पापा के दोस्त की बीवी को पटा कर चुदाई की

ये स्टोरी आज से दो महीने पहली की है. ये एक सेक्स स्टोरीस है और मेरे आंड मेरी एक आंटी की सॅकी घटना है. स्टॉरी स्टार्ट करने से पहले मई मेरे बारे मे तोड़ा बता डू.

मेरा नाम राकेश है, मई अक मरती फॅमिली मे से हू, उमर 26. मेरे घर मई अकेला लड़का हू. मई मुंबई मे रहता हू आंड मों दाद गॅव मे. ये मेरे लाइफ की रियल स्टॉरी है की केसे मैने मेरे पापा के दोस्त की बीवी को छोड़ा, जिसे मई आंटी बुलाता था.

आंटी के बारे मे तोड़ा बता डू, आंटी दिखने मे आवरेज है, गोरा रंग, बूब्स ज़्यादा बड़े नही है लेकिन गांद बोहोट बड़ी थी. पेट तोड़ा बाहर निकाला हुवा है. उसकी आगे 49 है.

तो अब मई स्टोरी स्टार्ट करता हू के केसे मैने उसे पटाया आंड जी भर के छोड़ा.

मई जब 12 मे था तब से मे इंडियन सेक्स स्टोरीस पढ़ रहा हू. सब स्टोरीस मे से मुझे आंटी वाली स्टोरीस रेड करना ज़्यादा पसंद करता था. मुझे मेरी आगे के लड़की लोग से ज्यदा शादी शुधा औरतो मे ज़्यादा इंटरेस्ट था.

सॉरी मई आंटी का नाम बताना भूल गया. आंटी का नाम शिल्पा है. तो मई शिल्पा के घर बचपन से ही आता जाता रहता था. लेकिन कभी उसकी तरफ सेक्स के नज़र से नही देखा था.

मई मेरी पढ़ाई ख़तम करके जॉब के लिए मुंबई मे रहता था. जॉब से आने के बाद मई पूरा टाइम व्हातसपप पे दोस्तो के साथ गप्पे मारता था. .

उस दिन सॅटर्डे था रत के कुछ 9 बजे मुझे व्हातसपप पे एक मसाज आया. मई उस टाइम खाना खा रहा था तो थोड़ी देर बाद मैने व्हातसपप चेक किया. खाना ख़तम होने के बाद देख तो शिल्पा आंटी का मसाज था. वो पहली बार व्हातसपप उसे कर रही थी.

शिल्पा: हिी.

मे: हेलो आंटी.

मे: अपने कब से व्हातसपप उसे करना चालू किया?

शिल्पा: अरे आज ही राहुल ने चालू करके दिया आंड कैसे उसे करना है वो सिखाया है.

राहुल शिल्पा आंटी के लड़के का नाम है जो 9त स्ट्ड मे पढ़ता था.

मे: गुड ये तो बोहोट अची बात है.

शिल्पा : हा अभी तोड़ा तोड़ा सिख रही हू.

मे: लेकिन आप किसके साथ बाते करोगी व्हातसपप पे?

शिल्पा: अरे मेरे मयके वेल है. मेरी स्कूल की सहेलिया है.

मे: ठीक है.

उस दिन से हमारी रोजाना बाते होने लगी. पहले पहले नॉर्मल ही बाते चलती थी. थोड़ी दीनो बाद मज़ाक मस्ती चलने लगी. हम दोनो फ्रेंड जैसे बाते करने लगे.

वो भी अब थोड़ी खुलके मेरे साथ बाते करने लगी थी. उनके घर के टेन्षन मेरे साथ शेर करती, मई भी उसको संजता. आंड उसे मेरी बाते आक्ची भी लगती थी.

एक दिन ऐसे ही हसी मज़ाक मे मेरे से अक अडल्ट जोक उसे सेंड हो गया. ये मसाज के बाद उसके कुछ भी मसाज नही आया. मैने मसाज डेलीट करने की ट्राइ की लेकिन तब तक उसने मसाज पढ़ लिया था (ये उसने बाद मे मुझे बताया).

