पति-पत्नी की डुमदार चुदाई और थरक-पन की कहानी

अपने पिछले पार्ट में पढ़ा कैसे सेजल और मेरे बीच अपने अपने पति को लेकर बात हुई, और मुझे मालूम पड़ा की मेरे हज़्बेंड अनुज सेजल के साथ सेक्स करने में इंट्रेस्टेड हो जाएगे. अब आयेज-

नेक्स्ट दे मैं जब सेजल से मिलने गयी तो मैने उसको मेरे और अनुज के बीच क्या-क्या बात हुई सब बता दिया. वो सुन के शॉक्ड हो गयी और उसका चेहरा शरम से लाल हो गया.

सेजल: यार काव्या तुम बड़ी पागल हो. अनुज मुझे सच में लीके करता है?

काव्या: हा मेरी जान. वो लीके तो करता है, मौका मिला तो तेरी लेगा भी.

सेजल: वो शुवर नही है पर.

काव्या: तो क्या तुम सच में ऐसा करना चाहोगी?

सेजल: नही यार, मैं तो मज़ाक कर रही हू. ये सब रियल में नही हो सकता. वैसे भी प्रतीक तेरे बारे में क्या सोचता है तुम्हे ये पता है?

काव्या: नही यार, मुझे कैसे पता होगा? तुमने कुछ मालूम किया?

सेजल: हा मेरी जान.

(अब मैं आपको सेजल और प्रतीक की बात कैसे हुई सेजल की ज़ुबानी बताती हू.)

जब मेरी और काव्या की एक-दूसरे के हज़्बेंड के बारे में जानने की बात हुई, तो मेरे अंदर एक तलब जाग गयी. मुझे भी पता करना था की प्रतीक क्या सोच रहा था. मैं काव्या की बातों से हॉर्नी हो गयी थी.

रात को जब प्रतीक घर आए, तो मैने उनके लिए उनका फेवोवरिट खाना बना दिया, जिससे उनका मूड अछा हो गया. मैने प्रतीक को बोल दिया की आज आपके लिए एक सर्प्राइज़ है और उनको आँख मार के बेडरूम में चली गयी.

मैने वाइट कलर की ब्रा और पनटी पहन ली. उनके उपर मैने सॅटिन रेड कलर का स्कर्ट पहन लिया. स्कर्ट बहुत ही शॉर्ट था, नीचे झूकू तो पनटी के दर्शन हो जाए. और उपर मैने वाइट कलर का शर्ट पहन लिया. मैने शर्ट के उपर के 2 बटन खोल के रखे थे.

मेरे 36″ साइज़ बूब्स बहुत टाइट हो गये थे शर्ट में. मैने मेरे कर्ली हेर खुले रखे थे. मैं सेक्सी स्कूल गर्ल लग रही थी. जब प्रतीक रूम में एंटर हुआ, मुझे देख के उसका मूह खुल गया.

प्रतीक: ओह मी गोद. वॉट आ सर्प्राइज़ बेबी.

मैने प्रतीक के गले में मेरे दोनो हाथ डाल कर उसके लिप्स को किस किया. प्रतीक मुझे आचे से किस कर रहे थे, और मेरी गांद पे अपने हाथ घुमा रहे थे. मैं तो आउट ऑफ कंट्रोल हो रही थी. अब प्रतीक मेरे पीछे आ गये, और वो मेरे बूब्स दबा रहे थे, और उनका लंड मेरी गांद पे घिस रहे थे.

उनका लंड लोहे की तरह टाइट हो गया था. अब उन्होने अपनी त-शर्ट उतार दी और मेरी शर्ट के सारे बटन खोल दिए. और पीछे से ब्रा के उपर से बूब्स दबाने लगे.

अब मैं घुटनो के बाल बैठ गयी और प्रतीक के लंड पर बॉक्सर के उपर से किस कर रही थी. फिर मैने एक झटके में उनका बॉक्सर नीचे उतार दिया, और लंड मूह में ले लिया. मैं लंड चूस रही थी, तो मुझे काव्या से हुई बातें याद आने लगी, और मैं ज़्यादा हॉर्नी हो गयी.

