा तो नहीं है पर सामान्य से बड़ा ही है.. लेकिन, मोटा बहुत ज़्यादा है.. शेप में, थोड़ा टेडा भी है..
जब ढीला होता है तो करीब 5 इंच लंबा होता है और करीब 4 इंच मोटा होता है.. लेकिन, जब फन फ़ना कर खड़ा हो जाता है तो पूरा 9 इंच लंबा हो जाता है और लण्ड की मोटाई भी 4 इंच से बढ़ कर 6 इंच हो जाती है..
मेरी बीवी भी कहती है की मेरे लण्ड की मोटाई कुछ ज़्यादा ही है और उसकी चूत में मेरा लण्ड मोटा होने की वजह से ही, उसकी चूत का चुद चुद कर भोसड़ा बन गया है।

दोस्तो, मुझे सेक्स में बहुत मज़ा आता है।
शादी से पहले, मैं बहुत मूठ मारता था इसलिए मेरा लौड़ा लंबा और मोटा होता चला गया।
मेरी शादी, जब मैं 22 साल का था तब हुई थी।
मेरी वाइफ का नाम, रश्मि है।
रश्मि की लंबाई, 5 फीट 4 इंच है और काफ़ी सुडौल और मांसल बदन की औरत है।
रश्मि की उम्र, अभी 29 साल की है और उसका रंग सांवला है.. उसकी चूचियाँ का साइज़ “36 सी” है.. उसके चूतड़ काफ़ी मांसल और बड़े है..
रश्मि भी बहुत सेक्सी है और सेक्स में बहुत रूचि लेती है.. ..
सेक्स करते वक़्त, रश्मि बहुत ज़्यादा उत्तेजित रहती है और बेहद गंदी और अश्लील बातें करना बहुत पसंद करती है।
रश्मि कहती है की सेक्स करते वक़्त गंदी बातें करने से, एक दूसरे को माँ-बहन की गलियाँ बकने से, दूसरे मर्द के लण्ड के बारे में सोचने से और शादी से पहले मेरी गर्ल फ्रेंड की चुदाई के बारे में सुनने से, उसे बहुत अच्छा ऑरगनिस्म होता है।
मैंने भी उसको बहुत सी ब्लू फिल्म में दूसरे मर्द के लण्ड दिखाए हैं।
वैसे, मैं जानता हूँ की उसने हक़ीकत में भी शादी के पहले और बाद में भी बहुत से लण्ड देखे हैं..
खैर, मैंने उसको कहा है की जब भी मौका लगे तो किसी दूसरे मर्द के लण्ड का भी टेस्ट ले कर देख सकती है.. जिसके लिए, मैंने उसको पूरी पर्मिशन दे रखी है..
अब मना करने से, वो “सतीत का व्रत” तो ले नहीं लेगी.. तो बेहतर है, रिश्ते में पारदर्शिता हो..
मैं जानता हूँ की बहुत से मर्द, मेरे बारे में क्या राय बना रहे होंगे.. पर, क्या एक भी मर्द सीना ठोंक कर, ये कह सकता है कि उसकी पत्नी शादी से पहले या उसके पीठ पीछे, किसी से नहीं चुदी..
चलिए, वो सब लोग मुझे “लुल्ला” कह सकते हैं जिनकी पत्नी सुहागरात के दिन, कुँवारी थी और उनका लण्ड खून से सना था।
मैं ये भी जानता हूँ, इतना पारदर्शी और खुला शादीशुदा जीवन जीने के बाद भी इस बात की कोई गारंटी नहीं है की मेरी बीवी पूरी तरह मेरे साथ ईमानदार ही होगी पर फिर भी संललिता, कुछ तो कम होती ही है।
खैर, अब वापस आते हैं कहानी पर… …
रश्मि, एक सेकेंडरी स्कूल टीचर है और होशंगाबाद में एक स्कूल में पढ़ाती है।
हमारा एक 2 साल का बच्चा है, जो मेरी सास यानी रश्मि की मम्मी के पास गाडरवारा में भेज रखा है।
एक तो दोनों की व्यस्तता के चलते और दूसरा हमारे सास ससुर के अकेले होने के कारण।
रश्मि, उनकी अकेली बेटी है।
इधर, मैं भी सरकारी नौकरी में हूँ।
बदक़िस्मती से, मेरी पोस्टिंग पिछले दो साल से जबलपुर में है.. इसलिए, मैं और रश्मि साथ साथ नहीं रह पाते..
जब छुट्टियाँ होती हैं तो या तो मैं होशंगाबाद 2-3 दिन के लिए, चला जाता हूँ या रश्मि 2-3 दिन के लिए, जबलपुर आ जाती है।
मैं जबलपुर में, सरकारी घर में रहता हूँ.. उधर, रश्मि ने भी होशंगाबाद में एक कमरा किराए पर ले रखा है..

यह कहानी भी पड़े  डाल दो रस मेरी प्यासी चूत में - 2

जैसा आप समझ ही गये हैं मैं और रश्मि, सेक्स के मामले में पूरी तरह खुले हुए हैं इसलिए रश्मि ने यहाँ जबलपुर में मेरे लिए एक 25-26 साल की विधवा बाई रखवा दी.. जो, सुबह बहुत जल्दी आ जाती है और रात का खाना बना कर मुझे खिलाने के बाद ही, वापस जाती है..
बाई का नाम – डॉली है।
डॉली बहुत गोरी है, लेकिन थोड़ी मोटी है।
रश्मि ने बाई रखने के बाद, मुझ से हंसते हुए कहा था – राज, तुम्हारा तो टेम्पररी इंतेज़ाम मैंने कर दिया… अब, मेरा क्या… ??
मैंने भी रश्मि को तुरंत हंसते हुए जवाब दिया – ऐसा भी क्या है रश्मि, मेरी जान… तुम अपने लिए होशंगाबाद में भी कोई टेम्पररी इंतेज़ाम कर लो… ढूँढ लो, कोई मूसल सा लण्ड, जो तुम्हारी चूत की सर्विसिंग करता रहे… तुम तो जानती हो, मुझे तो कोई परेशानी नहीं है… बस, शर्त यही है, मुझे विस्तार से सब बताना होगा… हो सके तो, एक आध फोटो भी ले लेना…

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3 4 5 6