मैने उसे सॉरी के बोहोट सारे मसाज किए लेकिन उसका कोई रिप्लाइ नही आया. मेरी तो दर के मारे फट के हाथ मे आ गयी. के अगर उसने किसी को ये बताया तो मेरी वात लग जाती. उस दिन दोपहर के बाद उसका कोई मसाज नही आया. रात को 9 भजे उसका मेसेज आया-

शिल्पा: हिी.

मे: सॉरी आंटी वेरी सॉरी.

शिल्पा : किस लिए?

मे: वो मेसेज के लिए.

शिल्पा : कौनसा मेसेज?

शिल्पा: मुझे कोई मसाज नही आया.

मे तोड़ा रिलॅक्स हुवा के आंटी ने मसाज नही पढ़ा.

मे: नही कुछ नही जाने दो.

शिल्पा: नही बताओ मुझे कॉन्सा मसाज था.

मे: अरे नही आंटी कुछ नही नॉर्मल मसाज था.

शिल्पा: तो फिर दिखो मुझे.

उसके बोहोट फोर्स करने पर मैने उसे वो मसाज दिखाया.

मे: पहले प्रॉमिस करो के मेसेज देखने के बाद आप गुस्सा नही करोगी.

शिल्पा: हा चल ठीक है, अब तो बता कॉन्सा मसाज था.

मैने उसे मसाज सेंड कर दिया.

मसाज पढ़ने के बाद उसने 2 मीं कुछ रिप्लाइ नही दिया.

मे: अरे आंटी क्या हुवा ? कुछ तो बोलो?

शिल्पा : (हेस्ट हुवे) अरे ये मसाज मे कोंसि बड़ी बात है?

मे : मतलब आप गुस्सा नही हो?

शिल्पा: अरे नही रे.

मे: अपने ऐसे जोक/मेसेज पढ़े है क्या इससे पहले?

शिल्पा: हा लेकिन ज़्यादा नही.

मे: ओह किसके साथ पढ़े है हा..?

शिल्पा: अरे कॉलेज के सहेलियो के साथ. लेकिन हमारे जमाने मे ऐसे इंटरनेट नही था. हम तो मॅगज़ीन मे से पढ़ती थी.

मे: ओह सही मे ग्रेट हो आप.

शिल्पा: अरे चुप रे नही तो मारूंगे टुजेह.

मे: हाहाहा.. आपको आछा लगता है तो मई भेज सकता हू और भी.

शिल्पा: ठीक है लेकिन ज़्यादा नही.

उशाए बड़ा से मई उसे अडल्ट जोक्स, सेक्स फोटोस वेगेरे भेजने लगा. आंड हमारी सेक्स बाते चालू होने लगी. लेकिन वो सिर्फ़ मज़ाक मज़ाक मे होता था. एक दिन वो दोपहर को घर मे अकेली थी तो उसने मुझे मसाज किया.

शिल्पा: हिी.

मे: हिी सेक्सी.

शिल्पा: क्या कर रहा है?

मे: कुछ नही ओफ्क का कम, तू क्या कर रही है?

शिल्पा: कुछ नही बोर हो रही हू तो टुजे मेसेज किया.

मे.: ठीक किया, अब देखो माओ तुम्हारा मूड केसे बनता हू.

शिल्पा: हहा… क्या करेगा?

मे: तू स्टोरीस पढ़ती है क्या?

शिल्पा: कोंसि स्टोरीस ?

मे: कोई भी नॉर्मल बुक्स मे से?

शिल्पा: हा पढ़ती हू.

मे: तो सेक्स स्टोरीस पढ़ोगी क्या?

शिल्पा: वो क्या होता है?

मे: लोगो के सेक्स के की स्टोरीस होती है..

शिल्पा: ठीक है भेज दे, देखती हू.

