पति ने पत्नी को मनाया गंगबांग के लिए

ही दोस्तों, मेरा नाम विनय है. आज मैं आपको एक रियल स्टोरी बताने जेया रहा हू. मेरी शादी आज से 2 साल पहले यानी 2022 में हुई थी. मेरी वाइफ का नाम पूजा है. हमारी अरेंज मॅरेज हुई थी. पर मेरे घर वालो ने मेरे लिए एक बहुत ही अची लड़की पसंद की थी.

पूजा बिल्कुल गोरी और भरे-पुर बदन की थी. मैने जब उसे पहली बार देखा तो मेरा लंड खड़ा हो गया था उसको देख के. कोई भी मर्द उसे छोड़ना चाहेगा. चलिए अब मैं स्टोरी पे आता हू.

शादी के बाद सब नॉर्मल था. हम दोनो की सेक्स लाइफ अची चल रही थी. मैं और वो एक-दूसरे के साथ बहुत खुश थे. पर एक दिन जब घर कोई नही था, और पूजा भी उसके माइके गयी थी, तब मैं बोर होके मोबाइल में पॉर्न चलाने लगा. कुछ देर पॉर्न देखने के बाद मैने एक गंगबांग सेक्स वीडियो प्ले कर दी.

उसमे 2 आदमी एक लड़की को छोड़ रहे थे. बस यही से सब बदल गया. मेरा सेक्स का नज़रिया और सब कुछ. मेरे दिमाग़ में दिन-रात अब बस गंगबांग ही चलता था. बुत मैं किसके साथ करू ये समस्या थी. पर अब जब भी मैं पूजा के साथ सेक्स करता, तो मेरा मॅन गंगबांग के बारे में सोच के एग्ज़ाइटेड हो जाता और मैं जल्दी झाड़ जाता. पूजा बेचारी रोज़ प्यासी रह जाती थी. अब रोज़ का यही हो गया था. एक दिन जब हम सेक्स कर रहे थे, तब पूजा बोली-

पूजा: क्या बात है जान, आपको क्या हो गया? आप इतनी एग्ज़ाइट्मेंट के साथ करते हो, और आपका इतना जल्दी हो जाता है. आपके दिमाग़ में क्या चलता है सेक्स करते वक़्त?

मे: मेरे दिमाग़ में जो चल रहा है, वो आपको बता डू तो आप नाराज़ हो जाओगी.

पूजा: आप बताओ तो बात क्या है?

मे: पूजा मैं गंगबांग सेक्स करना चाहता हू. पर मुझे कोई लड़की नही मिल रही. क्या मैं तुमहरे साथ गंगबांग सेक्स कर लू?

पूजा बहुत भोली थी. उसे नही पता था गंगबांग सेक्स क्या होता है.

पूजा: ये कैसा सेक्स है. अगर करने से आपको अछा लगे तो आप कर लो.

मे: वो आक्च्युयली इसमे एक लड़की को दो या दो से ज़्यादा मर्द छोड़ते है.

पूजा: तुम पागल हो क्या? जान दे दूँगी, पर किसी और को अपना शरीर नही छूने दूँगी. मैं सिर्फ़ आपकी हू.

मे: मुझे पता था आप नाराज़ हो जाओगी.

पूजा: जान ये ग़लत है. अगर सही होता तो मैं आपकी सारी बातें मान लेती. बुत अगर ये बात आज के बाद आपने बोली, तो आपको तलाक़ दे दूँगी.

मे: नही जान, नही बोलूँगा.

और हम सो गये. नेक्स्ट दे मैं ऑफीस निकल गया. मेरा मॅन ऑफीस के कामो में भी नही लग रहा था. मेरे फ्रेंड विशाल ने नोटीस किया मैं कही खोया सा रहता था. तो उसने मुझसे पूछा-

विशाल: क्या हुआ भाई? आज कल तू इतना खोया हुआ क्यूँ रहता है?

मे: भाई मुझे गंगबांग सेक्स करना है. पर मुझे कोई लड़की नही मिल रही.

विशाल: तो तू भाभी को माना ले. मैं और तू मिल के कर लेंगे.

मैने विशाल को देखा. विशाल दर्र गया और बोला-

विशाल: मज़ाक कर रहा था भाई.

मे: नही तू सही है भाई. अगर कोई मिल जाती तो मैं तुझे ही बोलता. मैने पूजा को भी बोला था, पर उसने भी माना कर दिया.