मेरे दिमाग़ में ये चल रहा था की अनुज मुझे लीके करता है तो मैं उसको कैसे मिलूंगी. आक्च्युयली मैं भी अनुज को लीके करती थी. मुझे उसका सेन्स ऑफ ह्यूमर बहुत पसंद था. और उसके साथ टाइम स्पेंड करना पसंद था.

उसकी प्रेज़ेन्स मुझे अछा फील देती थी. मैने कभी ऐसा सोचा नही था, पर काव्या की बातों से मेरे अंदर आग लग गयी. ये सब सोचते-सोचते मैं इतना हॉर्नी हो गयी, की प्रतीक का पूरा लंड गले तक ले लिया. प्रतीक की आ निकल गयी, और उसने मेरे बाल पकड़ लिए.

प्रतीक: वाह मेरी जान, आज क्या मूड बनाया है मेरा. ऐसा तो कभी नही हुआ. आज क्या देख लिया? कों सा पॉर्न देख लिया, की इतना हॉर्नी हो गयी हो?

मैने उनका लंड निकाला. मेरे मूह से लार तपाक रही थी. अब उन्होने मुझे खड़ा किया, और मेरी स्कर्ट उतार दी. मैं सिर्फ़ ब्रा-पनटी में थी. लाइट की हल्की रोशनी में मेरी वाइट ब्रा पनटी चमक रही थी. मेरे बूब्स पर्फेक्ट रौंद दिख रहे थे, और गांद उभरी हुई.

प्रतीक मुझे 2 मिनिट तो ऐसे ही देखते रहे, और फिर उन्होने मुझे बेड पर लिटा दिया. फिर पनटी साइड पे करके मेरी छूट पर किस कर रहे थे. उनके आक्षन्स से मेरा रिक्षन और जोश और बढ़ गया. मुझे आज प्रतीक से काव्या के बारे में जो विचार थे, वो जानने थे, और साथ में मुझे ये भी जानना था की वो उसकी चुदाई कर सकते थे या नही.

और अगर वो काव्या की चुदाई करना चाहते थे, तो क्या वो बदले में अनुज से मेरी चुदाई करवा सकते थे की नही? मैने अब प्रतीक से बातें करनी स्टार्ट की.

सेजल: बेबी आपको मेरा सर्प्राइज़ कैसा लगा?

प्रतीक: यार तूने तो आज मार ही डाला. मैं बहुत लकी हू, मुझे ऐसी सेक्सी वाइफ मिली है. तुम्हे ऐसे कोई भी देख ले उसका लंड खड़ा हो जाए.

सेजल: ऐसे तो मुझे और कों देख सकता है? आप मुझे किसी और के सामने ऐसे रूप में जाने देंगे? अगर जाने दिया तो फिर मेरा क्या होगा? वो मुझे छोड़ देगा आपके सामने ही. ( और मैं नॉटी फेस बना रही थी)

प्रतीक: वाउ बेबी, क्या मज़ा आएगा फिर. मेरी तो पहले से इक्चा थी मेरे सामने कोई मेरी सेक्सी बीवी की चुदाई करे. जेलासी में भी मज़ा है.

सेजल: ऐसा है तो मुझे भी देखना है आप मेरे सामने किसी और की चुदाई करे. मेरे सामने उसके बूब्स दबाए, उसकी छूट छाते, और वो भी आपका लंड चूज़. अगर मैं आपको पर्मिशन डू तो आप कैसी लड़की की साथ सेक्स करना चाहोगे?

प्रतीक: तुम क्या बोल रही हो? ऐसी पर्मिशन तुम मुझे क्यूँ दोगे?

सेजल: अर्रे यार मज़ा आ रहा है, ऐसे ही बात करो ना. अछा फील हो रहा है. ऐसी बातों से करेंट दौड़ गया है.

अब प्रतीक ने उनका लंड मेरी छूट में डाल दिया, और मेरी चुदाई करते हुए.

प्रतीक: यॅ आ मेरी जान. आज तूने जो बात च्चेदी है, उससे मुझे भी एग्ज़ाइट्मेंट लग रही है.

सेजल: ऐसा है तो प्लीज़ मुझे बताओ ना आपको कैसी लड़की पसंद है?