तो मैने उसे इंडियंसेक्शसतोरिएस मे से एक आंटी वाली स्टोरी भेज दी आंड मई मेरे काम मे लग गया.

रात को उसका मसाज आया.

शिल्पा:हिी.

मे: हिी.. क्या कर रही है?

शिल्पा: कुछ नही बैठी हू.

मे : तो फिर दोपहर की स्टोरी केसी लगी… कुछ मूड बना के नही?

शिल्पा: कुछ भी भेजता रहता है. खुद तो बिगाड़ा हुआ है आंड मुझे भी बिगड़ के रखा है.

शिल्पा: ऐसा कुछ भी जूथ मत भेजा मत कर.

मे: अरे नही वो जुट न्ही… रियल स्टोरी है वो.

शिल्पा: हा?

मे: टुजे कुछ फील हुआ के नही?

शिल्पा: हा हुआ.

मे: क्या फील हुवा ?

शिल्पा: के मई किसी मेरे से छोटे लड़के के साथ ये सब कर रही हू.

मे: क्या वो लड़का मई तो नही?

आंड मे हास दिया.

शिल्पा: मार खाना है क्या??

मे: हहा..

आगे से मई रोज उसको स्टोरीस भेजने लगा.

अंकल उसके साथ ज्यदा सेक्स नही करते थे. आंड मेरी भेजी रोज की स्टोरीस पढ़के उसकी सेक्स की आग बढ़ने लगी थी. एक दिन उसने ऐसे ही मुझे मसाज किया-

शिल्पा: तू गॅव कब आ रहा है?

मे: क्या हुआ, छूट मे ज़्यादा खुजली हो रही है क्या…?

शिल्पा: नही रे ऐसे ही.

मे: ऐसे ही या कुछ ख़ास बात है?

शिल्पा: तू यहा आएगा तब बतौंनी.

तब से मई गॅव जाने का इंतजार करने लगा. आंड एक महीने बाद मई गॅव चला गे चार दिन के लिए. घर जाने के बाद मैने उसे कॉल किया तो उसने बताया की कल घर आ जाना. माओ बोहोट एग्ज़ाइटेड था उसे मिलने के लिए.

व्हातसपप पे इतने ओपन्ली बात करने के बाद हम पहली बार आमने सामने मिलने वेल थे. दूसरे दिन दोपहर को उसके घर गया. जाते जाते मैने मेडिकल से कॉंडम भी लिया था. क्या पता आज कुछ मोका मिल जाए.

जब मे वाहा पहॉंचा तो वो सारी मे थी. उसने मुझे अंदर बुलाया आंड बैठने के लिए बोला आंड वो पानी लेने अंदर चली गई. जब वो पानी लेके आई आंड मुझे देने के लिए आयेज झुकी. तो उसके बूब्स सॉफ दिख रहे थे.

मैने जात से बोल दिया आज ब्रा नही पहनी क्या? वो हास के अंदर चली गई. आंड थोड़ी देर बाद मेरे साथ बाहर आके मेरे साथ बैठ गई. हम नॉर्मल बाते कर रहे थे.

थोड़ी देर बाद थोड़ी सेक्स रिलेटेड बाते चलने लगी आंड मई उसके पीठ पे हाथ फिरते फिरते उससे बात कर रहा था. तो वो भी गरम हो रही थी.
मैने उसके बाल साइड मे करते हुए उसके कंधे पर किस किया. वो सिसकिया भरने लगी सस्स्स्स्स्स्स्स्शह… राकेश.. आआआहहुउऊुुुउउम्म्म्मममममम… मत करो ना.

उसकी आँखे बंद थी. मैने टाइम वेस्ट ना करते हुए उसके लिप्स पे किस किया. उसने आँखे खोलते हुए मेरे तरफ देखा आंड मुझसे लिपट पड़ी. थोड़ी देर ऐसे ही रहने के बाद मैने उसे बेडरूम मे चलने को बोला.