विशाल: मेरे पास एक आइडिया है. अगर तू सहमत हो तो बतौ.

मे: हा बता क्या आइडिया है?

विशाल: तू भाभी को वियाग्रा की गोलियाँ देनी शुरू कर. इससे उनकी सेक्स की भूख बढ़ेगी. लेकिन उनको छोड़ना मत. जब तू उनको नही छोड़ेगा, तो उनकी भूख और ज़्यादा हो जाएगी. फिर वो तुझसे चूड़ने के लिए भीख माँगेगी. और तब तू कहना की चुदाई होगी तो गंगबांग होगी वरना नही होगी. फिर उनके पास कोई और ऑप्षन नही रहेगी, सिवाए इसके की वो गंगबांग के लिए मान जाए.

मुझे उसका आइडिया अछा लगा. पर दर्र भी लग रहा था. फिर विशाल ने मुझे 5 वियाग्रा की गोलियाँ दी और बोला-

विशाल: भाई रोज़ 1 गोली देना भाभी को बस.

मैने ऐसा ही किया. मैं और पूजा खाना साथ में ही खाते है. उसके ग्लास में जूस था, उसमे मैने डॉवा मिलनी शुरू कर दी. खाना खाने के 1 घंटे बाद डॉवा ने अपना असर दिखना शुरू कर दिया था. पूजा हॉर्नी फील करने लगी थी, और उसके इशारों से पता चल रहा था की वो चूड़ना चाहती थी. फिर उसने मुझे कहा-

पूजा: बेबी कुछ करे?

मे: सो जाओ ना बेबी, रात भी हो गयी है.

ये बोल कर मैं सोने का नाटक करने लगा. मेरा ध्यान पूजा पर ही था की वो क्या करेगी. पूजा बेड पर तड़प रही थी. उसकी छूट उसको आज सोने देने वाली नही थी. फिर वो खुद ही अपनी छूट की फिंगरिंग करने लगी. वो हल्की आवाज़ ही कर रही थी, ताकि मैं जाग ना जौ.

मैं उसको तडपा कर बहुत खुश था. ये उसकी सज़ा थी मेरा कहा ना मानने की. फिर अगली रात भी मैने डिन्नर में उसको वियाग्रा खिला दी. उस रात भी वो चूड़ने के लिए तड़प रही थी, लेकिन मैने उसको हाथ भी नही लगाया. कुछ दिन ऐसा ही चलता रहा. अब उसकी प्यास बहुत बढ़ गयी थी.

फिर एक रात वो बोली: जानू तुम मुझे छोड़ क्यूँ नही रहे हो? मैं बहुत तड़प रही हू. प्लीज़ छोड़ो मुझे.

मैने कहा: जानू कोई फ़ायदा नही. मेरा जल्दी हो जाता है. तुम्हे मज़ा फिर भी नही आएगा. जब तक गंगबांग का ख़याल मेरे मॅन से नही जाता, मैं कुछ नही करूँगा. मैं भी तड़प रहा हू गंगबांग करने के लिए. अब शायद तुम्हे मेरी तड़प समझ में आ रही होगी.

पूजा: कर लो जो करना है. लेकिन मेरी छूट की आग शांत करो.

मैं: मतलब तुम गंगबांग के लिए तैयार हो.

पूजा: हा, जल्दी करो, वरना मैं मॅर जौंगी.

फिर मैने जल्दी से विशाल को फोन किया. विशाल अपने घर से निकल पड़ा, और कुछ ही देर में मेरे घर पहुँच गया. मैं जब उसको अपने बेडरूम में लेके आया, तो पूजा चुदाई के लिए तड़प रही थी. विशाल पूजा को देख कर खुश हो गया. पूजा ने पिंक रंग की फ्रॉक वाली निघट्य पहनी थी. फिर हम दोनो पूजा के पास जाके बेड पर बैठ गये.

इसके आयेज क्या हुआ, वो आपको कहानी के अगले पार्ट में पढ़ने को मिलेगा. आपको यहा तक की स्टोरी कैसी लगी मुझे मैल करके ज़रूर बताए. मेरी मैल ईद है- [email protected]

यह कहानी भी पड़े  दोस्त ने दोस्त को माना कर अपनी गफ़ के साथ थ्रीसम किया


error: Content is protected !!