प्रतीक: तुम बहुत सेक्सी हो. मुझे तेरी गांद बहुत पसंद है, पर तुम कह रही हो तो मुझे थोड़ी पतली लड़की की चुदाई करनी है. उसको खड़े-खड़े छोड़ना है. उसका फिगर एक-दूं पर्फेक्ट हो, ऐसा कोई सेक्सी माल.

सेजल: ऐसा कोई आपके बॅंक में है?

प्रतीक: नही यार. ऐसा कोई है नही.

सेजल: आपको चाहिए ऐसी तो एक है.

प्रतीक: कों है वो?

सेजल: काव्या.

प्रतीक: अरे योउ मद? ऐसा नही हो सकता.

सेजल: क्यूँ, काव्या अची नही है? उसका फिगर तो बहुत मस्त है.

हम दोनो को बाहर के लड़के लाइन मारते है. काव्या का फिगर तो एक-दूं फिट है. बूब्स भी एक-दूं टाइट है.

प्रतीक: हा वो तो है. पर वो नेबर्स है हमारे.

सेजल: बेबी सोचो अगर काव्या आप से चूड़ने को रेडी है तो? क्या आप उसकी चुदाई नही करोगे?

प्रतीक: अगर वो रेडी है, ऑफ कोर्स मैं उसके साथ सेक्स करूँगा. वैसे भी मुझे वो पसंद है. ( प्रतीक मेरी और नॉटी स्माइल की). अर्रे वो एक अस्यूम करने की बात है. पर जान आज तुम्हारी बातों से एक पागलपन दौड़ गया. मज़ा आ रहा है तुम्हारी ऐसी बातों से.

प्रतीक ने अब मुझे घोड़ी बना दिया, और पीछे से लंड छूट में डाल दिया. और मेरी चुदाई की स्पीड बढ़ा दी.

सेजल: आपने भी मेरी चुदाई किसी और से करवाने की बात की. मेरे अंदर आग लगी है.

प्रतीक: तो तुम भी अनुज से चुदाई करवा लो.

सेजल: तुम पागल हो गये हो लगता है.

प्रतीक का स्पर्म निकालने वाला था, तो मैं नीचे बैठ गयी और लंड मूह में ले लिया, और चूसने लगी. 2-3 मिनिट लंड चूसने के बाद सारा स्पर्म मैं निगल गयी.

सेजल: आज तो मैं पागल हो गयी थी. कुछ भी बोल रही थी.

प्रतीक: तेरा पागलपन मुझे अछा लगा मेरी जान. मज़ा आ गया.

सेजल: सोच के मज़ा आ रहा है, तो रियल में हो गया तो क्या होगा? पर मैं भी पागल हू, कुछ भी बोल रही हू. ऐसा हो नही सकता कभी. काव्या आपसे अफेर नही करेगी, और अनुज पर्मिशन नही देगा.

प्रतीक: जान इतना मत सोचो. बातों में मज़ा आ रहा है तो उसे एंजाय करो. रियल में कुछ नही हो सकता. ( जब सेजल ने मुझे ये बात बताई तो मैं भी सर्प्राइज़ हो गयी.)

काव्या: सेजल सच में तुम दोनो के बीच कल आ सब बातें हुई?

सेजल: हा यार. प्रतीक तुम्हे लीके करता है, और मुझे भी अनुज से छुड़वा सकता है.

काव्या: अर्रे पागल, लेकिन प्रतीक बोल रहा है की आ सब सोचने की बातें है. और मज़ा लेना है. तो तुम्हे क्या लगता है?

सेजल: मुझे कुछ समझ नही आ रहा. मुझे सब अजीब लग रहा है. पर मेरे मॅन में बहुत कुछ चल रहा है.

काव्या: हा यार, हमारी एक ग़लती हमारा रीलेशन खराब कर सकती है.

नेक्स्ट पार्ट में आपको बतौँगी आयेज हम क्या सोचते है, और क्या कुछ ट्विस्ट आता है. आपको स्टोरी अची लगे तो प्लीज़ मुझे पर मैल करे.

यह कहानी भी पड़े  Maa bete ki kahani-बेटा ये तेरी माँ की चूत है


error: Content is protected !!