वो बोली बातरूम जेया कर आती हू. तब तक मैने बेडरूम मे जाके टशहिर्त निकाल के बैठा था. वो जेसे ही उंड़र आई उसने डोर बंद कर दिया. मई समझ गया के आज छूट के मज़े मिलेगे.

वो अंदर आके मेरे बाजू मे बैठ गई. मैने उसे बेड पे लेता दिया आंड उसे किस करने लगे. वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी. मैने मेरा अक पैर उसके उपर डाल के उसे किस कर रहा था. उसके पेट पर हट फेर रहा था.

जब मैने उसके बूब्स पे हाथ रखा तो उसके निपल हार्ड हो रखे थे. मे उसके बूब्स दबाने लगा. वो मेरी पूरी ज़ुबान अपने मूह ने खिच रही थी. म्‍म्म्मममममम… क्या चूस रही थी वो.

मैने धीरे से उसकी सारी मे हाथ डाला आंड सारी उपर उठाने लगा. जब मैने उसकी छूट पे करीब हाथ लाया तो पता चला की उसने पनटी नही पहनी थी.

उसने धिरेसे कान मे कहा की जब बातरूम मे गयी था तब निकल दिया. उसके चूत पे बोहोट घने बाल थे. मई उसकी छूट के बालो मे हाथ फेर रहा था.

उसकी छूट पूरी गीली हो गई थी. मैने उसकी सारी उठा के कमर तक उपर किया आंड उसके पैरो को फेला कर उसकी छूट मे उंगली घुसने लगा. वो सिसकिया भरने लगी आआआहहुउऊुुुउउम्म्म्ममममम.. उूुुुुुुउउम्म्म्मम…

मैने एक उंगली पूरी उसकी छूट मे घुसा के बाहर निकली आंड मूह मे ली. नमकीन टेस्ट था. वो बोली ये क्या कर रहे हो, ये गंदा होता है. मैने बोला अरे जान तू सिर्फ़ पैर फैला के लेती रहो, मई तुझे आज जन्नत दिखता हू.

ये बोलके मैने फिर से छूट मे उंगली फेरने लगा आंड उसकी चूत के बालो को साइड मे करते हुए उसके छूट पे किस किया.

शिल्पा: आअहहुउऊुुुउऊहह राकेश…

मे अपनी ज़ुबान उसकी छूट पे रखी आंड चूसने लगा. उसकी छूट से बोहोट सेक्सी खुश्बू आ रही थी जो मेरे लंड को खड़ा कर रही थी. मैने उसे पूछा जान कैसा फील हो रहा है?

शिल्पा: म्‍म्म्मममममह तू पूछ मत… तू सिर्फ़ चट्टा रह.. आआआमम्म्मम…

वो मेरे बालो को नोचते हुए मेरा सिर छूट मे दबा रही थी. थोड़ी देर मे उसकी साँसे तेज होने लगी आंड उसने छूट का रस मेरे मूह पे छोड़ दिया. मैने वो रस अपने मूह मे लेके उसको किस किया आंड उसको भी छूट का रस पिलाया.

शिल्पा: मुझे तेरा रस पीना है.

मे: तो रोका किसने है.

उसने तुरंत मेरी पंत खोल के मेरी पंत निकल दी आंड उंदर्वारे के उपर से ही लंड को हाथ मे लेके हिलने लगी. उसने मेरा अंडरवेर को सूँघा. तो उसको एक स्ट्रॉंग स्मेल मिली जो मेरे लंड के पसीने आंड पेशाब की थी. उसने मेरी अंडरवेर निकल दी आंड मेरे लंड को देखने लगी.

शिल्पा: तेरे अंकल से तो दुगना बड़ा है तेरा.

मे: मज़ा भी दुगना ही मिलेगा.

फिर वो मेरे लंड को उपर नीचे करने लगी आंड धीरे धीरे अपने मूठ मे ले लिया.

