पत्नी को चुदने दिया

अब मैं 34 साल का हूँ; और मेरी बीवी का नाम उर्मि है | मेरा खुद का एक कंप्यूटर सेंटर है और मेरी बीवी एक बैंक में असिस्टेंट मैनेजर है | मैं हर रोज़ सेंटर पे जाने से पहले उर्मि को बैंक में छोड़ता हूँ

एक दिन उर्मि ने घर आ कर बताया के उनके बैंक ने एडवांस कंप्यूटर कोर्स के लिए क्वोटेशन्स फ्लोट की है और बिड की आखरी तारीख भी बता दी. मैंने उर्मि से कहा की अगर ये contract हमें मिल जाए बात बन जाएगी. निधि ने कहा की वो पूरी कोशिश करेगी. अगले दिन घर आ कर उर्मि ने फिर बताया कि सारा मामला उनके मैनेजर सिस्टम के हाथ में है और उसका नाम प्रशांत है. उर्मि ने ये भी बताया कि प्रशांत आज लंच के बाद उसे मिला था और चलते चलते उसने उर्मि से पूछा था कि ये कंप्यूटर कोर्स वाले मामले में क्या वो प्रशांत को असिस्ट कर सकती है. इस पर उर्मि ने कहा कि सर आप रीजनल मैनेज सर से बात कर लो, मुझे कोई दिक्कत नहीं है..

अगले दिन उर्मि ने कहा कि मैं उसे बैंक के सामने न उतारूँ क्योंकि वो कोशिश करेगी के बैंक वालों को ये पता न चले कि ये बिज़नस मैं भी करता हूँ और मैं उर्मि का पति हूँ. मैं उर्मि की प्लानिंग समझ गया और उस दिन से उसे बैंक से दूर उतारने लग गया. इसी बीच मैंने भी बैंक में अपना कोटेशन भी दाल दिया.

1 हफ्ते के बाद शाम को 4:30 बजे के करीब उर्मि ने बैंक से मुझे फोन किया और कहा “हो गया” बाकी बात शाम को. मै ख़ुशी के मारे उछल पड़ा.

शाम को उर्मि आई तो हम दोनों ख़ुशी के मारे पागल हो रहे थे. उर्मि ने कहा की भूल से भी किसी को ये पता न चले की हम दोनों पति पत्नी हैं. मैंने कहा बिलकुल पता नहीं चलेगा. उर्मि ने कहा की प्रशांत के साथ दोस्ती गांठना अब मेरी जिम्मेवारी होगी, ताकि आगे के लिए बैंक कंप्यूटर से संबंधित सर्विस करने के लिए प्रशांत मेरा मुह ही ताके क्यों की अब सब कुछ उसी के ही हाथ में है. मैंने कहा तुम चिंता मत करो और अब मैं सब को शीशे में उतार लूँगा. और उस रात हम दोनों ने जम कर सेक्स किया

यह कहानी भी पड़े  बस कंडक्टर ने मेरी रसीली चूत में मोटा लंड डाला

धीरे धीर बैंक के लोग शाम को बैंक टाइम ख़तम होने के बाद 1 घंटा कंप्यूटर कोर्स के लिए आने लग पड़े. बीच बीच में मेरी प्रशांत से भी बात होती रहती थी. 1 हफ्ते के अन्दर ही हम 3-4 बार मिले और 7-8 बार फोन पर बात हुई. एक दिन दोपहर 3 बजे प्रशांत का फोन आया और उसने कहा कि उसके लिए कोर्स अटेंड करने के लिए कोई 7 बजे का टाइम फिक्स कर लो और साथ ही प्रशांत ने ये भी कहा की कि कोई अच्छा सा इंस्ट्रक्टर भी अप्पोइंट कर दूं. मैंने कहा “सर आप आज शाम को आयिए सब अरेंजमेंट हो जायेगा”

शाम 7:30 बजे के करीब प्रशांत मेरे केबिन में आया. फिर हम दोनों बैठ कर बातें करने लगे.प्रशांत ने कहा कि क्या किसी अच्छे इंस्ट्रक्टर को कहा मैंने. मैंने कहा कि आपको कोई ज़रूरत नहीं है क्लास अटेंड करने की और न ही इंस्ट्रक्टर की, मैं आपको यहीं अपने ऑफिस में अपने लैपटॉप पे सिखा दूंगा.

2-3 दिनों में ही हम काफी घुल मिल गए और फिर 4th day क्लास ख़तम होने पर मैंने कहा “सर आप आज मेरे साथ डिनर करिए”.प्रशांत ने कहा- “हाँ ठीक कहते हो आज सारा दिन बहुत काम था. एक-एक बियर भी पियेंगे…तुम पी लेते हो न बियर”. मैंने कहा “चलो आज थोड़ी मस्ती करते हैं, बढ़िया वाली बियर पीते हैं”

और में प्रशांत को एक बहुत अच्छे रेस्टोरेंट में ले गया. बियर पिटे हुए हम ने इधर उधर की बातें शुरू की. फिर प्रशांत ने कहा- “यार तुम तो सारा दिन फ्रेश रहते होओगे. हर क्लास में कितनी सुंदर सुंदर लड़कियां आती हैं”. मैं जोर से हंसा और कहा- “और हम ये सोचते हैं की आपके बैंक में एक से एक पटाका एम्प्लोयी है”.
उसने हँसते हुए कहा,” हाँ और वो भी आज कल तुम्हारी स्टूडेंट्स हैं”.

यह कहानी भी पड़े  ट्रेन मे भाई से सुहागरात–2

फिर हम दोनों हंस पड़े. प्रशांत ने कहा- “यार अभिनव ! हमारे बैंक का पटाका नंबर 1 तो अभी तुमने देखा नहीं है”.

मैंने पूछा कब दिखा रहे हो. इस पर प्रशांत ने कहा- “अरे जी भर के देख लेना तुम भी. मैं तो दीवाना हूँ उसका, एक बार ,तुम्हें अगर उसकी मिल जाये , सच कहता हूँ तुम्हारी लाइफ बन जाएगी”.

मैंने कहा :” मतलब आप पेल चुके हो उसको.!!!”

“अरे यार अभिनव बस पूरी कोशिश में हूँ., पिछले दो हफ़्तों से ही ज्यादा इंटिमेसी हुई है बस कार में ही थोडा बहुत कर पाए हैं.”

मैंने कहा: “क्या क्या कर चुके हो बताओ न, अब मेरे साथ बैठ के बियर पी सकते हो तो बता भी दो क्या क्या किया है और कौन है वो पटाका?”

Pages: 1 2 3 4 5 6 7

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!