पडोसी की बीवी को बड़ा हथियार दिया

मैंने कहा बड़ा हे तो मजा भी बड़ा देगा ना!

वो हंस के रह गई. मैंने कस कस के उसकी चूत को ठोका. वो भी अह्ह्ह अह्ह्ह ओह या ओह या यस्स कर के अपनी चूत मरवाती गई. फिर मैंने भाभी को कहा अब आप मेरे लंड पर आ जाओ. मैंने सोफे में लेट के भाभी को अपने लंड पर बिठा लिया. वो अपने बूब्स और कमर को हिलाते हुए चुद रही थी. मैंने दोनों बूब्स को हाथ से मसल दिया. और मैं निचे से स्ट्रोक दे रहा था.

पांच मिनिट काऊगर्ल बनने के बाद भाभी बोली, अब निकाल दो अपना पानी जल्दी से.

मैंने कहा, चलो फिर आप निचे लेट जाओ.

उसे सोफे में लिटा के मैंने उसकी दोनों टांगो को अपने हाथ में उठाया. फिर मैं उसकी टांगो को हवा में रख के जोर जोर से मिशनरी पोज में उसे ठोकने लगा. वो अह्ह्ह अह्ह्ह्ह ओह ओह करती गई.

पांच मिनिट के अन्दर ही मेरे लंड से ढेर सारा पानी निकल के उसकी चूत में भर गया.

वो बोली, बहुत दिनों के बाद चुदाई का ऐसा सुख मिला.

मैंने कहा भाई नहीं चोदते हे क्या?

वो बोली, उनका इतना बड़ा नहीं हे ना!

फिर हमने फट फट कपडे पहने. उसने कहा की आगे भी आते रहना ऐसे ही समय पर.

मैंने कहा आप बड़ी जल्दी जल्दी करती हे इस टाइम तो.

वो बोली, फिर एक घंटा जल्दी आ जाना इस टाइम से.

और फिर वो मुझे अपने फ्लेट से निकाल के अपनी बेटी को लेने के लिए उसकी नर्सरी की तरफ चली गई. जाते हुए मैं उसकी मटकती हुई गांड को ही देख रहा था. चुदाई के बाद उसके पाँव थोड़े लडखडा से रहे थे!

यह कहानी भी पड़े  फ़ौजी फ़ौज़ में, हम मौज़ में

Pages: 1 2

error: Content is protected !!