फोरसम सुहाग रात के इंतेज़ार में बीवी

राजवीर के जाते ही मैने और लखन ने रूम पे पहुँच के डोर नॉक किया. पूजा ने उठने की कोशिश की, पर वो बहुत तक गयी थी. इसलिए वो उठ नही पाई.

मैने पूजा को कॉल किया: पूजा डोर ओपन कर दो.

पूजा: डोर ओपन ही है बेबी, आ जाओ आप.

मैं और लखन दोनो अंदर आ गये. मैने अंजन बनते हुए-

मे: ये क्या, इतना ब्लड? तुम्हे चोट लगी है क्या?

पूजा: अछा, ज़्यादा बनो मत अब तुम दोनो. मुझे पता है तुम दोनो का ही प्लान था ये.

लखन: तो कैसा लगा हमारा प्लान आपको?

पूजा: अछा था, पर राजवीर ने बुरा हाल कर दिया मेरा. पेट बहुत दर्द कर रहा है.

मे: तो चलो ना ड्र. को दिखा देते है.

लखन: कही जाने की ज़रूरत नही. मैं यही बुला लेता हू. मेरी फ्रेंड ड्र. है, और यही पास में रहती है.

फिर लखन ने उसकी फ्रेंड को कॉल किया.

लखन: हेलो रश्मि.

और उसने खुल के सब पूजा, मेरे, उसके, और राजवीर के बारे में बता दिया. मैं लखन को देख रहा था, और कॉल कट कर दिया.

मे: तूने रश्मि को सब क्यूँ बता दिया. तू पागल है क्या?

लखन: तू टेन्षन मत ले. वो किसी को कुछ नही बोलेगी. और वो पूजा का दर्द आचे से समझ के उसका इलाज कर देगी.

मे: कैसे?

लखन: क्यूंकी रश्मि को भी मैं और राजवीर इसी रूम के इसी बेड पे बुरी तरह छोड़ चुके है. डॉक्टर है, पर सेक्स के मामले में कोई कॉंप्रमाइज़ नही करती. अची सेक्स पवर की दवाई खाती है, और छूट और गांद की गर्मी जब तक शांत ना हो जाए चुड़वति है.

मे: मुझे भी दिलवा दे एक बार. मेरे मूह से ये सुन के लखन बोला-

लखन: हा ट्राइ करूँगा.

पूजा ये सब सुन के मुझे घूर रही थी.

पूजा: यहा मैं आपके प्यार के लिए इन दोनो से चुड रही हू, और आपको रश्मि को छोड़ना है. लखन ने बात संभालते हुए बोला.

लखन: अर्रे भाभी जान, एक रात सेक्स करने से शिवम घिस थोड़ी जाएगा. और वैसे भी आप ये बार-बार मत बोलिए की आप सिर्फ़ शिवम के लिए चुड रही हो. ये बेड पे लगा ब्लड गवाही दे रहा है की आप दिल खोल के, जाम के चूड़ी हो राजवीर से.

पूजा कुछ नही बोली, और नज़रे झुका ली. इतने में ही डोरबेल बाजी. लखन ने मुझे डोर ओपन करने को बोला. मैने डोर ओपन किया, और रश्मि को देखा, और देखता ही रह गया. एक चोकॉलते फेस था. गोरी नही थी, पर बहुत ब्यूटिफुल थी.

रश्मि: ही शिवम, सही पहचाना ना आपको?

मे: ही रश्मि जी, बिल्कुल सही पहचाना. आइए पूजा को देखिए आप.

रश्मि: हा पर आप दोनो के सामने ही?

लखन: हा रश्मि, कोई बात नही. पूजा भाभी को हमने कल रात पूरा नंगा करके छोड़ा है. शरमाने जैसा कुछ नही है.

रश्मि: ओक, ही पूजा, तुम प्लीज़ तोड़ा बेडशीट अपने बदन से हटा लो.

और रश्मि ने पूजा का चेकप किया और बोली: कोई प्राब्लम और डरने वाली बात नही है. बस अंदर थोड़े कट्स लग गये है. मेडिसिन लिख देती हू, लेते ही 2 या 3 घंटे में आराम हो जाएगा. और सेक्स करते वक़्त लूब्रिकॅंट या आयिल का उसे करना. और हो सके तो थोड़े दिन सेक्स अवाय्ड कर देना.

लखन और मैं कुछ बोलते उससे पहले ही पूजा बोल पड़ी.

पूजा: नही रश्मि, मुझे आज और सेक्स करना है इन तीनो के साथ. प्लीज़ कुछ ऐसी डॉवा डेडॉ, जिससे आज की रात मैं एंजाय कर साकु, और दर्द ना हो.

रश्मि: ओक मैं जो मेडिसिन दे रही हू, इसे सेक्स से 2 घंटे पहले ले लेना.

और फिर रश्मि जाने लगी. मैं और लखन दोनो रश्मि के पीछे बाहर आ गये.

मे: थॅंक योउ रश्मि.