आआआहह… मुझे तो बोहोट मज़ा आ रहा था. मेरा पूरा लंड चूस रही थी आंड बॉल्स को भी चाट रही थी. अब मुझसे रहा नही गया आंड उसको मैने घोड़ी बनने के लिए कहा.

मैने साथ मे लाया कॉंडम को अपने लंड पे लगाया आंड लंड छूट पर घिसने लगा. घिसते घिसते मैने एकदम से लंड छूट मे डाल दिया. वो छीलाने ही वाली थी की मैने उसका मूह मेरे हाथ से बंद कर दिया.

वो जाटपटा रही थी, उसने इससे पहले कभी इतना बड़ा लंड नही लिया था आंड वो बोहोट दीनो से छोड़ी नही थी. इसलिए उसकी छूट भी बोहोट टाइट थी.

अभी तक मेरा आधा लंड ही अंदर गया था आंड उसमे ही इसकी ये हालत थी. मैने जेसे ही उसके मूह से हाथ निकाला तो वो चिल्लाई. आआहह… राकेश तूने तो मेरी छूट ही फाड़ दी!! बोहोट दर्द हो रहा है…

मैने बोला, अरे जान अभी तो सिर्फ़ आधा ही गया है. ये सुनके वो घबरा गयी आंड बोलने लगी, नही राकेश मई नही ले सटकी इतना बड़ा.

मैने उसे शांत रहने के लिए बोल दिया. थोड़ी देर मे वैसे ही रहा कुछ भी नही किया. फिर थोड़ी देर मे वो नॉर्मल होने लगी तो मैने लंड को आयेज पीछे करने लगा. धीरे धीरे उसे भी मज़ा आने लगा. वो आवाज़ निकल रही थी आआआआहह.. म्‍म्म्मममममममममस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स…

मैने इसी बीच एक ज़ोरदार शॉट लगाया तो पूरा लंड उसकी छूट मे चला गया. लेकिन इस बार उसको ज़्यादा दर्द नही हुआ. कमरे मे पूछ.. पूछ… की आवाज़ आ रही थी.

मई आयेज झुक के उसके बूब्स दबा रहा था, उसकी पीठ पे चूम रहा था. वो पूरे मज़े से छुड़वा रही थी. इसी बीच मैने थूक निकाल की उसके अशोल पे डाला आंड उंगली अशोल मे डालने लगा.

वो जात से समझ गयी के मई उसकी गांद भी मारना चाहता हू. तो वो बोली के नही नही अभी नही फिर कभी कर लेना. तो मैने भी ज़्यादा फोर्स नही किया.

पूरे आधा घंटा तक छोड़ने के बाद मेरा निकालने वाला था. तो लंड छूट से निकलके उसके मूह के सामने लेके गया. उसने कॉंडम निकाल के लंड मूह मे लिया आंड चूसने लगी. मैने दो मिन्स मे उसके मूह मे मेरा रस छोड़ दिया.

उसके बाद दोनो भी नंगे वही सोए रहे. शाम को जब मई उठा तो वो सॅडी पहन के हॉल मे टीवी देख रही थी. मई भी कपड़े पहन के बाहर गया.

मे: केसी है मेरी सेक्सी, मज़ा आया के नही?

शिल्पा: बोहोट मज़ा आया. अब जब भी गॅव आएगा मुझे मिलके जाना.

फिर मई वाहा से निकल गया. आज भी कभी मई गॅव गया तो उसको छोड़े बिना नही आता.

तो दोस्तो कैसी लगी मेरी स्टोरी कॉमेंट्स ज़रूर कीजिए. आगे की कहानी अगले पार्ट मे जल्दी ही आएगी. ओर भी जवान भाभी लड़किया ओर आंटी को हॉट बाते करना ही तो आप मैल करे [email protected] आप की सारी डीटेल्स एक दम सीक्रेट रहेंगी उससे आप लोग बेफ़िक्र रहे.

यह कहानी भी पड़े  लॉकडाउन का फायेदा उठा के मामी की चुदाई

error: Content is protected !!