रश्मि: अर्रे कोई बात नही. और हा, पूजा बहुत सुंदर है. उसके साथ तोड़ा आराम से करना. तीनो मिल के उसकी जान मत निकाल लेना.

लखन: तुझे इतनी फिकर हो रही है तो तू भी आजा आज रात. पूजा को कंपनी मिल जाएगी.

रश्मि: नही मुझे आज बाहर जाना है. पर आने के बाद शिवम और तेरे साथ एक रात ज़रूर गुज़ारना चाहूँगी.

लखन: एक रात क्या, शिवम के साथ हर रात गुज़ार ले. शिवम की पूजा मैं रख लूँगा. तू शिवम के साथ रह लेना कुछ दिन.

ये सुन के मेरा दिल खुश हो गया.

रश्मि: ओक देखते है. अभी मैं चलती हू.

मैने और लखन ने उसे बाइ बोला, और रूम में जाके पूजा को मेडिसिन दी, और पूजा को आराम करने को बोल दिया. फिर मैं और लखन घूमने निकल गये. 3 घंटे बाद पूजा का कॉल आया.

पूजा: कहा हो शिवम?

मे: तोड़ा घूमने आए थे हम दोनो. आप बोलो अब ठीक लग रहा है?

पूजा: हा जान, राजवीर कब आएगा? 7 तो बाज गये है.

मे: 9 बजे तक हम तीनो साथ ही आएँगे. तोड़ा वेट कर लो बेबी, और रश्मि ने जो मेडिसिन दी है, वो लेलो तब तक.

पूजा: अर्रे बेबी वही तो प्राब्लम है. रश्मि ने मुझे 1 मेडिसिन का बोला था. मैने 3 लेली, और अब रहा नही जेया रहा है.

मे: कंट्रोल मेरी जान, आज की रात तुम्हे सोने नही देंगे.

पूजा: मंज़ूर है मुझे. आज की रात तुम तीनो के नाम, जो करना है कर लेना. बस जल्दी आ जाओ.

मे: और तुम रेडी हो जाओ. वैसे क्या पहनोगी आज?

पूजा: आओ तो तुम, सर्प्राइज़ दूँगी तुम्हे.

फिर कॉल कट करके राजवीर को कॉल किया: कहा हो राजवीर? हम तेरे घर आ रहे है. वाहा से साथ में होटेल चलेंगे.

राजवीर बोला: ओक भाई, आ जाओ. करीब 7 बजे हम राजवीर के घर पहुँचे. राजवीर को पिकप करके वाहा से सीधा 8 बजे होटेल पहुँच गये.

लखन मुझे बोला: पहले राजवीर को पूजा के पास जाने देते है.

मे: ओक भाई, कोई दिक्कत नही. तभी पूजा का कॉल आया.

पूजा: कब तक आओगे? प्लीज़ जल्दी आ जाओ ना. और हा, तीनो साथ में ही आना.

मे: ओक जान. ले भाई तीनो को साथ ही जाना पड़ेगा.

राजवीर रूम में पहुँचे से पहले थोड़ी ड्रिंक ले लेता है. हम तीनो ही ड्रिंक करने लगे, और तीनो के 4-4 पेग होने बाद राजवीर बोला.

राजवीर: अब चलते है, अब मज़ा आएगा.

रूम के बाहर पोंछ के मैने डोरबेल बजाई.

पूजा ने आवाज़ लगाई: आ जाओ, डोर ओपन है.

मैने डोर ओपन किया, और अंदर देखा सारी लाइट्स ऑफ थी. मैने पूजा को आवाज़ दी-

मे: कहा हो स्वीटहार्ट?

पूजा: लाइट्स ओं कार्लो बेबी.

लाइट्स ओं करते ही देखा पूरा रूम फूलों से सज़ा हुआ था, और पूजा दुल्हन के लिबास में बेड पे घूँघट लेके बैठी थी. हम तीनो देखते ही रह गये.

पूजा: कैसा लगा सर्प्राइज़?

मे: बहुत अछा मेरी जान. पर ये आपके दिमाग़ में कैसे सूझा?

पूजा: मैं चाहती हू तुम तीनो मेरी माँग भरो, और मुझे अपनी बीवी समझ के तोड़ा प्यार से मेरे साथ सेक्स करो. आज की रात को मैं तुम तीनो को अपना पति मान के सुहग्रात की तरह एंजाय करना चाहती हू.

राजवीर: तुम फिकर मत करो मेरी जान. तुम्हे आज रात इसी बेड पे चाँद दिखौगा. बहुत प्यार से छोड़ेंगे.

हम तीनो ने पूजा का घूँघट हटाया और उसकी माँग भर दी. पूजा के चेहरे पे स्माइल थी, और मॅन में बस चूसने की चाहत. उसके दिल की फीलिंग्स को वो ही सही से बता सकती थी, इसलिए आयेज की स्टोरी उसी ने लिखी है. वही आपको बताएगी आयेज की स्टोरी नेक्स्ट पार्ट में.

यह कहानी भी पड़े  कहानी जिसमे लड़के ने कॉलेज की कामवाली को चोदा


error: Content is protected !!